July 16, 2024
behan bhai ka pyar

हेलो दोस्तो, मेरा नाम रोहन है। मैं मनाली का रहने वाला हूं। बात उस समय की है जब मेरी उमर 20 की थी, और मेरी बहन की उमर 18 की होगी। मेरी बहन दिखने में किसी हीरोइन जैसी लगती थी, और बिल्कुल खुले विचारों वाली थी। बहन से मेरी बहुत पटती थी.

भाई बहन का प्यार की कहानी में पड़े छोटी बहन को पहले पटाया और फिर बाद मेंमां-बाप की गैर हाजिरी में दब कर बजाय।

मेरे परिवार में मेरे पापा, मम्मी, बहन और मैं हूं। मैं मनाली यूनिवर्सिटी में था, और मेरी बहन कॉलेज में पढ़ती थी। मैं अपनी बहन से बहुत प्यार करता था, और बहन भी मुझसे बहुत प्यार करती थी। कभी भी आ कर गले से लगा लेना, गोद में आ कर बैठ जाना, मैं लेट हूं तो आ कर मेरे ऊपर आ कर लेट जाती थी।
मेरे ना चाहते हुए भी मुझे उसके स्तन महसूस होते थे। जब भी गले लगती थी, मैं बहन को जोर से सीने में दबा लेता था। बहन भी हंस कर भाग जाती थी। गोद में आ कर बैठती, तो लंड खड़ा होने लगता, लेकिन अंडरवियर के पहनने के कारण महसूस नहीं होता।

मैं भी डर के कारण छुपा लेता, बहन को मेरा लंड महसूस नहीं होता। डरता था, कि कहीं बहन मुझसे दूर न हो जाये। ऐसे ही बहुत दिनों तक चलता रहा।

एक दिन मेरी अंडरवियर सूखी ना होने के कारण मैं वैसे ही हाफ पैंट में घर में घूमने लगा। बहन आ कर मेरी गोद में बैठ गई, और मेरे मोबाइल में तस्वीरें देखने लगी। गोद में बिठाने के कारण उसकी गोल सी गांड सीधे मेरे लंड पर महसूस होने लगी। इसे मेरा लंड खड़ा होने लगा.

लंड एकदम लोहे की रॉड बन गया. मुझे डर लग रहा था कि कहीं बहन हो पता ना चल जाए और वो जा कर मम्मी से ना बोल दे।

तो मैंने बहन से बोला: मोबाइल दे और जा कर चाय बना दे।

लेकिन बहन उथने का नाम नहीं ले रही थी। तो मैं छोटी बहन से मोबाइल छीन-ने लगा जिसका मेरा लंड पूरा पता चल रहा था, उसकी गांड में चुभ रहा होगा। बहन वैसे ही लंड पर कूद रही थी।

मुझे डर भी लग रहा था और मजा भी बहुत आ रहा था, और लग रहा था बहन को मजा आ रहा था। वो भी मुस्कुरा रही थी. थोड़ी देर बाद जब लंड अन्दर ही ज्यादा दर्द होने लगा, तो मैं शांत हो गया।

बहन बोली: क्या हुआ?

तो मैंने बोला: अब हट जा, दर्द हो रहा है।

बहन समझ गई कि मैं किस दर्द की बात कर रहा हूं। तो बहन मुस्कुरा कर चली गई और जाते हुए उसका ध्यान लंड पर ही था।

अगले दिन मैं जब कॉलेज से आया तो बिना अंडरवियर के ही हाफ पैंट में बहन का इंतजार करने लगा। बहन का कॉलेज थोड़ा लेट हो गया था। जैसी ही बहन कॉलेज से घर आई, मम्मी के सो जाने के कारण मैंने ही दरवाजा खोला। बहन अपना बैग पटक कर मेरी गोद में चढ़ गई, और कहने लगी-

बहन: मैं बहुत थक गई हूं। चल नहीं सकती. मुझे अन्दर ले चलो.

मैंने अपने दोनों हाथों को उसकी मोती गांड पर रख कर कस के पकड़ लिया, और अंदर ले जाने लगा।

तो बहन बोली: मम्मी कहा है?

मैंने बोला: तो सो रहे हैं अंदर.

कमरे में ले जा कर उसको बिस्तार पर रख दिया। पर बहन मुझे छोड़ी ही नहीं, तो मैं उसके ऊपर लेट गया। थोड़ी देर वैसे ही बहन के ऊपर लेता रहा, और कॉलेज के बारे में पूछने लगा। तो बहन प्यार से मेरे बालों को सहला रही थी।

मेरा मूड तो बहन को किस करने का हो रहा था। तो मैंने बहन के गालों को काट लिया। बहन भी मेरे गाल पर कटने लगी। लड़ायी में मेरे हौंथ बहन के हौंथो से टच कर रहे थे। इतना मजा आ रहा था कि मैं बातों में बयान नहीं कर सकता।

बहन बोली: भाई आप भारी लग रहे हो.

तो मैंने बहन को ऊपर कर दिया। अब वो मेरे ऊपर आराम से लेट गई। हमारी सांसे दूसरे से टकरा रही थी। मैं बहन को एक तक देखता ही रह गया। इतने में बहन मुझे किस कर दी। मैं भी उसके गुलाबी होठों को चूमे लगा। हमारी किस 5 मिनट तक चलेगी। बहन की सांसें बहुत तेज़ थीं, और मेरी भी। तब तक मम्मी के उठने की आवाज़ आई, और हम एक दूसरे से अलग हुए।

मम्मी ने बहन को खाना दिया, और मुझसे बोली: मुझे दांत वाले डॉक्टर के पास छोड़ दो।

मैं तुरंत मम्मी को डॉक्टर के पास ले गया, और छोड़ कर वापस घर आ गया। बहन ने खाने को पूछा तो मैंने बोला-

मुख्य: हा.

तो बहन एक ही थाली ले कर आई, और मेरी गोद में बैठ गई।

फिर वो बोली: आज मैं अपने प्यारे भाई को अपने हाथों से खिलाऊंगी।

वो मेरी तरफ अपना मुँह करके बैठी थी, और मुझे खिला रही थी। नीचे मेरा लंड इस्तेमाल देख कर हार्ड हो रहा था। बहन अभी भी कॉलेज ड्रेस में ही थी, जिसका मेरा लंड सीधा उसकी चड्ढी में टच हो रहा था। गरमी साफ पता चल रही थी.

मैंने थाली बगल की और बहन को किस करने लगा। वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी। फिर मैंने बहन के स्तनों को ऊपर से ही दबाने लगा, जिसकी बहन मचलने लगी और ज़ोर से चुंबन करने लगी। वो काटने भी लगी.

फिर मैंने उसकी शर्ट के बटन खोल दिये। अंदर काली ब्रा में उसके दूध बहुत ही खूबसूरत दिख रहे थे। ब्रा को ऊपर कर मैं बहन की चुची को पीने लगा। बहन पूरे जोश में आह आह कर रही थी। उसकी चुची ज्यादा बड़ी नहीं थी, पर बहुत अच्छी थी।

मैंने उसकी चुची को काट लिया, तो बहन बोली: मैं भाग नहीं रही हूं, आराम से करो।

तो मैंने बोला: इतना प्यारा दूध पीने को मिल रहा है, कंट्रोल नहीं हो रहा।

बहन बोली: सच्ची में?

तो मुख्य बोला: कब से मैं इसे पीना चाहता था।

वो बोली: बताना था ना.

फिर मैं तेजी से पीने लगा. बहन आह आह आउच की आवाज निकल रही थी. वो ऊपर से ही मेरा लंड सहलाने लगी। तो मैंने अपना लंड बाहर निकाल कर बहन के मुलायम हाथों में दे दिया।

बहन लंड देख कर कहने लगी: इतना बड़ा कहां छुपा कर रखते हो?

तो बहन बोली: मम्मी कहा है?

मैंने बोला: तो सो रहे हैं अंदर.

कमरे में ले जा कर उसको बिस्तार पर रख दिया। पर बहन मुझे छोड़ी ही नहीं, तो मैं उसके ऊपर लेट गया। थोड़ी देर वैसे ही बहन के ऊपर लेता रहा, और कॉलेज के बारे में पूछने लगा। तो बहन प्यार से मेरे बालों को सहला रही थी।

मेरा मूड तो बहन को किस करने का हो रहा था। तो मैंने बहन के गालों को काट लिया। बहन भी मेरे गाल पर कटने लगी। लड़ायी में मेरे हौंथ बहन के हौंथो से टच कर रहे थे। इतना मजा आ रहा था कि मैं बातों में बयान नहीं कर सकता।

बहन बोली: भाई आप भारी लग रहे हो.

तो मैंने बहन को ऊपर कर दिया। अब वो मेरे ऊपर आराम से लेट गई। हमारी सांसे दूसरे से टकरा रही थी। मैं बहन को एक तक देखता ही रह गया। इतने में बहन मुझे किस कर दी। मैं भी उसके गुलाबी होठों को चूमे लगा। हमारी किस 5 मिनट तक चलेगी। बहन की सांसें बहुत तेज़ थीं, और मेरी भी। तब तक मम्मी के उठने की आवाज़ आई, और हम एक दूसरे से अलग हुए।

मम्मी ने बहन को खाना दिया, और मुझसे बोली: मुझे दांत वाले डॉक्टर के पास छोड़ दो।

मैं तुरंत मम्मी को डॉक्टर के पास ले गया, और छोड़ कर वापस घर आ गया। बहन ने खाने को पूछा तो मैंने बोला-

मुख्य: हा.

तो बहन एक ही थाली ले कर आई, और मेरी गोद में बैठ गई।

फिर वो बोली: आज मैं अपने प्यारे भाई को अपने हाथों से खिलाऊंगी।

वो मेरी तरफ अपना मुँह करके बैठी थी, और मुझे खिला रही थी। नीचे मेरा लंड इस्तेमाल देख कर हार्ड हो रहा था। बहन अभी भी कॉलेज ड्रेस में ही थी, जिसका मेरा लंड सीधा उसकी चड्ढी में टच हो रहा था। गरमी साफ पता चल रही थी.

मैंने थाली बगल की और बहन को किस करने लगा। वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी। फिर मैंने बहन के स्तनों को ऊपर से ही दबाने लगा, जिसकी बहन मचलने लगी और ज़ोर से चुंबन करने लगी। वो काटने भी लगी.

फिर मैंने उसकी शर्ट के बटन खोल दिये। अंदर काली ब्रा में उसके दूध बहुत ही खूबसूरत दिख रहे थे। ब्रा को ऊपर कर मैं बहन की चुची को पीने लगा। बहन पूरे जोश में आह आह कर रही थी। उसकी चुची ज्यादा बड़ी नहीं थी, पर बहुत अच्छी थी।

मैंने उसकी चुची को काट लिया, तो बहन बोली: मैं भाग नहीं रही हूं, आराम से करो।

तो मैंने बोला: इतना प्यारा दूध पीने को मिल रहा है, कंट्रोल नहीं हो रहा।

बहन बोली: सच्ची में?

तो मुख्य बोला: कब से मैं इसे पीना चाहता था।

वो बोली: बताना था ना.

फिर मैं तेजी से पीने लगा. बहन आह आह आउच की आवाज निकल रही थी. वो ऊपर से ही मेरा लंड सहलाने लगी। तो मैंने अपना लंड बाहर निकाल कर बहन के मुलायम हाथों में दे दिया।

बहन लंड देख कर कहने लगी: इतना बड़ा कहां छुपा कर रखते हो?

फिर मैंने बहन को कुर्सी पर बैठा दिया, और उसकी पैंटी निकालने लगा। तो बहन ने पैंटी निकालने में पूरी मदद की। उसकी चूत की खुशबू बहुत अच्छी लग रही थी, 

तो मैं अपनी जीभ उसकी चूत पर रख कर चाटने लगा। बहन पूरी तरह मचलने लगी, और गांड उठा कर अपनी चूत चटवा रही थी। थोड़ी देर में ही बहन झड़ गई। मैं चूत का पूरा पानी पी गया। स्वाद थोड़ा नमकीन था पर उसकी चूत का पानी पीकर तो मजा ही आ गया था

फिर बहन को बोला: अब मेरा लंड चूसो.

मेरा लंड उसके हलक तक जा रहा था मुझे तो बहुत मजा आ रहा था पर उसकी आंखों से आंसू टपक रहे थे जैसे ही मैंने अपना लंड उसके मुंह से बाहर निकाला तो वह बोली आप पागल हो क्या मुझे मारोगे क्या मुझे तो सांस भी नहीं आ रही थी।

लग रहा था आज मैं मर ही जाऊंगी धीरे करो मैं कहीं नहीं जा रही अच्छे से दूंगी तुम्हें तुम इतनी जल्दी मत करो तुम्हारी छोटी बहन ही हूं।

छोटी बेठ के अच्छे से लंड चूसने लगी मेरा लंड मोटा था ना इस वजह से उसके मुंह में पूरा नहीं समा रहा था पर मैंने जबरदस्त तरीके से उसका सर पकड़ा और उसके मुंह के अंदर लंड को ढकेलने लगा। कोई रंडी नहीं हूं प्यार से चोदो मुझे खुलकर दूंगी

फिर मैंने कहा ठीक है चलो आराम से करता हूं

इतना कह कर मैंने फिर से छोटी का सर पकड़ा और उसके मुंह में अपना लंड डाल दिया और उसके मुंह को आराम आराम से चोदने लगा जब मेरा उसके मुंह के अंदर जा रहा था तो दोस्तों मैं आपको बयां नहीं कर सकता कितना मजा आ रहा था

फिर थोड़ी देर बार मेरा ससा माल उसके मू में और बूब्स पर झाड़ दिया।

फिर मैं बहन से बोला: कैसा लगा?

तो बेहन बोली: बहुत अच्छा था.

थोड़ी देर बहन को किस किया, और दूध पीने से मेरा फिर खड़ा हो गया। तो मैंने अपनी बहन को अपना लंड उसकी चूत में डालने की कोशिश की। पर अंदर नहीं जा रहा था. उसकी चूत बहुत टाइट थी. फ़िर बहन ने हाथो से मेरा लंड अपने छेद पर सेट किया। मैंने धक्का मारा तो थोड़ा सा ही अंदर गया।

बहन चिल्लाने लगी तो मैं बहन को किस करने लगा, जिसकी आवाज बाहर ना जाए। उसकी आँखों में आँसू भी आ गये थोड़े। फ़िर और ज़ोर लगाया तो आधा लंड ही अंदर गया था। तभी बाहर मम्मी ने बेल बजाई। हम लोग डर गये. बहन बाथरूम भागी, और मैंने जल्दी से कपड़े पहन कर दरवाजा खोला।

फिर बहन बाहर आई तो बोली: भाई बहुत दर्द हो रहा है।

मैंने उसको गरम पानी दिया और बोला: सीख लो।

अगले दिन यूनिवर्सिटी से आते ही बहन का इंतज़ार करने लगा। मम्मी को भी बहन के आने के पहले ही डॉक्टर ने पास छोड़ दिया था। बहन के आते ही उसको बाहों में भर लिया। वो भी तैयार थी, और मेरा साथ दे रही थी।

बहन बोली: मम्मी कहा है?

मैंने बता दिया वो डॉक्टर के पास थी। फिर बहन के सारे कपड़े निकल दिये और दूध पर टूट पड़ा। उसके बाद मैं लंड अन्दर डालने लगा. इस बार मेरा लंड अंदर आधा घुस गया। उसकी चूत पूरी गीली थी. फिर मैंने ज़ोर लगाया और पूरा लंड अंदर तक घुसा दिया।

बहन चिल्लाने लगी: भाई बहुत दर्द हो रहा है।

मैं वैसे ही लंड अन्दर डाले पड़ा रहा और बहन के शरीर से खेलता रहा। कुछ देर में बहन अपनी गांड उठा कर अन्दर लेने लगी, और मैं भी धक्के देने लगा। बहन बहुत मजे से चुदवा रही थी।

वो बोल भी रही थी: भाई और तेज़, और तेज़।

मैं भी पूरी रफ़्तार से बहन को चोद रहा था।

बहन: भाई आपको बहुत दर्द हो रहा है. आप मेरा इतना ख्याल रखते हैं। बहुत मजा आ रहा है.

और वो आह आह की आवाज निकाल रही थी. कुछ देर में बहन झड़ गई। फिर भी मैं उसे चोदता रहा. फिर मेरा भी निकलने केएल हुआ तो बहन से बोला-

मैं: मेरा भी निकलने वाला है.

तो बहन बोली: मेरा भी.

चुदाई चलती रही. हम दोनों का साथ में पानी निकला। पूरा पानी मैंने बहन की चूत में निकाल दिया। हम दोनों की सांसें बहुत तेज़ थीं। फिर बहन ने मुझे किस किया और बोली-

बहन: भाई आपने तो आज स्वर्ग दिखा दिया। आपका जब मन करे मुझे चोद लीजियेगा। अब मैं आपकी हुई.

हमने कपड़े पहने और बैठ कर बातें करने लगे। बहन की चूत में दर्द था, तो मैंने गरम पानी से सिकाई की। फिर मम्मी आ गयी. शाम में उसे गोली खिलाई जिसे बचाया ना हो।

रात में सब के सोने के बाद बहन मेरे कमरे में आ गई। मैंने दो बार और चोदा. बहन भी 4 बार पानी निकली. फिर वो अपने कमरे में जा कर सो गई। अब तो बहन कॉलेज से आने के बाद अपनी पैंटी निकाल कर ऊपर घाघरा पहन कर मेरा लंड अंदर डाल कर गोद में बैठ जाती है।

दोस्तों कहानी का मजा आया हो, तो इसको दोस्तों में शेयर जरूर करें। और ऐसी ही और Hindi sex Stories पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट को सब्सक्राइब करें 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds