July 16, 2024
Bhabhi ki massage ke bad chudai

हेलो दोस्तों मेरा नाम मोहित है, और मैं दिल्ली का रहने वाला हूं। उम्मीद है आप सब लोग ठीक होंगे, और सेक्स कहानियां पढ़ कर जिंदगी का मजा ले रहे होंगे। मेरी उम्र 25 साल है, और मेरी लम्बाई 5’11” है, और मेरा लंड 6.3 इंच का है।

ये भाभी की मसाज के बाद बुर चुदाई की कहानी मेरी भाभी की है, जो हमारे साथ वाले घर में ही रहती है। दिल्ली में घर जुड़े हुए ही होते हैं, तो हमारा छत एक ही साथ था। चलिए अब मैं उनकी डिटेल्स बताता हूं।

मेरे मामू का लड़का दिल्ली में नौकरी करता है। और वो यहां हमारे साथ वाले घर में अपनी पत्नी के साथ रहता है, जिसकी उसकी शादी 2 साल पहले ही हुई थी। वो ज्यादा टाइम ऑफिस में ही रहता है, और सपना भाभी एक हाउसवाइफ है, तो वो पूरा टाइम घर में होती है।

उनका फिगर 34-30-36 है. ऐसा मस्त फिगर कोई भी देख के पागल हो जाए, और उनका रंग बहुत गोरा है। हमारा एक-दूसरे के घर आना-जाना लगा रहता है। ये बात पिछले साल नवंबर की है। मैं एक दिन छत पर खड़ा था, और मौसम को एन्जॉय कर रहा था, तभी अचानक भाभी के घर से उनके चिल्लाने की आवाज आई।

एक-दम से उनकी चीख सुन कर मैं हेयरां हो गया। मैंने सोचा ना-जाने क्या हो गया था। मुझे लगा शायद नीचे से उनके घर जाने में कहीं देर ना हो जाए। तो मुख्य छत से उनका घर कूद गया, ये देखने के लिए, कि उनको क्या हुआ था।

मैं नीचे गया तो देखा कि वो सफाई करते हुए किसी टेबल से नीचे गिर गई थी, और उन्हें चोट भी आई थी। फिर मैंने उन्हें उठाया, और पूछा-

मैं: भाभी क्या हुआ आपको?

पहले तो वो मुझे देख कर हेयरन हुई, फिर उन्हें बताया कि वो सफाई करते हुए गिर गई थी, और इसकी पीठ पर चोट भी आई थी। अब वो अच्छे से चल भी नहीं पा रही थी। तो मैं उन्हें सहारा देके उनके कमरे में ले गया। फ़िर कमरे में जा कर वो बिस्तर पर लेट गयी। अब वो बहुत दर्द में था, तो मैंने कहा-

मैं: भाभी अगर आप कहें तो मैं मसाज कर दूं चोट पे?

पहले तो वो मन करने लगी. लेकिन सिर्फ जिद करने पर वो मान गई। फिर सपना भाभी ने दराज से तेल निकाल कर मुझे दिया। वो शर्ट और पायजामा पहले हुए थे, तो मैंने शर्ट थोड़ी ऊपर की, और मसाज शुरू कर दी।

ऐसा गोरा जिस्म देख कर मेरी नियत ख़राब होने लगी। उनको मसाज से अच्छा फील होने लगा, तो मैं धीरे से ऊपर बढ़ता जा रहा था। मेरी मसाज की तारीफ करो, तो मैंने मौका देखते हुए ऊपर पीठ पर मसाज करने का कहा, और वो मन भी गई।

मैं उनकी नरम सी बॉडी को बड़े प्यार से मसाज कर रहा था। मुझे भी अब मजा आने लगा था. तब मैंने कहा-

मैं: भाभी ये शर्ट को तेल लग रहा है, तो आप उतार दो इसको।

वो थोड़ा शर्मा रही थी, पर फिर भी उन्हें उतार ही दिया। अब वो मेरे सामने सिर्फ ब्रा में थी। अनहोन पर्पल कलर की ब्रा पहनी थी. मैं भूलभुलैया ले कर मसाज कर रहा था, और सपना को भी अच्छा लग रहा था। उनका दर्द भी कम हो रहा था।

मैं ब्रा स्ट्रैप के आस-पास मसाज कर रहा था, स्ट्रैप बीच में आने लगा। फिर मैंने झट से पट्टा खोल दिया, तो वो डर गई। अनहोनी मुझसे कहा-

सपना भाभी: मोहित ये क्या कर रहे हो?

मैंने कहा: भाभी वो स्ट्रैप बीच में डिस्टर्ब कर रही थी, इसलिए खोल दिया।

तो वो मेरी बात मान गई. फिर मैं उनकी पूरी पीठ पर मसाज कर रहा था, और मजे ले रहा था। मसाज करते-करते मेरी नज़र साइड में चली गई, तो मुझे उनके बड़े-बड़े स्तन दिख रहे थे। हाय क्या नजारा था, एक-दम कयामत। दिल तो कर रहा था कि मसल-मसल के चुनने लग जाउ।

क्या गोरे और बड़े-बड़े स्तन। मैं देख के पागल हो रहा था, और कंट्रोल नहीं कर पा रहा था। अब मैं सोचने लगा के भाभी की चुदाई कैसे करूँ, और कैसे उनके मज़ेदार स्तन चुनूँ। फिर मैंने भाभी से कहा-

मैं: भाभी आप काफी दिनों से मुझे थकी हुई लग रही हैं। क्यों ना मैं आपको फुल बॉडी मसाज दे दूं? इससे आपकी पूरी बॉडी एक्टिव हो जाएगी, और आप फ्रेश फील करेंगी।

मेरी ये बात सुन कर वो सोचने लग गई, और फिर थोड़ा सोचने के बाद वो मान गई। उनकी हां सुन कर मैं बहुत खुश हुआ, और मसाज करनी शुरू कर दी। मैंने जोड़ों से मसाज शुरू की, और तेल लगा के उनके नरम से जोड़ों को मसाज करवा दिया।

अब वो भी बहुत अच्छा महसूस कर रही थी, क्योंकि वो आहें भरने लगी थी। मैं उनके पजामे को ऊपर करता गया, और मसाज करता रहा। उनके घुटनों से उनका पायजामा ऊपर नहीं जा रहा था, तो मैंने उनसे कहा-

मैं: भाभी अब ये उतारना पड़ेगा आपको, ये इससे ऊपर नहीं जा सकता।

उनको मेरी मसाज से मजा आ रहा था, तो पजामा उतार दिया, और फिर मेरे सामने लेट गई। अब वो मेरे सामने सिर्फ पैंटी में लेती थी। दिल तो कर रहा था कि उनपे चढ़ जाउ, और लंड घुसा के उन्हें चोदने लग जाउ।

अब मैंने उनके गोरे और मुलायम पैरों को छुआ तो वो मचल उठी। मैंने थोड़ा तेल निकाला, और उनके पैरों पर मसाज करना शुरू किया। अब वो थोड़ी गरम होने लगी थी, क्योंकि वो आआह्ह आआह्ह्ह की आवाज कर रही थी धीरे से।

मैं ऊपर जा रहा था, और उनके चूतदोन तक आ गया था। इतने नरम थे भाभी के, जैसा तकिया हो कोई। मैं चुतादों को ज़ोर-ज़ोर से दबा के मसाज करने लगा, और वो भी मेरे ऐसे करने से हॉर्नी हो रही थी।

आगे कैसे मैं उनकी मसाज करवाता-करते चुदाई तक गया, पढ़े इस कहानी के पार्ट-2 में। दोस्तों अगर आपको कहानी पढ़ने में मजा आया हो, तो इसको अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें। जितना आपका रिस्पॉन्स अच्छा आएगा, अगला पार्ट उतनी ही जल्दी आपके सामने आएगा। कहानी को पढ़ने के लिए आप सभी पाठकों का धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds