July 9, 2024
Chudai Ka Khel

हेलो दोस्तों, एक बार फिर से मैं आप की काजल  एक ऐसी नई Hindi Sex Story लेकर आई हूँ  readxxstories.com पर।

और हमारी आज की कहनी का शीर्षक है -स्टाफ की लड़की के साथ चूत चुदाई का खेल ( Chut Chudai Ka Khel )

आज की Free Hindi Sex Kahani शुरू करते है राहुल जी के साथ। 

मेरा नाम है राहुल । मैं दिल्ली के Malviya Nagar से हूं, और मेरी उम्र 27 साल की  है।

मैं मार्केटिंग प्रोफेशन में हूं, इसलिए ज्यादा-तर घूमता रहता हूं। और आज की इस कहानी में मैं बताऊंगा, कि मुझे घूमने के कारण ही अलग-अलग चूत मिली। वो भी ऐसी चूत जिसके बारे में सोच भी नहीं सकते।

आज अपनी Real Sex Story बताने जा रहा हूँ।

बोर ना करते हुए आते हैं आज की कहानी पर।

मुझे सोशल मीडिया का उपयोग करने का बहुत शौक है। पूरा दिन बस यहीं चलता है. फिर एक दिन एक रैंडम लड़की से बात होनी चालू हुई। दिल्ली के बंदे बातों में कभी पीछे नहीं रहते।

रोज़ हमारी बातें होने लगीं उस लड़की से। वो कहा से थी, क्या करती थी, सब कुछ पता चल गया। तो वो लड़की थी चेन्नई की, और उसका नाम था सुहासिनी ।

सुहासिनी एक कंपनी में एचआर थी, और हमारी कंपनी में मेरा अक्सर आना जाना रहता था। वो लड़की मस्त गोरी थी और उसका फिगर साइज 34-30-34 था। उसकी उम्र 26 साल थी, और देखने में इतनी हॉट थी, किसी भी लड़के का लंड खड़ा कर दे।

और फिर तीन दिन उसकी कंपनी में जाने के बाद पता चला कि मैं  जिस से सोशल मीडिया पर बात करता था, वो ही लड़की थी।

फिर हम रोमांटिक बातें पूछना चालू हुए एक दूसरे से। जैसे सेक्स किया है कि नहीं, मेरे लंड का साइज आदि।

सबको बता दूं, मेरे लंड का साइज़ 5.7 इंच है। लंड मेरा औसत है, लेकिन सेक्स के लिए मुझे लगता है परफेक्ट है। एक दिन उसके अतीत के बारे में पता चला, तो वो उदास हो गई।

फिर मैंने उसको हैप्पी करने के लिए एक होटल में बुलाया। तब पता चला कि वो अकेली रहती थी। याही कहानी का टर्निंग प्वाइंट था.

मैंने बोला: यहां पे होटल बहुत महंगा पड़ता है।

तो उसने बिना कुछ सोचे बोला: तुम मेरे कमरे में आ जाओ, वैसे भी तुम यहाँ 10 दिन ही तो हो ,जब भी आते हो।

मुझे और क्या चाहिए था, तो बस चला गया उसी दिन चेक-आउट करके सीधे उसके रूम पे। दरवाज़ा खुला हुआ.

सुहासिनी (नाइट ड्रेस में): आ गए तुम, चलो अंदर आ जाओ।

मैं बस मुँह खोल के उसको देखता रहा : यार तुम तो बड़ी हॉट हो, बाहर क्यों ऐसा पहन के नहीं आती?

सुहासिनी: सबका बहुत कुछ खड़ा हो जाएगा, तो दिक्कत होगी। जैसा तेरा हुआ है (आंखों के इशारे से)।

मैं: मैंने भी देखा मेरा लंड सच में बहुत हार्ड था, 

फिर मैं शर्माते हुए उसके घर में चला गया।

सुहासिनी: तुम फ्रेश हो जाओ, मैं खाना लगाती हूं। हम साथ में खाते हैं, और साथ में सोते हैं।

मैं स्माइल करके बाथरूम में चला गया। फिर आई सोने की बारी.

मैं: एक काम करो, तुम ऊपर सो जाओ, मैं नीचे कपड़ा बिछा के सो जाता हूँ।

सुहासिनी: नहीं, मेरे साथ में ही सो जाओ, वैसे भी डबल बेड है।

फिर मैंने मस्ती में बोला: मुझे नींद में बाजू में लड़की हो तो कंट्रोल नहीं होता डियर।

सुहासिनी: तो बोला किसने कहा कंट्रोल करने को?

बस इतना बोलने की देरी थी, और मैंने तो उसको सीधा धक्का दे कर डबल बेड पर गिरा दिया।

अब तो पक्का कंट्रोल नहीं हो रहा था मुझ से। फिर मैं उसको पकड़ के मस्त किस करने लगा, और वो भी।

उसका साथ बराबर का था. जितना मैं कर रहा था, सामने से उतना ही वो कर रही थी। भूखी शेरनी थी वो, ऐसा लग रहा था।

धीरे-धीरे मस्ती में किस चल रही थी। मेरा हाथ उसके स्तन पर था, और उसके स्तन कितने मुलायम थे, क्या बताओ आपको। दबाते-दबाते उसके पिंक निपल्स ( Pink Nippal ) हार्ड हो गए, वो तो और भी चार चांद लग रहे थे  मुझे अहसास हो रहा था।

फिर धीरे-धीरे मैं उसके गले पे किस करना चालू किया, और हमारी मस्ती बढ़ती गई। अब तो चूमना और दबाना एक साथ चल रहा था। फिर धीरे-धीरे कपड़े उतारने चालू किये। उसके एक-एक कपड़े धीरे-धीरे निकालता गया। पहले में पूरा नंगा हो गया, फिर वो, और मेरी  भावनाएं बढ़ती गईं।

मैंने सिर्फ इशारा किया अपने लंड को दिखाया, तो वो समझ गई कि उसको लंड से प्यार करना था। उसने जाकर लंड पे किस करना चालू किया, क्या फीलिंग थी वो। उसके मुलायम होंठ और मेरा सख्त लिंग।

अब उसने चूमना चालू किया लॉलीपॉप की तरह। स्वर्ग का आनंद मिल रहा था उस समय पे मुझे। जिन लोगों ने नहीं किया, एक बार जरूर ट्राई करें।

अब मुझसे रहा नहीं गया, तो मैंने उसका मुंह पकड़ के चोदना चालू किया।

वो गु गु गु गु की आवाज दे रही थी. गले तक ले जा रही थी वो लंड को, और मैं उसको हार्ड वाला मुँह चोद रहा था। अब मैंने लंड निकाला, उसको सीधा लिटाया, और स्तन चूमना चालू किया।

वो आअहह आह्ह की आवाज निकाल रही थी. उसकी आवाज़ इतनी पागल थी, कि लंड अब फूल के फट जाएगा ऐसा लग रहा था।

उसके स्तन से होता हुआ नीचे गया। उसकी नाभि को भी मैंने अपनी जीभ से चाटा।

अब बारी थी स्वर्ग में जाने की। मैंने उसके पैर  खोले, और साथ में मैं तुरंट ही उसकी कोमल सी रसीली चूत ( Rasili Chut ) सामने आ गई। मेरी जीभ उसकी चूत पर अपना काम कर रही थी। अब इसी तरह हम 69 में आ गए। 

वो मेरा लंड चूस रही थी, और मैं उसकी चूत चटाई ( Chut Chatai ) कर रहा था।

जो मजा ये करने में है, वो मजा शायद किसी में नहीं। अब उसकी तड़प बढ़ रही थी।

फ़िर वो बोली: बस अब डाल दो मेरे में। मुझसे रहा नहीं जा रहा है.

मैंने उसको सीधा लेटा  के उसकी टंगे खोल के कंधे पे रख दी, और लंड को सेट किया। उसकी चूत इतनी गरम थी, कि अब तो मेरे से भी नहीं  रहा गया। तो मैंने डाल दिया एक ही झटके में अंदर,

और वो चिल्लायी क्योंकि उसका पहली बार तो नहीं था, पर 1 साल हो चुका था।

अब तो मैं लगातार धक्के लगा रहा था, और वो बोल रही थी।

सुहासिनी: बस मेरे राजा, ऐसे ही मारते रहो धक्के। आज इस रसीली सी चूत का भोंसड़ा बना दो। आआह मजा आ रहा है बेबी.

मैं: आज तो पूरी रात चोदूंगा तुझे मेरी जान.

सुहासिनी: आअहह, मना  किसने किया है मेरे राजा. तेरी ही चूत है, फाड़ के रख दे।

अब मैं उसको कुत्ता बना के पीछे से चोदने लगा। उसकी आवाज़ पूरे कमरे में गूँज रही थी, और थप-थप की भी आवाज़ आ रही थी। पूरी रात मैंने उसको चोदा 3 बार और रोमांस भी करते रहे पूरी रात।

सुबह-सुबह 4 बजे जब हम सेक्स कर रहे थे, तब उसकी गांड का छेद दिखा। क्या मासूम था. ये देख के चुदाई और चुसाई साथ में हो रही थी, मजा आ गया। फ़िर हम सो गये।

अब अगली कहानी में बताऊंगा , कैसे मैंने उसकी गांड की वर्जिनिटी तोड़ी।

तब तक के लिए अलविदा।

मिलते है अगली गांड फाडू कहानी में। ऐसी और desi hindi sex story पढ़ने के लिए readxxstories.com पर जाए।

धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds