July 9, 2024
Dukaan per bhabhi ki chudai

Readxstories के सभी पाठकों का Bhabhi Sex Story में स्वागत है आज की कहानी एक लड़के ने अपने पड़ोस की दुकान पर भाभी की चुदाई की है

मेरे पड़ोस में परचून की दूकान चलाने वाली भाभी की है. साड़ी में उनकी गहरी नाभि देख मेरा मन मचल जाता था. बात आगे कैसे बढ़ी?

दोस्तो, मैं मोहित आपकी सेवा में पड़ोस में रहने वाली हॉट सेक्सी भाभी की कहानी लेकर हाजिर हूँ.

मेरी कॉलोनी की अगली गली में एक परचून की दुकान है. वो परचून की दुकान एक भाभी अपनी सास के साथ चलाती हैं. उन्हें मैं व्यक्तिगत तौर पर जानता हूं.

महिपालपुर में कोरोना कर्फ्यू के कारण मेरा कोल्ड ड्रिंक के लिए भाभी की दुकान पर जाना बढ़ गया था.

भाभी का नाम रोशनी था और उनकी उम्र करीब 30 साल है. वे दिखने में बेहद खूबसूरत हैं.
उनका चेहरा गोल है और रंग भी गोरा है. भाभी एक कामुक शरीर की मालकिन हैं.

मुझे उसका साइज़ तो नहीं पता, लेकिन उसके स्तन बहुत बड़े हैं और कमर पतली है। गांड बहुत मोटी और बाहर की ओर निकली हुई है, जिसे देख कर किसी का भी मन ललचा जाए.

भाभी हमेशा साड़ी पहनती थीं इसलिए उनका शरीर बहुत कामुक दिखता था.

शुरू में मेरे मन में उसके बारे में कोई ग़लत विचार नहीं थे.
लेकिन जब भी मैं उसकी गहरी नाभि देखता तो मुझे बेचैनी होने लगती.

भाभी ने भी अपने शरीर को ढकने की पूरी कोशिश की.. लेकिन साड़ी में कुछ न कुछ कमी रह गई।

मैं उनकी सास को अम्मा कहता था, जिनकी उम्र 62 साल से ऊपर थी. उन्हें उठने-बैठने में काफी दिक्कत होती थी.

काफी देर तक मेरी नजरें भाभी को वासना से देखती रहीं और वो समझ गईं कि मैं उनके बदन को घूर रहा हूं.

मैं अम्मा से मजाक कर लेता था और कभी-कभी भाभी भी हंस देती थी.
भाभी का एक 5 साल का लड़का भी था, वो दुकान में ही पढ़ता था.
उनके पति यानि भाई एक सरकारी बैंक में काम करते थे इसलिए वो घर से बाहर ही रहते थे.

करीब एक महीने तक भाभी से मिलना जुलना ऐसे ही चलता रहा.

एक दिन मैं दोपहर को 3:00 बजे कोल्ड ड्रिंक पीने गया.
मैं बाहर खड़ा होकर कोल्ड ड्रिंक पी रहा था.
तभी सामने एक दुकान पर पुलिस की गाड़ी पहुंची. क्योंकि उस वक्त कोरोना कर्फ्यू चल रहा था इसलिए चोरी छुपे दुकानें खुल रही थीं.

पुलिस को आता देख अम्मा अचानक घबरा गईं और शटर गिराने के लिए उठने लगीं. लेकिन वह बूढ़ी थी इसलिए उसे जल्दी से नहीं उठाया जा सका. मैं तुरंत दुकान में घुसा और शटर नीचे गिरा दिया।

कुछ देर ऐसे ही बैठे रहने के बाद अम्मा बोलीं- सामने वाली दुकान में बहुत हलचल की आवाज़ आ रही है, मैं देख कर आती हूँ.

मैंने शटर उठाया और उन्हें बाहर निकाला और फिर शटर नीचे गिरा दिया।

भाई उस वक्त ड्यूटी पर गया हुआ था.
उस वक्त मैं, भाभी और उनका बेटा दुकान के अंदर थे. बेटा फोन पर कार्टून वीडियो देखने में व्यस्त था.

मैं भाभी से ही बात कर रहा था.
भाभी मेरे पास कुर्सी पर बैठी थीं, मैं उनका बदन देख कर पागल हो रहा था।

उस वक्त उन्होंने हरे रंग की साड़ी पहनी हुई थी.

भाभी सोच रही थी कि मैं उनके बदन को कुछ ज्यादा ही घूर रहा हूँ.
वह इधर उधर देखने लगी.
मैं भी अपने फ़ोन में व्यस्त हो गया.

फिर मैंने कहा- भाभी, ऊपर से बिस्कुट का पैकेट वहीं उतार लो.

यह सुनकर भाभी ने अपना एक पैर स्टूल पर और दूसरा सामान रखने की रैक पर रख दिया. वो थोड़ा खड़ी हुई और अपना सामान उतारने लगी.

फिर जैसे ही उसने बिस्कुट का पैकेट पकड़ा तो उसके साथ सारा सामान भी नीचे आने लगा। जिससे भाभी थोड़ी असंतुलित हो गईं.

वो गिरने ही वाली थी, तभी पता नहीं कैसे मैंने उसे पकड़ने के लिए अपने दोनों हाथ उसकी बड़ी गांड पर रख दिये.
इससे भाभी गिरने से तो बच गईं लेकिन उन्हें झटका लगा कि मैंने उनकी गांड पर हाथ रख कर उन्हें बचा लिया.

दोस्तो, उनके बारे में तो सब जानते हैं, लेकिन अपने बारे में क्या बताऊँ… भाभी की गांड बहुत गुदगुदी थी।

एक मिनट बाद हम दोनों ऐसे बर्ताव करने लगे जैसे कुछ हुआ ही न हो.
इधर मेरे लोअर में मेरा लंड खड़ा हो रहा था, जो भाभी देख रही थी.

मैं बार बार लंड को एडजस्ट कर रहा था.
उनका बेटा अभी भी आगे की कुर्सी पर बैठा था और हम दोनों पीछे थे.

फिर कुछ देर बाद अम्मा ने आकर आवाज़ दी और मैंने शटर उठाकर उन्हें अंदर दे दिया और अपने घर आ गया.

उस रात मैं भाभी की गांड के स्पर्श के अहसास से इतना उत्तेजित हो गया कि खुद पर काबू नहीं रख पाया.
मैंने अपना लंड हिलाया और भाभी के नाम से मुठ मारी.
जब मेरा लिंग ढीला और थक गया तो मुझे नींद आने लगी और मैं सो गया.

फिर अगले दिन मैं उसी समय कोल्ड ड्रिंक लेने गया.
तब भी भाभी अन्दर बैठी थीं.

मैंने कोल्ड ड्रिंक ली और पीने लगा. मैं ये देखने गया था कि कल का भाभी पर क्या असर हुआ. वह मुझसे बात करती है या नहीं?
अगर भाभी अच्छे मूड में लगती हैं तो मुझे आगे पता चलेगा कि भाभी से सेटिंग हो पाएगी या नहीं.

मुझे ये देख कर ख़ुशी हुई कि भाभी कल की तरह मुझसे बात कर रही थीं. कल की घटना का उन पर कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ा.

जैसे ही मैं भाभी के पास आया तो अचानक उनकी सास अम्मा जी आ गईं और मुझसे पूछने लगीं- मोहित, ये ऑनलाइन पैसे कैसे मिलते हैं? मैं यह नहीं कर सकता, आप इसे समझाइये।

अम्मा ने भाभी की ओर इशारा किया.

मैंने कहा- ठीक है अम्मा, मैं भाभी को समझा दूंगा.

अम्मा ने मुझे अन्दर आने को कहा तो मैं अन्दर आ गया.

अन्दर आकर मैं भाभी के बराबर में ही एक स्टूल पर बैठ गया और कोल्ड ड्रिंक पीने लगा।

मैंने भाभी का फोन हाथ में लिया और उन्हें समझाने लगा.
इस समय भाभी मेरे बहुत करीब थीं, उनकी मादक खुशबू का अहसास मुझे गर्म कर रहा था.

फिर मैं कोल्ड ड्रिंक की बोतल रखने के बहाने अपना हाथ उसके स्तनों से होते हुए दूसरी तरफ ले गया और कोल्ड ड्रिंक की बोतल उस तरफ रख दी।
यह सब करते समय मैंने अपना हाथ उसके स्तनों पर चिपकाये रखा। इससे उसका ब्लाउज दब गया लेकिन वो कुछ नहीं बोली.

अब मैं समझ गया था कि भाभी भी मेरी तरफ झुक रही थी.

मैंने भाभी की तरफ देखा और उन्हें मोबाइल पर समझाने लगा. मुझे उसके बदन की रगड़ महसूस होने लगी और मेरी आंखें वासना से गर्म हो गईं.

चूँकि मैं सिगरेट पीता था, इस समय उत्तेजना के कारण मुझे सिगरेट पीने की इच्छा हो रही थी।
मैंने कई बार भाभी से सिगरेट खरीदी थी लेकिन कभी अम्मा या भाभी के सामने सिगरेट नहीं पी थी।

मैंने भाभी से धीरे से पूछा- भाभी, सिगरेट कहाँ रखी हैं?

अम्मा ने शायद सुन लिया था इसलिए मुझसे दूर होने के लिए वो बाहर आ गईं और सामने वाले घर में चली गईं.

अम्मा के जाते ही भाभी ने सिगरेट निकालकर उन्हें दे दी.

मैंने उसकी तरफ देखा तो बोली- पीना है क्या?
मैंने कहा- अगर तुम्हें कोई दिक्कत न हो तो!

भाभी बोलीं- पी लो … मुझे कोई दिक्कत नहीं है.
मैंने सिगरेट जलाई और कश लगाने लगा.

उसी वक्त उनका बेटा भी अंदर चला गया. मैंने भाभी की आंखों में देखा और सिर उठाकर धुआं निकाल दिया.

भाभी बोलीं- अब पूरा कैसे जाएगा?

मैं हड़बड़ा गया और मैंने उनकी सवालिया नजरों को उठाया तो वो मोबाइल दिखाने लगीं.

‘पूरा पैसा खाते में कैसे जाएगा?’

मैं समझ गया कि भाभी दोअर्थी बात कर रही थीं.

मैंने कहा- धीरे धीरे सब चला जाएगा. मैं हूँ न सब कर दूंगा.

रोशनी भाभी अपने होंठों को दांत से दबा कर मुस्कुराने लगीं.

फिर अम्मा आती हुई दिखीं तो मैं बाहर आ गया और सिगरेट फैंक कर घर चला गया.

अगले दिन मैं उनकी दुकान पर गया तो अम्मा अपने पोते को ना पढ़ने के कारण डांट रही थीं.

मुझे देख कर अम्मा मुझसे अपने पोते को लेकर कहने लगीं- ये पढ़ता नहीं है … सारा दिन मोबाइल में घुसा रहता है.
मैंने कहा- मैं इसे पढ़ा दिया करूंगा.

इस पर भाभी और अम्मा दोनों मान गईं.

मैं 2 दिन बाद से भाभी के लड़के को पढ़ाने उनके घर पर जाने लगा.
हॉट सेक्सी भाभी मेरे लिए चाय बना कर लाया करती थीं और मेरी भाभी से हल्की-फुल्की बात भी हो जाया करती थी.
अम्मा दुकान पर ही बैठा करती थीं.

ऐसे ही एक हफ्ता चलता रहा.

एक दिन मैंने मजाक में भाभी से बोल दिया कि आप एक और बच्चा पैदा कर लो.
उन्होंने बोला- सही कह रहे हो … जब तुम्हारी शादी होगी, तब पता चलेगा कि एक बच्चा संभालने में कितनी दिक्कत होती है.

मैंने भी कह दिया- मेरी शादी हुई होती भाभी, तो हर साल एक पैदा होता.
भाभी हंस कर चली गईं.
वो अम्मा को चाय देने गई थीं.

अब मैंने हिम्मत बढ़ाई और आगे बढ़ने की सोची.

उस दिन मैं पढ़ा रहा था और भाभी किचन में अपना काम कर रही थीं.
मैंने उनके बच्चे से बोला कि मैं टॉयलेट करके अभी आता हूं.

मैं जाकर के किचन में चला गया तो भाभी थोड़ी सी घबरा गईं और पूछने लगीं- क्या हुआ, क्या चाहिए?
मैंने कहा- भाभी मुझे सिगरेट पीने की तलब लगी थी तो इधर आ गया हूँ … उधर अम्मा हैं न!

भाभी ओके बोल कर सर झुका कर चाय बनाने लगीं.
मैंने सिगरेट सुलगा ली और कहा- भाभी, आज गाढ़े दूध की चाय बनाना.
वह हंस कर बोलीं- कल से अपना दूध ले आया करना. मेरे पास इतना ज्यादा गाढ़ा दूध नहीं होता है.

मैंने कहा- आपके पास है तो … इन्हीं के दूध की बना दिया करो.

भाभी ये सुनकर एकदम से चौंक गईं तभी मैंने बाहर देखा और सब कुछ मुताबिक़ पाते हुए भाभी के करीब आ गया.

मैंने हिम्मत जुटाई और भाभी को पीछे से पकड़ लिया.
भाभी सिहर उठी.

मैं एक हाथ से उसके स्तन दबाने लगा और दूसरा हाथ उसकी कमर में डाल कर उसे कस कर पकड़ लिया।
भाभी मुझसे दूर हटने की कोशिश कर रही थीं और कामुक सिसकारियां भी ले रही थीं.

मैं भाभी की गर्दन पर लगातार किस कर रहा था.

कुछ देर बाद हॉट सेक्सी भाभी का विरोध ख़त्म हो गया और अब वो आँखें बंद करके कराह रही थी.
भाभी के निपल्स सख्त होने लगे थे. मैंने तुरंत उसके ब्लाउज के ऊपर से उसकी एक चूची पकड़ ली और चूसने लगा।

अब वह बेचैन होने लगी.
उसे अपनी गांड पर मेरा लंड भी महसूस हो रहा था.

मैंने उसे अपनी तरफ घुमाया और सामने से उसके मम्मे दबाने लगा.
भाभी बोलीं- मोहित, तुम यह क्या कर रहे हो … मेरे अंदर आग लगी है.
मैंने कहा- हां भाभी, आज मुझे आपकी और मेरी दोनों की जवानी की इस आग को बुझाना है.

भाभी कराहने लगी और मैं उसे दबा रहा था.

दोस्तो, हॉट सेक्सी भाभी की कहानी अगले भाग में पूरे विस्तार से लिखूंगा. आपको मेरी देसी भाभी सेक्स कहानी कैसी लगी, कृपया मेल करना न भूलें.

हॉट सेक्सी भाभी की कहानी जारी है.

ऐसी ही और Hindi Sex Stories पढ़ने के लिए Readxstories.com को सब्सक्राइब करें ताकि आपके पास सबसे पहले हिंदी में सेक्सी-सेक्सी कहानी पहुंच पाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds