July 16, 2024
English Wali Madam ki chudai

इंग्लिश वाली मैडम की चुदाई की कहानी पढ़ने वाले सभी दोस्तों को मेरा सलाम. मैं रोहित दास हूं और दिल्ली का रहने वाला हूं.

मेरे दोस्त अक्सर कहते हैं कि मैं लड़कियों को प्रभावित करने में माहिर हूं और शायद यह सच भी है क्योंकि मुझे जो भी लड़की पसंद आई है, मैं उसे किसी न किसी तरह से जानने में कामयाब रहा हूं।

मैं जो कहानी आपको बताने जा रहा हूं वह उन इश्कबाजियों में से एक है जो मैं करता रहता हूं। अब मैं आपको बिना किसी नाटक के अपनी कहानी बताता हूँ।

मैं एक सिविल इंजीनियर हूँ और मैंने एक कॉलेज में पढ़ाई भी की है। उस कॉलेज में एक मैडम थी जिनका नाम एकता था. वो बहुत खूबसूरत लग रही थी और जिस दिन मैंने उसे पहली बार देखा, मैंने तय कर लिया था कि मैं उसे जरूर पटाऊंगा.

मैं जब भी उससे बात करने की कोशिश करता तो वो ज्यादातर काम का बहाना करके चली जाती और बस देखती रहती. मुझे लगा कि वह मुझे पसंद नहीं करती इसलिए मुझसे बात नहीं कर रही थी.

एक दिन मैंने उसे कॉल किया और सुनने को कहा तो उसने कहा कि अभी काम है, थोड़ी देर बाद बात करते हैं और जाने लगी. तो मैंने उसका हाथ पकड़ कर कहा, तुम्हें तो हमेशा काम रहता है.

अगर बात नहीं करनी हो तो सीधे कह दो ना? और फिर मैं वहां से चला गया. वो कुछ नहीं कहती थीं और अब मैं उनकी तरफ देखता भी नहीं था और दूसरी मैडमों के पास बैठ कर उनसे खूब बातें करता था.

अगले दिन जब मैं जा रहा था तो उसका फ़ोन आया और मैंने कहा कि मुझे काम है और जाने लगा।

तो उन्होंने कहा, तुम्हें हमेशा काम रहता है और तुम बात नहीं करना चाहते, तो सीधे बताओ ना? मैंने उसकी तरफ देखा तो वो हंसने लगी और मैं भी हंसने लगा.

अब हम रोज साथ बैठ कर खूब बातें करते थे और फिर हमने एक दूसरे के नंबर भी ले लिये और रात भर फोन पर बातें करते रहे. मैंने उसे प्रपोज किया और उसने भी हां कह दिया.

अब हमारा प्यार का सिलसिला शुरू हो गया और हम साथ घूमने लगे और एक दूसरे को चूमते रहे। लेकिन मैं तो कमीना था, मैंने उसे चोदने के लिए ही बहकाया। मैं बस यही सोच रहा था कि उसे कहां ले जाऊं जहां मैं उसे मार सकूं। लेकिन मुझे कोई जगह नहीं मिल रही थी.

फिर प्लेसमेंट के लिए कंपनियां मेरे कॉलेज में आने लगीं और इसकी देखभाल के लिए हमें कॉलेज में रुकना पड़ता था और कभी-कभी बहुत देर हो जाती थी। अधिकतर समय मैं उसे अपनी कार से उसके घर तक छोड़ता था। एकता चालू थी लेकिन उसने मुझे उसकी चूत तक पहुंचने का मौका नहीं दिया.

जब भी हम किस करते थे तो मैं सिर्फ उसके मम्मे दबाता था और जैसे ही उसकी चूत पर हाथ रखता था तो वो मेरा हाथ हटा देती थी और कहती थी अभी नहीं. मैं हर बार उसकी चूत चोदने से वंचित रह जाता था लेकिन मुझे उसे चोदना ही पड़ता था.

एक दिन टी.वी. पर पिक्चर आ रही थी तो हीरो ने कहा कि लड़की की ना का मतलब भी हाँ होता है। तो मैंने इसे अपना गुरु मंत्र बना लिया और अगले कॉलेज में चला गया और मन बना लिया था कि आज तो इसे चोदकर ही रहूँगा। किस्मत से उस दिन कॉलेज में एक कंपनी आने वाली थी और उसमें हमारी ड्यूटी लगी थी.

मैंने सोचा कि आज मौका भी है और चौका मारने का मौक़ा भी. फिर हम दोनों दिन भर प्लेसमेंट की दौड़ में लगे रहे और प्लेसमेंट में भी काफी वक्त लग गया और जब रिजल्ट आया तो 8 बज चुके थे. अब एकता और मुझे बैठ कर कंप्यूटर में सबकी एंट्री करनी थी और हम लैब में बैठे थे.

तो मैं बाहर आ गया और कॉलेज में घूमने लगा और देखने लगा कि कॉलेज में अभी भी कौन रुका हुआ है। मैं नीचे गया तो कुछ बच्चे खड़े थे तो मैंने उनसे घर जाने को कहा और वो भी कार लेकर चले गए.

फिर मैं ऊपर आ गया और देखने लगा कि ऑफिस में कौन है. तो ऑफिस में कोई नहीं था और फिर मैंने सफाई करने वाले लोगों को देखा, वो भी घर जा रहे थे और कॉलेज में भी कोई नहीं था, तो मैंने मौके का फायदा उठाने की सोची और जल्दी से लैब की तरफ भाग गया. एकता वहीं बैठ कर काम कर रही थी.

मैं उसके पास गया और पीछे से उसके कंधों पर हाथ रखा और बोला कि कल कितना काम करोगी? तो उसने कहा कि कल जमा करना होगा, अभी करना होगा. तो मैंने कहा कि घर पर ही कर लो तो वो बोली कि ठीक है चलो.

तो मैंने कहा कि इतनी जल्दी क्या है? तो वह यहाँ क्या करेगा? तो मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और कहा कि तुम जानती हो कि मैं तुमसे कितना प्यार करता हूँ। तो उसने कहा हां बहुत है लेकिन अभी चलते हैं। तो मैंने उसे अपनी तरफ घुमाया और उसके होठों को अपने होठों से चूमना शुरू कर दिया और अब हमारा चुंबन शुरू हो गया।

अब हम दोनों एक दूसरे को चूमने लगे और होंठों को चूसने लगे. मैंने अपना हाथ उसके मम्मों पर रख दिया और दबाने लगा. फिर मैंने अपना हाथ उसकी चूत पर रख दिया और वो अचानक रुक गई और बोली कि अभी नहीं.

तो मैंने उसे फिर से पकड़ लिया, उसका हाथ पकड़ लिया और उसे चूमना शुरू कर दिया. फिर मैंने उसका एक हाथ अपने लंड पर रख दिया और उसे मसलने लगा. फिर मैंने उसका हाथ छोड़ दिया और वो मेरे लंड को मसलती रही. फिर मैंने उसका हाथ अपनी पैंट में डाल दिया और फिर उसकी चूत को रगड़ने लगा.

अब वो मुझे बिल्कुल भी नहीं रोक रही थी और मैं उसकी चूत को बड़े प्यार से रगड़ रहा था. तभी हमें किसी के आने की आहट सुनाई दी और हम दोनों रुक गए और मैं बाहर देखने गया। बाहर चपरासी था और वही रुका हुआ था.

तो में अंदर आ गया और उससे बोला कि चलो करते है, तुम रुक क्यों गये? तो उसने कहा कि कोई भी आ सकता है, चलो यहाँ से चलते हैं। तो मैंने उसे पकड़ लिया और कहा कि कोई नहीं आएगा और उसे चूमने लगा. फिर वो भी अपना लंड सहलाने लगी और मैं उसकी चूत मसलने लगा.

उसने सलवार सूट पहना हुआ था, इसलिए मैंने उसकी कुर्ती ऊपर उठाई और उसके स्तनों को चूसने लगा और एक हाथ से उसकी चूत को सहलाने लगा। वो आअहह आअहह उम्म्मम्म करने लगी. फिर मैंने उसके पायजामे का नाड़ा खोला और उसकी पैंटी समेत उसे भी उतार दिया. फिर मैंने उसे टेबल पर बैठाया और उसकी चूत चाटने लगा.

उसकी चूत पर थोड़े थोड़े बाल थे लेकिन मेरी हवस ज्यादा थी इसलिए मैंने उन बालों को एक तरफ कर दिया और उसी चूत को चाटता रहा। फिर मैं खड़ा हुआ, अपनी पैंट नीचे खींची और उससे इसे चूसने को कहा। तो वो घुटनों के बल बैठ गई और मेरी आंखों में देखते हुए मेरा लंड चूसने लगी.

वो मेरा लंड ठीक से नहीं चूस रही थी तो मैंने कहा पूरा चूसो तो वो और चूसने लगी और फिर मेरे लंड को इधर उधर से चाटने लगी. तब जाकर मुझे कुछ शांति मिली और अब मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था. तो मैंने उसे फिर से टेबल पर बिठाया और अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ा।

धीरे से अपना लंड उसकी चूत में सरका दिया. मेरे लिंग का केवल ऊपरी हिस्सा ही अंदर गया था, इसलिए मैंने थोड़ा और बल लगाया और अपने लिंग को अंदर धकेलना शुरू कर दिया।

वो मुझसे कहने लगी कि इसे बाहर निकालो, बाहर बहुत दर्द हो रहा है, लेकिन मैं अपना लंड धीरे-धीरे उसकी चूत में अंदर-बाहर करता रहा और वो आआह्ह्ह्ह इस्स्स्स्स्स्स्स आआह्ह्ह करती रही.

कुछ देर बाद उसका दर्द कम होने लगा तो मैंने उसे हटाया, घुमाया, टेबल पर झुकाया और पीछे से उसकी चूत में अपना लंड डाल कर उसे चोदने लगा. वह आअह्ह्ह ऊह्ह्ह्ह स्स्स्स्स आआह्ह्ह कराह रही थी लेकिन मैं उसे और जोर से चोद रहा था। फिर कुछ देर बाद मेरा मुठ निकलने वाला था

तो मैंने उसे बैठाया और उसके मुँह में लंड डाल दिया और चुसवाने लगा. वो मेरा लंड चूसती रही और मैंने अपना पूरा मुठ उसके मुँह में गिरा दिया और फिर हमने अपने कपड़े पहने और घर चले गये।

अब जब भी हमारी कॉलेज में देर रात तक ड्यूटी होती है तो हम सेक्स जरूर करते हैं और अगर हमारा मन होता है तो हम कहीं होटल में कमरा ले लेते हैं और वहीं मजे करते हैं. दोस्तों आप सभी को मेरी कहानी कैसी लगी कृपया कमेंट में जरूर बताएं. मैं इंतजार करूंगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds