July 9, 2024
Gand Chudai Ka Maja

आंटी की गांड चुदाई का मजा ( Aunty ki Gand Chudai Ka Maja) मैंने लिया पड़ोसन आंटी की अनचुदी गांड मार कर! चूत चुदाई के बाद मैं आंटी के चूतड़ों पर हाथ फेरने लगा तो मेरा मन गांड में लंड घुसाने को हो गया.

पाठको, मैं मोहित
मेरी पिछली कहानी

मेरे बॉस की बीवी की चुदाई – Boss ki Biwi ki Chudai

मै आपको अपनी बॉस की बीवी की Gand Chudai ki kahani बता रहा था.
आपने पढ़ा था कि बॉस की बीवी ने मुझे अपनी चूत चुदवा ली थी और मैं उन पर झाड़ कर उनके ऊपर ही ढेर हो गया था.

अब आगे आंटी की गांड चुदाई का मजा ( Aunty ki Gand Chudai Ka Maja):

कुछ देर तक मैं आंटी के ऊपर लेटा रहा, फिर उठ कर उनके बगल में लेट गया.
हम दोनों बातें करने लगे.

मैंने आंटी से ललिता Bur ki Chudai के बारे में जानना चाहा कि उसे कैसे पता चला.
आंटी ने बताया कि उन्होंने ललिता जी को मेरे कमरे में आते हुए देखा था और उन्हें पता चल गया था कि मैं ललिता जी को चोदता हूँ.

मैंने कहा- तो फिर तुमने कुछ कहा क्यों नहीं?
आंटी बोलीं- क्योंकि मुझे भी मजा लेना था. अंकल कुछ नहीं बनाते.

ये सब बातें होने लगीं और मैं समझ गया कि आंटी की चूत प्यासी है.
आंटी मुझसे चुदने के लिए मौके की तलाश में थी और आज उनके पति घर पर नहीं थे इसलिए उन्होंने मुझे अपने साथ सेक्स करने के लिए मना लिया।

अब आंटी को एक बार चोदने के बाद मैं भी खुल गया था और मेरी नज़र आंटी की उभरी हुई गोल गांड पर ही टिक गई थी.
मैं धीरे-धीरे आंटी की गांड में हाथ फिराने लगा और उनके कूल्हे दबाने लगा.

आंटी बोलीं- क्या कर रहे हो?
मैंने कहा- आंटी आपकी गांड तो कमाल की है, इसे लेने में मजा आएगा.

आंटी बोलीं- नहीं, मैं गांड में नहीं डलवाऊंगी.
मैंने कहा- दिक्कत क्या है.. प्लीज आंटी बहुत मजा आएगा, मान जाओ।
मैं आंटी की गांड दबाने लगा.

उसने साफ मना कर दिया और बोली- गांड में नहीं. आगे मजे करो.
मैंने कहा- तुम्हें तो अभी से मजा लेना था. मुझे पीछे से लेने में मजा आता है.

वो मना करते हुए कहने लगी कि पीछे से ललिता की ही ले लो. वह नहीं मान रही थी.

तो मैंने अपना मोबाइल उठाया और उसमें एक सेक्सी मूवी चला दी.
फिल्म में एक जवान लड़का एक बड़ी उम्र की औरत की गांड चोद रहा था.

फिल्म देखते समय मैं आंटी की गांड और चुचियों को सहला रहा था और वो भी धीरे-धीरे गर्म हो रही थीं.
मूवी में वो लड़का उस औरत को जबरदस्त तरीके से चोद रहा था और औरत मजे से अपनी गांड आगे पीछे करके चुदवा रही थी.

मैंने कहा- देखो आंटी, कितना मजा ले रही है.
वो बोली- लेकिन मैंने पहले कभी नहीं करवाया, मुझे बहुत दर्द होगा.

मैंने चूची दबाते हुए कहा- ऐसा नहीं होगा और बहुत मजा आएगा. ललिता जी को भी गांड मरवाने में मजा आता है. जब मैं उसकी गांड चोदता हूं तो वह उछल-उछल कर गांड में लंड ले लेती है.

इससे धीरे-धीरे आंटी का मन बदलने लगा.
मैं समझ गया और फोन बंद कर दिया.

अब आंटी मेरे लंड को सहलाने लगीं और लंड को मुंह में लेकर लॉलीपॉप की तरह चूसने लगीं.
इस बार आंटी बड़े मजे से लंड चूस रही थीं और उनके बड़े-बड़े मम्मे आगे-पीछे झूल रहे थे।

आंटी ने लंड चूस कर तैयार कर लिया.
मैंने उससे तेल लाने को कहा, वो Moti Gand हिलाते हुए सरसों का तेल लेकर आ गयी.

मैंने उसे घोड़ी बनाया और उसकी गांड पर तेल लगाकर धीरे-धीरे मालिश करने लगा.
आंटी की गांड बहुत मस्त थी, एकदम गोल सील पैक.

तेल लगाने के बाद जैसे ही मैंने गांड में उंगली डाली, आंटी जोर से ‘उई उई..’ करके चिल्लाने लगीं.

मैंने अपनी उंगली निकाली और उसकी गांड के छेद पर थोड़ा तेल लगाया.

मैंने लंड पर थोड़ा तेल लगाया और गांड के छेद पर लंड को रगड़ने लगा.
आंटी बोलीं- मोहित, मैंने पहले कभी नहीं करवाया.
मैंने कहा- कुछ नहीं होगा, तुम्हें बहुत मजा आएगा.

फिर मैंने कमर पकड़ कर जोर से धक्का मारा.

मेरा आधा लंड गांड में चला गया और आंटी की माँ चुदासी हो गई- उई उई उई… मर जाओ बचाओ बचाओ… मर जाओ… मोहित बाहर निकालो… बहुत दर्द होता है… मत करवाने दो।
आंटी की आंखों से आंसू निकल रहे थे और वो उई उई आह आह आह कर रही थी.

मैं आंटी की दोनों चुचियों को सहलाने लगा, दबाने लगा और उनकी गर्दन पर चूमने लगा.
फिर धीरे-धीरे जैसे-जैसे आंटी का दर्द कम होने लगा, आंटी की कमर हिलने लगी.

मैंने एक और जोर का धक्का मारा, मेरा पूरा लंड गच्च से गांड में समा गया.
आंटी ‘उई उई मर गई आह आह…’ चिल्ला रही थीं और उनकी आंखों से आंसू बहने लगे थे.

मैं जोर जोर से धक्के लगाने लगा और Wild Sex कर ने लगा और लंड तेजी से आंटी की गांड में अन्दर-बाहर होने लगा.
आंटी को बुरा लग रहा था और वो बार-बार कह रही थीं- मुझे बाहर निकालो, मुझसे मत करवाओ.

मैंने कहा- नहीं, तेरी जवानी बहुत सता रही थी ना… मुझे तो बहुत लंड चाहिए थे… अब ले मेरा लंड, ले मेरी भाभी और ले मेरा लंड.
मैं जोर जोर से धक्के मार रहा था और आंटी उई उई कर रही थी.

मैं उसकी कसी हुई गोल गांड में अपना लंड अन्दर बाहर करके चोद रहा था।

धीरे-धीरे आंटी की गांड आगे-पीछे होने लगी और वो आहें भरते हुए किसी सेक्सी फिल्म की औरत की तरह चुदवाने लगीं.

ये देख कर मैंने अपना हाथ आंटी की कमर से होते हुए उनकी Big Boobs पर रख दिया और जोर जोर से दबाने लगा.
अब थप-थप की आवाज तेज होने लगी थी.

कुछ देर बाद मैंने उसे बिस्तर पर लेटा दिया और उसके नीचे एक तकिया लगा दिया।
उसकी गांड ऊपर उठी हुई थी.

मैं जोर जोर से लंड को गांड में अन्दर बाहर करने लगा.
मैं लन्ड से चोदने लगी। आंटी ‘आहह आहह मर गई मर गई…’ चिल्लाने लगीं.

आंटी की गांड पहले से ही काफी खुल चुकी थी और अब लंड तेज़ी से अन्दर-बाहर हो रहा था।

मैंने आंटी को वापस घोड़ी बनाया और एक ही झटके में पूरा लंड अन्दर डाल दिया और झटके मारने लगा.

आंटी आअहह आअहह करके अपनी गांड आगे पीछे करने लगी और मेरे हर धक्के का जवाब देने लगी, आंटी की गांड चुदाई ( Aunty ki Gand Chudai Ka Maja) का मजा लेने लगी.
जैसे-जैसे लंड गांड में अन्दर-बाहर हो रहा था, थप थप थप की आवाज तेज़ होती जा रही थी।

आंटी किसी सेक्स मूवी एक्ट्रेस की तरह आह आह आह हह करके अपनी गांड को तेजी से आगे पीछे कर रही थी और मैं जोर जोर से झटके मार रहा था.

हर झटके के साथ उन दोनों की आवाज़ तेज़ होती जा रही थी और मेरा लंड टाइट होता जा रहा था.

तभी लंड ने वीर्य छोड़ दिया और आंटी की गांड भर गयी.
हम दोनों लेट गये और लंड गांड में घुसता चला गया.

अब दोनों बहुत थक गये थे और आंटी की गांड लाल हो गयी थी.

दोनों एक साथ बिस्तर पर सोये.

सुबह जब दोनों उठे तो 7 बज चुके थे.
हम दोनों एक साथ नंगे लेटे हुए थे.

आंटी बोलीं- मोहित एक बार और चोदो मुझे … और ठंडा कर दो.
वो लंड चूसने लगी.

आंटी खुद ही लंड को जमकर चूसने लगीं, ये देख कर मैं खुश हो गया.
सुबह की रोशनी में आंटी का बदन चमकदार लग रहा था.

मैंने आंटी को लिटा दिया और उनकी चुचियों को चूसने लगा.
चूची के बाद मैंने आंटी की चिकनी Tight Chut  की फांकें खोलीं और उसकी चूत को सहलाने लगा और वो आह आह उई करने लगी.

अब आंटी बोलने लगीं- जल्दी से अपना लंड मेरी चूत में डालो.
मैं आंटी के ऊपर आ गया और लंड को चूत में डाल कर जोर से धक्का मार दिया.

पूरा लौड़ा दनदनाता हुआ अंदर चला गया।
और मैं जोश में आ गया और अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा.

आंटी की मादक आवाज में ‘आह आह अह्ह्ह्ह…’ करने लगी.

कुछ ही देर में मेरा लंड आंटी की चूत की गहराई में जाकर अंदर-बाहर चलने लगा।

आंटी अह्ह्ह अह्ह्ह करतीं तो मैं उनकी चुचियों को दबाते हुए चूसने लगा.

कुछ देर बाद मैंने आंटी से कहा- अब घोड़ी बन जाओ.
वो झट से घोड़ी बन गयी.

मैंने उसकी गांड और अपने लंड पर थूका और उसकी गांड में लंड डालकर चोदने लगा.
वो मजे से अपनी गांड को आगे पीछे करके और आह आह करके Gand Chudai में भरपूर साथ देने लगी.

मेरी जाँघों की चोट के कारण गांड के थपथपाने की आवाज़ तेज़ होने लगी।
मैं आंटी की चुचियों को मसलने लगा और झटके पर झटके देने लगा.

आंटी ‘आह आह..’ करके अपनी गांड तेजी से आगे-पीछे कर रही थीं।
सुबह का उजाला था और थप-थप की आवाज बढ़ती जा रही थी।

मैंने लंड निकाल कर चूत में डाल दिया और आंटी की चोटी पकड़ कर चोदने लगा.
वो ‘उई उईई आह आह हह…’ चिल्लाने लगी.
मैं अपनी पूरी स्पीड से झटके मारने लगा.

आंटी की चूत खुल गयी थी और वो अपनी गांड आगे पीछे करके तेज चुदाई में भरपूर साथ देने लगी थी.
मैं आंटी को घोड़ी बना कर चोद रहा था और उनकी चोटी खींच रहा था।

कुछ देर बाद मैंने उसे उठा कर बिस्तर पर लिटा दिया और उसके ऊपर चढ़ कर चोदने लगा.
उसके चूचों को मुँह में लेकर काटने लगा और वो उई उई उई चिल्ला रही थी.

मैं अपने लंड को तेजी से अन्दर-बाहर करने लगा और चुत की गहराई तक उतारने लगा.
मेरा लंड बच्चेदानी तक अन्दर जाने लगा था.

उस वक्त मेरा लंड एक्सप्रेस ट्रेन की स्पीड से आंटी की चूत में अन्दर-बाहर हो रहा था.
आंटी उत्तेजित होकर अपने नाखून चबाने लगीं.

मैं और जोर से चोदने लगा और उसकी चुचियों को मसल कर उनका हलवा बनाने लगा.
जोर जोर से चोदने में आंटी की चूत ने पानी छोड़ दिया.

गीली चूत में लंड फचाफच करके तेजी से अंदर-बाहर आने-जाने लगा।
मैं चूचों को पकड़ कर जोर जोर से झटके मारने लगा और तभी मेरे लंड ने वीर्य की पिचकारी चूत में छोड़ दी.

हम दोनों एक दूसरे से चिपक कर लेट गये.
थोड़ी देर बाद दोनों अलग हुए और अपने कपड़े पहन लिए.

फिर आंटी बाहर देखने गईं, बाहर कोई नहीं था तो मैं चुपके से अपने कमरे में आ गया।

इस तरह उस आंटी ने मुझे फंसा लिया और जमकर चुदाई करवाई.

उसके बाद क्या हुआ, आंटी ने मुझे क्या बताया, वो मैं अगली Hindi Sex Story में लिखूंगा.

आप मुझे कमेंट करना न भूलें कि आपको आंटी की गांड चुदाई का मजा मिला या नहीं?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds