July 9, 2024
Gaon Me virgin ladki ki chudai

हेलो दोस्तों कैसे हैं आप सब? मुझे आशा है कि आप सभी अच्छा कर रहे होंगे।

दोस्तों आज मैं सेक्सी स्टोरी के पाठकों के लिए एक कहानी लेकर आया हूँ।

यह मेरी गाँव की वर्जिन लड़की की बुर चुदाई की कहानी है और मेरे जीवन की सच्ची कहानी है। दोस्तों मुझे भी सेक्सी कहानियाँ पढ़ना पसंद है और मैं काफी समय से सेक्सी कहानियाँ पढ़ रहा हूँ।

जब मैं कोई कहानी पढ़ता हूं तो मेरे मन को बहुत खुशी होती है. इसलिए मैं रोज एक कहानी पढ़कर सोता हूं. मेरी तरह और भी सेक्सी कहानी प्रेमी होंगे जो हर दिन कहानियाँ पढ़कर मजा लेते होंगे।

मैं उन जैसे प्रेमियों के लिए अपनी एक कहानी लिखने जा रहा हूँ। मैं जो कहानी लिखने जा रहा हूँ वो मेरे जीवन की सच्ची घटना है।

मुझे उम्मीद है कि आपको मेरी कहानी पसंद आएगी और इस कहानी को पढ़ने में आपको बहुत मजा भी आएगा. अगर आप लोगों को मेरी कहानी पसंद आये तो आप सभी मुझे जरूर बतायें।

कहानी शुरू करने से पहले मैं आपको अपने बारे में बता देता हूँ. मेरा नाम मोहित है और मैं नोएडा का रहने वाला हूँ। मैं 21 साल का हूँ और अभी पढ़ रहा हूँ। मेरी हाइट 6 फीट 3 इंच है.

मेरा रंग गोरा है और मैं स्मार्ट दिखता हूँ. मेरी लंबाई के हिसाब से मेरा शरीर भी ठीक ठाक है. दोस्तो, मैं आपका ज्यादा समय न लेते हुए सीधे कहानी पर आता हूँ।

यह कहानी अभी कुछ महीने पहले की है जब मैं गांव में अपनी मौसी के घर गया था. दोस्तों मैं अभी पढ़ाई कर रहा हूँ. मैं जिस कॉलेज में पढ़ता हूँ उसी कॉलेज में मेरी गर्लफ्रेंड भी पढ़ती है.

मैं आपको अपनी गर्लफ्रेंड के बारे में बताता हूँ. मेरी गर्लफ्रेंड का नाम निधि है और उसकी उम्र 21 साल है. वो दिखने में बहुत गोरी है और उसका फिगर सेक्सी है. निधि और मैं एक दूसरे से बहुत प्यार करते हैं।

दोस्तो, निधि की सील मैंने अपने ही घर में तोड़ी थी। जिस दिन मैंने निधि को पहली बार चोदा, उस दिन निधि की आँखों से पानी आने लगा। उस दिन के बाद निधि और मैं अक्सर सेक्स करते रहे. जब मैं कॉलेज में पढ़ता था तो मेरी चाची मुझे गांव से बुलाती थीं.

लेकिन पढ़ाई के कारण मुझे नहीं पता था कि कैसे जाऊं. कुछ दिन बाद मुझे कॉलेज से 5 दिन की छुट्टी मिल गयी. फिर मैंने सोचा कि चाची मुझसे अक्सर आने के लिए कहती रहती हैं, तो मैं छोटा हूँ तो घूमने आ ही जाऊँगा।

उस दिन मैंने मौसी को फोन किया और कहा कि मैं आज आ रहा हूं. दोस्तों उस दिन मैं 11 महीने बाद अपनी मौसी के घर जा रहा था.

पहले मैं किसी काम से मौसी के घर गया था और उसके बाद अब जा रहा था. मैं उस दिन एक बस में चढ़ा और कुछ ही घंटों में बस ने मुझे वहां पहुंचा दिया।

जब मैं वहां पहुंचा तो मुझे वहां से पैदल जाना था इसलिए मैंने अपनी चाची को फोन किया और उनसे मुझे किसी घर में भेजने के लिए कहा. फिर मौसी ने एक लकड़हारे को बाइक लेकर भेजा. वह लकड़ीगाड़ी मुझे घर ले गई।

सफर के बाद मैं थक गया था इसलिए हाथ-मुँह धोकर लेट गया। मैं लेटा हुआ था तभी चाची मेरे लिए चाय और खाने के लिए नमकीन बिस्कुट लेकर आईं. फिर मैंने चाय पी और कुछ स्नैक्स और कुछ बिस्कुट खाये.

चाय पीने के बाद मैं लेट गया और सो गया. जब मेरी नींद खुली तो मैं छत पर गया. फिर मैंने देखा कि छत पर भी कमरे बने हुए थे.

फिर मैंने मामी से पूछा कि छत पर कौन रहता है तो मामी बोली कि अभी वहां पर कोई नहीं रहता है.

मैंने सोचा कि अगर ऐसा है तो मैं छत पर बने कमरे में सो जाऊंगा. उस रात मैंने मौसी से कहा कि मेरा बिस्तर छत पर लगा दो। उस रात मैं खाना खाने के बाद छत पर जाकर लेट गया. लेटने के बाद मैंने 2 कहानियाँ पढ़ीं और सो गया।

दोस्तों जब मैं उठा और कमरे से बाहर आया तो मेरी नजर एक लड़की पर पड़ी जो दिखने में बहुत गोरी थी. उस लकड़ी ने मेरी ओर देखा और कहा, तुम कौन हो, मैं इसे पहली बार देख रहा हूं। मैंने उसे बताया कि मैं नोएडा में रहता हूँ और यहाँ अपनी मौसी के घर आया हूँ। फिर उसने मुझसे मेरा नाम पूछा और मैंने उसका नाम पूछा.

उसने अपना नाम मधु बताया. दोस्तों वो वैसे तो एक गाँव से थी लेकिन दिखने में किसी हीरोइन से कम नहीं लगती थी. कुछ देर तक उससे ऐसे ही बात करने के बाद मैंने कहा कि बाद में बात करते हैं.

मैं उससे इतना कहकर नीचे आ गया. मैं नीचे आया और फ्रेश हुआ और फिर नाश्ता किया। नाश्ता करने के बाद मैं खेतों की ओर टहलने चला गया.

जब मैं खेत से वापस आया तो छत पर चला गया. मैंने देखा कि छत पर कोई नहीं है तो मैं कमरे में जाकर लेट गया और फोन पर मूवी देखने लगा. मैं एक फिल्म देख रहा था तभी मुझे छत से कुछ आवाज़ सुनाई दी।

जब मैं बाहर आया और देखने लगा तो मुझे उस छत पर दो लड़कियाँ दिखीं, एक सुबह वाली लड़की थी और दूसरी कौन थी मुझे नहीं पता। मैंने दूसरी लड़की के बारे में भी नहीं पूछा.

फिर मैंने उस लड़की से बात करना शुरू कर दिया. वो भी मुझसे बात करने लगी. जब मैं मधु से बात कर रहा था तो मुझे ऐसा लग रहा था जैसे वह मुझसे दोस्ती करना चाहती है। उस दिन मेरी उससे बात होती रही और इस तरह मेरी उससे रोज बात होती है. तीन दिन हो गए उससे बात किए हुए. अब वो भी मेरे साथ मस्ती करती थी.

मैंने भी उसका फायदा उठाया और उससे रात को मिलने को कहा तो पहले तो वो मान गई और कुछ देर बाद मान गई. उस रात मैं खाना खाकर अपने कमरे में लेट गया. रात के करीब एक बजे थे.

तभी वो आई, मैंने उसे अन्दर आने को कहा और वो अन्दर आ गयी. फिर मैंने सोचा कि अगर उसे चुदाई नहीं करवानी होती तो इतनी रात को नहीं आती. कुछ देर बाद मैं उसकी जाँघों को सहलाने लगा। जब मैं उसकी जाँघों को सहला रहा था तो वो मुझे बहुत सेक्सी नज़रों से देख रही थी।

मैं कुछ देर तक ऐसा करता रहा और फिर धीरे से उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये. मैंने उसके होंठों को अपने मुँह में रख लिया और उन्हें चूसने लगा और वो मेरे होंठों को चूसने लगी। हम दोनों ऐसे ही एक दूसरे के होंठों को चूसते रहे. मैं उसके होंठों को चूसने के साथ-साथ उसके मम्मों को कपड़ों के ऊपर से दबाने लगा।

फिर मैंने अपने कपड़े उतार दिये लेकिन उसने कुछ नहीं कहा तो मैंने उसके भी उतार दिये। मैंने उसके कपड़े उतार दिए तो वह मेरे सामने बिना कपड़ों के आ गई।

मैंने उसके दोनों मम्मे अपने हाथों में पकड़ कर दबाये और मुँह में डाल कर चूसने लगा। वह बिस्तर पर लेट गयी. कुछ देर तक उसके मम्मों को जोर जोर से चूसने के बाद मैंने अपना लंड उसके हाथ में दे दिया.

कुछ देर तक वो मेरे लंड को हिलाती रही. फिर मैंने उससे लंड मुँह में डालने को कहा तो वो मान गयी और ना बोली. फिर उसने मेरे लंड पर थूक कर उसे गीला कर दिया.

फिर मैंने उसकी चूत पर थूक लगाया और अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया. जैसे ही मेरा लंड उसकी चूत में घुसा, उसकी दर्द भरी सिसकारी निकल गयी.

मैंने अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया और अन्दर-बाहर करते हुए उसे चोदने लगा। वह बिस्तर पर लेट गई और जोर-जोर से कराहने लगी। हा हा हा हा…। सीसीसी…. वो सिसकियाँ लेते हुए चुदवाने लगी. मैं उसकी चूत में जोरदार धक्को के साथ अन्दर-बाहर करके चोद रहा था। मैं उसके दोनों मम्मों को दबा रहा था और उनकी चूत में अन्दर-बाहर कर रहा था।

वो हा हा हा…ऊह ऊह ऊह…। वो जोर जोर से आ अ अ अ… हूं हूं हूं हूं… की सेक्सी आवाजें निकाल रही थी। मैं उसकी चूत में ऐसे ही जोर जोर से धक्के मार रहा था.

कुछ देर तक ऐसे ही उसकी चूत में धक्के देने के बाद मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाला और बिस्तर पर लेट गया। वो मेरे लंड पर बैठ गयी और ऊपर नीचे होते हुए मुझे चोदने लगी. ऊह ऊह ऊह…. अ अ अ अ…..

वह “वाह वाह वाह …” को छीन रही थी, मैंने उसकी कमर को पकड़ लिया और उसे नीचे से धकेलना शुरू कर दिया, जिसके कारण कमरे में जोर से धमाके की आवाज़ आने लगी। 15 मिनट तक जोरदार धक्को के साथ उसे चोदने के बाद मैं स्खलित हो गया।

फिर उसने अपने कपड़े पहने और चली गयी. फिर मैंने अपने कपड़े पहने और लेट गया और 3 दिन के बाद मैं घर आ गया. मैं अब भी उससे बात करता हूं.

धन्यवाद…………

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds