July 9, 2024
मौसी की बेटी को चोदा

मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने "मौसी की बेटी को चोदा और उसे चुदाई का पूरा आनंद दिया"

मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने “मौसी की बेटी को चोदा और उसे चुदाई का पूरा आनंद दिया”

मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ. मैं सरकारी नौकरी कर रहा हूँ. मेरी लम्बाई 5 फुट 5 इंच है. रंग गोरा, शरीर भी फिट है. मेरे लिंग की लंबाई 6.6 इंच है, जो किसी भी लड़की या महिला को खुश कर सकती है.

ये कहानी मेरी और मेरी मौसी की बेटी कृतिका की है. यह कहानी 2 साल पहले की है, जब मैं अपनी ग्रेजुएशन पूरी कर रहा था. उस समय मैं अपने ननिहाल में रहता था.

कई बार छुट्टियों में मेरी मौसी की लड़की कृतिका मेरे ननिहाल आती है. मैं अपनी बहन की खूबसूरत जवानी को देखता रहता था लेकिन कभी उसे चोदने के बारे में नहीं सोचा था. मेरी चचेरी बहन का गोरा रंग, कसी हुई छातियाँ, उठी हुई गांड… भगवान कसम, उसे देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया।
मैं हस्तमैथुन करके खुद को शांत कर लेता था लेकिन चुदाई के बारे में सपने में भी नहीं सोच सकता था।

मेरी उसके साथ शुरू से ही अच्छी बनती थी और वो मुझसे बहुत बातें करती थी. इसलिए मैं धीरे-धीरे उसके करीब आने लगा और वो भी मुझसे खुल कर बात करने लगी.

परिवार के सभी सदस्य एक ही आँगन में सोते थे इसलिए मेरी खाट उसके पास ही थी और हम रात को बातें करते हुए सो जाते थे।

यह क्रम कई महीनों तक चलता रहा जब तक वह छुट्टियों पर नहीं आया और हमारी नजदीकियाँ बढ़ गईं।

जब भी वह छुट्टियों में आती थी तो मैं उसके लिए सैंटर फ्रेश, सुपारी और चॉकलेट लाता था और वह बहुत खुश होती थी। मैंने उसका बहुत ख्याल रखा.

एक बार वह सर्दियों की छुट्टियों में आई थी, सर्दियों की छुट्टियों में घर के सभी सदस्य अंदर ही सोते थे और बिस्तर भी अंदर ही लगाते थे। इसलिए हमारे बिस्तर पास पास थे तो हम एक ही रजाई में साथ सोने लगे.

धीरे-धीरे यह सिलसिला साल दर साल जारी रहा। जब भी वो छुट्टियों में आती तो मैं उससे चिपक कर सो जाता था. लेकिन इससे ज्यादा कुछ नहीं किया गया और किसी को इससे आगे बढ़ने की हिम्मत ही नहीं हुई.
लेकिन एक बार मेरी किस्मत चमक गयी. वो सर्दियों की छुट्टियों में आई थी और मैं उसे देख कर बहुत खुश हुआ. हर कोई बात कर रहा था.
शाम को जब सबने खाना खाया और सोने की तैयारी की तो मेरी दिल की धड़कन बढ़ने लगी।

वो समय आ गया और शाम को सब लोग सोने लगे और हमारे बिस्तर एक दूसरे के पास पास लगे।
रात को मैं अपनी बहन से चिपक कर सोया.

तो कृतिका ने खुद ही कहा- वीजू, एक बात कहूँ?
मैं- बताओ क्या हुआ?
कृतिका- क्या तुम मेरा दूध पिओगे?
मैं- बिल्कुल.. अगर आप नाराज़ नहीं हो तो.
कृतिका- कोई नाराज नहीं होगा. तुम मेरा बहुत ख्याल रखते हो.

फिर क्या… उसने अपनी शर्ट ऊपर उठाई और अपने मम्मे ब्रा से बाहर निकाल लिए। मैं कसम खाता हूँ, वे क्या बच्चे थे…नरम, सफेद चमकते नाइट बल्ब में।
मैं अपनी बहन के नंगे मम्मे देख कर पागल हो रहा था और मेरी दिल की धड़कन काबू से बाहर हो रही थी. जीवन में पहली बार स्तन देखने का मौका मिला.

मैंने सीधा एक चूचुक मुँह में ले लिया और चूसने लगा। दूसरे हाथ से मैं दूसरे स्तन की मालिश कर रहा था। मुझे बहुत मजा आ रहा था और कृतिका रजाई में अपना चेहरा छुपा रही थी और आआआ… कर रही थी।

तभी मेरा हाथ उसकी चूत पर चला गया और मैं अपनी बहन की चूत को मसलने लगा और उंगली करने लगा. वह पागल हो रही थी लेकिन शोर भी नहीं मचा सकी क्योंकि आस-पास सभी लोग सो रहे थे।

वो कुछ नहीं बोली और मैं धीरे-धीरे अपनी बहन की चूत को सहलाने लगा. अब वो भी आवाजें निकालने लगी. मैं उसकी चूत में उंगली कर रहा था. वह तेजी से सांस लेने लगी.

तभी मेरा हाथ उसकी सलवार के नाड़े पर पहुंच गया. मैंने उसके नाड़े खोले और उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को सहलाने लगा। उसकी चूत भी गीली हो गयी थी, उसका वीर्य बहने लगा था.

फिर मैंने उसकी पैंटी एक तरफ कर दी और उसकी चूत को सहलाने लगा.
वो सिहर उठी और आह आह आह करने लगी. वह रजाई में दबी हुई थी। लेकिन मुझे उसकी कराहें सुनाई दे रही थीं, जिसे सुनकर मैं उसकी चूत को जोर-जोर से सहलाने लगा।
वो पूरी तरह से पागल हो गई थी… अपनी गांड उठा-उठा कर मुझसे अपनी चूत रगड़वा रही थी।

फिर मैंने उसकी चूत में एक उंगली डाल दी और धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करके उसे चोदने लगा। अब वो भी नीचे से अपनी कमर हिला रही थी.

करीब 10 मिनट में उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया और वो पूरी तरह से अकड़ गयी. फिर संतुष्ट नजरों से वो मेरे मुँह पर चूमने लगी.

फिर कुछ देर बाद हमने वही रजाई बनाई और मैं उसके ऊपर चढ़ गया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये. अब मैं अपनी जिंदगी की पहली चुदाई का मजा लेने लगा.

पहले तो हम धीरे धीरे किस करते रहे. फिर मैंने उसकी जीभ अपने मुँह में ले ली और चूसने लगा. ये चुम्मा चाटी बहुत आनंददायक हो रही थी.

हम करीब 20 मिनट तक किस करते रहे और साथ ही मैं उसके दोनों मम्मे भी दबा रहा था.

फिर मैंने उसकी सलवार उतार दी और पैंटी भी उतार दी और ऊपर से उसे रजाई से ढक दिया. मेरी बहन नीचे से पूरी नंगी थी.
मैंने भी अपना लोअर और अंडरवियर उतार दिया और अपना लंड उसकी चिकनी चूत पर रख दिया.

मैं पहली बार चूत में लंड डाल रहा था. मैंने एक झटका दिया लेकिन लिंग योनि के अंदर नहीं गया. लेकिन दूसरी बार लगाने से पहले कृतिका ने अपने हाथ से लिंग को सेट किया और बोली- डालो इसे!
मैंने जोर से धक्का मारा और मेरा पूरा लंड मेरी बहन की चूत में चला गया.

कृतिका ने मेरे होठों को अपने होठों से मिला लिया और कराह रही थी। मैं धीरे-धीरे अपना लंड अपनी बहन की चूत में अन्दर-बाहर कर रहा था। मुझे असीम आनन्द का अनुभव हो रहा था, मैं तो मानो स्वर्ग में सैर कर रहा था, मुझे चुदाई का आनन्द मिल रहा था और वो मुझे जबरदस्त तरीके से चूम रही थी।

फिर मैंने अपना मुँह उसके मुँह से हटाया और तेज़ धक्के लगाने लगा। वो भी उम्म्ह… अहह… हय… याह… किये जा रही थी.

कुछ ही देर में उसकी चूत से हल्का पानी आने लगा. फिर उसने बताया कि वो निकलने वाली है.

मैंने भी अपनी बहन की चूत में धक्को की स्पीड बढ़ा दी और वो ‘ओह ओह ओह आह ओ..’ करते हुए झड़ गई और उसके साथ ही मैं भी झड़ गया.
पहली चुदाई बहुत मज़ेदार थी…सचमुच!

उसके बाद हम दोनों सुबह 4 बजे का अलार्म लगा कर एक साथ सो गये क्योंकि सुबह हमें अपनी-अपनी रजाई में जाना था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds