July 9, 2024
parivarik ki chudai ki kahani 4

पिछला भाग पढ़े:- पारिवारिक चुदाई की कहानी – 3

मैंने आप सभी की प्रतिक्रिया और टिप्पणियाँ पढ़ीं। टिप्पणी अनुभाग में आप सभी का प्यार देख के मुझे बहुत अच्छा लगा। आप लोगों की शिकायत है कि इसके हिस्से बहुत दिन बाद आ रहे हैं, और मैं भी आपके लिए जल्दी-जल्दी मेरी कहानी बताने की कोशिश करूंगा।

भाई बहन और मम्मी की चुदाई की कहानी – पारिवारिक चुदाई की कहानी-4

इस पार्ट को पढ़ने से पहले, पिछले पार्ट जरूर पढ़ें। वरना आपको मजा नहीं आएगा. क्या कहानी में आगे पढ़ें:-

मनु दीदी ने मुझे गुस्से में बहुत ही ज़ोर से थप्पड़ मारा, और मैं एक-दम से सुन्न रह गया। दीदी थप्पड़ मार कर बहुत तेज़ रोने लगी। वो अपने मुँह पर हाथ रख के रोये जा रही थी, ताकि मम्मी-पापा को रोने की आवाज़ ना मिले।

मुझे मेरी गलती का एहसास जल्दी ही हो गया, पर दीदी से किस मुँह से माफ़ी माँगता हूँ। तो मैं चुप-चाप दूसरी तरफ मुंह करके लेट गया। दीदी भी बिना कुछ बोले लेट गई। रात के 2 बज चुके थे. ना मुझे नींद आ रही थी, ना हाय दीदी को। हम दोनो जानते थे कि हम दोनो जाग रहे थे।

अगले दिन मैं सुबह कॉलेज चला गया, पर दीदी नहीं गई। ऐसे ही 3 दिन हो गए, दीदी को कॉलेज गए। वो बस घर पर ही अपने कमरे में बैठी रहती थी, और मम्मी की थोड़ी बहुत मदद करती थी। 3 दिनों तक ना दीदी ने मुझसे बात की, ना मेरी तरफ देखा। मुझसे अब रहा नहीं गया और रात को मैंने जब दीदी रूम में आई, तो उनसे माफ़ी मांगी। पर अन्होने मुझे इग्नोर मार दिया।

अगले दिन वो खुद कॉलेज के लिए तैयार हो गई। मैं खुश हूं कि दीदी वापस पहले जैसे नॉर्मल हो गई थी। उनके चेहरे के भाव भी हमेशा की तरह सामान्य थे। कॉलेज में एक हमेशा जैसा रेगुलर डे चल रहा था। मेरा तीसरा व्याख्यान ख़तम हुआ ही था कि अज्ञात नंबर से मेरे पास कॉल आया। मैंने उस नंबर पर कॉल उठाई मनु दीदी की बेस्टफ्रेंड प्रीत का था।

प्रीत: हेलो राहुल, क्या है तू? कॉलेज में है क्या?

मैं: हा प्रीत (दीदी की सभी सहेलियों को मैं उनके नाम से ही बुलाता था) कॉलेज ही हुआ। कुछ काम था अचानक कॉल किया?

प्रीत: यार राहुल तू जल्दी से ना हमारे कॉमर्स ब्लॉक में आजा। मनु ने रो-रो के अपना बुरा हाल कर रखा है।

मैं: ठीक है मैं अभी आता हूं।

कॉल रख के मैं जल्दी से कॉमर्स ब्लॉक में चला गया। अब मैं प्रीत से ये पूछना भूल गया कि कॉमर्स ब्लॉक में कहा पे थी दीदी। तो मुख्य कक्षाओं में जाके ढूंढने लगा। कमरे बिल्कुल खाली थे. बस एक दो क्लासें ही थीं जहां टीचर थे, बाकी ब्लॉक खाली था।

खाली रूम में किसी में बॉयज ग्रुप बैठा था किसी में कपल्स बैठे थे। मैं तीसरी मंजिल पर गया. वाहा रूम चेक किये तो एक रूम में दीदी समर्थ (दीदी का बॉयफ्रेंड) के साथ लास्ट कॉर्नर वाले बेंच पर बैठी थी, और वो दोनो किस कर रहे थे। ये देख के मुझे एहसास हुआ कि दीदी को कितना बुरा लगेगा। उनको इस हालात में देख के मेरा दिल ही टूट गया।

मैं जैसे ही वापस जा रहा था, तभी दीदी ने अपने बीएफ का हाथ अपने स्तन में रखा, और खुद अपना हाथ उसके लंड पे रख के इस्तेमाल के लिए पकड़ लिया। उसके बाद समर्थ जोश में आ गया, और ज़ोर-ज़ोर से दीदी के स्तन टी-शर्ट के अंदर से दबाने लगा।

ये सब देख के मुझे गुस्सा आने लगा, पर मैं खुद को कंट्रोल कर रहा था। तभी दीदी ने अपना हाथ उसकी जींस में डाल दिया और उसके लंड को बाहर निकाल लिया, और ज़ोर-ज़ोर से हिलाने लगी। अब मैं और नहीं देख सकता था। मेरा गुस्सा बाहर आ गया. दीदी अपने बीएफ का लंड मुंह में लेने ही वाली थी, कि मैंने दीदी को धक्का देके हटाया और वही दीदी के सामने उनके बीएफ धमकी दी कि आज के बाद मेरी बहन के आस-पास दिखे भी ना।

फिर दीदी का हाथ पकड़ के वहां से ले गया। समर्थ को धमकी देते देख दीदी भी मुझसे डर गई। मैंने दीदी को अकेले में ले-जा कर बहुत डांटा, और ज़ोर-ज़ोर से दीदी पर चिल्लाने लगा।

मैं: आप ये कर क्या रही थीं? कुछ शर्म वगैरा है या सब निकल दी?

मनु: हां निकल दी सारी शरम. जब खुद का भाई ही अपनी बहन के बारे में इतना गलत सोच सकता है तो कैसी शर्म करनी चाहिए?

मैं: मैंने क्या गलत सोचा आपके बारे में?

मनु: क्यों भूल गया उस दिन तूने खुद ही बोला था ना कि मैं भी अपने BF का लंड पकड़ती रहूंगी। जब आज पकड़ रही थी, तो तुझे क्या दिक्कत हो रही है?

मैं: अच्छा तो आप ये सब इसलिए कर रहे हो क्योंकि मैंने बोला? तो जाओ एक काम करो, सेक्स भी कर लो।

मनु: ठीक है, कर लूंगी. और कुछ जो करना है? एक काम कर रंडी बना दे अपनी बहन को।

मैं: ये आप कैसी बातें कर रही हो दीदी? मैं आपसे बहुत प्यार करता हूं। और मैं आपके बारे में कभी गलत नहीं सोच सकता। और आज जो देखा वो तो मैं कभी नहीं देख पाऊंगा।

मनु: अच्छा तू प्यार करता है, तो क्या मैं नहीं करती? जब तू मुझे नहीं देख पाया, और कैसे गुस्से से लाल हो गया, तो मैं कैसे तुझे तनु के साथ देख सकती हूं? मुझे गुस्सा नहीं आएगा क्या?

मुख्य: ठीक है दीदी, मुझे माफ कर दो। आज से कभी कुछ गलत नहीं बोलूंगा, और आप हमारे समर्थ से दूर रहना।

ऐसे ही बात करते-करते हम घर आ गए। घर आके भी हमने बहुत बातें की। आज पहली बार दिल को एहसास हुआ कि मैं अपनी बहन से प्यार करने लगा था। प्यार, जो एक लड़का एक लड़की से करता है। जो पति अपनी पत्नी से करता है।

मैं आज बहुत खुश हूं. जो एहसास आज मुझसे हो रहा था, मुझे लगा कि शायद दीदी भी मुझसे प्यार करने लगी थी। जैसी दीदी मुझे और तनु को देख के गुस्सा हुई, उससे मुझे तो यहीं लगेगा। पर मैं गलत भी हो सकता था। अब मुझे यहीं पता था कि क्या दीदी भी मुझसे प्यार करती थी। कुछ दिन बाद 24 दिसंबर को मेरा जन्मदिन था और आज 21 दिसंबर थी। मुझे लगा यही सही दिन रहेगा दीदी के दिल में क्या था जाने के लिए।

अगले हिस्से में पढ़िए क्या दीदी मुझसे प्यार करती थी या नहीं। क्या कहानी को पढ़ के कमेंट सेक्शन में अपना फीडबैक और कमेंट जरूर बताएं। कहानी लंबी है पर आपको पसंद आएगी। बहुत कहानियाँ होती हैं जहाँ डायरेक्ट सेक्स शुरू हो जाता है, और कहानी शुरू होने से पहले ही ख़तम हो जाती है। ये कहानी आपको जरूर पसंद आएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds