July 9, 2024
Pehli Chudai Ka Sapna 2

पिछला भाग: Pehli Chudai Ka Sapna

मेरा नाम जैस्मिन है और मैं दिल्ली की रहने वाली हूँ। मैं अपनी Hindi Sex Story मेरी पहली चुदाई का सपना मेरे ड्राइवर ने पूरा किया का भाग-2 लेकर आई हूं। 

मैं उम्मीद करती हूं पिछला भाग आपको पसंद आयी होगी और अगर आपने अभी तक पिछला भाग नहीं पढ़ा है तो पहले वो पढ़े। 

चलिए शुरू करते हैं मेरी कहानी Pehli Chudai Ka Sapna 2

ये Free Hindi Sex Kahani है अगले दिन की.

मैं कॉलेज गई थी. पूरे समय मेरे दिमाग में रात को जो भी हुआ वही चल रहा था। मैंने डर के मारे अपने घर में किसी को कुछ नहीं बताया था। 

कॉलेज में मुझे राहुल मिला. उसे तो जैसे मैं भूल ही गई थी। मैंने उससे भी कुछ बात नहीं की।

फिर मैं घर आई, रात को 8 बजे मम्मी पापा के साथ डिनर किया। फिर वो लोग भी 9 बजे अपने कमरे में चले गए। मैं अपने कमरे में आ गयी.

मैं जीतेन्द्र भैया की बातों के बारे में सोच रही थी। रात के 9.45 हो चुके थे. मेरा मन था फिर से उनके पास जाने का। 

मेरे अंदर चुदाई की भूख बढ़ गई थी, जैसे शेर के मुँह में खून लग गया हो।

मैंने अपने कपड़े उतारे, ब्रा पैंटी भी उतारी और बस एक ढीली सी टी-शर्ट और पायजामा पहन के निकल गई।

सब नौकर अपने क्वार्टर में जा चुके थे। बस गेट पे रखवाली करता है. मैं चुपके से जीतेन्द्र भैया के कमरे की तरफ चली गई।

मैंने नॉक किया तो वो गेट खुला ही था। मैं अन्दर आने लगी तो उन्होंने पूछा, “जैसा बोला था वैसे ही आई हो ना?

” मैंने हां में सारा हिला दिया. उन्होंने बोला दिखाओ. तो मैंने टॉप उठाया के अपने स्तन दिखा दिये और पायजामा नीचे करके चूत दिखा दी।

उन्होंने कहा, “शाबाश. ऐसे ही मेरी बातों को मानोगी तो खुश रहोगी।

अब कपड़े उतारो और कपड़े बाहर ही रख के अंदर आ जाओ।” मैं खड़ी सोचती रही के कपडे बहार कैसे उतारू, किसी ने देख लिया तो।

तभी जीतेन्द्र भैया उठ के आये और मेरे गाल पर एक थप्पड़ लगा दिया। वो बोले, “एक छोटे से काम के लिए इतना क्या सोचना?

जल्दी करो।” मैने जल्दी से कपडे उतारे. वो वही गेट के बाहर रख के जल्दी से अंदर आके गेट बंद कर दिया और कुंडी लगा दी।

जीतेन्द्र भैया मेरी तरफ देख के परेशान रहे। वो बोले, “कुंडी क्यू लगाई?” मैंने कहा जिसे कोई अंदर ना आ जाए।

उन्होंने कहा, “कोई नहीं आएगा, कुंडी खोल दो।” मैंने कुंडी खोल दी. मैं उनके आगे बिल्कुल नंगी खड़ी थी।

उनको मुझे कहा, “आओ जैस्मिन नंगी, और कह के हँसने लगे।

” जो आदमी कल तक मुझे जैस्मिन बेबी कह के, इज्जत से बुलाता था वो मुझे जैस्मिन नंगी कह रहा है।

मुझे शुरू में बुरा लग रहा था पर मैं अपनी हवस के आगे बेबस थी।

उन्होंने कहा, “आओ जैस्मिन नंगी और वो टेबल पर कुतिया बन के चढ़ जाओ।

” मैं चढ़ गयी. वो आये और मेरी गांड पर चांटे मारने लगे। ज़ोर से कम से कम 10-12 थप्पड़ मारे।

फ़िर वो आगे आये और मेरे चूचे मसलने लगे और निपल भी दबाने लगे।

मैं उनका पायजामा खोलने लगी, ये देख के वो हंस के बोले, “कहां तूने कल तक लंड हाथ में लिया भी नहीं था और आज इतनी उतावली हो रही है लंड के लिए।

” उन्होंने खुद ही अपना पायजामा उतार दिया और लंड मेरे मुँह के सामने आ गया।

मैं लंड को मुँह में लेके चूसने लगी. वो एक हाथ से मेरे चूचे मसल रहे थे और दूसरे हाथ से मेरी गांड पर चांटे लगा रहे थे।

मैंने अगले 10 मिनट तक लंड चुस्ती रही। उनका लंड अब पूरा खड़ा हो चुका था।

वो मेरे पीछे आये. अपना लंड मेरी चूत पे रखा और एक ही झटके में मेरी चूत के अंदर डाल दिया।

पूरा लंड एक ही बार में अंदर तक चला गया। वो ज़ोर ज़ोर से झटके मार रहे थे और साथ में गांड पे थप्पड़ मार रहे थे। आज मुझे दर्द नहीं हो रहा था, लेकिन हमें दर्द का मजा आ रहा था।

उनके लम्बे मोटे मसल जैसे लंड ने मेरी जवान चूत का मुँह पूरी तरह से खोल दिया था।

मैं इस एहसास का मजा ले रही थी। मैं अपनी गांड हिला हिला के चुदवा रही थी।

ये देख कर जीतेन्द्र भैया बोले, “वाह जैस्मिन नंगी, क्या मस्त चुदवा रही है।” इस तरह तो रंडी चुदती है. क्या तू मेरी रंडी है?”

“बोल जैस्मिन,” उन्होंने मेरी गांड पर मारते हुए पूछा। मैने कहा हन. उन्होंने फिर मेरी गांड पर मारते हुए बोला, “पूरा बोल।

” मैने ज़ोर से कहा, “हां मैं तुम्हारी रंडी हूं। हाँ मैं जीतेन्द्र की रंडी हूं, मुझे ऐसे चुदवाने में मजा आता है।”

ये सुनके जीतेन्द्र भैया और ज़ोर से मुझे चोदने लगे। वो करीब 20 मिनट तक मुझे चोदते रहे।

फिर उन्हें मुझे उठा के बिस्तर पर लेटा दिया और मेरी तांगे उठा के सामने चोदना शुरू कर दिया।

करीब 15 मिनट चोदने के बाद बोले, “मैं झड़ने वाला हूं. बता मैं अपना माल तेरी चूत के अंदर डालू या बाहर?

” मैंने कहा, “अंदर मत डालना प्लीज़, बाहर निकाल दो।”

उन्होंने कहा, “अगर बाहर निकला तो सारा माल पीना पड़ेगा।” मैंने बोल दिया कि मैं सब माल पी जाऊंगी।

फिर उनका लंड निकला और हिलाते हुए सारी मलाई ज़मीन पर गिरा दी। मैं देख रही थी कि ये क्या कर रहे हैं। वो मुझे देख रहे थे और कह रहे थे।

बोले, “चल उठ, आजा चाट के साफ़ कर दे।” मेरे पास और कोई रास्ता नहीं था। मुझे ज़मीन से सारी मलाई उठा के चाटनी थी।

मैं उठी और एक कुतिया की तरह ज़मीन से उनकी मलाई चाटने लगी। ये देख कर जीतेन्द्र भाई बड़े खुश हुए।

वो कुर्सी पर बैठ कर मुझे देख रहे थे। फिर मुझे इशारे से बुलाया और बोले, “मेरा लंड भी चाट के साफ़ करदे।” मैंने एक आज्ञाकारी रंडी की तरह, लंड भी चाट के साफ कर दिया।

मैंने टाइम देखा 10.50 बजे तक. मैंने सोचा अभी बाहर जाना ठीक नहीं होगा, सब अभी सोये नहीं होंगे।

तो मैंने भैया को बोला, “मैं थोड़ी देर यहीं पे आराम करलू?” उन्होंने कहा, “यही लेट जा, मैं अभी आता हूं सिगरेट लेके।”

वो चले गए और मैं उनको बिस्तर पे लेटी कब सो गई पता ही नहीं चला। थोड़ी देर बाद दरवाजा बंद होने की आवाज से मेरी नींद खुली।

12 बजने वाले थे. मैं उठ के जाने लगी. भैया ने मुझे रोका और बोला, “अभी कहां जा रही है? ये तो हमारी चुदाई का राउंड 2 का टाइम है।”

मैंने उनसे रिक्वेस्ट करी के मुझे जाने दो। उन्होंने ज़ोर का एक थप्पड़ मुझे लगाया और बोले, “चुप छाप बिस्तर पे कुतिया बन जा। तू आयी है यहाँ अपनी मर्जी से पर जायेगी मेरी मर्जी से।

” मैं आगे कुछ नहीं बोल पाई और पोजीशन में आ गई।

उन्होंने मेरी गांड को ऊपर उठाई और पीछे से मुझे चाटना शुरू कर दिया। मुझे मजा आने लगा. मैं मज़े लेते हुए सिस्कारियां भर रही थी।

वो बोले, “क्या मस्त रंडी है तू, बहुत गर्म है तेरी चूत।” ये बोलकर उन्हें जब में से एक जेल की ट्यूब निकाली और मेरी गांड के छेद पे लगाने लगे।

मैं उछल पड़ी पर उन्हें कस का पकड़ लिया और मेरी गांड में अपनी उंगली घुसा दी।

मुझे दर्द हो रहा था मैं रो रही थी। पर उनको मेरी एक ना सुनी. और गांड में उंगली अंदर बाहर करते रहे।

थोड़ी देर बाद उन्हें एक की बजाय दो उंगलियां डाल दी। पर अब मुझे दर्द नहीं हो रहा था पर मजा आने लगा था।

उन्होंने और जेल लगया और अब तीन उंगलियां घुसा दी मेरी गांड में। मैं बस इस एहसास का मजा ले रही थी।

वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुरा रहे थे। फिर वो खड़े हुए, अपना पायजामा उतारा तो उनका लंड फिर से खड़ा हो चुका था।

कंडोम निकाला, अपने लंड पर चढ़ाया और वो बोले, “ये देख तेरी गांड चोदने के लिए मेरा लंड एकदम तैयार है।”

अपने लंड को मेरी गांड के छेद पर रखा और एक झटका मारा। उनके लंड का सुपाड़ा मेरी गांड में घुस गया।

मेरी आँखें पूरी खुल गई थीं। उन्होंने और ज़ोर लगाया और आधा लंड गांड में घुस गया। मैं दर्द से चिल्ला रही थी।

मेरी गांड फट रही थी. उन्हें अब मेरी गांड पे और जेल लगाया और मेरी गांड की चुदाई ( Gand Chudai ) शुरू कर दी।

जैसे जैसे वो झटके मार रहे थे मेरी आँखें बहार आ रही थी। मुझे एक अजीब सा एहसास हो रहा था, दर्द के साथ मजा भी आ रहा था।

वो अगले 20 मिनट तक मुझे चोदते रहे और मुझे गालियाँ दे रहे थे। वो मुझे साली नंगी, रंडी, कुतिया जैसे नाम से बुला रहे थे। मुझे मजा आ रहा था और मैं मजे लेके चुदवाने जा रही थी।

मैं भूल चुकी थी के मैं कौन और कहां हूं, किससे चुदवा रही हूं। बस मुझे इतना पता था कि मैं जीतेन्द्र भैया की रंडी बन चुकी हूं।

यही सोचते हुए इतने में जीतेन्द्र भैया झड़ने लगे। उनका सारा माल कंडोम में निकल गया।

उन्होंने लंड मेरी गांड से निकाल लिया. मैं बिस्तर पर ही गिर गई। मैंने पलट के देखा तो जीतेन्द्र भैया के लंड पर कंडोम लटक रहा था,

जो उनके माल से भरा हुआ था। उन्होंने इशारा करके मुझे नीचे आने को बोला। मैं ज़मीन पे जाके बैठ गयी.

अपना कंडोम उतारा और उसे मेरे मुँह में उल्टा कर दिया। मैं मज़े से सारा माल पी गई और उनका लंड चाट चाट के साफ करने लगी।

वो खुश होके बोले, “वाह जैस्मिन रंडी, क्या मस्त लंड चाटा है तूने। चल अब तयार होजा इस रात के आखिरी कदम के लिए।”

मैं सोच रही थी अब क्या बाकी रह गया। इतने में उन्होंने अपना लंड मेरे मुँह की तरफ किया और मेरे ऊपर मुतना शुरू कर दिया।

मैं पीछे हटने लगी और चिल्ला के बोली ये क्या कर रहे हो। पर उन्होंने मेरे बाल पकड़ के लिए और अपना लंड मुँह के सामने ले आये और मुझे हिलने नहीं दिया।

वो 2 मिनट तक मूत ते रहे और मुझे अपनी गरम मूट में नेहला दिया। मुझे समझ नहीं आया मैं क्या करू।

उनके गरम मूत और वीर्य की खुशबू मुझे मन मोहक लग रही थी। और दूसरी तरफ़ घिन भी आ रही थी।

सच बताऊ तो ये मेरी सेक्स लाइफ का एक अद्भुत पल था। सेक्स तो अपनी लाइफ में सभी करते हैं।

पर जो मैं अनुभव कर रही थी वह कुछ अलग ही था। शायद ये किंकी सेक्स मुझे पसंद आने लगा था।

मैं खड़ी हुई, मैं पूरी गीली हो गई थी, मूत में नहा के। मैं खड़ी हुई तो उन्हें अपना तौलिया दिया,

मैंने खुद को साफ किया और जाने को बोले। तो वो बोले, “हां अब तू जा सकती है।”

फिर उन्होंने अपना फोन उठाया और मुझे एक वीडियो दिखाने लगे। उसमे वो मुझे चोद रहे थे और मैं चिल्ला के कह रही थी,

“मैं जीतेन्द्र की रंडी हूं।” मुझे देख के बुरा नहीं लगा. वो बोले, “और भी वीडियो हैं तेरी, मैं शेयर कर दूंगा।”

मैं अपने कपड़े ढूंढ़ रही थी, पर वो मिल नहीं रहे थे। मैंने जीतेन्द्र भैया की तरफ देखा तो वो बोले, “तू ही अपने कपड़े बाहर उतार आई थी, अब देख ले।

” इतने में वो आये मुझे अपने कमरे से बाहर धक्का दे दिया और दरवाजा बंद कर लिया।

मैं जीतेन्द्र भैया के कमरे के बाहर नंगी खड़ी थी। तब मुझे समझा आया.

जब जीतेन्द्र भैया बाहर गए सिगरेट लेने, तब उन्हें मेरे कपड़े कहीं छुपा दिए। मेरे पास और कोई रास्ता नहीं था.

मैं ज़्यादा देर तक वहां खड़ी नहीं रह सकती थी। तो नंगी ही अपने कमरे की तरफ़ भागी।

और मन में दुआ कर रही थी की गार्ड्स मुझे ना देख ले। मैं अपने कमरे में आ गई और बिस्तर पर लेट गई और मन ही मन खुश हो रही थी।

ये थी दोस्तो आज की कहानी.

ऐसा अगले कई दिनों तक चला। जीतेन्द्र भैया मुझसे सब गंदी चीज़ करवाते थे और मैं सब करती थी।

उन्हें मुझे अपना मूत भी पिलाया और अपनी गांड भी चटवाई जो मैंने ख़ुशी ख़ुशी की।

अब के लिए इतना ही, मेरा अगला भाग पढ़ना। आगे की Hindi Sex Kahani के लिए, जिसमें जीतेन्द्र भाई ने मुझे चोदा अपने एक दोस्त के साथ मिलके। मैंने थ्रीसम सेक्स का पहली बार एहसास किया।

अगला भाग: Pehli Chudai Ka Sapna 3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds