July 16, 2024
Sexy saheli ki bur chudai

Readxstories के सभी पाठकों का Bhabhi Sex Story में स्वागत है आज की कहानी भाभी की सेक्सी सहेली की बुर चुदाई करके उनको संतुष्ट किया की है
अब कहानी में आगे:

मेरा नाम अंशुल है और मैं एक 4 स्टार होटल में काम करता हूँ। मेरी लम्बाई 5 फुट 11 इंच है और मेरा शरीर भी ठीकठाक है. मेरे लंड का साइज 7 इंच लंबा और 3 मोटा है जो किसी की भी प्यास बुझा सकता है. वैसे तो मैंने बहुत सारी चूतों का मजा लिया है लेकिन ये भाभी की सेक्सी सहेली की बुर चुदाई की कहानी कुछ अलग है.

ये बात आज से 2 महीने पुरानी है. मैंने अपनी भाभी की सहेली को पटाया और चोदा. मैं आपको अपनी भाभी के बारे में बताता हूँ. मेरी भाभी एक वकील हैं और मेरा भाई भी एक वकील है। मेरी भाभी की सहेली का नाम मोनिका है और उसकी उम्र 35 साल है. वह एक विवाहित महिला है.

अगर मैं बात करूँ तो उसके शरीर का आकार 32-30-34 है और वह दिखने में एकदम लाजवाब है। अगर मैं आपको उनके पति के बारे में थोड़ा बता दूं, तो उनके पति दुबई के एक होटल में सफाई कर्मचारी हैं और वह साल में केवल एक बार ही घर आते हैं और वह भी केवल एक महीने के लिए।

एक दिन बहुत तेज बारिश हो रही थी और मोनिका भाभी के आने का समय हो गया था. बारिश रुक नहीं रही थी. तभी मोनिका भाभी का फोन आया और बोलीं- अरुण, क्या तुम मुझे लेने आ सकते हो?

तो मैंने कहा- भाभी, बहुत तेज़ बारिश हो रही है और ऐसे में मैं आपको लेने कैसे आ सकता हूँ.

यह बात मैंने जानबूझ कर कही थी, मैं देखना चाहता था कि मोनिका भाभी क्या कहेंगी।

तब मोनिका भाभी थोड़ा गुस्से में बोलीं- अगर तुम्हारी गर्लफ्रेंड ने तुम्हें अभी बुलाया होता तो तुम अभी आ जाते. और मैं मदद के लिए पुकार रहा हूं, इसलिए तुम नहीं आओगे.

ये सुनकर मैंने मोनिका भाभी से कहा- मैं तो मजाक कर रहा हूं. मैं तुम्हें लेने अभी आ रहा हूं. आपसे विद्यालय में मिलूंगा!

दोस्तो, मुझे पता था कि उसका स्कूल कहाँ है। मैं अपनी बाइक लेकर भाभी को लेने निकल गया. 20 मिनट बाद मैं मोनिका भाबी को लेकर घर आ गया. लेकिन रास्ते में सड़क बहुत खराब होने के कारण मुझे बार-बार ब्रेक लगाना पड़ रहा था, जिससे भाभी के स्तन मेरी कमर पर दब रहे थे, जिसमें मुझे बहुत मजा आ रहा था.

उस दिन से मोनिका भाभी का मेरे प्रति नजरिया बदल गया। एक दिन घर पर कोई नहीं था और दोपहर का समय था तो मोनिका भाभी ने मुझे बुलाया और कहा- अन्दर आओ, मैंने समोसा बनाया है, हम दोनों साथ में खाते हैं।

मैंने मोनिका से कहा- मैं बस 2 मिनट में आया.

इसके बाद मोनिका भाभी और मैं दोनों एक साथ बैठ कर समोसे खाने लगे और बातें करने लगे.

तभी भाभी बोलीं- अरुण, क्या तुम्हारी कोई सेटिंग नहीं है?

मैंने कहा- नहीं भाभी, मेरे लिए क्या सेटिंग बनेगी बेचारी.

इस पर वह हंस पड़ी.

फिर मैंने कहा- मोनिका भाभी, अगर मुझे आप जैसी कोई मिल गई तो मैं जरूर बनाऊंगा.

इस पर उन्होंने कहा- तुम किसी को मेरे जैसा क्यों बनाना चाहते हो?

मैंने कहा- तुम बहुत खूबसूरत हो और बहुत हॉट भी. आपके पति बहुत भाग्यशाली हैं कि उन्हें आप जैसी प्यारी पत्नी मिली है।

इस पर भाभी बोलीं- क्या मैं तुम्हें हॉट और सेक्सी लगती हूं?

मैने हां कह दिया।

इस पर उसने कहा- ठीक है धन्यवाद.

इसके बाद धीरे-धीरे हम एक-दूसरे से हंसी-मजाक और बातें करने लगे। फोन और व्हाट्सएप पर भी बातचीत बढ़ने लगी. मैं दिन-रात उसे चोदने के सपने देखने लगा और कई बार उसके नाम पर हस्तमैथुन भी किया।

कुछ दिनों बाद मैं उसे छूने लगा और उससे मजाक भी करने लगा. फिर कुछ दिनों के बाद गाँव से फोन आया कि बाबा जी बहुत बीमार हैं, इसलिए सब लोग घर आ जाएँ। और सभी ग्रामीण घर चले गये।

लेकिन मां ने मुझसे कहा- तुम घर पर रहो और ख्याल रखना. अगर मोनिका भाभी को किसी चीज की जरूरत हो तो उनके लिए कर देना. इतना कहकर सब लोग चले गए और मुझे बाबा जी के लिए ख़ुशी भी हुई और दुख भी। दोपहर को मोनिका भाभी भी घर आ गईं.

उसने मुझसे पूछा- सब लोग कहां गये हैं?

तो मैंने उसे सब कुछ बता दिया. उन्होंने भी अपना दुख जताया और अपने कमरे में चली गईं. रात को मोनिका भाभी ने मुझे खाना खाने के लिए बुलाया. मैं अपने कमरे में दो पैग पी रहा था। मोनिका भाभी की आवाज सुनकर मैं तुरंत उनके कमरे में चला गया. लेकिन उसे मेरे मुँह से शराब की गंध आ रही थी। यह कहानी आप क्रेजी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।

जिस पर वो मुस्कुराई और बोली- अकेले ही पी रहे हो. कभी हमसे पूछो!

इससे मैं बहुत खुश हुआ और समझ गया कि आज काम पूरा हो जायेगा. मैंने अपने कमरे से शराब की बोतल ली और मोनिका भाभी के कमरे में चला गया. इसके बाद भाभी और मैंने दो-दो पैग पीये.

तभी मोनिका भाभी बोलीं- आज एक साल बाद मौका है, मजा आ गया.

फिर मैंने मोनिका भाभी से पूछा- भाभी, आपको दिलचस्पी कैसे होती है?

तो वो बोली- कैसे बताऊँ… उसकी याद तो आती है, पर क्या करूँ?

फिर मोनिका भाभी तुरंत मेरे चेहरे की तरफ बढ़ीं और मुझे लिप किस करने लगीं. मैंने भी भाभी का पूरा साथ दिया. इसके बाद मैंने मोनिका भाभी को अपनी गोद में उठा लिया और उसके होंठों को अपनी जीभ से चाटने लगा और उसके मम्मों को दबाने लगा.

मोनिका भाभी धीरे-धीरे कराह रही थी और उसके मुँह से ‘उफ़ आआह हाआ’ की आवाजें आ रही थीं। मैं कभी उसके मम्मों को चूस रहा था तो कभी उसके होंठों को चूस रहा था. मैं धीरे-धीरे अपना हाथ उसकी पैंटी में भी घुमा रहा था। मैंने देखा कि उसकी चूत पानी से गीली हो गयी थी.

फिर मैं भाभी की चूत में उंगली करने लगा. भाभी भी धीरे-धीरे उत्तेजित होने लगी और आवाजें निकालने लगी और धीरे-धीरे मैंने उन्हें पूरी नंगी कर दिया। साथ ही मैंने उसके बदन को चाटना शुरू कर दिया और वो अपने मुँह से ‘उफ़ उफ़ आआह हाहा’ जैसी कराहें निकाल रही थी.

वो बोली- अरुण, और अन्दर तक चाटो, मेरी चूत बहुत गर्म है.

मोनिका भाभी के साथ 20 मिनट तक ओरल सेक्स करने के बाद मैं एक बार झड़ चुका था.

मैंने भाभी से कहा- भाभी, अब मेरा लंड अपने मुँह में ले लो.

मेरे इतना कहते ही वो भूखी शेरनी की तरह मेरे लंड को चाटने लगी. मुझे इतना मजा आ रहा था कि क्या बताऊँ! एक बात बता दूँ दोस्तो… मुझे चूत चाटने में बहुत मजा आता है। इसके बाद मैंने मोनिका को वापस लिटाया और उसकी चूत को एक बार फिर से चाटना शुरू कर दिया.

उसने मेरी कमर कस कर पकड़ ली और कहने लगी- बस करो! फिर मैंने भाभी को डॉगी स्टाइल में चोदना शुरू किया. करीब 10 मिनट तक डॉगी स्टाइल में सेक्स करने के बाद वो बोली- मुझे बहुत दर्द हो रहा है! तो मैंने उसे चूमा और फिर से लेटा दिया और खुद खड़ा हो गया और उसे धीरे-धीरे चोदने लगा। “देसी भाभी सेक्स चाहिए”

इस बार जब मैंने पूरी स्पीड से चोदना शुरू किया तो पूरे कमरे में फच-फच की आवाज आने लगी. मोनिका भाभी कभी-कभी कहती- मैं तो आज मर ही जाऊंगी, बहुत दर्द हो रहा है. फिर मैं दीवार से सट कर खड़ा हो गया और भाभी को चोदने लगा.

बहुत मजा आ रहा था. इस बीच मोनिका भाभी दो बार अपना वीर्य छोड़ चुकी थीं. लेकिन मेरा अभी तक नहीं हुआ था. दोस्तो, कसम से 40 मिनट की चुदाई के बाद भी मैं नहीं झड़ा था. ऐसा शराब के कारण हो सकता है.

और अब मोनिका भाभी कह रही थी- प्लीज अरुण, अब ऐसा मत करो. मुझे ईर्ष्या हो रही है।

फिर मैंने भाभी को लिप किस किया और 10 मिनट के बाद फुल स्पीड से उन्हें चोदने लगा. भाभी ने मुझे कस कर पकड़ लिया और मेरी पूरी कमर पर अपने नाखून चुभा दिए और आआह आआह आआह आआह उफ़… आज मैं मर जाऊँगी… ह्ह्ह उफ़ हुई इइइइइ ह्ह्ह ह्ह्ह आ आ आ आ कहती रही।

उसके बाद मैंने मोनिका भाभी के अंदर ही अपना वीर्य छोड़ दिया. तब तक रात के 8 बज चुके थे. हमने कुछ देर आराम किया और फिर खाना खाया. फिर हम दोनों ने आराम किया. आपस में बातें करते हुए भाभी बोलीं- आज तक मैंने ऐसा सेक्स अपने पति के साथ भी नहीं किया है.

उसके इतना कहते ही मेरा लंड एक बार फिर से चोदने के लिए तैयार हो गया. ओरल सेक्स के लिए हमने 69 पोजीशन ट्राई की और एक दूसरे को खूब चूसा. उसके बाद भाभी का मूड अचानक बदल गया और बोलीं- इस बार मैं तुम्हें चोदूंगी.

मेरे इतना कहते ही भाभी मेरे ऊपर आकर मेरे लंड पर बैठ गईं और ऊपर-नीचे होने लगीं. कुछ देर बाद मैंने भाभी को लिटा दिया और पीछे से अपना लंड डाल कर उन्हें 10 मिनट तक खूब चोदा. अब तक भाभी का पानी निकल चुका था और वो उफफफ अह्ह्ह सीइइ जैसी आवाजें निकाल रही थीं.

चूत गीली होने के कारण फच फच फच फच की मादक आवाजें आ रही थीं. और इसी बीच मेरा भी पानी निकल गया. उस रात हमने केवल दो बार ही सेक्स किया क्योंकि भाभी बहुत दिनों के बाद चुदी थी इसलिए उनकी चूत सूज गई थी। और हमें कब नींद आ गयी पता ही नहीं चला. सुबह 10 बजे हमारी आंख खुली.

भाभी बोलीं- क्या बात है मेरे सोना … कल रात तो तुमने मुझे खुश कर दिया. लेकिन बेबी, मुझे अभी भी वहाँ बहुत दर्द हो रहा है!

ये सुनते ही मैंने भाभी को चूमना शुरू कर दिया. फिर मैंने भाभी से मेरा लंड चूसने को कहा. भाभी ने मेरे लिंग को अपने मुँह में लेकर खूब चूसा और इस बार मैं भाभी के मुँह में ही स्खलित हो गया। अब मोनिका भाभी बोलीं- चलो, फ्रेश हो जाओ. मैं हम दोनों के लिए नाश्ता बनाती हूं. यह कहानी आप Readxstories.com पर पढ़ रहे हैं।

नाश्ते के बाद हम फिर से चूमने लगे। वो कभी मेरे चेहरे को तो कभी मेरे लिंग को सहला रही थी. और मैं उसकी गांड पर! फिर मैंने भाभी से कहा-भाभी, मैं तुम्हारी गांड को चोदना चाहता हूं। तो उन्होंने साफ़ मना कर दिया. मैंने भी इस पर कुछ नहीं कहा.

मैंने उसे सीधा लिटाया और चोदने लगा. मैंने उनके दोनों पैरों को अपनी छाती से मिलाया और अचानक एक झटके से अपना लंड भाभी की चूत में डाल दिया. भाभी एकदम से चीखने लगीं. लेकिन मैंने उन्हें दबा दिया था.

उसकी आंखों से आंसू आ गये. फिर मैं धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करने लगा। जब उसे हॉट देसी भाभी को चोदने में मजा आने लगा तो मैंने उसे फुल स्पीड से चोदा. इस बीच भाभी कई बार चीखीं और रोने लगीं.

फिर भाभी ने खुद ही अपनी Gand Chudai. इस बीच वो एक बार ऑर्गेज्म कर चुकी थी. मैंने भी अपना वीर्य भाभी की चूत में छोड़ दिया. इस तरह हमने 10 दिन तक खूब चुदाई की. मैं अगली कहानी में बताऊंगा कि भाभी कैसे प्रेग्नेंट हुई और मैंने भाभी की गांड कैसे चोदी. आपको मेरी कहानी कैसी लगी? मुझे ज़रूर बताएं! अगर कोई गलती हो गयी हो तो कृपया मुझे माफ़ कर दीजिये.

दोस्तों अगर आपको देसी भाभी सेक्स की जरूरत की यह कहानी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करें। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds