July 16, 2024
टीचर से गांड मरवाई

मेरा नाम रोहित है आज में आपको बताने जा रहा हु कैसे मेने "टीचर से गांड मरवाई और अपनी गांड मरवाने की हवस को शांत किया"

मेरा नाम रोहित है आज में आपको बताने जा रहा हु कैसे मेने “टीचर से गांड मरवाई और अपनी गांड मरवाने की हवस को शांत किया”

मैं दिल्ली में कोचिंग में पढ़ता हूँ। मेरी उम्र 25 साल है। मेरा दिल एक टीचर पर आ गया जो बहुत खूबसूरत लग रहा था. इनका नाम रमेश है, उम्र 38 साल है.

मुझे कोचिंग क्लास में पढ़ते हुए एक महीना हो गया था. मैं मनोज सर के बारे में सोच कर पागल हो गया था. मैं सोचता था कि काश मैंने उसके साथ सेक्स किया होता तो मजा आ जाता.

मैं आपको बता दूं कि मैंने कई बार मनोज सर के बारे में सोच कर हस्तमैथुन किया है और कई बार उनकी बांहों में सोने का सपना भी देखा है.

लेकिन अब मैं सच में ये सब करना चाहती थी इसलिए मैंने मनोज सर से अपने कमरे में पढ़ाने के लिए बात की.

उसने ज़्यादा फ़ीस बताई लेकिन मुझे उससे प्यार हो गया था, इसलिए मैं उसकी सभी माँगें पूरी करने के लिए तैयार हो गया।

मैं क्या करूँ यार… काफी समय पहले जब अंकल जी ने मेरी गांड चोदी थी, तब से जब भी मैं किसी खूबसूरत आदमी को देखती हूँ तो मेरा मन मचलने लगता है।

मनोज सर भी बहुत हैंडसम हैं इसलिए मेरे शरीर की गर्मी बाहर आने को बेताब थी. शाम को सात-आठ बजे मनोज सर मुझे पढ़ाने आने लगे.

कुछ दिन बीत गए लेकिन बात नहीं बन रही थी. अब मैं क्या करूँ.. तो मैंने सर से मेरे कमरे पर खाना खाने के लिए कहा। मनोज सर तैयार हैं.

मैंने सर के लिए एक अच्छी सी ड्रेस खरीदी और जैसे ही सर मेरे कमरे में आए तो मैंने उन्हें कपड़े पहनने के लिए मनाया और कहा कि मनोज जी मैं आपको अपने हाथों से ये कपड़े पहनाना चाहती हूं।

सर एक बार तो मुस्कुराते हुए शरमा गये. मुझे उसकी मुस्कुराहट बहुत अच्छी लगी. फिर जैसे ही सर ने अपने कपड़े उतारे तो मैंने अपने हाथों से उनके शरीर को छू लिया.

ऐसा लगा जैसे मेरे शरीर में अचानक कोई रोशनी जल उठी हो। मैं मनोज सर को पैंट पहनाने लगा. इसी बहाने मैंने जानबूझ कर तीन बार मनोज सर के लंड को छुआ.

मनोज सर ने इसे ध्यान से नहीं देखा था. फिर शर्ट पहनने से पहले मैंने सर को अपने सीने से लगा लिया.

इससे पहले कि सर कुछ समझ पाते, मैंने मनोज सर को आई लव यू बोल दिया. मैंने कहा कि सर मैं आपसे प्यार करता हूं.

मनोज सर ने मुझे धक्का देकर अपने से दूर किया और बोले- रोहित, तुम्हें क्या हो गया है?

“सर, जब से मैंने आपको देखा है, मुझे आपसे प्यार हो गया है। मैं सुबह शाम बस तुम्हारे बारे में ही सोचता रहता हूँ.

क्या करूँ तुम ही बताओ. आपकी सुंदरता मुझे आपकी ओर खींचती है. सर, मैं आपसे प्यार करने के लिए इस कमरे में पढ़ने लगा, नहीं तो मैं भी वहीं पढ़ाता। लेकिन मैं आपका प्यार पाना चाहता हूं सर!”

मेरी ये सब बातें सुनकर मनोज सर उत्तेजित हो गये. वह समझ गया कि मैं क्या सोच रहा था।

मनोज सर बोले- चलो, पहले खाना खा लें.. ठीक है? हम दोनों बैठ कर खाना खा रहे थे लेकिन हम दोनों का दिल और दिमाग घूम रहा था. वह भी शायद यही सोच रहा था.

जब खाना ख़त्म हुआ तो मनोज सर ने मुझे अपने पास बुलाया, लव यू कहा और मेरा हाथ चूम लिया।

मैं बहुत खुश थी कि सर उस रात मेरे साथ सोने को तैयार हो गये। मनोज सर ने लाइट बंद कर दी और अपने सारे कपड़े उतार दिये.

इससे पहले कि मैं कुछ समझ पाती, सर ने मुझे बिस्तर पर पटक दिया और गले से लगा लिया.

“मैं तुमसे प्यार करता हूँ यार रोहित… तुम मुझसे इतना प्यार करते हो, मुझे तो पता ही नहीं था।”

सर को नंगा देख कर मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिये और सर से लिपट गयी.

“हां मनोज, मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूं. मैं इतने लंबे समय तक यह नहीं कह सका कि मैं तुमसे प्यार करता हूं।”

मनोज सर ने मेरे होंठों पर अपने होंठ रख कर मेरी मदमस्त जवानी में आग लगा दी. मैं सर के होंठों को चूमने लगी.

सर मेरे पास आये. वो मेरी आँखों में देख रहा था और मुझे चूम रहा था।

मैं बस उसके शरीर की गर्मी महसूस कर रहा था और उसके सिर को पकड़ रहा था।

मैं अपने होंठ मनोज सर के मुँह में देने लगी और वो मेरे होंठों को बड़े प्यार से काटने लगे.

मनोज सर मेरी गर्दन के पास चूमते हुए मेरी छाती के दोनों निपल्स को एक-एक करके चूसने लगे. मैं ऐसे आहें भर रही थी जैसे कोई औरत अपने नये पति से मिल रही हो.

सर ने मेरे शरीर को काटना शुरू कर दिया, जो मेरी जवानी की गर्मी को ठंडा कर रहा था.

मैंने सर को अपने पास खींच लिया और उनके होंठों पर अपने होंठ रख दिये. अब मेरी जीभ मनोज सर के मुँह में जाने लगी.

मनोज सर भी मेरी जीभ को प्यार से चूसते हुए मेरा साथ देने लगे. मैं सर के शरीर को चूमते हुए उनकी जांघों तक पहुंची और सर का अंडरवियर उतार दिया.

सर का अंडरवियर हटते ही उनका लंड दिखने लगा. मैंने उसका लंड अपने मुँह में भर लिया. मेरे ऐसा करते ही मेरे मुँह से “आआह…” निकलने लगी. मैं प्यार से लंड चूसने लगी.

“आहह ईई सीईईई… जानू… आहह बहुत मज़ा आ रहा है।” मनोज सर का लंड चूस कर मैं भी खुश हो गयी कि आज मुझे उनका प्यार मिल गया.

मैं सर को पूरी तरह खुश करना चाहती थी इसलिए मैंने उनका लंड खूब चूसा.

काफी देर तक लंड चुसवाते समय सर मेरे मुँह में उछल-उछल कर झटके दे रहे थे.

फिर एक जोरदार झटके के साथ सर ने अपने लिंग से तरल पदार्थ मेरे गले में छोड़ दिया.

सर के लंड का स्वाद चखते हुए मैंने सारा पानी पी लिया और इस संतुष्टि के साथ कि सर ने मेरी दिल की इच्छा पूरी कर दी, मैंने सर के लंड को अपनी जीभ से चाट कर साफ कर दिया.

मनोज सर आराम से बिस्तर पर लेटे हुए थे. मैं उसके पास जाकर लेट गया.

सर ने अपने पैरों से मेरे ऊपर हाथ रख दिया और वो मेरे शरीर से चिपक गये.

सर बोले- रोहित, आज तुमने मेरी बीवी से भी ज्यादा मजा और शांति दी है. मुझे बहुत मजा आया मेरी जान.

अब सर और मैं एक दूसरे से लिपट कर सो गये. मुझे नींद नहीं आ रही थी और मैं मनोज सर के लंड से चुदने के लिए बेताब हो रही थी.

मैं मनोज सर को फिर से जगाने के लिए उनका सिर सहलाने लगा. अब सर ने फिर से मेरे गाल को चूमा और मुझे अपना लंड चूसने को कहा.

मैंने अपना मुँह बंद करके अपनी जीभ से चाटकर सर के लिंग को पूरे जोश से भर दिया। उसका लिंग धड़क रहा था और मुझे काटने को तैयार था।

मैंने झुक कर अपनी गांड मनोज सर के सामने कर दी. मनोज सर समझ गए कि इस छेद की सर्विस करनी होगी.

उसने पास में रखी तेल की शीशी से थोड़ा सा तेल अपनी हथेली पर लिया और उंगलियों की मदद से मेरी गांड में टपकाना शुरू कर दिया.

फिर उसने तेल की बोतल से सीधे गांड के छेद में तेल टपकाना शुरू कर दिया और उंगली की मदद से तेल को अन्दर तक लगाने लगा.

फिर उसने अपने हाथ से उसके लिंग का हस्तमैथुन करते हुए उसे तेल से सराबोर कर दिया. अब सर का सात इंच लम्बा लंड मेरी गांड चोदने के लिए तैयार था.

सर ने मेरे नितंबों को अपनी हथेली से थपथपाया और मेरे लिंग का सिर छेद पर सेट किया। फिर उसने एक ही झटके में अपना मूसल मेरी गांड में पेल दिया.

मैं मीठी दर्द भरी आवाजें निकालने लगी क्योंकि सर ने एक ही बार में अपना पूरा लंड अन्दर डाल दिया था.

उसका हथियार बहुत ताकतवर था और उसने मेरी गांड को फाड़ते हुए अंदर तक घुसा दिया.

“आहह डार्लिंग… क्या तुम आज ही मेरी गांड फाड़ दोगे, आह बहुत लंबा है, आह मर गई।”

मेरी इन आवाजों से मनोज सर को कोई फर्क नहीं पड़ रहा था. उसने मुझे घोड़ी बनाते हुए मेरी कमर पकड़ ली और जोर जोर से धक्के मारने लगा.

मैं घोड़ी बनी जरूर थी लेकिन अधमरी कुतिया की तरह मिमियाते हुए लंड खा रही थी. सर जोश में आ गये थे और झटके पर झटके दे रहे थे.

कुछ देर में दर्द दूर हो गया और अब मैं उछल-कूद कर मजे से गांड मरवा रही थी.

सर की मादक आवाजें मेरा मजा बढ़ा रही थीं- आह ले मेरी जान … अपने सर के लंड से चुदवा ले … आह तेरी गांड कितनी मुलायम है मक्खन जैसी … आह.

उसका लंड अब मेरी गांड में फूल कर काफी मोटा हो गया था. इससे मेरी गांड को और मजा आ रहा था.

ऐसा लग रहा था मानो मैं इस शर्म से पागल हो गया हूँ. मनोज टीचर जी का लंड झटके पर झटके लेकर गांड की खुजली शांत कर रहा था. मेरा पूरा शरीर गर्म हो गया.

मनोज सर अभी भी मेरी गांड चोद रहे थे- आह ले मेरी जान … अपने दोस्त के लंड से चुदवा ले … आह.

फिर कुछ देर बाद मनोज के लंड की स्पीड बढ़ गयी और वो लंड डलवाने के लिए पूरी स्पीड से अपनी कमर हिला रहा था.

उसके झटके मेरी मादक जवानी को रंगीन बना रहे थे. “आह मेरी जान, आज मेरी ख़ुशी का ठिकाना नहीं है।” “बस सर, अब इसे बाहर निकालो रबड़ी…”

“जरा रुको मेरी जान… मैं तुम्हें इतने प्यार से चोद रहा हूँ, इतने प्यार से तो मैंने कभी अपनी बीवी को भी नहीं चोदा। कसम से तेरी गांड में लौड़ा इतना मजा दे रहा है कि बाहर ही नहीं आ रहा है।”

“आह, मुझे अपने लंड से चोदो… सर, मेरी गांड फाड़ दो… आह डार्लिंग।” मनोज सर ने बहुत तेजी से हांफते हुए अपने लंड का लावा मेरी गांड में उड़ेल दिया.

कराहते हुए उसने मेरी कमर खींची, अपना लंड जड़ तक पेल दिया, अपना सारा वीर्य मेरी गांड में छोड़ दिया और मेरे ऊपर लेट गया.

गे टीचर को चोदकर मेरे दिल की इच्छा पूरी हो गयी और मेरा दिल खुश हो गया. मनोज सर मेरे साथ ही सोये. अब मेरा सर से रिश्ता बन गया था.

इसलिए अब वो मुझे पढ़ाने मेरे कमरे में नहीं आते. उस दिन के बाद से वह मुझे सेक्स का पाठ पढ़ाने मेरे कमरे में आ जाता।

सर अब मेरी गांड के दीवाने हो गये हैं. मैं सर के लंड और उनके हुस्न पर फ़िदा हूँ. कई बार हम दोनों बाहर घूमने जाते थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds