July 16, 2024
vidhwa Maa ki chudai

आज की विधवा माँ की चुदाई. की कहानी में पड़े एक ठरकी मां ने अपनी चूत की आग को अपने बेटे के लंड से ठंडा किया

हेलो मेरा नाम काजल है. मेरी उम्र 39 साल है. मेरे 2 बच्चे हैं, एक उमर 2 साल की है उसका नाम रिशु है। और दूसरे की उमर 17 साल की है उसका नाम पर्व है।

मेरे और हमारे घर में एक कुत्ता भी है, ब्रूनो। पति की एक कार एक्सीडेंट में मौत हो गई कुछ दिन पहले। हमारा घर बहुत छोटा है. अपने पति की मौत के बाद मैं अपने दोनों बच्चों के साथ सोती हूं।

मेरे पति की मौत के बाद टेंशन में रात को नींद की गोली ले कर सोती हूं। एक दिन रात को मैं रिशु को दूध पिला रही थी। गर्मी का दिन था कूलर पर्व की तरफ।

रिशु मेरे स्तन में से दूध पिता पिता सो गया और मेरा ब्लाउज खुला रह गया। मैंने हवा के लिए रात में पर्व की तरफ करवट ले ली। मेरे बड़े बड़े स्तन भी धप से ज़मीन पर गिर गये। उनसे दूध टपक रहा था।

हवा से मेरे ब्लाउज का कपड़ा पर्व के चेहरे पर टच हो गया। पर्व की आंख खुल गई उसने देखा मेरे बड़े बड़े गोल गोल स्तन उसकी आंखो के सामने खुले पड़े हैं। और उनसे दूध टपक रहा है।

पर्व ने धीरे से मेरे ब्लाउज के कपडे को मेरे स्तन से हटा दिया और उन पर उंगली लगाने लगा। थोड़ी देर बाद वो अपनी तरह मेरे स्तनों की गोलियों पर लगाने लगा।

मुझे नींद में ऐसा महसूस हो रहा था जैसे कोई मेरे स्तनों को छू रहा हो। मैंने आंखें खोलीं तो देखा पर्व मेरे स्तनों में से दूध चाट रहा है। और मेरे स्तनों को कभी काट रहा है कभी चूम रहा है।

मैने पर्व को मिटाने की कोशिश की लेकिन नींद की गोली का असर बहुत था। पर्व ने एक हाथ से मेरे स्तनों को पकड़ा था और दूसरा हाथ मेरी कमर पर फेर रहा था। कभी चूतडों पर फेयरता.

मैंने कोशिश कर के खुद को हिलाया टैब। लेकिन नींद में होने के कारण उतना तेज़ खुद को हिला नहीं पाया। पर्व ने अपनी उंगलियाँ मेरे साडी के कपडे के ऊपर से मेरे छुटड़ो में डालने लगा। उसकी आधी उंगली कपड़े के ऊपर से ही अंदर जाने लगी। मैंने अपनी चूत बीच में दबा ली।

पर्व की उंगलियां 5 मिनट तक मेरे डोनो नरम नरम चूतड के बीच मैं ही राही। वो उंगलियों को अंदर ही अंदर चला रहा था। मेरे स्तन में से जहां 2-2 बूंद दूध टपक रहा था। अब 10-12 बूंद दूध तपकने लगा।

वो मेरी गोल गोल बूबो को और चूम चाट और किस करने लगा। मैंने अब पूरी जोर से खुद को हिला लिया इस बार पर्व घबरा कर सो गया।

अगले दिन मैं नहाने के लिए बाथरूम में चली गई। पर तौलिया ले जाना भूल गई। मैंने पर्व को आवाज लगाई तो पर्व तौलिया ले कर आया। वाहा पानी गिरा हुआ था तो पर्व का जोड़ा फिसल गया और पर्व अचानक से गिर गया।

मैं पर्व को पकड़ने मैं पर्व के ऊपर गिर गई। मेरे स्तन पर्व के चेहरे पर चिपक गए। मेरे नरम नरम बड़े बड़े स्तन पर्व के चेहरे पर रगड़ने लगे।

पर्व भी जीभ निकल कर मेरे स्तन पर अपनी जीभ लगने लगा। और उसका एक हाथ मेरे नरम और गोल गोल चूतड पर था। पर्व की जिभ लगने से मेरे स्तन में से दूध आने लगा। मैं तभी उठ कर तौलिया ले कर बाथरूम में चली गयी।

दो दिन बाद पर्व के स्कूल की छुट्टी थी। तो मैंने सोचा सफ़ाई करा लू। मैंने अपना पुराना एक ब्लाउज़ रखा था लेकिन वो बहुत टाइट था। मैंने जबरदस्त अपने ब्लाउज के हुक लगा लिए।

वो ब्लूज़ में इतने टाइट हो गए कि अगर मैं खुल कर सांस लू तो भी ब्लाउज के बटन टूट जाएँ। मैंने ऊपर साड़ी पहन ली और सीढ़ी ला कर पर्व को कहा कि वो सीधी पकड़ कर खड़ा हो जाए।

मैं सीधी पर चढ़ी तो पर्व को मेरी साड़ी के अंदर से पैंटी दिख रही थी। वो मेरी पैंटी के चूतडों के बीच में घूर घूर के देखने लगा।

मुख्य दीवार साफ करने लगी. फिर जैसे ही मैं नीचे उतरी तो पर्व का चेहरा मेरे चूतडो को टच हो गया। उसने तुरंत अपनी जीभ से मेरे चूतड को चाट लिया।

मैंने पर्व से कहा जाओ और डस्टर ले कर आओ। पर्व वहां से चला गया और मुख्य जगह उतरने लगी। तभी मेरी साड़ी का पलू सीधा कील में अटक गया। और वहा इतने मैं ब्रूनो (कुत्ता) आ गया।

मैंने भगाया पर वो मुझ पर भूखा था। मैंने अपना पल्लू हटाने की कोशिश की। जैसे जैसे मैं पलू को खींचता हूँ मेरे भारी भारी स्तन उछालने लगते हैं।

ऊपर से ये टाइट ब्लाउज में बार-बार अपने पल्लू को झटके से खींच रही थी। और मेरे भारी भारी स्तन ब्लाउज के अंदर उछल रहे थे। अचानक से मेरे ब्लाउज के बटन टूट गए और मेरे गोरे और मोटे मोटे स्तन बाहर निकल गए।

ब्रूनो उनको देखने लगा. मैंने अपना ब्लाउज बैंड बनाने की कोशिश की और टाइट और टाइट। फिर मेरा ब्लाउज फट गया. मेरे ब्लाउज के आगे से 4 घंटे हो गए।

इतने में पर्व वहा आ गया। उसने एक हाथ से मेरे पीछे से दोनों स्तनों को कवर कर लिया। मैंने पूछा पर्व तुमने मेरे आगे हाथ क्यों रखा है?

तो पर्व ने कहा मम्मी ब्रूनो अगर ऐसा देखेगा तो झपट पड़ेगा। लेकिन मैं जानती थी ये पर्व के मन में कुछ और चल रहा है। पर्व ने कहा साड़ी अटक गई है।

पर्व अपने हाथ से मेरे स्तनों को दबाये जा रहा था। ब्रूनो ने अचानक से मेरा पल्लू पकड़ा और खिंचने लगा। उसने मेरा पल्लू पकड़के भगने लगा और मेरी साड़ी खुल गई।

अब मैं भाग्य में ब्लाउज और पैंटी में थी। मुख्य कमरे में भागने की कोशिश करने लगी। लेकिन पर्व ने मेरा एक बूब को पकड़ रखा था। मैंने अपना स्तन चुटवा कर वहां से अपने कमरे में भाग गई।

अगले दिन मुझे बाजार जाना था तो मैंने पर्व से कहा मेरे साथ चलो। सामान काफ़ी हो जाएगा तुम पकड़ लेना। पर्व मेरे पीछे स्कूटी पर बैठा।

रास्ते में निर्माण का काम चल रहा था। तो स्कूटी बहुत उछल रही थी तो पर्व ने मेरी साड़ी के ऊपर से मेरे स्तन पकड़ कर बैठा था।

वो धीरे धीरे उनको मसल रहा था. मैने इग्नोर करती रही. पर्व के दबने के कारण मेरे स्तन में से ढूढ़ निकलने लगा बूंद बूंद। जैसी ही स्कूटी फिर से उछली, मैं भी उछल पड़ी।

पर्व का लंड मेरे चूतडों के दरार के बीच मैं आ गया। और उसका हाथ मेरे ब्लाउज के अंदर डाल लिया। वाहा बहुत भिड़ थी मैंने सोचा कोई देख लेगा तो क्या सोचेगा।

इसलिए मैंने पर्व का हाथ अपने ब्लाउज के अंदर रख दिया। और ऊपर से अपने पल्लू से कवर कर लिया ताकि कोई देख न सके। पर्व अपने हाथों से कभी मेरे स्तन का दबता कभी निचोड़ता। कभी मेरे स्तनों की गोलियाँ पर उंगली।

मेरे स्तनों में से दूध निकलने लगा और पर्व का लंड मेरे चूतडों के दरार के बीच में घिस रहा था। आस पास लोगो की भिड़ पर्व आगे जाता है और मुख्य पर्व को पीछे ढकेलती है।

इसी तरह 1 घंटे तक पर्व मेरी चूतडों के डर के बीच मैं अपना लंड रगड़ता रहा। हम जैसे तैसे बाजार पाहुच गए। फिर वहां से सब्जी और आइसक्रीम ली फिर वहां से निकल गये।

रास्ते में मेरी दोस्त मिल गई। हमारी कुछ देर बात हुई. फिर मेरी दोस्त ने कहा चल आज मैं स्कूटी चलाती हूं। और मुझे पीछे ढकेल दिया और पर्व को बीच में बिठा दिया।

लेकिन मुझे डर था कि पर्व वैसा ना करे जैसा मेरे साथ किया। इसलिए मैंने पर्व का चेहरा अपनी तरफ कर के बिठा लिया। मेरी फ्रेंड स्कूटी चलाने लगी.

कुछ देर बाद पर्व अपने दोनों हाथों से मेरे स्तनों को दबाने लगा। और मेरे ब्लाउज के ऊपर से मेरे स्तनों को चाटने लगा। मैंने पर्व का चेहरा अपने स्तनों पर से हटा दिया। तो वो हिलने लगा जिसकी स्कूटी भी हिलने लगी।

मैंने पर्व का चेहरा पकड़ा और अपने स्तन पर वापस लगा लिया और पल्लू से कवर कर लिया। पर्व मेरे स्तनों को अपने मुँह से चूसता रहा। अचानक से मेरे ब्लाउज का बिच से एक बटन खुल गया।

अब पर्व को मेरे स्तन के अंदर जाने का रास्ता मिल गया। उसके मुँह में घुसने के कारण मेरे ब्लाउज के बटन और खुल गए। मैंने सोचा कहीं कोई देख ना ले.

इसलिए मैंने पर्व का चेहरा अपने ब्लाउज के नीचे डाला और अपने ब्लाउज का हुक लगा लिया। अब वो अन्दर से मेरे स्तनों को चूम, चाट और निचोड़ रहा था।

मेरे स्तन में से जहां एक बूंद दूध तप रहा था। अब उनसे पिचकारी निकलने लगी. उसका लंड भी खड़ा होने लगा और वो धक्का लगाने लगा।

मैंने पर्व को पकड़ लिया ताकी वो ज्यादा ना हिले। लेकिन वो रुक नहीं रहा था. उसका लंड अन्दर टाइट हो रहा था. मैंने पर्व की जींस की चेन खोली और उसका लंड बाहर निकल दिया ताकि उसको आराम मिले।

लेकिन अब भी वो वैसा ही कर रहा था। मैंने उसका लंड अपने दोनों जोड़ों के बीच में दबा लिया। वो मेरे दोनों जोड़ी के बीच में अपना लंड घिसने लगा।

ऐसा करते-करते वो सो गया। जब भी स्कूटी मैं धक्का लगता है पर्व का लंड मेरे चूत के पास टच होने लगता है। अचानक से मेरी सहेली ने पीछे खिसक गयी जिसकी वजह से पर्व का आधा लंड मेरी चूत में घुस गया।

मेरे मुँह से आवाज़ निकल गई आआआहह… लेकिन मैंने अपने मुँह पर हाथ रख लिया। पर्व मेरे स्तन चुन रहा था और पर्व का आधा लंड मेरी चूत में था।

अब घर आने वाला था इसलिए मैंने पर्व को पीछे किया। और अपने ब्लाउज से पर्व का चेहरा भर निकला और अपने ब्लाउज के बटन बंद किये। हम घर आ गये.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds