May 21, 2024
Bhabhi ki tight bur ki chudai

यह सेक्सी भाभी की टाइट बुर की चुदाई की हवस की कहानी मेरे और मेरी भाभी की है।

भाई की शादी हो गई, उसके एक महीने बाद वो सउदीया चला गया और फिर 2 साल बाद उसे वापस आना पड़ा.
भाभी भी बहुत दुखी और चिंतित थी.

2 साल बाद जब भाई आया तो ज्यादा दिन नहीं रुक सका क्योंकि उसे ज्यादा छुट्टियाँ नहीं मिलीं।
उसकी वापसी की टिकट अगले महीने की ही थी, इसलिए वह मुश्किल से एक महीना भी घर पर रह सका।

भाई वापस चला गया.
उनके जाने के बाद भाभी फिर से उदास रहने लगीं.

मैं भी बाहर रहकर पढ़ाई करता था इसलिए भाभी बिल्कुल अकेली रह जाती थीं.
जब लॉकडाउन लगा तो इसके चलते मैं घर आ गया।

एक दिन मैंने देखा कि भाभी छत पर बैठ कर भैया से बातें कर रही थीं.
फिर जब मैं आया तो भाभी ने बात ख़त्म कर दी और फ़ोन काट दिया.

वैसे तो मेरे मन में भाभी के बारे में कोई गलत विचार नहीं थे, लेकिन भाभी भी बहुत सेक्सी थीं, इसलिए कभी-कभी मैं उनसे मजाक भी कर लेता था.

हमारे बीच मजाक करने की सीमा कुछ ज्यादा ही बढ़ गई थी इसलिए अब जब भी मैं उसकी ब्रा की स्ट्रिप देखता तो उसे खींच देता और उसे चोट लग जाती.
ऐसा मैंने कई बार किया था.
भाभी को इस बात का बुरा नहीं लगा.

एक दिन वह कमरे में बैठी फोन पर खेल रही थी।
उसकी ब्रा की स्ट्रिप दिख रही थी तो मैं पीछे से बेड पर बैठ गया और स्ट्रिप खींच दी.

उस दिन मैं भाभी के कमरे में था और भाग नहीं सकता था क्योंकि भाभी सामने बैठी थीं.
उसने मुझे पकड़ लिया और धक्का दे दिया.

मैं गिर गया और बिस्तर पर लेट गया. मैं उठने की कोशिश करने लगा.
वो मेरे ऊपर चढ़ गयी और मुझसे मजाक करते हुए लड़ने लगी.

मैं उनसे दूर जाने की कोशिश कर रहा था.

भाभी मुझे पकड़ कर मेरे ऊपर चढ़ गईं और मेरे एक गाल को खींचने लगीं.
वो मुझे गुदगुदी करने लगी.

उसके झुकने के कारण मुझे उसके स्तन साफ़ दिख रहे थे.
मैंने उसकी कमर को कस कर पकड़ लिया और अपनी ओर खींचा तो वह मुझ पर बहुत ज्यादा झुक गई और उसके स्तन मेरे चेहरे पर दबने लगे।

वे मजे कर रहे थे और मैं भी!
यार, मुझे उस वक्त पता नहीं क्या हुआ… मेरा मूड बनने लगा और मेरा लंड खड़ा हो गया.

भाभी को मेरा सख्त लिंग महसूस हुआ.. वो एक पल के लिए रुक गईं लेकिन अगले ही पल उन्होंने मुझे फिर से गुदगुदी करना शुरू कर दिया।
मैंने उसे पकड़ लिया तो वो खुद को मुझसे छुड़ाने की कोशिश करने लगी.

वो कहने लगी- छोड़ो प्लीज़!
मैंने नहीं छोड़ा.

वो बोली- ठीक है, सॉरी, मुझे जाने दो, मुझे जाने दो, मुझे कुछ काम है.
मैंने भाभी को छोड़ दिया और वो चली गयी.
मैं घूमने के लिए बाहर चला गया.
फिर मैं दोपहर को घर आ गया.

मैं अपने कमरे में था.
वह आया।
उसने मैगी बनाई थी तो वह वही ले आई और पंखे के नीचे बैठ कर हवा लेने लगी।
भाभी पसीने से भीग चुकी थी इसलिए उसकी पट्टी फिर से दिखने लगी.

मैंने जोर से खींचा तो पट्टी टूट गयी.
उसने मेरी तरफ देखा और बोली- नुकसान तो तुमने ही किया है, अब भरपाई कौन करेगा?

मैंने कहा- पैसे ले लो और नया ले लेना, ठीक है.
वो बोली- मत छोड़ो. बड़ा पैसा आया है.

उसकी बातों से मैंने भी पट्टी दूसरी तरफ खींच दी.
इस पर भाभी फिर से मुझसे लड़ने लगीं.

आज मैंने शॉर्ट्स पहना था. मैंने भागने की कोशिश की लेकिन वह मेरे ऊपर चढ़ गयी.

शायद उसे मुझसे चिपक कर मजा आने लगा था.

फिर वही हुआ जो पहले था.
मैंने उसकी कमर कस कर पकड़ ली.
वह मेरे ऊपर आ गयी और उसके स्तन मेरे मुँह के पास आ गये।

उसे मेरी सांसों की गर्मी महसूस हुई तो वो मेरे ऊपर झुक गयी.
आज उसकी गर्म सांसों से मुझे भी अजीब सा लग रहा था.
शायद उनको भी मजा आ रहा था.

कुछ मिनट तक ऐसे ही जोरदार लड़ाई चलती रही और मैं फिर से मूड में आ गया.

आज भाभी भी शायद अच्छे मूड में थीं.
उसे महसूस होने लगा कि मेरा लंड खड़ा हो गया है.

वो और ज्यादा ताकत लगाने लगी जिससे हम दोनों के बीच घर्षण और ज्यादा होने लगा.

मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया और अपना असर साफ़ दिखने लगा.
भाभी थोड़ी ढीली हो गईं और मेरे लिंग पर उठने के लिए थोड़ा हिलने लगीं.

फिर मैंने उसे जोर से खींचा और वो मेरे ऊपर गिर गयी.
इस बार उसका मुँह मेरे मुँह के बिल्कुल करीब आ गया.

मेरी पकड़ मजबूत होने के कारण वो मुझसे बिल्कुल चिपक गयी थी, ऐसा लग रहा था मानो चूम रही हो।

यार, मेरी हालत ख़राब थी.
इससे पहले कि कुछ खेल खेला जाता, माँ ने उसे बुलाना शुरू कर दिया।

फिर भाभी को जाना पड़ा.
लेकिन आज मुझे पूरा यकीन हो गया था कि अब भाभी को भी मजा आने लगा है.

मेरा लिंग खड़ा हो गया था इसलिए मैं अपने आप पर नियंत्रण नहीं रख सका। आज मेरी हालत बहुत ख़राब हो गयी थी.
मैं बाथरूम में गया और मुठ मारने लगा.

शाम को मैं चिकन लेकर आया और बोला- भाभी, आज आप इसे बना लो.
भाभी नॉनवेज नहीं खाती थी और न ही बनाती थी.

लेकिन आज जब मैंने पूछा तो भाभी बोलीं- ठीक है, बना दूंगी, लेकिन मुझे क्या मिलेगा?
मैं इशारा समझने लगा.

मैंने भी हंस कर जवाब दिया- साफ-साफ बताओ कि तुम्हें क्या चाहिए, तुम्हें जो चाहिए वो मिलेगा.
भाभी बोलीं- एक बार सोच लो. मैं जो भी मांगूंगा, मुझे देना होगा.

मैंने कहा- हां ठीक है.
मैं मेरे मित्रों के साथ बाहर गया।
फिर मुझे शाम को आने में थोड़ी देर हो गयी.

सबने खाना खा लिया था.
मैं देर से आया और अपने कमरे में गया तो भाभी खाना लेकर आईं.

मैंने आज थोड़ी पी ली थी, इसलिए शायद थोड़ा नशा हो गया था।
इससे भाभी को पता चल गया कि मैं नशे में हूं.

मैंने कहा- भाभी, आप खाना रख दो, मैं खा लूंगा.
लेकिन भाभी ने मेरी हालत देखी और बोलीं- मेरे सामने ही खा लेना, नहीं तो बिना खाये ही सो जाओगे.

मैंने खाना शुरू कर दिया.
मैंने भाभी से पूछा- आपने खाना खा लिया?

भाभी बोलीं- नहीं.
मैंने कहा- मेरे साथ ही खाओ. जाओ और अपने लिए भी खाना ले आओ.

भाभी बोलीं- तुम खाओ, मैं बाद में खाऊंगी.
मैं उन्हें अपने हाथों से खाना खिलाने लगा.

उन्होंने इनकार कर दिया।
उन्होंने कहा- मैं नॉनवेज नहीं खाती.

मैं जबरदस्ती करने लगा और बोला- अगर तुम नहीं खाओगी तो मैं भी नहीं खाऊंगा.
कुछ देर बाद उसने अपने हाथों से खाना खाया.

यार मुझे तो बड़ा अजीब लगा कि जो नॉनवेज नहीं खाती उसने कैसे खा लिया.
कुछ देर बाद उसने मुझे अपने हाथों से खाना खिलाया और खुद भी खाया.

खाना खाने के बाद मैं लेटने लगा.
मैंने अपनी ड्रेस भी नहीं बदली.

मैं अपनी जीन्स उतारने लगा.
इसमें भाभी ने भी मदद की.

मुझे शॉर्ट्स भी पहनाया.
अब मैं लेट गया.

तभी भाभी आईं, मुझे ठीक से सुलाया, एक चुम्बन दिया और जाने लगीं।
मैंने उसे खींच लिया और मैं भी किस करने लगा.

भाभी बोलीं- तुमने शराब क्यों पी?
मैंने कहा- यार, मेरे दोस्तों ने मुझे पिलाया है.

वह कुछ नहीं बोली।
मैंने भाभी को खींच लिया.

आज हमारे बीच कुछ ज्यादा ही बातें होने लगीं.
मैं भाभी को जोर से गले लगाने लगा और चूमने लगा.
भाभी भी कुछ नहीं बोल रही थी.

अब मुझे पूरा यकीन हो गया था कि भाभी मुझे बिल्कुल भी मना नहीं करेंगी.

मैं भाभी की गर्दन पर चूमने लगा.
भाभी को भी मजा आने लगा.

फिर मैंने उनके मम्मे दबाने की कोशिश की लेकिन भाभी ने मेरा हाथ पकड़ लिया.

उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली- क्या कर रहे हो?
मैंने अपना हाथ नहीं रोका और उसके स्तनों की ओर बढ़ाना शुरू कर दिया।

उसने मुझसे ऐसे बात तो जरूर की लेकिन उसका मुझे मना करने का मन नहीं हुआ.

मैंने कहा- भाभी, प्लीज़ आज मेरी थोड़ी मदद करो. प्लीज भाभी, मुझे मत रोको.

वो बोली- ठीक है लेकिन ज्यादा कुछ नहीं ठीक?
मैंने कहा ठीक है और अपना हाथ उसके ब्लाउज में डाल दिया.

मुझे स्वर्ग का सुख मिलने लगा. भाभी के मुलायम स्तन मुझे शर्मिंदा करने लगे.
मैं उसके स्तनों को जोर जोर से दबाने लगा.

भाभी भी मेरी तरफ मादक भाव से देखने लगीं और उनकी आंखों में हवस साफ नजर आ रही थी.
मैंने उसे चूमा. भाभी ने भी चुम्बन में मेरा साथ दिया।

कुछ देर तक मैं भाभी को ऐसे ही चूमता रहा और उनके मम्मे दबाता रहा.
फिर भाभी बोलीं- ब्लाउज उतारो.

मैंने पीछे से हुक खोल दिया.
भाभी ब्रा में थी.

भाभी बोलीं- रुको, पहले दरवाज़ा बंद करके आओ.
मैंने कहा- क्यों कौन आएगा? …मम्मी सो रही है, बाद में बंद कर देना।

यह कहते हुए मैंने भाभी की ब्रा खोल दी और उसके एक चूचे को मुँह में ले लिया.
मैं भाभी के मम्मों को चूसने लगा और दूसरे को दबाने लगा.

भाभी भी पूरे मूड में थीं.

मैंने कहा- भाभी, आज तो पूरा मजा होने दो।
उसने कुछ कहा नहीं।

मैं समझ गया कि भाभी की तरफ से हां है.
मैंने नीचे हाथ डाल कर चूत को टटोला और बोला- यार भाभी, आप तो गीली हो रही हो.

वह कुछ नहीं बोली।
मैंने भाभी के कान में धीरे से कहा- यार, तुम्हें मुझे पहले ही बताना चाहिए था.

अब भाभी बोलीं- दो दिन तक तुमने मुझे रगड़-रगड़ कर गीला किया था, आज भी कर दिया। अब इतना मूर्ख मत बनो.
मैंने कहा- तो फिर ठीक है, आज तुमने कहा था कि सिर्फ भीगी ही नहीं, कुछ और भी होगा.

भाभी मेरा साथ देने लगीं.
मैंने उसका हाथ अपने अंडरवियर में डाला और कहा- पकड़ो इसे!

उसने अपना लंड पकड़ कर अंडरवियर से बाहर निकाल लिया.
मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था.

भाभी बोलीं- कुछ तो शर्म करो, ठीक है मैंने कह दिया लेकिन इतनी बेशर्मी ठीक नहीं है.
मैंने कहा- अब शर्म की बात मत करो.

भाभी : क्यों?
मैंने कहा- जिसे शर्म आएगी, उसका कर्म नष्ट हो जाएगा.
भाभी हंस पड़ी.

मैं भाभी का पेटीकोट खोलने लगा और साड़ी उतार दी और पेटीकोट भी उतार दिया।
अब भाभी पैंटी में थीं.

यार वो लाल रंग की पैंटी में क्या मस्त लग रही थी.

मैंने कहा- अभी रुको, दरवाजा और खिड़की बंद कर लो और फिर करना.
भाभी ने धीरे से इधर-उधर देखा और अपने कमरे में जाकर नाइटी पहनी, सारे दरवाजे बंद कर दिये और कमरे का गेट लॉक करके वापस आ गयी।

आज तो ये नशे का बहाना था. थोड़ा सा ही नशा था लेकिन मैंने भाभी को और दिखाने का नाटक किया.

भाभी आईं और मेरे सामने नाइटी उतार दी.
मैंने उसे अपनी बाहों में खींच लिया और उसे चूमना शुरू कर दिया, उसके निपल्स के साथ फिर से खेलना शुरू कर दिया, एक को अपने मुँह में ले लिया और दूसरे को अपनी उंगलियों के बीच दबाया और कराहने लगा।
भाभी आहें भरने लगीं.

मैंने उसकी पैंटी भी उतार दी.
अब वो पूरी नंगी थी और मैं गंजे अंडरवियर में था.

उसने मेरे कपड़े उतार दिए और मुझे चूमने लगी.
हम दोनों मजा करने लगे.

कुछ देर बाद मैंने कहा- भाभी, मेरा थोड़ा सा मुँह में ले लो.
वो मना करने लगी और बोली- मुझे मुँह में अच्छा नहीं लगता!

जब मैंने उसे कुछ देर तक समझाने की कोशिश की तो वह मान गई और घुटनों के बल बैठ गई और मेरा लिंग अपने मुँह में ले लिया।
बहुत मजा आया यार… वो बहुत तेजी से लंड चूसने लगी.

ऐसा नहीं लग रहा था कि भाभी को लंड चूसने में मजा नहीं आया.
उसके लंड चूसने से ऐसा लग रहा था कि वो शादी से पहले ही लंड चूसने की कला में माहिर थी.

मैं 69 में आ गया और उसकी चूत में उंगली करने लगा.
वो भी भीगने लगी, कहने लगी- अब देर मत करो.

मैंने कहा- पहले मुझे भी तो कुछ करने दो भाभी.
मैंने अपना मुँह उसकी चूत पर रखा और एकदम से रगड़ दिया.

वह पूरी तरह से पागल हो गयी.
मैं भाभी की चूत को चूसने लगा.

उसकी चूत का स्वाद लाजवाब था. इसका स्वाद नमकीन अमृत जैसा था.
मैंने कहा- अब डाल दूँ क्या?

भाभी बोलीं- क्यों बुलाना है?
मैंने सेक्स पोजीशन बनाई और अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा.

वो तड़प उठी और बोली- अब अन्दर डालो.
मैंने एक ही झटके में पूरा लंड चूत में घुसा दिया.

वो तड़प उठी और बोली- धीरे धीरे करो.
लेकिन मैंने उसे और जोर से चोदना शुरू कर दिया.

उसे भी मजा आने लगा और बोली- यार, मैं तुम्हें इतने दिनों से पटा रही थी.
मैंने कहा- तुम्हें मुझे पहले बताना चाहिए था.
वह हंसने लगी।

मैंने कहा- जब उसने नॉनवेज नहीं खाया तो खाया क्यों?
भाभी बोलीं- पहले तो खाती थी लेकिन बाद में खाना बंद कर दिया. अब मुझे तेरा प्यार खाना है. मैंने नॉनवेज न खाने की कसम खाई थी.

मैंने कहा- क्या तुम सच में मुझसे प्यार करती हो?
भाभी बोलीं- इसलिए मैंने चिकन खाकर अपनी कसम तोड़ दी.

अब मैं उसे मजे से चोद रहा था.
कुछ देर बाद उसका जूस ख़त्म हो गया और वो निढाल हो गयी.

मेरा अभी तक नहीं हुआ था, मैं भाभी को चोदता रहा।
वो फिर से चार्ज हो गयी और मजा लेने लगी.

वो बोली- आज सारा रस निकाल दो।
मैंने तेज गति से चोदना शुरू कर दिया और अब चरम पर पहुंच गया था.
मेरा भी काम होने वाला था.

मैंने कहा- भाभी, मैं प्रेग्नेंट होने वाला हूं.
वो बोली- और तेजी से करो.

मैंने ठोकते हुए पूछा- कहां लोगी?

सेक्सी भाभी की टाइट बुर की चुदाई के नशे में बोलीं- अन्दर ही करो, बहुत दिनों से सूखी पड़ी है.. आज इसे गीला कर दो।

मैंने पूरी स्पीड से किया और मेरा निकल गया. मेरे साथ-साथ वह भी एक बार फिर बेहोश हो गया।
मैं कुछ देर तक उसके ऊपर ही लेटा रहा.

जब उसे हटाया गया तो वह खड़ी हो गयी.
उसकी चूत से रस निकल रहा था.
मुझे बहुत अच्छा लगा।

मैंने भाभी से कहा- यह टपक रहा है.. इसे साफ करके आ जाना, अभी मेरा मन नहीं भरा है।
भाभी बोलीं- क्या तुम दोबारा करना चाहते हो?

मैने हां कह दिया।
भाभी बोलीं- मैं कहीं नहीं जा रही हूं. कल करो।

मैंने कहा- चलो, आज जी भर कर करते हैं. हम कल देखेंगे।
वो बाथरूम से आई और हम दोनों थोड़ी देर तक किस करते रहे.

मैं उसके स्तनों को चूसता रहा, वो अपने हाथ से उन्हें पकड़ कर अपने स्तनों को चुसवाती रही.

कुछ देर बाद मैं फिर से खड़ा हो गया.
मैंने कहा- भाभी, ये फिर से तैयार है.

भाभी बोलीं- तो आ जाओ.
मैं भाभी के ऊपर चढ़ गया.

इस बार चुदाई काफी देर तक चली.
भाभी भी पूरी तरह खुश थी.

इस बार भी मैंने रस अंदर ही छोड़ दिया था.

भाभी पूरी रात मेरे कमरे में नंगी ही सोई रही.
वो सुबह जल्दी उठ कर चली गयी और मुझे भी अंडरवियर पहना दिया.

अगले दिन मैंने सेक्सी भाभी की गांड भी चोदी.
उस दिन भाभी को बहुत दर्द हुआ.

अब एक साल से ज्यादा समय हो गया है.
जब भी मेरा मन होता है तो मैं सेक्सी भाभी के साथ सेक्स का मजा लेता हूं.
कभी-कभी हम दोनों खाना बनाते समय किचन में सेक्स करते हैं।

अगर वह दवा लेती है तो बच्चा होने की कोई टेंशन नहीं होती.
अब इंजेक्शन आ गया है, एक बार लगवा लो और तीन महीने तक खुल कर सेक्स का मजा लो.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds