July 9, 2024

हेलो दोस्तों, आज की देसी भाभी की टाइट बुर की चुदाई की कहानी में आपको बहुत मजा आने वाला है। यह घटना करीब एक साल पहले की है। मेरी दुकान पर एक भाभी आती थी।

वैसे उन्हें सिर्फ भाभी कहना ग़लत होगा, क्योंकि वो तो परी जैसी थीं। उनका रंग बहुत गोरा था और उन्हें जहाँ भी पकड़ो टमाटर की तरह लाल हो जाते थे।

उसकी लम्बाई लगभग 5 फुट 3 इंच थी, बिल्कुल चिकने और रेशमी बाल जो नागिन की तरह लहरा रहे थे। जब मैंने उन्हें पहली बार देखा तो मुझे लगा कि वे बहुत भारी थे।

यह मेरे साथ नहीं होने वाला था, लेकिन भाग्य को मेरे लिए कुछ और ही मंजूर था। उसका फिगर बहुत अच्छा था और वो पूरी मारवाड़ी थी। वो पहली बार मेरे घर कुछ खरीदने आई थी।

फिर उसके बाद हमारी मुलाकातें बढ़ती गईं। कभी-कभी वह दोपहर को आती थी और हम घंटों बातें करते थे। उसका पति नेवी में था, जो साल में सिर्फ दो बार ही आता था और वो लड़का जब भी आता था, आ जाता था।

तो बेचारी लड़की के पास जाने के लिए कहीं नहीं था। वह अपने पति से खुश नहीं थी, क्योंकि वह जानवर किस्म का इंसान था। उसके घर में उसकी सास रहती थी। हमारी मुलाकात के ठीक चार महीने बाद, उसकी सास का निधन हो गया।

अब वह घर पर अकेले रह कर बोर हो जाती थी। जब उसने मुझसे यह बात कही तो मैंने कहा कि घर का काम निपटाकर दुकान पर आ जाना, तुम्हारा भी मन लग जायेगा और मेरा भी लग जायेगा।

उस उद्धरण में दिल छू लेने वाली बात क्या है? जो आपके दिल में रहेगा। फिर मैंने कहा कि नहीं, तुम दिल के पास रखने वाली चीज़ हो। वह शरमा गयी।

जाते समय उसने कहा कि वह इस शनिवार को आयेगी और जल्दी नहीं जायेगी। अब तो बस शनिवार का इंतज़ार था। उस दिन भी मैं दुकान पर पूरी तरह तैयार होकर गया और सोचा कि अब से हर दिन मजा आएगा।

फिर वो करीब 12 बजे आई और जैसे ही मैंने उसे देखा तो मेरी तो पौ बारह हो गई, क्या कमाल का सफ़ेद रंग का टाईट कुर्ता था? और उसके नीचे सफेद होंठ होंगे। उसकी पूरी टाँगें ऐसी लग रही थीं जैसे मैं उन्हें अभी खा सकता हूँ।

फिर जब वो मेरे पास आकर बैठी तो बोली कि तुम मुझे ऐसे क्यों देख रहे हो? क्या तुमने मुझे पहली बार देखा है? मैंने कहा- लड़कियाँ तो बहुत देखी हैं, आज अप्सरा देखी है। फिर उसका चेहरा शर्म के मारे लाल हो गया।

उस दिन के बाद हमारी नजदीकियां भी बढ़ने लगीं। फिर उस साल दिवाली के बाद मेरा परिवार 15 दिनों के लिए एक शादी में बाहर गया तो मैंने कहा कि अब से हम हर दिन होटल में खाना खाएँगे, तो उसने कहा कि ठीक है।

फिर उसके बाद ठंड बढ़ने लगी। फिर 2 दिन के बाद मैंने उससे कहा कि आज मैं तुम्हें घर छोड़ दूंगा और आज तुम्हें डिनर के लिए लाल साड़ी पहननी होगी, मैं तुम्हारे लिए खाना पैक करवा दूंगा।

फिर मैंने उसे घर छोड़ा और खाना पैक करवाने के बाद गुलाब जामुन लेकर उसके घर की ओर चल दिया और जब मैं घर पहुंचा तो उसने ताला लगाने से पहले ही दरवाजा खोल दिया और मैं उसे देखकर दंग रह गया।

उसने कौन सी साड़ी पहनी हुई थी? लाल शिफान साड़ी फिर मैंने उससे कहा कि आज मुझे यहीं रुकना है तो वो बोली कि प्लीज़ रुको। मैं समझ गया कि आज आग दोनों तरफ लगी है।

फिर खाना खाने के बाद मैंने कहा कि चलो टीवी देखते हैं। अब साथ बैठकर टीवी देखते-देखते बात सेक्स तक पहुंच गई और वह निराश होने लगी। फिर मैंने कहा कि क्या हुआ? क्या आपका पति अच्छा नहीं है?

तो वो बोली- पति अच्छा है, लेकिन वो एकदम वाइल्ड है और मुझे रोमांस पसंद है। उसने आज तक मुझे कभी किस नहीं किया। यह कहते हुए उसके होंठ कांपने लगे।

मैं उसके करीब गया और धीरे से उसकी कमर पर हाथ रख कर उसे अपनी ओर दबाया और प्यार से उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये।

अब जैसे ही मैंने अपने होंठ रखे तो वो मेरे ऊपर आ गई और भूखी शेरनी की तरह मेरे होंठ चूसने लगी, मुझे ऐसा लगा जैसे ये उसकी जिंदगी का आखिरी किस हो।

अब मैंने उसके होठों को चूसते हुए उसे कसकर पकड़ लिया और चूमते हुए उसे बेडरूम में ले गया और बिस्तर पर लेटा दिया और प्यार से उसकी साड़ी का पल्लू हटा दिया।

वह उसके स्तनों पर अपनी उंगलियां फिराने लगा और बीच-बीच में उसे प्यार से चूमने लगा। अब उसकी साँसें रेल के इंजन से भी तेज़ चल रही थीं और उसका शरीर भट्टी की तरह जल रहा था।

इतने में उसने मुझे मेरी शर्ट से पकड़ कर वापस अपनी ओर खींच लिया और मुझे चूमने लगी. अब मैंने चूमते-चूमते उसके ब्लाउज के हुक खोल दिये।

उसने अन्दर ब्रा नहीं पहनी हुई थी और फिर मैंने नीचे से उसके मम्मे पकड़ कर धीरे-धीरे दबाना शुरू कर दिया। अब उसने मेरे होंठ छोड़ दिए और कराहने लगी.

अब मैं उसकी गर्दन, आंखें, हर जगह चूमने लगा. उसके चूचों को चूमने लगा और दबाने और चूसने लगा. उसने कहा कि मैं तुमसे प्यार करती हूँ, प्लीज़ ऐसा मत करो, मैं हमेशा के लिए तुम्हारी हूँ।

फिर मैंने कहा- अब से तुम मेरी हो जाओगी. अब मैंने उसके गोरे-गोरे मम्मे दबाये और उसके निपल्स पर धीरे से चुटकी काट ली। वो मुस्कुराई और बोली- इतनी धीरे से मत करो कि मेरी जान ही ले लो.

फिर मैंने उसके मम्मों को चूसना शुरू कर दिया और काफी देर तक चूसने के बाद उन्हें दबाने लगा. फिर वो उठी और अपनी साड़ी और पेटीकोट उतार दिया और अब वो अपनी काली पेंटी उतारने लगी.

मैंने कहा कि इस पर मेरा हक है, फिर वो वापस लेट गयी. अब मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिये और सिर्फ अंडरवियर छोड़ कर उसके ऊपर आ गया और उसके पेट को चाटने लगा और धीरे-धीरे नीचे की ओर बढ़ने लगा।

उसकी नाभि पर रुक गया और उसे चूसने लगा. फिर मैंने अपना हाथ नीचे किया तो मुझे एहसास हुआ कि उसकी चूत से इतना पानी आ रहा था कि बेडशीट गीली हो रही थी.

फिर जब मैं नीचे आया तो मुझे शरारत सूझी और मैंने उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को चूमते हुए उसकी जाँघों को चूम लिया। इससे वो और ज्यादा तड़प उठी और कहने लगी कि तुम बहुत गंदे हो और मुझे तड़पाते हो.

फिर मैंने उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसे चूम लिया और उसकी एक लंबी कराह निकल गई। फिर वो बोली कि बहुत ठंड लग रही है, अब कुछ करो. फिर मैंने अपने दांतों से उसकी पैंटी उतार दी.

मैंने देखा कि उसकी चूत से अमृत की धारा बह रही थी जो बहुत मस्त थी. अब वो बिना छुए ही जा रही थी. फिर मैंने उसकी चूत को चूमते हुए अपनी जीभ उसकी चूत के अंदर डाल दी और प्यार से चूसने लगा.

खूब चुसाई के बाद चुदाई का वक्त आया. फिर मैंने अपना 7 इंच लम्बा लंड निकाला और उसके हाथ में दे दिया. वो बोली- मेरे पति का लंड काला है, लेकिन आपका प्यारा लंड तो एकदम गुलाबी है.

मेरा मन कर रहा है कि इसे अभी खा लूं. तो मैंने कहा क्यों नहीं? आज अपनी सभी मनोकामनाएं पूरी करें. अब इतना कहकर उसने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी.

अब वो चूसते हुए बोली कि बस अब अंदर डाल दो, नहीं तो में मर जाउंगी. फिर मैंने उसकी दोनों जाँघों को अपने कंधों पर रखकर धीरे से अपने लंड को उसकी चूत में धकेला और धीरे-धीरे उसकी चूत के अंदर डालने लगा.

अब जैसे-जैसे वो अंदर जा रहा था, उसकी सांसें बढ़ती जा रही थी और उसका लंड सीधा जाकर उसकी बच्चेदानी से टकराया और उसकी जान निकल गयी.

अब वो बिल्कुल बेहोश हो गई थी और फिर मैंने उसे धीरे-धीरे धक्के देकर खूब चूसा और खूब चूमा. अब 55 मिनट की जबरदस्त चुदाई में वो चार बार डिस्चार्ज हुई और मैं दो बार डिस्चार्ज हुआ.

उस रात के बाद हम आज तक पति-पत्नी की तरह रहते हैं। ऐसी कयामत भरी सेक्स कहानी पढ़ने के लिए Readxxstories.com पर बने रहें।

हम आपको विश्वास दिलाते हैं कि हम आपकी पसंद की सभी कहानियाँ आपके लिए लाएँगे। और चूत और लंड की गर्मी को शांत करता रहूँगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds