May 21, 2024
bahan ki saheli ki chut chudai

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम आरुष है, मैं पटना में रहता हूँ।
मैं सेक्स कहानियों का नियमित पाठक हूँ, कई कहानियाँ पढ़कर मुठ मारता हूँ!
अब कहानी पर आते हैं।

आज की कहानी में पड़े: ब्लैकमेल करके बहन की सहेली की चूत चुदाई की और रांड बना दिया।

बात उन दिनों की है जब कॉलेज की छुट्टियाँ हो गई थीं, मैं भी गाँव जाने की सोच रहा था। जब मैं कॉलेज में प्रथम वर्ष में था तो मैं गाँव गया।
ये ज़रूरी भी था और बड़े पापा के बेटे की शादी भी थी.
इसलिए मैंने अपना बी.ए.सी. किया। प्रथम वर्ष का अंतिम पेपर दिया और अगली सुबह बस पकड़ कर शाम तक घर पहुँच गया।

घर में शादी का माहौल था, सभी मेहमान आए हुए थे, सबसे मिलना हुआ।
मैं बहुत थका हुआ था इसलिए खाना खाकर सो गया.

रात को करीब 2 बजे उठा और पेशाब करने के लिए नीचे चला गया, बाथरूम पीछे की तरफ है इसलिए मैं आँखें मलते हुए वहाँ गया।
मुझे वहां किसी के होने की आहट सुनाई दी तो मैंने लाइट जला दी और बाथरूम के गेट से अंदर झांक कर देखा. मैंने देखा कि मेरी बहन की सहेली मुस्कान उसकी पैंटी उतार कर उसकी चूत में अपनी उंगली अन्दर-बाहर कर रही थी।

ये देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया और मैं मन ही मन उसे चोदने के बारे में सोचने लगा.
अचानक मैंने दरवाज़ा खोला, उसने मुझे देखा और जल्दी से उठ कर पैंटी, सलवार पहनी और बोली- बेशर्म… तुम यहाँ क्या कर रहे हो?
तो मैंने भी अपना लंड सहलाते हुए कहा- वही जो तुम कर रही हो!
उसने घबराकर कहा- मैं तो बस…
तो मैंने कहा- मैं तुम्हारी ये बात सुबह सबको बताऊंगा!
उसने कहा- बताओ, मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता!
और वह वहां से चली गयी.

फिर मैंने पेशाब किया और उसे याद करके मुठ मारने लगा. उसका फिगर 32-28-36 होगा.

जैसे ही मैं बाहर आया तो देखा कि लाइट बंद है.
मैंने देखा कि स्विच के पास कोई खड़ा है, जब मैं वहां गया तो वह मुस्कुरा रही थी और मुझसे कुछ कहना चाह रही थी।
उसने मुझसे पूछा- तुमने क्या देखा? मैं शौचालय का उपयोग कर रहा था!
तो मैंने कहा- तुम भी तो मुझे लंड हिलाते हुए देख रही थी.

उसने कहा- मेरे बारे में कुछ मत बताना!
मैंने कहा- कोई शर्त है?
उसने पूछा- क्या?
तो मैंने कहा- चलो मेरे साथ!
वो बोली- कहाँ?
मैंने कहा- चलो मेरे साथ!
और मैं उसका हाथ पकड़कर ऊपर अपने कमरे में ले गया.

उसने कहा- तुम क्या चाहते हो?
मैंने कहा- मैं बस एक बार तुम्हारे होंठों को चूमना चाहता हूँ.
पहले तो वो मना कर रही थी, फिर बहुत कोशिश के बाद बोली- सिर्फ किसके लिए?

मैंने दरवाज़ा बंद किया और छोटी सी लाइट जला दी। मैंने उसे अपनी बांहों में ले लिया और चूमना शुरू कर दिया और एक हाथ से उसके नितंब और दूसरे हाथ से उसके स्तन दबाने लगा।

उसने मना किया लेकिन मेरा लंड खड़ा हो गया था तो मैं नहीं माना, उसकी चूची दबाता हुआ उसे पलंग पर गिरा दिया.

अब मैं उसके ऊपर था, मैं एक हाथ उसकी चूत में डालने लगा, तभी उसने मेरा हाथ पकड़ लिया पर मैं नहीं माना और चूत के ऊपर के बाल पर अपने हाथ चलाने लगा और चूत में उंगली करने लगा.

पहले तो वो इसका विरोध कर रही थी पर अब उसे अच्छा लग रहा था.
मैं खड़ा हुआ और उसकी सलवार का नाड़ा खोल कर सलवार नीचे कर दी और उसकी कमीज भी ऊपर उठा कर निकाल दी.
अब वो केवल काली ब्रा और गुलाबी रंग की पेंटी में थी.

मैंने कहा- तुम बहुत सेक्सी लग रही हो!
तो वो बोली- वो तो मैं हूँ!
मैं भी यह बात सुन कर अपने सारे शरीर के पूरे कपड़े उतार कर नंगा हो गया.

फिर क्या था, मैंने उसे जोर से पकड़ा और किस करते हुए चूची दबाई और ब्रा खोल कर दोनों चूची को आजाद किया.
अब मैं उसकी दोनों चूचियों को दबाने लगा.

मैंने अपना लंड उसके मुँह में देना चाहा पर वो लेने के लिए तैयार नहीं थी पर आखिर मान ही गई. वह मेरा लंड अपने दोनों हाथों से हिलाते हुए चूसने लगी.
कुछ देर बाद मैंने अपना माल उसके मुँह में छोड़ दिया.

अब मेरी बारी… मैंने उसकी पेंटी उतारी और उसकी चूत को पागलों की तरह चाटने लगा. वो सिसकारियाँ ले रही थी.
कुछ देर बाद उसकी चूत से सफेद नमकीन जैस पानी निकला.

मैं उठा, मैंने टीवी ओन किया और डीवीडी में एक पोर्न मूवी लगा दी, साइलेंट मोड में चालू कर दी.
अब मैंने उसे लेटाया और दोनों टांगों को कंधों पर रखकर उसकी चूत में अपना लंड डालने लगा. इससे उसे जोर से दर्द हो रहा था और वो ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ जैसी आवाज निकाल रही थी.

मैंने अपना लंड बाहर निकाला और टांगें नीचे की और अब टांगें चौड़ी की. वो मुझे हटाने का प्रयास कर रही थी क्योंकि उसे दर्द हो रहा था पर मैंने अपने होंट उसके होटों पर रख दिए और उसकी चूत के छेद पर एक हाथ से अपने लंड को टिकाया और धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगा.
तीन चार झटकों में मेरा लंड पूरी तरह अंदर चला गया.

अब उसे भी मजा आ रहा था तो वो अपने चूतड़ों को उठा उठा कर मेरा साथ दे रही थी.
कुछ मिनट के बाद मैं झड़ने वाला था तो मैंने पूछा- पानी कहाँ छोड़ूँ?
उसने कहा- अंदर ही छोड़ दो!

मैंने अंदर ही अपना माल निकल दिया.

वो भी अब झड़ने वाली थी तो अकड़ सी गई थी, उसने भी अपनी चूत से माल निकाल दिया.

अब मैं उसकी गांड भी मारना चाहता था लेकिन उसने मना कर दिया, कहा- काफी देर हो गई है, तुम बाद में मेरी गांड चोद देना! अभी लेट हो रहा है!

ऐसा कहते हुए उसने अपने कपड़े पहने और जाते वक्त एक प्यारा सा किस दिया.
मैंने उसका मोबाईल नम्बर लिया, उसे किस किया.
बदले में उसने मुझे थैंक यू कहा और चली गई.

आज भी जब भी मौका मिलता है, मैं उसके साथ कुछ पल बिता ही लेता हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds