July 9, 2024
behan ki naram Chut Ki Chudai

आप सभी को नमस्कार, मेरा नाम रोहित मेहरा है और मैं छत्तीसगढ़ के भिलाई से हूं।

दोस्तों, मैं 2015 से Readxxstories.com पर Hindi Sex Stories पढ़ रहा हूँ, लेकिन आज मैं अपनी पहली सेक्स कहानी लिख रहा हूँ।

आज की कहानी में पड़े: भाभी की बहन की नर्म चूत की चुदाई की।

जब से मैंने इस साइट को पढ़ना शुरू किया है, साइट में बहुत सी चीजें बदल गई हैं लेकिन एक चीज नहीं बदली है।
और यही अन्तर्वासना साइट की खूबसूरती है।

यहां लोग अपने अंदर के विचारों को बिना किसी हिचकिचाहट के सरस तरीके से सबके सामने रखते हैं।
यह इसके बारे में सबसे खूबसूरत बात है.

ये दर्द भरी चुदाई की कहानी तब की है जब मैं 2020 में नौकरी के लिए भिलाई आया था.

मैंने अपने शोरूम के पास एक कमरा लिया जहाँ हम कुंवारे लोग रहते थे।

किसी लड़की को कमरे में लाना कोई मुश्किल काम नहीं था.
वहां के सभी लड़के अपनी गर्लफ्रेंड्स को वहां लाते थे और वहां सेक्स करते थे।

मैं उन सबको देखते हुए बस अपने लंड को सहलाता रहता था.
मेरे दोस्त अक्सर मुझसे कहते थे कि एक कॉल गर्ल लाओ और मजे करो।
लेकिन मैं मोनिन की चूत चोदने के लिए तरस रहा था.

हुआ यूं कि जब 2018 में मेरे बड़े भाई की शादी हुई तो मुझे उनकी भाभी मोनिन बहुत पसंद आईं. मैं उस पर लाइन मारता था.

मुझे किसी तरह उसका नंबर मिल गया.
मैंने उससे बात करने की बहुत कोशिश की, लेकिन वो मेरी बात से सहमत नहीं हुई.
मेरी उनसे सामान्य बातचीत ही होती थी.

समय का पहिया आगे बढ़ता गया.

अब हुआ यूं कि एक दिन जब मैं ऑफिस में था तो मोनिन का फोन आया.

वो बोली- यार, मैं किसी काम से भिलाई आई हूं. काम बहुत है इसलिए रात यहीं गुजारनी पड़ेगी. मैं आज घर नहीं जा पाऊंगा तो क्या मैं आपके कमरे में रुक सकता हूं?
मैंने कुछ देर सोचा, फिर कहा- हाँ-हाँ, आओ।

वो बोली- तुम अपने कमरे में अकेले रहते हो ना?
मैंने कहा- हां, कोई दिक्कत है क्या?

वो बोली- नहीं, मुझे कोई दिक्कत नहीं है. मुझे लगा कि आपको कोई समस्या नहीं होगी.
मैंने कहा- अरे यार, मुझे क्या दिक्कत होगी? मुझे अच्छा लगेगा अगर तुम जैसी प्यारी लड़की मेरे साथ कमरे में अकेली हो।

वो हंसने लगी और बोली- ज्यादा फ़्लर्ट मत करो.
मैंने कहा- तुम तो मेरे भाई की साली लगती हो… और साली से मजाक करना ठीक है यार!

वो हंस कर बोली- चलो कमरे में आकर बात करती हूं.
मैंने उससे पूछा- क्या तुमने मेरा कमरा देखा है.. कैसे आओगी?

वो बोली- नहीं, मैं तुम्हें फोन कर दूंगी, तुम आकर मुझे ले जाना.
मैंने कहा ठीक है और फ़ोन काट दिया.

रात 9 बजे जब मैं शोरूम से निकला तो मैंने उससे बात की और उसकी बताई जगह पर उसे लेने चला गया.
कुछ देर बाद मैं उसे बताई हुई जगह से उठाकर कमरे में ले गया.

अब मैं आपको उसके बारे में बताता हूं.
वह एक साधारण दिखने वाली लड़की है, यानी उसका शरीर साधारण है।

उसके स्तन भी बहुत छोटे हैं, वह बहुत पतली है।
यह देखने में भी उतना आकर्षक नहीं लगता.

लेकिन मुझे इसकी सादगी पसंद आयी.

उस वक्त मुझे न जाने क्यों ऐसा लगता था कि जिनका शरीर भरा हुआ है या जो ज्यादा हॉट दिखते हैं, वे सभी रिˈलेश्‌न्‌शिप्‌ में हैं।
जबकि मोनिन मेरी नज़र में एक अच्छी दिखने वाली लड़की थी।

कमरे में आकर हम दोनों ने खाना खाया, इधर-उधर की बातें की, फिर सोने चले गये।

अब मेरे कमरे में एक ही बिस्तर था तो हम दोनों एक साथ लेट गये.
लेकिन वो मुझसे कुछ दूरी पर लेटी हुई थी.

मैं सोचने लगा कि उसे सेक्स के लिए कैसे मनाऊं.
मैंने उससे कहा- यार, मेरा तुम्हें चूमने का मन हो रहा है.

उसने मना कर दिया और बोली- पहले चूमोगे.. फिर कहोगे कि लिपट कर सोने का मन हो रहा है।

मैंने कहा- तो इसमें ग़लत क्या है?

वो बोली- ठीक है … जवान लड़की से चिपक कर सोने में कोई बुराई नहीं है क्या?
मैंने कहा- हां, कोई बुरी बात नहीं. आइए मैं इसे करता हूं और आपको बताता हूं।

ये कहते हुए मैंने उसका चेहरा अपनी तरफ किया और सीधे उसके होंठों को चूमना शुरू कर दिया.
एक दो बार उसने अपना चेहरा हटा लिया लेकिन मैं नहीं रुका.
लेकिन मोनिन ने एक बार भी नहीं कहा कि ऐसा मत करो.

मैंने सोचा कि अगर उसे कोई दिक्कत होगी तो मेरे छूते ही वो चिल्लाने लगेगी.
इसका मतलब है कि उसका भी कुछ करने का मन करता है.

बस इसी सोच ने मेरी हिम्मत बढ़ा दी.
मैं उसे चूमने में व्यस्त रहा.

कुछ देर बाद वो भी साथ देने लगी.
मैंने उनसे पूछा- क्या हुआ मैडम? क्या आप इसका आनंद लेना शुरू कर रहे हैं?
वो हंस पड़ी लेकिन कुछ बोली नहीं.

अब मैं उसके छोटे-छोटे बूब्स को कपड़ों के ऊपर से दबाने लगा।
इससे वो और भी गर्म हो गयी.

मैंने उसके टॉप को थोड़ा ऊपर उठाया और उसके पेट और पीठ को सहलाने लगा और सीधे हाथ अन्दर डाल कर उसके मम्मों को दबाने लगा.

साथ ही वो लगातार उसके होंठों को अपने होंठों से चूस भी रहा था.
वो और भी गरम होती जा रही थी.

फिर मैंने उसके कपड़े उतार दिए और अपने भी कपड़े उतार दिए.
वो मेरे सामने सिर्फ पैंटी में थी और मैं भी सिर्फ अंडरवियर में था.

नंगे बदन एक दूसरे से रगड़ने लगे तो गर्मी बढ़ने लगी.
लगातार चूमने और उसके मम्मों को दबाने के बाद मैं अपना हाथ उसकी पैंटी के अंदर ले गया.

वो अपना हाथ वहाँ ले जाने से मना कर रही थी, फिर भी मैंने अपना हाथ अन्दर ले जाकर उसकी चूत में रख दिया।
उसकी चूत पहले से ही पूरी गीली हो चुकी थी.

मैं चूत को सहलाने लगा.

जैसे-जैसे मैं उसकी चूत को सहला रहा था, वो और जोर-जोर से मेरे होंठों को चूमने लगी।
वह उत्साह से भरे हुए थे.

कुछ पल बाद मैं उसका हाथ अपने लिंग के पास ले गया लेकिन उसने अपना हाथ हटा लिया.

मैंने फिर से उसके हाथ में अपना लंड दे दिया.
फिर भी उसने लंड नहीं पकड़ा.

इधर मेरा लंड तन कर तम्बू बना चुका था.
मैंने अपना अंडरवियर उतार दिया और उसकी पैंटी भी निकाल फेंकी.

वो थोड़ा झिझक रही थी लेकिन मैंने उसे बिस्तर पर उल्टा लिटाया और सबसे पहले अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाल दी।

मैंने कहीं पढ़ा था कि सीलबंद चूत को उंगली से खोल देना चाहिए.

इसलिए जब मैं सेक्स कर रहा था तो पहले तो एक ही उंगली डालने लगा, फिर दो उंगलियां डालने की सोची.

चूंकि यह उसका पहली बार था, इसलिए वह पहले से ही घबराई हुई थी।

उंगली डालने पर उसे थोड़ा दर्द हुआ और उसने उंगली बाहर निकालने को कहा.
लेकिन मैं कहां मानने वाला था. मैं अपनी उंगली उसकी चूत में अन्दर-बाहर करने लगा।

कुछ देर तक ऐसा करने से उसका मजा बढ़ गया और उसकी चूत पानी छोड़ने लगी.

अब बारी थी दूसरी उंगली डालने की.
मैंने दूसरी उंगली डाली तो उसे डालने में दिक्कत हो रही थी.
वो कंधे उचकाने लगी और मेरा हाथ पकड़ने से मना कर रही थी.

फिर भी मैंने किसी तरह दो उंगलियाँ चूत के अन्दर डालीं और पाँच-दस बार अन्दर-बाहर कीं।
वो कराह रही थी और शायद उसे भी अपनी चूत में उंगली करवाने में मजा आने लगा था।

सच कहूँ तो उसकी चूत काफ़ी खुली हुई थी।

मेरी उंगली पर खून का हल्का सा रंग भी दिख रहा था.
मैं समझ गया कि चूत फट चुकी है और अब मेरी बारी थी अपना फनफनाता हुआ लंड चूत में डालने की.

मैंने अपने लिंग को सहलाया.
वो तो मेरे लौड़े को देख कर ही डर गयी. उनकी हालत पहले से भी ज्यादा खराब हो गई.

वो बोली- दो उंगलियों से ही मेरी हालत खराब हो गई है … इससे तो मैं मर ही जाऊंगी. मैंने आज तक कुछ नहीं किया, कृपया यह पोस्ट न करें।

लेकिन मैं कहाँ मानने वाला था… मैंने उसे समझाया कि मैं धीरे-धीरे करूँगा, ज़्यादा दर्द नहीं होगा। डरो मत.
वो बोली- प्लीज़ ऐसा मत करो.

मैंने कहा- तुम्हें उंगली से होने वाले दर्द से कम दर्द होगा.
मेरी बात से वो कुछ शांत हो गयी.

उंगली से जो आनंद उसे महसूस हुआ उससे उसे बहुत हिम्मत मिली।

फिर वो मान गयी क्योंकि उसका भी मन हो रहा था चुदाई करवाने का.
अब मैंने उसके दोनों पैरों को फैला दिया. उसके नितंबों के नीचे एक तकिया रख दिया गया ताकि उसकी चूत थोड़ी ऊपर उठ जाये और लंड डालने में आसानी हो.

फिर जैसे ही मैं उसकी चूत में लंड डालने लगा तो लंड फिसल रहा था.

किसी तरह उसने लंड को चूत में सैट किया और धीरे-धीरे धक्के लगाने शुरू कर दिये.
लेकिन चूत बहुत टाइट थी जिसके कारण लंड अन्दर नहीं जा सका और उसे बहुत दर्द होने लगा.

वो छटपटाने लगी, जिससे लिंग अन्दर डालने में दिक्कत होने लगी.

वो बार-बार लंड से चुदाई कराने से मना करने लगी.
लेकिन मैंने भी तय कर लिया था कि अगर आज मैंने इसकी चूत नहीं फाड़ी तो ये मेरी मर्दानगी पर लानत होगी.

ऐसे ख्याल आते ही मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये और अपना लंड उसकी चूत की फांकों में फंसा दिया.

अभी मेरे लिंग का सुपारा उसकी चूत की फांक के अन्दर पड़ा हुआ था।
मैं उसके होंठों को चूमने में लगा हुआ था.

वो भी मेरे होंठों को चूमने लगी.

हम दोनों मजा लेने लगे.
वो चूत की तरफ से लापरवाह हो गयी थी.
शायद उसे याद नहीं रहा कि लंड का टोपा उसकी चूत की फांकों में फंसा हुआ था.

थोड़ी देर किस करने के बाद मैं फिर से अपना लंड डालने लगा.

लेकिन चूंकि यह उसका पहली बार सेक्स था तो लंड थोड़ा सा ही अंदर गया और उसकी हालत खराब हो गयी.
वो कराहने लगी और कहने लगी- बहुत दर्द हो रहा है यार … बाहर निकालो, मैं मर जाऊंगी. कुछ चिकनाई लगाएं.

मैंने पूरे मन से अपना लंड बाहर निकाला और उस पर ग्लिसरीन लगा लिया.
मैंने थोड़ा सा उसकी चूत में लगाया और फिर उसे फिर से सेक्स पोजीशन में लेटा दिया.

मेरे बिस्तर के सामने एक खिड़की थी और मेरा बिस्तर उस खिड़की के पास वाली दीवार पर टिका हुआ था।

इस बार मैंने लिंग डाला और खिड़की की रॉड को अपने हाथों से पकड़ कर जोर से लिंग को योनि में डाल दिया।

इस बार मैंने बहुत ज्यादा ताकत लगायी जिससे मेरा पूरा लंड एक ही बार में अन्दर चला गया.

मोनिन यह सदमा बर्दाश्त नहीं कर सकी.
दर्द भरी चुदाई के कारण वह लिंग को अपनी योनि से निकालने की कोशिश कर रही थी.

मैं अपना लंड पकड़ कर वहीं लेट गया और उसके होंठों को चूमने लगा.

कुछ देर बाद वो धीरे-धीरे शांत हो गई और मैं अपना लंड आगे-पीछे करने लगा।
अब तक उसकी चूत थोड़ी ढीली हो गयी थी इसलिए लंड आगे पीछे होने लगा.

अब मोनिन को दर्द के साथ-साथ मजा भी आने लगा.
कई धक्कों के बाद वह उत्तेजित हो गई और मजे से लिंग का स्वाद चखने लगी।

मैं उसे दस मिनट तक पेलता रहा और उसकी चूत में ही झड़ गया.

जब मैंने लंड बाहर निकाला तो लंड और चूत खून से लाल हो गये थे.

मैं एक बार की चुदाई से संतुष्ट नहीं था, मैं उसे दोबारा चोदना चाहता था।

लेकिन एक ही चुदाई के बाद मोनिन की हालत ख़राब हो गयी.
उसमें इतनी ताकत नहीं बची थी कि दोबारा से लंड को अपनी चूत में ले सके.

उसे ऐसी हालत में देख कर मैंने सोना ही बेहतर समझा.

इसके बाद सुबह मैंने मोनिन को फिर से चोदा.
दूसरी बार की चुदाई में वो मजे से लंड लेने लगी.

इन दो चुदाई सत्रों के बाद मोनिन की चूत बड़े आराम से और मजे से लंड लेने लगी.
फिर जब हम दोनों एक साथ नहाने के लिए बाथरूम में गये तो उसने मुझे अपनी इच्छा बताई.

मोनिन बोली- मैं खुद आपके साथ सेक्स करना चाहती थी लेकिन कह नहीं पा रही थी.
मैंने कहा- हां यार, मेरे साथ भी ऐसा ही था. कल पता नहीं सब कैसे हो गया, मुझे कुछ पता ही नहीं चला.

इसके बाद मैंने उसे कई बार चोदा. मैं अगली कहानी में बताऊंगा कि जब मैंने मोनिन को चोदा तो उसने अपनी चूत से पेशाब कैसे छोड़ा था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds