May 21, 2024
Aunty Ki Chut Ka Gulam

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम रितिका है मैं आप लोगों के लिए Hindi Sex Story लेकर आई हूं। अभी कहानी Readxstories.com पर पढ़ रहे ।

हैं यह कहानी है कैसे लेखक एडल्ट डेटिंग वेबसाइट से मिली आंटी की चूत का गुलाम ( Aunty Ki Chut Ka Gulam ) बना।

हाय दोस्तो, ये मेरी पहली Hindi Sex Kahani है जो एक सच्ची घटना है। पहले मैं आपको अपने बारे में बता दूं।

मेरी उम्र 30 साल है और मेरी हाइट 5’11 है, मेरी बॉडी स्लिम है और मैं दिल्ली में जॉब करता हूं।

ये तब की बात है जब मेरी पत्नी गर्भवती थी। हमारे समय 4 महीने से मैंने सेक्स नहीं किया था और मेरे अंदर सेक्स करने की बहुत तेज अनुभूति हो रही थी।

मैंने इसको कंट्रोल करने के लिए बहुत बार मुठ मारी। पर जो मजा चुदाई में है वो हाथ में कहा।

मेन सेक्स की फीलिंग को बुझाने के लिए बहुत सारी एडल्ट डेटिंग वेबसाइट्स में रजिस्टर किया।

अपना व्हाट्सएप नंबर भी छोड़ा। एक दिन मुझे किसी महिला का संदेश आया। जिसने मुझसे औपचारिक बातचीत शुरू की। वो भी सौभाग्य से दिल्ली से ही थी।

बातें- बातों में पता चला कि उनकी उम्र 40 साल है और उनके पति दिल्ली में काम करते हैं।

रुपाली के दो बच्चे थे और वो बाहर पढ़ते थे। रुपाली आंटी से उनके पति वीकेंड में मिलने आते थे।

पर उनके बीच में कुछ सेक्स जैसा अब नहीं बचा था।

उन्होंने चैटिंग करते हुए मुझे अपनी फोटो शेयर करी। जिसे देखने के बाद मेरी सेक्स ड्राइव सातवे आसमान पे पहुंच गई।

उनका स्तन साइज लगभाग- 38 होगा और कमर शायद 29/30 होगी।

रुपाली आंटी, उम्र में भी किसी 26 साल की लड़की को आसानी से हरा दे। उसने अपनी फोटो शेयर करके मानो मुझे उनके लिए पागल ही कर दिया।

जितना शायद मैं उनसे मिलने के लिए परेशान था शायद रुपाली आंटी का भी वही हाल था।

हम दोनों घंटो बात करने लगे और उनको मुझ पर भरोसा होने लगा। एक दिन मैं उनसे पूछ ही लिया।

मैं: आपकी सेक्स लाइफ कैसी है?

रुपाली: अब सेक्स लाइफ नहीं है, बस ज़िम्मेदारी है।

मैं: तो कभी मन नहीं होता?

रुपाली: होता तो बहुत है, पर पति का इंटरेस्ट नहीं है और मेरे पास कोई और भी नहीं है।

मैं: मैं हूं ना, अगर तुम चाहो तो।

रुपाली: तुम्हें अच्छे तो बहुत है, पर मेरी फैंटसी कुछ और ही है।

मैं: तुम शेयर कर सकती हो.

रुपाली: तुम मुझे सोमवार को पता (XYZ) पर सुबह 11 बजे मिलो, तब हम बात करेंगे।

मैं तो मानो ख़ुशी से पागल ही हो गया। सोमवार आज से एक दिन दूर था। तो मैंने आज ही अपने लंड और गांड के छेद से सारे बाल काट लिए।

और एक चिकने मुर्गे की तरह बन गया। मैंने उस दिन रुपाली को याद करके तीन बार मुठ मारी।

सोमवार को मैंने ऑफिस से छुट्टी ले ली और बीवी को ऑफिस बोल के निकल गया।

मैं करीब 11:30 बजे रुपाली के घर पहुंचा और उसके फ्लैट के उम्र पहुंच कर कमरे की घंटी बजा दी। रुपाली ने रूम खोला और वो साड़ी में खड़ी थी।

रुपाली ने साड़ी बड़े ही सेक्सी अंदाज में पहनी थी। उसकी नाभि साफ दिखाई दे रही थी।

उसको देख कर में 10 सेकंड तक कुछ नहीं बोल पाया बस उसे देखता ही रहा। उसने मुझे कुछ ना बोलता हुआ देख कर झट से अंदर खींच लिया।

फिर हम दोनो एक दूसरे को थोड़ी देर देखते रहे। मेरी नज़र उसके स्तन से हट ही नहीं रही थी।

उसके स्तन गोल और बहुत ही बड़ी लग रही थी। उसके ब्लाउज से उसका क्लीवेज मेरे लंड को खड़ा कर रहा था। जिसे मैं छुपाने की कोशिश कर रहा था।

आंटी को मेरे लंड का खड़ा होना पता चल गया था, फिर भी उन्होंने इग्नोर किया।

आंटी चाय बनाने चल दी और मैं वही टेबल पर बैठा था जहां मुझे एक Free Hindi Sex Stories की किताब मिली। वो किताब मूलतः रफ सेक्स और स्लेव सेक्स के बारे में थी।

मैं जब उसे देख रहा था तभी आंटी भी चाय लेके आ गई, और मैं घबरा कर वो बुक पिलो के नीचे रख दी।

रुपाली: तो तुम्हें पता चल गया मुझे कैसा सेक्स पसंद है।

मैं: वो तो सामने किताब पड़ी थी तो मैंने देख लिया।

रुपाली: हरामजादे नाटक क्या करता है. मुझे पता है तू भी बहुत भूखा है मेरी तरह।

मैं डर गया. रुपाली को मैंने कभी इस तरह से बात करते हुए नहीं देखा था

मैं: हा, सेक्स करना तो चाहता हूँ।

रुपाली: ये हसीन बॉडी ऐसे नहीं मिलेगी, इसके लिए तुझे मेहनत करनी पड़ेगी। (उसने अपनी साड़ी का पल्लू हटा दिया)

मैं: (मैं अपना कंट्रोल नहीं कर पाया) कैसी मेहनत?

रुपाली: भोसड़ीके तुझे मेरे 4 शर्ते पहले पूरी करनी होगी तभी तुझे ये शरीर मिलेगा।

मैं: कौन सी शर्ते?

रुपाली: वो सब पता चल जाएगा, अगर तू राजी है तभी कहना नहीं तो चल जा अभी यहां से।

उससे देख के कौन मना कर सकता है? मैंने चुप चाप हा कह दिया।

रुपाली: ठीक है. मैं तुझे अब से कुत्ता बोलूंगी, और जब तक सारी चीजें पूरी नहीं होती तू मेरा कुत्ता ही रहेगा। तू मुझे आंटी नहीं मालकिन बुलाएगा.

मैं: ठीक है.

रुपाली: ठीक है कुत्ता सबसे पहले अपने कपड़े खोल और दिखा तू अपनी मालकिन के लायक है भी या नहीं।

मैं अपने कपड़े खोल दिये और मैं पूरा नंगा खड़े लंड के साथ रुपाली को देख रहा था। मेरा 6 इंच का लंड जो बिना बालों के उसके मुँह की तरफ लगा था।

रुपाली: ठीक है आगे से तो कुत्ते का लंड मेरे पति से भी मोटा और बड़ा है, चल जरा गांड दिखा।

मैं घूम गया

रुपाली: भोसड़ीके कुत्ते 2 पांव पे नहीं 4 पांव पे होते हैं। चार पांव पे आ.

रुपाली मेरी गांड पे हाथ लगा के देखने लगी.

रुपाली: ठीक है कुत्ते तेरी पहली परीक्षा पूरी हुई। अब पहली शर्त में तू मेरे दोनों पैरों को चातेगा और जब तक मैं ना कहूं तू 4 पैरों पर ही रहेगा।

मैं कुत्ता बन के, उसके पांव चाटने लगा। वाह, क्या ख़ुशबो थी उसके पैरों की, पूरी बॉडी में एक अजीब से ख़ुशी होने लगी।

मैं उसकी अंगुठे को मुँह में लेके बहुत चूसता हूँ और वो भी मजा लेने लगी।

ये प्रोसेस करीब 15 मिनट चला और अपना पेटीकोट घुटने से ऊपर कर दिया। मैं जैसा ही ऊपर गया उसने मेरे गाल पर एक चांटा मार दिया

रुपाली: बहनचोद बिना पूछे ऊपर कैसे गया तू? भोसदिके, मालकिन जब बोलेगी तब जाएगा तू।

मुझे बहुत मजा आ रहा था. फिर उसने मुझे नीचे किया और पेटीकोट ऊपर करके मेरे मुँह के पास आ गई।

रुपाली: ये मेरी दूसरी शर्त है, कुत्ता मुँह खोल अपना। मैं तेरे मुँह में मुतुंगी.

ये सब मेरे साथ पहली बार हुआ था। लेकिन उसकी चूत मेरे मुँह के पास थी मैं हा में सर हिला दिया रुपाली ने पेटीकोट उठाया के मेरे मुँह पे बैठ गयी और मुतने लगी।

उसने मेरा मुँह भर दिया और मेरी बॉडी भी गिली कर दी। मुतने के बाद.

रुपाली: अब 3 शर्त की उम्र में मेरी चूत और गांड को अपनी जीभ से चटेगा जब तक मैं ना रोकू।

मैं: जी मलकिन.

रुपाली ने रसोई से नुटेला ला के अपनी चूत पर लगा दिया और सोफ़े पर बैठ कर पांव खोल दिया।

वो बोली, “ऐसे ही मेरी सूसू में चाट।” उसकी चूत बहुत सुखी थी और झांट भी बहुत बड़ी थी। लगता था कई सालो से उस पे किसी ने हल नहीं चलाया।

मैंने उसकी चूत को अपनी जीभ से छुआ तो उसकी सिस्की निकल गई, और मुझे उसकी चूत की खुशबू ने पागल कर दिया।

मैं: माल्किन, क्या मैं आपकी चूत को हाथ लगा सकता हूँ?

रुपाली: नहीं पहले अपनी जीभ का कमाल दिखा कुत्ते।

मैं उसकी चूत से सारा नुटेला चाटने लगा। वो अब एक्साइटमेंट में उतरने लगी।

मैं अब अपनी जीभ उसकी चूत में डाल दी और ज़ोर-ज़ोर से हिलाने लगा। रुपाली ने भी उत्तेजना में मेरा सर अपनी चूत में दबाने लगी।

करीब 10 मिनट में वो झड़ गई और तब वो सोफे पर ही रिलैक्स हो गई। उसके चेहरे पर वो मजे वाली ख़ुशी साफ़ दिख रही थी।

रुपाली उठी, और अपने सारे कपड़े उतार दिया। फिर मेरे पीठ पर बैठ गई, जैसे घोड़ा चल रहा हो।

मेरे बाल खिच कर बोली, “आज तुझ कुत्ते ने मुझे मजा दिला दिया, चूत चाटने में तो तू उस्ताद लगता है। चल अब अपनी मालकिन को बाथरूम में ले चल, कुत्ता बन के।”

मैं उससे अपनी पीठ में बिठाकर बाथरूम ले गया। वहां उसने मुझे टब में बिठा दिया और मेरे ऊपर मुड़ने लगी।

कभी वो मेरे मुँह पर, कभी मेरे पेट पर, और कभी मेरे लंड पर मूतने लगी। अब रुपाली और मैं उसकी टब में नंगे बैठे थे।

रुपाली: अब मेरी आंखरी इच्छा, तुझे मेरी चूत में अपना पानी छोड़ना होगा। कब से मेरी चूत ने गरम मूत का स्वाद नहीं लिया।

मैं: (डार्ट ह्यू) लेकिन…

रुपाली: (एक ठनपद मेरे गाल पर मरते हुए) भूल मत तू अभी भी मेरा कुत्ता है।

मैं: जी मालकिन.

रुपाली ने अब मुझे बालों से पकड़ के अपने बेडरूम में ले गयी।

ऐसा लग रहा था कि कोई मालिक अपने कुत्ते हो लेके जा रहा हो। उसने मुझे ज़मीन पर लेटाया और अपनी सूसू से गिला मेरा लंड चूसने लगी।

वो चूसने में इतनी अच्छी थी कि उसने मेरे लंड को पूरा मुँह में ले लिया, जिसे वो खासने लगी। मैं भी उसके मुँह में ज़ोर ज़ोर से झटका देने लगा।

उसने अब मेरे लंड को अपने मुँह से निकाल लिया जो पूरा थूक से भरा था और खुद घोड़ी बन गई।

रुपाली: पहले मेरी गांड को खोलो, 10 साल हो गए इसमें कोई नहीं गया।

मैं: लेकिन, बात तो चूत की हुई थी।

रुपाली: जैसा बोलती वो वैसा कर भोसड़ीके.

और उसने मेरे लंड को अपनी गांड पे लगा दिया। लंड गीला होने के कारण एक ही धक्के में अंदर चला गया, और वो चिल्ला उठी।

रुपाली: भोसड़ीके तूने तो मेरी गांड ही फाड़ दी, निकाल इसे, मेरे से नहीं लिया जा रहा है निकाल इसे।

मैं: चुप कुतिया, अब ये लंड तुझे कुतिया बनाएगा।

और मैंने अपना लंड पूरा अंदर दे दिया। रुपाली की आंख से आंसू निकल गये।

लेकिन मैं फिर भी 30 सेकंड तक उसे चोदता रहा। फिर मैंने रुपाली को सीधा किया और अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया।

रुपाली: बहनचोद तू कहाँ था अभी तक? मैं इतने सालों से प्यासी थी.

बोलते बोलते उसकी आवाज़ भी बहुत ज़ोर से हो रही थी।

रुपाली: और जोर से कर भोसडिके. फाड़ डाल मेरी चूत को, कोई हमदर्दी मत करना। और तेज. चूत में झाड़ देना, बाहर मत निकालना।

लगभग 2 मिनट तक मैं उससे पूरी जोर से चोदता रहा और अंत में उसकी अंदर ही झड़ गया।

रुपाली ने मेरे लंड को बाहर निकाला और चाट के पूरा साफ़ कर दिया, और रोने लगी।

रुपाली: बहुत सालो के बाद ऐसा सुख मिला है। आज तूने जैसा चोदा है मुझे शायद मेरी पति ने भी नहीं चोदा।

तूने मेरी सारी फैंटेसी पूरी कर दी है। अब मैं तुझे नहीं छोड़ूंगी. आज से मैं तेरी दूसरी पत्नी।

फिर हम दोनों ने साथ में नहाया, और मैं वहां से चला गया।

आज भी हम मिलते रहते हैं, और ये बात हम दोनों ने सीक्रेट रखी है। शायद सभी को वो ख़ुशी पाने का पूरा अधिकार है जो उन्हें अपने पार्टनर से नहीं मिल पाता।

ये कहानी आप readxxstories.com पर पढ़ रहे थे। उम्मीद करता हूँ आप लोगो को पसंद आयी होगी। Hindi Chudai Ki Kahani कैसी लगी कमेंट में ज़रूर बताये। मिलते अगले किसी दिलचस्प कहानी के साथ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds