May 14, 2024
Badi Bahan ki Land Chusai Part-2

मेरी उम्र 19 साल है. मैं दिखने में क्यूट हूं (ऐसा मेरी बहना कहती है), रंग गोरा, और लंड 7 इंच का है। मेरे घर में मैं, मेरी माँ, पापा, और साथ में मेरी दो बहनें रहती हैं आशी और रश्मी दी। मैं मेरे घर पर सबसे छोटा हूं। हम भाई बहन हमेशा साथ ही सोते हैं। अब मैं बिना कोई समय बर्बाद किए सीधे अपनी कहानी पर आता हूं।

आज बड़ी बहन की बुर चुदाई की कहानी में पड़े नहाने को लेकर लड़ाई, बनी चुदाई की वजह और चुदाई के बाद चरण सुख का आनंद लिया

बड़ी बहन ने की लंड चुसाई की कहानी में अब आगे : बड़ी बहन ने की लंड चुसाई

मैं और आशी दी एक-दूसरे के होठों को चुम रहे थे। पहले तो हम बहुत ही धीरे से एक दूसरे के होंथ चुम रहे थे, लेकिन थोड़ी ही देर में आशी दी वाइल्ड होने लगी। मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था, कि मेरी बहन इतनी वाइल्ड क्यों हो रही थी।

उन्होंने मेरे होठों को काटना शुरु कर दिया थाऔर मैं मदहोश सा होने लगा था और मैं अपने हाथों को धीरे से उनके Boobs पर ले जाकर उनके स्तनों को मसलना शुरू कर दियाउनके भी हाथ कुछ ऐसे ही चल रहे थे मेरे लैंड पर कच्चे के ऊपर से ही वह मेरा लैंड दबाई जा रही थी

मैं मेरा हाथ उनकी टी-शर्ट में डालने लगा। उसी वक्त उन्हें भी अपना हाथ मेरी पैंट में डाल लिया। अब मैंने उनके स्तनों को ब्रा से आज़ाद कर दिया, और उनकी ब्रा खोल कर निकाल दिये। तभी उनको भी मेरे लंड को बाहर निकाला और उसे ज़ोर से मालिश करने लगी।

अब मेरे हाथों में उनके नंगी स्तन और उनके हाथों में मेरा लंड क़ैद था। उफ्फ्फ दोस्तों, हमारे एहसास को मैं शब्दों में नहीं बता सकता। ऐसा लग रहा था मानों मेरे लंड को किसी मखमल के रुमाल से लपेट दिया हो, और मेरे हाथ में मखमल के दो बड़े-बड़े बॉल हो।

मैं जब भी उनके उन मुलायम स्तनों को ज़ोर से दबाता था, मेरा हाथ खुद ही फ़िसल जाता था। इस बात से आप अंदाज़ा लगा सकते हैं कि वो कितने सॉफ्ट हैं। मैं जब भी उनके स्तन दबाता हूं, वो इस कदर तड़प उठती मानो कोई मछली पानी के बाहर सांस लेने की कोशिश कर रही हो। रश्मी दी अब तक सो रही थी। उनको अंदाज़ा भी नहीं था कि उनके पीठ पीछे हम क्या-क्या कर रहे थे।

अब मैं एक कदम और आगे बढ़ गया। मैंने उनके स्तन पर एक चुंबन किया। मेरे चुंबन करने की देर थी कि अनहोन मेरा सर अपने स्तन पर जोर से दबा लिया, और फिर मैं सातवे आसमान में चला गया। मैं भी पागलों की तरह उनके मुलायम और गड्डे-दार स्तनों को चुनने लगा। मैंने अपने जीभ से उनके गुलाबी निपल पे हरकत की, जिसकी उनकी सिसकियाँ निकलने लगी।

आशी दी: आआअहह हाँ चूसो उम्म. ज़ोर से भाई

मैं उनके निपल्स को काटने लगा. एक-एक करके मैंने उनके दोनों स्तनों को चूस-चूस कर उनका रस-पान किया, और उनकी सिसकियाँ और भी ज्यादा सेक्सी होती जा रही थी। उनका हाथ अब मेरे लंड से हट चुका था, और मेरे सर को ज़ोर से पकड़ा था। मेरा लंड अपनी आदत अनुरूप तन कर किसी गरम रॉड की तरह हो गया था।

आशी दी को शायद रॉड की गर्माहट महसूस हो रही थी। तभी उनको वो किया जिसकी मुझे उम्मीद भी नहीं थी। वो मुझे परेशान हुए खुद मेरे ऊपर हो गई, और फिर अपना मुँह मेरे लंड के पास ले गई। अँधेरे में मुझे कुछ दिख तो नहीं रहा था, पर उनकी गरम साँसों की गरमाहट मुझे महसूस हो रही थी।

पहले उन्हें किसी कुतिया की तरह अपनी जीभ निकाली, लेकिन मेरे लंड को चाटना शुरू कर दिया। उन्होंने मेरे लंड को पूरा गीला कर दिया। फिर आई चूसने की बारी. अब उन्हें एक ही बार में मेरा पूरा 7 इंच वाला लंड अपने मुँह में समा लिया।

वो किसी भूखे आशिक की तरह मेरे लंड को चुनने लगी। उनकी तेजी ऐसी थी मानो मैं उनके मुँह को चोद रहा हूँ। मेरे लंड को वो किसी पोर्नस्टार की तरह चूस रही थी। कभी मुँह में ले कर, तो कभी मुँह के बाहर निकल कर जीभ से, कभी मेरे लंड को अपने मुँह पर मारो, तो कभी उस पर थूक लगा कर दर्द से चूसो।

मुझे बहुत मजा आ रहा था, और मेरा लंड अब अपने पीक मोमेंट पर आ गया। मैंने उनके सर को ज़ोर से पकड़ा, और अपना लंड उनके मुँह में गले तक घुसा दिया। तभी मेरा लंड किसी भरी हुई पिचकारी की तरह बौछार करने लगा। मेरे लंड का सारा रस उनके मुँह में ही रह गया, जिसे उन्होंने पूरा का पूरा पी लिया।

वो अभी भी नहीं रुकी. उन्हें मेरे लंड के ऊपर की त्वचा हटाई, और अपनी जीभ से लंड साफ करने लगी। उफ्फ दोस्तों, ऐसा लग रहा था मैं किसी प्रोफेशनल से अपना लंड चूसवा रहा था। पर अब बारी मेरी थी. हम भाई बहन वासना की चरम सीमा पे पहुंचने को उत्सुक थे, कि तभी रश्मी दी ने एक करट ली, और हम कुछ देर के लिए रुक से गए।

आशी दी ने जल्दी से मुझे साइड किया और अपनी टी-शर्ट नीचे की, और दूसरी तरफ मुंह करके लेट गई। मैंने भी जल्दी से अपना हाल ठीक कर लिया। मेरे मन में अचानक से कई सवाल उठने लगे, जिनका जवाब सिर्फ आशी दी के पास था।

उनसे एक सवाल था कि मैंने जो अभी किया क्या मैं वो आशी दी के साथ जारी रख सकता हूं। मैं उनकी तरफ मुदा, तो वो इस तरह से लेती थी कि उनकी गांड मेरी और थी। मैंने अपना हाथ उनकी गांड पर रखा और सोने का नाटक करने लगा। अब मैं उनके रिएक्शन का इंतजार करने लगा।

मुझे मेरे सवाल का जवाब दी ने कुछ इस तरह दिया, कि उनको मेरा हाथ पकड़ कर अपनी टी-शर्ट के अंदर कर लिया, और अपनी गांड वाले हिस्से को मेरे लंड वाले हिस्से पे रगड़ते हुए मेरे करीब आ गई।

मैंने भी जवाब में अपने हाथ उनके स्तनों पर रखा (उनकी ब्रा मैंने निकाल दी थी जो पहनना वो भूल गई थी) और हम इसी पोजीशन में सो गए।

अब मैं कल का इंतज़ार कर रहा था जब मेरी माँ, पापा और रश्मी दी शादी में जाने वाले थे, और मैं और आशी दी घर पे अकेले होंगे। मुझे मेरे सारे सवालों के जवाब मिल जायेंगे।

तो मिलता हूँ आपसे बड़ी बहन की बुर चुदाई की कहानी के अगले भाग-3 में। आपका प्यार और सपोर्ट यू ही मिलता रहे मुझे ताकि मैं अपनी कहानी पूरी कर सकूं। अपना प्यार आप मुझे भेज सकते हैं और कुछ सुझाव भी।

पिछला भाग पढ़े:- बड़ी बहन की बुर चुदाई की कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds