May 21, 2024
bahan ko bathroom mein choda

हिंदी सेक्स स्टोरी मेरा नाम अखिलेश है. मेरे घर पर मेरे साथ मेरे मम्मी, पापा और मेरी छोटी बहन सोनिया साथ रहते हैं। ये बहन को बाथरूम में चोदा कहानी आज से 7-8 साल पहले की है। मैं खुद उसका वक्त 21 साल का था और मेरी सोनिया बहन 18-19 साल की होगी। भारतीय अनाचार अश्लील

सोनिया की ऊंचाई 5 फीट 2 इंच, पतली, जवानी के उभरे स्तन और परफेक्ट शेप वाली लड़की थी। मैंने कभी अपनी बहन को लेके सेक्स या चुदाई उसके पहले नहीं सोचा, जब को हम साथ खेलते हैं, मस्ती करते थे। मेरे और मेरी बहन का रिश्ता पहली बार मेरे एक चचेरे भाई विवेक के कारण बदला।

विवेक हमारा चचेरा भाई है और वह बचपन से हमारे घर आता है, केवल 1 साल छोटा होगा। एक दिन में कॉलेज से घर आया, घर की चाबियाँ मेरे पास थीं तो मुख्य चाबियाँ से मुख्य दरवाजा खुला कर अंदर आया। घर में आया तो बेडरूम का दरवाज़ा बंद था और बाहर आती ठंड से समझ आया कि एसी ऑन है तो अंदर जो भी है उसने सुना नहीं होगा।

मैंने चेक किया कि बेडरूम का दरवाज़ा बंद था लेकिन लॉक नहीं था जब अंदर गया तो मैं देखता रह गया। सोनिया और विवेक किस कर रहे थे और विवेक टीशर्ट के ऊपर से उसके स्तन दबा रहा था। वो इतने में शामिल थे कि उनका मेरी तरफ ध्यान नहीं गया, मैं सदमे में दोनों को देख रहा था। मेरी बहन और चचेरी बहन को ऐसा देख मुझे गुस्सा आया और मैं जोर से चिल्लाया…

मैं – ये क्या कर रहे हो तुम दोनों??

मेरी आवाज सुन दोनों डर गए बहुत ज्यादा, सोनिया तो रोने लगी। विवेक बाहर जाने लगा, मैंने उसे वही थप्पड़ मारके बैठा दिया और फिर दोनों से पूछा-

मैं – ये सब कबसे चल रहा है??

विवेक- भाई ये पहली बार है, सोनिया भी साथ देने लगी.. हा पहली बार है.

मैं – तुम्हारा किस देखते हैं मैं समझ गया हूं कि पहली बार नहीं है। क्योंकि तुम दोनो बहुत ज्यादा आरामदायक हो। और क्या क्या कर बैठे हो बताओ?? सच बताओ दोनो कितने टाइम से कर रहे हो, कितना आगे बढ़ चुके हो?? नहीं तो मैं सबको बोल दूंगा।

ये सुन्न डोनो और डर गए, टैब-

विवेक- भाई हम लोग ये 1 महीने से कर रहे हैं और किस और हग के ऊपर नहीं जाएंगे।

सोनिया- हा भाई, ये सच बोल रहा है।

मैंने पूछा – पहली बार कब हुआ?

तब विवेक ने बताया कि 1 महीने पहले वो जब आया तब सोनिया और उसके बीच बातें हुई। नॉर्मल से बॉयफ्रेंड गर्लफ्रेंड की तरफ। तब उसे पता चला सोनिया का कभी बॉयफ्रेंड नहीं हुआ और उसे किस नहीं आता, तब इनका किसिंग शुरू हुई।

मैं विवेक को बाहर भेजता हूं और फोन अपना पास रखता हूं ताकि वो जा सके ना। सोनिया से पूछा सेक्स हो गया उसके साथ??

सोनिया शॉक थी मैंने डायरेक्ट कैसे पूछा।

मैंने फिर से पूछने पर वो बोली सेक्स नहीं किया है।

मेरी आवाज सुन के विवेक अंदर आ कर बोला – सेक्स नहीं किया कभी भी।

मैं इतना गुस्सा था कि बोल पढ़ा सोनिया से। तूने इसका लंड देखा या मुँह में लिया है? सोनिया रोने लगी और विवेक बोले इसे पहले उसने बाहर बैठने बोल दिया। सोनिया को बोला सच बोल नहीं तो वर्जिनिटी टेस्ट करवाऊंगी! वो बोली नहीं सेक्स किया, ना उसने विवेक का लंड देखा।

मैंने बाहर आके विवेक को बोल दिया आज के बाद वो कभी भी घर पर अकेला नहीं रुकेगा और मैं सब घर पर मम्मी डैडी को बताऊंगा। वो दोनों मन करने लगे लेकिन मैंने विवेक को जाने बोल दिया और सोनिया अंदर ही बैठी रही।

शामको मम्मी डैडी काम से आये तो मैं बताना चाहता था। लेकिन कैसे बताउ समाज पर नहीं रहा। और सोनिया पूरा दिन अनुरोध करती रही नहीं बताने के लिए। मैं सोच रहा था कि मेरी बहन जिसको सीधी और छोटी समझ रही थी वह किस और सेक्स के बारे में सोच रही थी। विवेक और उसका चुंबन और स्तन दबाने वाला सीन दिख रहा था।

मैंने 2-3 दिन सोनिया से बात नहीं की। मुख्य उपयोग अब सिर्फ बहन नहीं एक जवान लड़की जो चुंबन और सेक्स चाहती है, ऐसे देखने लगा। फिर एक दिन जब मैं और सोनिया अकेली थी तो सोनिया मेरे पास आई और बोली – भाई सॉरी, आगे से नहीं होगा ऐसा कभी भी। वो एरे हाथ पकड़ के बैठ गई.

मैंने उससे कहा कि अगर वो किस और सेक्स के बारे में जानना चाहता था, मुझे कह देती तुम, विवेक को क्यों बोला?

ये सुन सोनिया 2 मिनट के लिए डंग रह गई और बोली मुझे लगा भाई तू डंटेगा।

मैंने कहा मैं किस करु तो चलेगा?

वो कुछ नहीं बोलके सिर्फ मुस्कुराओ की। मैंने मुख्य दरवाज़ा लॉक किया और हम दोनों बेडरूम में चले गए, दरवाज़ा लॉक किया और उसे बिस्तर पर बैठा के किस करने लगा। मैं पहली बार अपनी छोटी बहन को किस कर रहा था। हम दोनों का रिश्ता कुछ जरूरी नहीं था, हम किस कर रहे थे। कब एक दूसरे को गले लगा लिया पता नहीं चला।

हम 15-20 मिनट तक किस करते रहेंगे। किस करते करते मैं उसके स्तन दबाने लगा। उसके स्तन गोल और कड़क जैसे थे, बहुत मजा आ रहा था। मैंने सोनिया से पूछा किस करके अच्छा लगा? बोली आप विवेक से बेहतर किस करते हो।

मैंने अपनी टीशर्ट उतार दी और उसे बेड पर लेटा दिया और उसका टॉप ऊपर करने लगा। सोनिया कहने लगी नहीं भाई मुझे शर्म आती है। मैंने फिर से किस किया और टॉप ऊपर किया और उसकी नाभि और पेट को चाटने और चूमने लगा।

साथ ही साथ मैंने टॉप के नीचे से हाथ डाला उसके स्तन दबाए, उसने ब्रा पहनी थी पर उसकी आह की आवाज निकली। मैंने उसका टॉप उतार दिया, उसने खुद अपनी ब्रा निकाल दी। मैंने पहले बार अपनी बहन को अपने सामने टॉपलेस देखा था। फिर मैंने उसके स्तन चूसे।

सोनिया पहली बार किसी के स्तन चूस रही थी। उसे तो होश नहीं था क्या चल रहा है, बस मजे से आह…अखिलेश बहुत अच्छा लग रहा है, चूस दूसरा भी चूस…ऐसी माई बारी बारी से उसके स्तन चूसता रहा।

मैंने उसे कहा कि वह भी जहां चाहे वह दोस्त और चाट सकती है। हम दोनों को एसी में भी पसीना आ रहा था। अब हम लगभग रोज ऐसा करते हैं। एक दिन जब मैं कॉलेज से घर आया तो सोनिया नहा रही थी।

मैं सोचता था कि घर आके सोनिया के साथ मजे करूंगा। मैंने बाथरूम का दरवाज़ा खटखटाया और बोला मेरे भी साथ नहाना है। वो मन करने लगी, बोली ज्यादा हो जाएगा कंट्रोल नहीं रहेगा। मैंने उसे बोला विवेक वाली बात घर पर बताऊंगा। “भारतीय अनाचार अश्लील”

वो डर गई और उसने दरवाजा खोला तो मैं अंदर चला गया। अब हम दोनों एक दूसरे के सामने पूरे नंगे खड़े थे। सोनिया के बदन से शॉवर का बहता पानी गिर रहा था। सोनिया ने अपने हाथ से स्तन और चूत ढकने की कोशिश की, लेकिन कुछ फर्क नहीं पड़ा।

मेरा लंड इस्तेमाल नंगा देख कर पूरा जोश से खड़ा हो गया। सोनिया लंड देखती रह गयी. मैंने उसका हाथ लेके अपने पास बुलाया और अपना लंड उसके हाथ में दिया। और वो मेरे लंड को हाथ में लेते ही बोल पड़ी, कितना मोटा और टाइट है भाई।

मैंने उसका हाथ ऊपर नीचे करने को कहा, वो करने लगी। फिर मैंने उसके चेहरे पर लंड घुमाया। बहुत मुश्किल से रोका मुँह में देने से। मैंने उसे उठाया और उसको किस किया और ऊपर से नीचे तक उसके बदन को चाटा और चूमा।

जब उसकी चूत के पास आया देखा ही रह गया। चूत पर थोड़े से बाल थे और वर्जिन चूत। मैं जब उसकी चूत में उंगली घुमाऊंगी तो सोनिया की सिस्की निकल जाएगी – मत कर भाई, कुछ अजीब से होता है।

मैंने उसे घुमा के उसकी गांड पे काटा और चाटा और उसकी पीठ को चाटा और चूमा। वो बहुत ही जोश में था. इसके पहले वो कुछ और बोले, उसकी चूत चटनी शुरू करदी। इतना मजा आ रहा था मुझे चटाने का और सोनिया को चटवाने का। और चूत से गिरता रस और शावर का पानी बहुत नशा जैसा काम कर रहे थे। “भारतीय अनाचार अश्लील”

सोनिया की आहा.. भाई.. उफ़ और चाटो.. उफ़… की सिसकियाँ निकल रही थी। मैं चूत चाटते हुए उसकी गांड दबा रहा था। और सोनिया जोश से मेरा सर अपनी चूत में दबा रही थी। मैं खुद को उसकी चूत चाटने से रोक नहीं पा रहा था।

और वो 2-3 बार झड़ गयी थी. मैंने उसका पूरा रस पिया फिर मैंने सोनिया को नीचे बैठा के लंड उसके मुँह में दे दिया। सोनिया बोली बहुत बुरा है, गंदा लगता है। मैंने उसे कहा शावर में है दोनों साफ है और उसने कहा जैसे वो गोला चूसती है वैसे लंड चूसे।

पहले इस्तेमाल दिक्कत हुई लेकिन कुछ मिनट में भूलभुलैया से लंड चूसने लगी। फिर मैं उसके मुँह में ही झड़ गया। सोनिया को बहुत गंदा लगा, उसने बाहर निकाल दिया। फिर हम एक दूसरे को गले लगाएंगे, अपने आपको साफ कर के बहार आ गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds