May 21, 2024
ब्यूटी पार्लर में मसाज़ और चुदाई

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम हनी सिंह है और मै लाया हू एक मजेदार चुदाई स्टोरी, आज मै आपको बताने जा रहा हू की कैसे ब्यूटी पार्लर में मसाज़ और चुदाई की , मै दावे के साथ कह सकता हू इसे पढ़कर आपकी पैंट गीली हो जाएगी तो चलिए शुरू करते है बिना किसी देरी के,

यह एक्स हिंदी कहानी एक स्मार्ट महिला के बारे में है जो एक ब्यूटी पार्लर की मालकिन थी। मैं अपने काम से ब्यूटी पार्लर गयी. वहां वह लेडी अन्तर्वासना की पाठिका निकली।

दोस्तों, आप कैसे हैं? आशा है आप सभी आनंद ले रहे होंगे और खूब आनंद ले रहे होंगे।

मैं आप लोगों के लिए एक ऐसी कहानी लेकर आया हूँ जो बिल्कुल नई है।

यह लॉकडाउन के ठीक बाद की एक्स हिंदी कहानी है।

पहले मैं आपको अपने बारे में बता दूं.
मेरा नाम रवि हे। मेरे लिंग का आकार आम भारतीयों के समान ही है. यानि लंड 6 इंच का है. मैं एक ऑनलाइन पेमेंट कंपनी में काम करता हूं।

मैं चंडीगढ़ का रहने वाला हूँ. यह कहानी चंडीगढ़ की एक कॉलोनी में ब्यूटी पार्लर चलाने वाली एक महिला की है और मेरे और उसके बीच क्या हुआ।

यहां उस महिला का ब्यूटी पार्लर और उस महिला का नाम दोनों बदल दिया गया है. इसके अलावा इस कहानी में जो भी होगा वो बिल्कुल सही और सच होगा.

लॉकडाउन ख़त्म हो गया था.
सभी कंपनियों ने अपने मार्केटिंग के लोगों को बाजार में तैनात कर दिया था, इसलिए हम भी बाजार में काम करने के लिए निकल पड़े।
लॉकडाउन की वजह से कई लोगों के ऐप्स ने काम करना बंद कर दिया था.

इसका कारण यह था कि उन्होंने उस एप्लिकेशन को अपडेट नहीं किया था, इसलिए कंपनी द्वारा हमें दिया गया मुख्य कार्य उन व्यापारियों के पास जाकर अपडेट करना था जो पुराने एप्लिकेशन का उपयोग कर रहे थे।
मुझे भी यही काम करना था.

ऐसे ही घूमते हुए मैं एक ब्यूटी पार्लर के पास पहुंचा जिसका नाम अर्चना ब्यूटी पार्लर (बदला हुआ नाम) था.
यह काफी बड़ा और शानदार लग रहा था।
देखने से ही लग रहा था कि यहां केवल हाई प्रोफाइल महिलाएं ही आती होंगी।

बाहर लगा हुआ गेट शीशे का बना हुआ था, जिससे अन्दर नहीं देखा जा सकता था.
उस पर कुछ धुंधली पट्टी बंधी हुई थी.

मैंने बाहर घंटी का बटन दबाया और घंटी की आवाज़ सुनी।

मैं थोड़ा पीछे हट गया.
कुछ देर बाद गेट खुला और एक खूबसूरत औरत ने गेट खोला. उनके मुंह पर मास्क और हाथों में दस्ताने थे.

उन्होंने मुझसे पूछा- हां बताओ, क्या काम है?
मैं: मैडम, मैं एक ऑनलाइन पेमेंट कंपनी से आया हूं जिसका QR कोड आपकी टेबल पर रखा होगा, जिसे स्कैन करके आप पेमेंट लेते है .

स्त्री- अच्छा हुआ कि तुम आ गये। मैं काफी समय से ऑनलाइन भुगतान नहीं कर पा रही हूँ । जरा देखिए इसमें क्या हुआ है. आप जानते ही होंगे कि कोरोना के कारण कैश पेमेंट सुरक्षित नहीं है और वैसे भी आजकल लोग ऑनलाइन पेमेंट ही कर रहे हैं।

मैं- ठीक है मैडम, देखता हूं क्या दिक्कत है.
महिला: एक काम करो, अंदर आ जाओ और ये सैनिटाइजर रखा है, उससे अपने हाथ अच्छे से साफ कर लो.

मैं: हाँ मैडम.
मैं उनके पीछे गेट के अंदर चला गया.
मैं अंदर गया तो देखा कि ब्यूटी पार्लर बिल्कुल खाली था. मतलब रिसेप्शन पर कोई नहीं था और महिला रिसेप्शन पर आकर बैठ गई.

वो बोली- तुम्हारा नाम क्या है?
मैंने अपना नाम रवि बताया.

महिला- ठीक है, मेरा नाम अर्चना है. आप मुझे अर्चना जी कह सकते हैं. मुझे मैडम सुनना अच्छा नहीं लगता .

मैं: मेरा काम ही ऐसा है कि मुझे मैडम कहना ही पड़ेगा .
अर्चना – कोई बात नहीं, मुझे उससे कोई दिक्कत नहीं है लेकिन मुझे अर्चना जी कहो।
मैं- ठीक है. मैं तुम्हें अर्चना जी ही कहूँगा.

फिर मैंने पूछा- अर्चना जी, क्या आपको एप्लीकेशन इस्तेमाल करने में कोई दिक्कत आ रही है?
मैंने अपने हाथ साफ करते हुए उससे पूछा।

अर्चना – मैं न तो कहीं पेमेंट कर पा रही हूं और न ही पेमेंट ले पा रही हूं.
मैं- ठीक है मैडम, मैं आपका मोबाइल चेक कर दूं.

अभी तक हम यहीं ब्यूटी पार्लर के रिसेप्शन पर बैठे थे.
मैं गर्मियों में बाजार से आया था इसलिए मुझे बहुत पसीना आ रहा था.

मेरा पसीना देख कर उसने कहा- यहाँ बहुत गर्मी है. तुम अन्दर जाओ और वहीं बैठ कर काम करो. वहाँ एसी है.

मैं: लेकिन अर्चना जी, क्या आपके पास अभी भी ग्राहक होंगे?
अर्चना – रवि , मैंने अभी ब्यूटी पार्लर खोला है और अभी कोई बुकिंग नहीं है और न ही कोई स्टाफ है। तो आप यहां बिना किसी चिंता के अपना काम कर सकते हैं।

हम उठे और उनके पर्सनल केबिन में गये जहाँ ए.सी. था।

दोस्तों, यहां मैं आपको ब्यूटी पार्लर के बारे में कुछ बताता हूं।
यह अंदर से काफी बड़ा था और हर जगह सजावट थी। देखकर ऐसा लग रहा था कि यहां केवल वीआईपी महिलाएं ही आएंगी। इसे बहुत अच्छे से सजाया गया था.

उसने अपने मोबाइल में एप्लीकेशन खोलकर मुझे दे दी.
मैं अपना काम करने लगा.

काम करते समय मैंने अर्चना से पूछा- अर्चना जी, आपके यहां लगभग कितना स्टाफ काम करेगा?

अर्चना – क्यों पूछ रहे हो?
मैं: मैं इसलिए पूछ रहा हूं क्योंकि आपका ब्यूटी पार्लर बहुत बड़ा दिखता है और मेरे हिसाब से वहां कम से कम 15 लड़कियों का स्टाफ होगा?

वो हंसते हुए बोली- रवि , यहां 15 लड़कियों का स्टाफ तो नहीं है लेकिन हां … यहां 15 से ज्यादा लड़कियां ट्रेनिंग के लिए आती हैं. मेरे पास 8 लोगों का स्टाफ है जो इस समय लॉकडाउन के कारण छुट्टी पर हैं। धीरे-धीरे जब ग्राहक आने लगेंगे तो मैं अपने स्टाफ को बुलाऊंगी ।

मैं अपना काम करने लगा.

सबसे पहले मैंने उनके एप्लिकेशन की जाँच की और देखा कि उनके दोनों एप्लिकेशन, व्यक्तिगत और व्यावसायिक ऐप, लॉग आउट हो गए थे और उन्हें अपडेट करने की आवश्यकता थी।
मैं प्ले स्टोर पर गया और उन्हें अपडेट किया।

फिर लॉग इन करने के लिए मिनिमाइज़्ड ऐप खोलने के लिए बाईं ओर विकल्प बटन पर क्लिक करें।

कुछ समय पहले इस स्क्रीन पर जो ऐप इस्तेमाल किया गया था, वह अब मुझे दिखाई दे रहा है।

ऐप्स के बीच में मुझे एक ब्राउज़र दिखा जिसमें अन्तर्वासना की साइट खुली हुई थी।

वेबसाइट देखकर मेरे मुँह से निकल गया- अर्चना जी, क्या आप भी इसे पढ़ती हैं?
अर्चना – क्या? में किसे पढ़ती हु ?
फिर मैंने बात बदलते हुए कहा- कुछ नहीं मैडम, बस पूछ लिया.

अर्चना – अरे बताओ रवि , तुमने क्या पूछा?
मैं उसके पास गया और उसे दूर से ही अपने मोबाइल पर अन्तर्वासना की साइट दिखाई.

वो थोड़ा गुस्से में आ गई और मेरे हाथ से मोबाइल छीन लिया और बोली- ये क्या बदतमीजी है? जो काम करने आए हो उसे करो और जाओ। आपको किसी के इंटरनेट वेब ब्राउज़र इतिहास की जाँच करने का कोई अधिकार नहीं है। यह गलत है।

फिर मैंने उन्हें समझाते हुए कहा- मैडम, सबसे पहले तो मुझे खेद है और दूसरी बात कि मैंने आपकी हिस्ट्री चेक नहीं की. जब मैंने एप्लिकेशन को अपडेट किया और मिनीमाइज किया तो यूज़ किये गए एप्लीकेशन सामने ही शो होने लगे , तो मैंने ये देखा. तो मैंने आपसे पूछा. क्षमा करें, मैं अपना काम करता हूं और जाता हूं।

फिर मैंने एप्लीकेशन में उनका नंबर डालकर लॉग इन किया और बिजनेस एप्लीकेशन भी शुरू कर दी।
मैंने कहा- मैडम, मेरा काम हो गया. में जा रहा हूँ ।

अर्चना – कृपया मुझे बताएं कि भुगतान कैसे करना है क्योंकि मैं यूपीआई पिन भूल गई हूं जिससे भुगतान किया जाता है ।
में : वो भी में शुरू करूँगा, क्या आप मुझे अपना डेबिट कार्ड दोगे?

वो बोली- क्यों, तुम इसका क्या करोगे?
मैं: यूपीआई पिन उससे ही सेट होता है. तुम्हे बताता रहूँगा , तुम इसे स्वयं करो।

अर्चना – अच्छा, बताओ क्या करना है?
मैं- अपना एप्लिकेशन खोलें और यूपीआई विकल्प पर जाएं। वहां एक विकल्प होगा – यूपीआई पिन भूल जाएं। इस पर क्लिक करें और फिर एटीएम की जो डिटेल मांगी जाएगी उसे भरें।

वो बोली- तुम खुद करो, मैं ये नहीं कर सकती. कृपया।
मैं- मैं कर लूंगा, मुझे अपना एटीएम कार्ड दे दो।
फिर उसने मुझे अपना एटीएम दिया और मैंने उसका यूपीआई पासवर्ड बनाया।

अर्चना – धन्यवाद रवि , तुमने मेरे लिए बहुत अच्छा काम किया।
मैं: नहीं धन्यवाद मैडम, ये मेरा काम है.
अर्चना ने मेरी तरफ देखा और हंसते हुए बोली- मैडम नहीं, अर्चना जी आप बोल सकती हैं!

मैं: अर्चना जी, अब आपका काम हो गया , मैं जाऊं?
अर्चना – 2 मिनट रुको, पानी पी लो और फिर चले जाना।

मैं: ठीक है ।
मुझे हँसी आने लगी।
वो भी मेरी बात सुनकर हंसने लगी.

अर्चना – वैसे, क्या मैं आपसे कुछ पूछ सकती हूँ?
मैं: बिल्कुल पूछ सकते हो, जो भी पूछना हो पूछो?

अर्चना – आप मुझसे पूछ रहे थे कि मैं भी अन्तर्वासना की कहानी पढ़ती हूँ, इसका मतलब आप भी पढ़ते हैं?
मैं: हाँ अर्चना जी, मैं अन्तर्वासना की कहानी 2011 से पढ़ रहा हूँ और आप कब से पढ़ रही हैं?

वो हंसते हुए बोलीं- जब से लॉकडाउन शुरू हुआ है तब से मैं ये कहानियां पढ़ रही हूं.
मैं: क्या आप अभी कुछ देर पहले कोई कहानी पढ़ रहे थे?
अर्चना – हाँ, मैं कहानी पढ़ रही थी तभी तुमने बाहर से गेट खटखटाया।

बातें करते करते मेरे लंड में तनाव आने लगा. अर्चना ने यह देख लिया.
अर्चना ने हँसते हुए कहा-तुम्हारे अंदर तनाव पैदा होने लगा है।

फिर उसने पूछा- क्या तुम्हें कहीं जाने की जल्दी है?
मैं: नहीं अर्चना जी, मुझे जाने की कोई जल्दी नहीं है.

अर्चना – रवि , अब हम अच्छे दोस्त की तरह हैं. आप भी अन्तर्वासना पढ़ते हो और में भी पढ़ती हूँ . तो अब मुझे अर्चना जी मत कहो, बस अर्चना कहो।

मैं जानता था कि अर्चना ने कुछ समय पहले अन्तर्वासना की कहानी पढ़ी थी और कहानी पढ़ने के कारण वह उत्तेजित हो गयी थी।
फिर हम वासना की बातें करने लगे और उसके अंदर की गर्मी बढ़ने लगी. इसलिए वो मुझे रुकने के लिए कह रही थी.

मैं- ठीक है अर्चना , अब मैं तुम्हें अर्चना ही बुलाऊंगा.
इसी तरह हम काफी देर तक बातें करते रहे और बातचीत के दौरान मैंने उसे बताया कि मैंने भी अन्तर्वासना की साइट पर एक कहानी लिखी है.

तो उसे यकीन नहीं हुआ तो मैंने उसे अपनी कहानी का शीर्षक बता दिया.
अर्चना – हां, मैंने वो कहानी पढ़ी है. यह एक अच्छी कहानी थी लेकिन आपने आखिरी कहानी को जल्दबाजी में पेश किया।

मैंने उनसे पूछा- लगता है आपका स्टाफ आज नहीं आएगा. आज आप अकेले हैं!
अर्चना ने आँखें दबाते हुए कहा- क्या इरादा है?

मैं उसकी बात समझ गया और मैंने भी कह दिया- ये तो आपकी मंशा के मुताबिक है.
फिर इस बात पर हम दोनों हंसने लगे.

अर्चना – रवि मैं तुम्हारे बारे में कुछ जानना चाहती हूँ। तो फिर आप मेरे बारे में कुछ जानते हैं. फिर हम आगे बढ़ते हैं.
जब उसने मुझसे मेरे बारे में पूछा तो मैंने उसे अपने बारे में सब कुछ बता दिया.

फिर मैंने अर्चना से इसके बारे में पूछा तो वो बताने लगी.
अर्चना – हमारे घर में हम तीन लोग हैं. मैं, मेरा बेटा और मेरे पति. मेरी उम्र 40 साल है और मेरे पति सरकारी नौकरी में हैं. मैं जो पार्लर चलाती हूं वह मेरा शौक है।

मैं: अर्चना क्या मैं तुम्हारा पार्लर अंदर से देख सकता हूँ?
अर्चना – हां क्यों नहीं, लेकिन एक मिनट रुको.

वो उठकर बाहर गई और गेट को अंदर से बंद कर लिया और फिर हम उसके पार्लर के अंदर चले गये. वहां घूमते-घूमते वह मुझे मसाज रूम में ले गई, जहां उसके यहां महिलाएं आती थीं और मुझे स्पा वगैरह के लिए ले जाती थीं।

जैसे ही मैं अन्दर गया और उसका मसाज रूम देखा तो वो मुझे देख कर मुस्कुरा दी.

अर्चना – रवि , मैं चाहती हूँ कि तुम आज मुझे बॉडी मसाज दो। जिस तरह से आपने अपनी कहानी में अपनी भाभी को मसाज दी थी.
मैं- मैं आपकी मालिश करने के लिए तैयार हूँ!

यह सुन कर अर्चना खुश हो गयी.
ऐसा लग रहा था जैसे वो मुझसे यही सुनना चाहती हो.

दोस्तों मुझे मेरी कहानियों पर बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है. मुझे उम्मीद नहीं थी कि आप सबको मेरी कहानी इतनी पसंद आएगी. तो देखा आपने कैसे ब्यूटी पार्लर में मसाज़ और चुदाई की,दोस्तों कैसी लगी मेरी स्टोरी मैंने कहा था आपकी पैंट गीली होने वाली है , तो चलिए मिलते है अगली स्टोरी मैं तब तक के लिए अपना दिन रखिये | और हिंदी सेक्स स्टोरी पढ़ने के लिए हिंदी सेक्स स्टोरी पर क्लिक करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds