July 16, 2024
Bhabhi ki Bahan ki seal tod chudai

Readxstories.com के सभी दोस्तों को मेरा नमस्कार, मेरा नाम राहुल है। मैं पिछले 2 साल से दिल्ली में पढ़ाई कर रहा हूं. मैं इस वक्त 23 साल का हूं. मेरी हाइट 5 फीट 10 इंच है. मेरा रंग गोरा है. चूँकि मैं जिम जाता हूँ इसलिए मेरा शरीर मजबूत है। कुल मिलाकर मैं बहुत सुन्दर दिखता हूँ.

आज की कहानी भाभी की बहन की सील तोड़ चुदाई. की और चुदने का शौकीन बना दिया
अब कहानी में आगे:

मैं अपनी पहली कहानी लिख रहा हूँ, अगर कोई गलती दिखे तो कृपया मुझे माफ़ कर देना।

बात एक साल पहले की है, जब मैं अपने घर गोरखपुर गया था. मेरे घर मेरी भाभी के चाचा की लड़की आई हुई थी. उसका नाम प्रीती है. प्रीती बला की खूबसूरत लड़की है. उसका रंग बिल्कुल गोरा है. उनकी हाइट 5 फीट 7 इंच है. उसके 34 साइज के स्तन, 28 इंच की शानदार कमर और 38 इंच की उठी हुई गांड है. वह लखनऊ में रहकर पढ़ाई करती है।

प्रीती से पहले मेरी जान-पहचान नहीं थी, लेकिन भाभी ने हमारा परिचय कराया और हम एक ही घर में थे तो बातें होने लगीं. हम साथ खाना खाते थे, काफी देर तक बैठते थे और किसी भी टॉपिक पर बात करते थे.

शाम को मैं उसे बाइक से गोरखपुर ले जाता था. बीच-बीच में ब्रेक लगाते हुए वो मेरे ऊपर आ जाती थी, जिससे उसके स्तन मेरी पीठ पर दब जाते थे और मुझे इसका पूरा मजा आ रहा था. वैसे तो मैंने कई लड़कियों को चोदा है, लेकिन प्रीती मुझे ज्यादा दिलचस्प लगी.

इस तरह हमारी दोस्ती धीरे-धीरे बढ़ने लगी. फिर प्रीती की पढ़ाई शुरू हो गई थी तो वो लखनऊ अपने हॉस्टल चली गई, मैं भी दिल्ली आ गया. लेकिन हम हमेशा फोन पर बात करते थे. मैं उसे प्रपोज करना चाहता था, लेकिन नहीं कर पाया।

एक दिन मैंने उसके व्हाट्सैप पर मैसेज किया- मुझे तुमसे कुछ कहना है।

प्रीती का मैसेज आया- क्या कहना हैं बोलो?

मैं- तुम बुरा तो नहीं मानोगी?

प्रीती- अरे बोलो तो सही … क्या बात है, मैं पक्का नहीं बुरा मानूंगी।

मैं- सच!

प्रीती- अरे हां बाबा सच … अब बोलो!

मैं- प्रीती मैं बहुत दिन से फील कर रहा हूँ कि मैं तुमसे प्यार करने लगा हूँ, आई रियली लव यू।

प्रीती- मैं भी तुमसे प्यार करती हूँ … पर बता नहीं पा रही थी।

ऐसा लग रहा था जैसे उसकी बातों से मेरी इच्छाएं खिल उठी हों. फिर हम रात भर बातें करने लगे. अब हम धीरे-धीरे सेक्स के बारे में भी बातें करने लगे. प्रीति भी मुझसे खुल कर बात करने लगी.

मैंने प्रीति से कहा- मैं तुमसे मिलना चाहता हूँ, लखनऊ आना चाहता हूँ।
प्रीति भी मान गयी. मैं दिल्ली से लखनऊ आया और प्रीति को फोन किया. प्रीति भी घर जाने की बात कहकर हॉस्टल आई थी।

फिर हमने एक होटल में कमरा ले लिया. मैं प्रीति को चूमना चाहता था, लेकिन प्रीति सहज महसूस नहीं कर रही थी.

तो अपना सामान होटल में रख कर हम लोग घूमने निकल गये. हम वहां एक मॉल में गए और वहां पिज़्ज़ा खाया. फिर हम मूवी देखने गये. थिएटर में बहुत सारे लोग थे तो मैंने प्रीति का हाथ अपने हाथ में ले लिया और सहलाने लगा.

मैं अपने दूसरे हाथ से प्रीति के कंधे को सहला रहा था. फिर मैंने अपना हाथ उसकी कमर पर रख दिया. यह कितना अच्छा अहसास था. प्रीती एकदम चुप थी.

मैं अपने होंठ प्रीति के गालों के पास ले गया और अपनी नाक से उसके गालों को छूने लगा. उसने भी अपनी आंखें बंद कर लीं. मैंने उसके गाल पर अपने होंठ रख दिये और उसे चूमने लगा।

उसने अपने गाल मेरी ओर कर दिये. मैंने उसके गालों की मुलायम त्वचा को अपने होंठों से पकड़ा और चूसने लगा. साथ ही उसकी कमर और जांघ को भी अपने हाथों से सहला रहा था.

उसकी ओर से कोई विरोध न पाकर मैंने उसके होंठों को अपने होंठों में कैद कर लिया। अब उसका निचला होंठ मेरे होंठों में था और मेरा ऊपरी होंठ उसके होंठों में आ गया था. वो भी लिप किस में मेरा साथ देने लगी.

कुछ ही देर में उत्तेजना बढ़ गई और अब मैं उसके होंठों को चूस रहा था. वो भी मुझे अपने होंठों से खाने लगी. मैंने अपना एक हाथ उसके स्तनों पर रख दिया।

आह… क्या अद्भुत स्तन थे. मैं उसके मम्मे दबाने लगा. वो गर्म होकर कराहने लगी.

मैंने अपने होठों से उसकी गर्दन को चूमा और उसके स्तनों की ओर बढ़ने लगा। उसकी शर्ट के कुछ बटन खोलने के बाद मैंने अपने हाथों से उसके नंगे स्तनों को सहलाना शुरू कर दिया। उसके स्तन रुई की तरह मुलायम थे, बिल्कुल मोटे।

फिर मैंने अचानक अपना मुँह उसके निप्पल पर रख दिया और उसके एक स्तन को पूरा अपने मुँह में भर लिया। इससे वह जोर-जोर से कराहने लगी. मुझे उसके कराहने का डर नहीं था क्योंकि थिएटर में हमारे आसपास कोई नहीं था.

अब मैं उसके पूरे स्तन को मुँह में लेकर जोर-जोर से चूसने लगा। मैंने उसका ज्यादातर दूध अपने मुँह में ले लिया. वह अपने हाथ से उसके दूसरे स्तन की भी मालिश कर रहा था।

मैंने अपनी पैंट की ज़िप खोली और अपना लंड बाहर निकाला. मेरा लिंग लगभग 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है। मैंने लंड प्रीति के हाथ में दे दिया.

वो बोली- हे भगवान, तुम्हारा ये तो कितना बड़ा और मोटा है..

मैंने कहा- इसका भी एक नाम है.

उसने शरमाते हुए कहा- इतना बड़ा लंड.

मैं हँसा और उसके स्तन दबा दिये।

अब वो उत्तेजित होकर मेरे लिंग को तेजी से ऊपर-नीचे करने लगी. मुझे बहुत मजा आ रहा था.

फिर मैंने उसकी जींस का बटन खोला और उसे उसकी कमर से थोड़ा नीचे खींच दिया. मेरा हाथ पैंटी के अंदर चला गया. जैसे ही मैंने उसकी नंगी सोफ्ट चूत को छुआ तो वो एकदम पागल हो गयी.

उसने मुझे कसकर पकड़ लिया. मैं उसकी चूत को सहलाने लगा. मेरा मन कर रहा था कि मैं उसकी चूत चूस लूँ, लेकिन मैं थिएटर में था इसलिए नहीं कर सका। मेरे हाथों की रगड़ से वो कुछ ही देर में झड़ने लगी.

ऑर्गेज्म के बाद वो बोली- चलो होटल चलते हैं.

मेरा भी यही मन था. चूँकि हम दोनों थिएटर में कामुक हो चुके थे इसलिए वो भी स्खलित हो चुकी थी। लेकिन न तो वो संतुष्ट थी और न ही मैं संतुष्ट था.

अब हम लोग मूवी बीच में ही छोड़कर होटल के कमरे में आ गये। कमरे में घुसते ही मैंने दरवाज़ा बंद कर दिया और प्रीति को पीछे से अपनी बांहों में ले लिया.

प्रीति की पीठ पूरी तरह से मेरी छाती से सटी हुई थी. उसकी खूबसूरत गांड मेरे लिंग पर दबी हुई थी. उसकी जाँघ मेरी जाँघ से छू रही थी।

अब मैंने पीछे से उसकी गर्दन पर अपने होंठ रख दिए और उसे चूमने लगा।

मैं उसकी गांड को अपने लंड से रगड़ रहा था और अपने हाथों से उसके पेट और कमर को सहला रहा था।

अब मैंने अपने हाथ बढ़ाये और उसकी शर्ट के ऊपर से उसके मम्मों को दबाने लगा।

प्रीति बहुत ही मादक कराहें निकाल रही थी, जो मुझे और भी मदहोश कर रही थी।

अब आलम यह था कि वह अपने होंठों से प्रीति की गर्दन और कानों को चूस रहा था।
वह उसकी गांड को अपने बड़े लंड से रगड़ रहा था और उसके स्तनों को अपने हाथों से जोर-जोर से दबा रहा था।
फिर मैंने झट से प्रीति को आगे की ओर घुमाया और उसके होंठों को पूरी तरह से अपने होंठों में कैद कर लिया।

प्रीति उसके होंठों को जोर-जोर से चूस रही थी। हम दोनों एक दूसरे की जीभ चूसने लगे।

प्रीति मेरी बांहों में इस तरह थी कि उसके बड़े-बड़े स्तन मेरी छाती से बिल्कुल चिपके हुए थे।

मैं उसके होंठों को चूसते हुए उसकी गांड को हाथ में लेकर दबाने लगा.

अब मैंने प्रीति की शर्ट उतार दी और अपनी टी-शर्ट भी उतार दी.

प्रीति मेरी छाती और बांहों पर कुश्ती के कटों को ध्यान से देख रही थी। मैं प्रीति की गर्दन को चूमने लगा और साथ ही उसके कंधों को अपने होंठों में लेकर पूरा चूमने लगा।

ऐसे ही चूसते हुए मैं उसके एक मम्मे को ब्रा के ऊपर से मुँह में लेने लगा।

ब्रा के ऊपर से ही उसके दोनों स्तनों को बारी-बारी से अपने मुँह में ले लिया और दांतों से काटने लगा।

वो मेरे सिर को अपने स्तन पर दबा रही थी. कुछ पल बाद मैंने उसकी ब्रा भी उतार दी.

आह, क्या सुन्दर दृश्य था। उसके स्तन सुंदर और सुडौल थे।

अब मैं दोनों स्तनों को अपने हाथों से पकड़ कर सहला रहा था और फिर तेजी से दबाने लगा।

वह उसके एक स्तन को अपने मुँह से चूस रहा था और दूसरे को अपने हाथ से दबा रहा था।

उसके निपल्स को होंठों के बीच दबाया जा रहा था और जीभ से चाटा जा रहा था.

कभी-कभी उसके निप्पल को अपने दांतों से हल्के से काट लेता, वो पूरी तरह से मदहोश हो चुकी थी।

आगे की कहानी अगले भाग में : भाभी की बहन की सील तोड़ चुदाई की तब तक के लिया इंतजार कीजिए और हमारी वेबसाइट पर से सारी Hindi Sex Stories  पढ़कर अपने कामुक मान को शांत करें अगली कहानी जल्द ही प्रस्तुत करूंगा इस कहानी को पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद यह है मेरी पहली कहानी थी उम्मीद करता हूं आपको यह कहानी पसंद आई होगी और ऐसी ही कहानियां पढ़ने के लिए Readxstories.com को सब्सक्राइब करें ताकि आपके पास मेरी कहानी सबसे पहले पहुंच पाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds