May 14, 2024
Bhabhi Ki Bur Ki Chudai

नमस्कार दोस्तों में आप की काजल  आप सभी के लिए readxxstories.com पर एक और नई Hindi Sex Story ले कर आई हूँ। ये कहानी बिल्कुल ,100% असली हैं .

हमारी आज की स्टोरी का शीर्षक है-  मैंने भैया और भाभी के साथ मिलकर थ्रीसम किया,

जिस मे आप पढ़ोगे की कैसे  मैंने भैया के साथ अपनी सेक्सी भाभी की करी चूत की चुदाई( Bhabhi Ki Chut Ki Chudai ) और इस के आगे क्या हुवा वो आप को राहुल जी बतायंगे ,

मेरा नाम राहुल है ,और मैं दिल्ली के Saket  का रहने वाला हूँ तो चलिए आज की कहानी शुरू करते है। 

मैं अपने परिवार के बारे में आप सब को बता दूं। मेरा परिवार एक खुले विचारों का है. सेक्स की बातें आमतौर पर घर में होती ही रहती हैं। भैया और भाभी की शादी को हुए अभी दो महीने ही हुए थे।

उनका कमरा ऊपर के कोने में है. नई-नई शादी होने की वजह से वो दोनों रोज़ सेक्स करते हैं।

मेरा कमरा उनके बाजू में ही था। इसलिए देर रात तक भैया और भाभी की चुदाई की आवाज मुझे सुनाई देती थी। पर मैंने ये बात उनको नहीं बताई. और मैं भी अपने कमरे में रात भर उनकी  चुदाई की आवाजों का मजा लेता था,

और अपने लंड की भूख को शांत करता था।

कभी-कभी भाभी की आवाज देर रात को, आधी रात को, या सुबह-सुबह सुन कर मैं अनुमान लगाता हूं, कि कैसे मेरे भैया भाभी को जबरदस्त चोदते होंगे।

एक रात मैं अपने कमरे में सो रहा था। हमारे घर में कोई नहीं था, और मैं भी बाहर चला गया था किसे काम से, और सुबह ही आने वाला था। तो भैया भाभी अकेले ही थे. पर मेरा प्लान कैंसिल हो गया था , तो मैं घर वापस आ गया।

मैं बिना किसी को बताए कमरे में सो गया।

आधी रात को भाभी की आवाज सुनायी दे रही थी। इस बार  बहुत क्लियर थी उनकी आवाज और ज़ोर से भाभी चिल्ला रही थी। मुझे लगा भैया दरवाजा बंद करना भूल गए।

पर भाभी के चीखने से मेरा मन उन दोनो को देखने का हुआ।।

मैं दबे पांव बाहर आया. बाहर आते ही देखा कि नीचे हॉल में ही भैया भाभी को जबरदस्त चोद रहे हैं।

भैया ने भाभी को टेबल पर बिठाया था, और उनके दोनों पेरो को कंधे पर लेकर भैया चुदाई कर रहे थे। दोनों को मैंने पहली बार नंगा देखा था। भाभी नंगी हो कर किसी अप्सरा से कम नहीं लग रही थी।

मैं उस दिन समझ गया कि क्यों भैया भाभी को चोदे बिना क्यों नहीं रह सकते।

मेरा लंड खड़ा हो गया, और मैं वही पर अपनी पैंट को नीचे करके हिलाने लगा। भाभी का ध्यान मुझ पर गया। उन्होंने  मुझे ऊपर हस्तमैथुन करते देख लिया। पर भाभी ने भैया को कुछ नहीं कहा। और मैं कमरे में वापस चला गया।

कुछ देर बाद भैया रूम में आये। भैया ने सिर्फ अंडरवियर पहना था। वो मेरे पास आये, और बैठे।

वो बोले: तेरी भाभी को थ्रीसम करना है। बाहर से किसी गैर मर्द को घर में ले आओ, जो तेरी भाभी को गलत तरीके से देखता हो। तो हमने सोचा की उससे अच्छा मैं  तुम्ही से क्यों न चुदाई करवाऊ।

तुझपे भरोसा है। चल ना आज तेरी भाभी को मेरे साथ-साथ तेरे साथ की भी ज़रूरत है। वैसे भी अभी तू हिला रहा था हमें देख कर।

मैं शर्मा गया और हा कर दी। भैया और मैं उनके कमरे में चले गए। देखा तो भाभी उल्टी हो कर बिस्तर पर लेटी हुई थी, और ऊपर से चादर ढकी हुई थी। भैया ने पीछे से दरवाजा बंद कर दिया और बोले-

भैया: जा शुरू होजा छोटे. शर्मा मत आज रात.

मैं बिस्तर के पास गया, और चादर भाभी के ऊपर से निकाल कर फेंक दी। भाभी बिल्कुल नंगी मेरे सामने लेती थी. उनका बैक और बम मेरी ओर था। मेरा लंड वापस खड़ा हो गया. मैंने एक झटके में अपनी टी-शर्ट उतारी, और मैं सिर्फ शॉर्ट्स में खड़ा था।

फिर मैंने भैया की और देखा तो भैया ने आगे बढ़कर कुछ करने का इशारा किया।

मैं कुछ सोच ना सका. भाभी के हुस्न को देख कर मैं पागल हो उठा। फिर मैं सीधा भाभी के ऊपर जा कर लेट गया। मैंने उनके बगीचे को चूमना शुरू किया।

यहां नीचे उनकी गांड को छुआ, और कपड़ों के ऊपर से ही ऊपर-नीचे करके शॉट्स देने लगा। मैंने भाभी की पीठ को चूमा, और नीचे उनकी मोटी गांड ( Moti Gand )को चाटने लगा।

भैया मेरे पास आये, और उन्होंने मेरी शॉर्ट्स फाड़ के फेंक दी। मैं और भाभी भैया के सामने नंगे बिस्तर पर बैठे थे। भाभी सीधी लेट गई. फिर मैं एक तरफ से लेट गया, और भाभी के बाड़े बाड़े चुच्चो ( Big Boobs )को चूमने लगा। वही भैया दूसरी तरफ से भाभी की चूत चटाई ( Chut Chatai )करने लगे।
भाभी दोनों भाइयों के बीच मजे से सेक्स का आनंद ले रही थी। कुछ देर बाद भैया भाभी के स्तनों को काटने लगे। फ़िर मैं नीचे चूत चाटने लगा। कुछ देर बाद भैया ने मुझे इशारा किया।

मैं झट से भाभी के दोनों पेरो के बीच आया। भैया ने भाभी की गांड के नीचे तकिया लगाया।

मैंने उनके दोनों पेरो को आपने कंधे पर रखा, और मेरा लंड उनकी गीली चूत ( Gili Chut ) पर रखा। भाभी ने भैया का इतनी बार  लिया था, कि अब मेरा पूरा लंड आराम से एक ही झटके में भाभी की चूत में समा गया। मैंने ज़ोर से भाभी को चोदना शुरू किया, और भाभी भी मजे से मुझसे चुद रही थी।

भाभी चिल्ला रही थी, तो मुझमें और जोश आ गया। भैया ने एक और से अपना लंड पकड़ा और भाभी के मुँह में दे दिया। यहाँ भैया भाभी का मुँह और मैं चूत चोदने लगे।

10-15 मिनट की लगातार चुदाई के बाद मेरा माल भाभी के चूत में ही निकल गया।

जैसा ही मेरा निकला, भैया झट से आ गए, और भाभी को मिशनरी में ला कर चोदने लगे। भाभी को दो मिनट का भी आराम नहीं मिल सका, पर आज रात भाभी डबल चुदाई के लिए तैयार थी।

कुछ देर भैया भाभी को चोदते रहे। मैं उनकी चुदाई देख कर एक और बार कामुक हुआ।

फिर हमने भाभी को बिस्तर पर कुत्ता बनाया, और फिर एक बार मैंने भाभी की कमर को कस कर पकड़ा, और उनकी चूत में लंड घुसेड़ दिया।तीसरी बार भाभी की चूत में लंड पेल दिया। भैया ने सामने से जाकर भाभी के मुँह में लंड घुसाया। हम दोनों ने इस बार थोड़ी बेरहमी दिखाई और जबरदस्त चुदाई की।

ज़ोर-ज़ोर से झटके देने लगे, मैं पीछे से, और भैया भाभी आगे से देने लगे।

भाभी इस बार रो पड़ी. फिर भी भाभी ने हम दोनों का लंड अपने अंदर ले लिया।

फिर 10-15 मिनट बाद हमने अपना माल भाभी के अंदर ही निकाल दिया। हम तीनो नंगे ही लेट गए. पर रात अभी बाकी थी. आधी रात को भाभी बाथरूम साफ करने के लिए चली गई। भैया और मेरी नींद खुल गई। हम दोनों भाभी के पीछे से अंदर गए, और दरवाजा बंद कर दिया।

भैया ने भाभी को आगे से किसिंग शुरू की, और मैंने पीछे से दोनों स्तनों  को खूब दबाया, अपने लंड को भाभी की गांड पर सहलाना शुरू किया। भाभी की गांड पर मेरा लंड और चूत पर भैया का लंड रगड़ रहा था। भैया ने भाभी के हाथ पकड़े।

इस बार भाभी ने लेने से मना किया, क्योंकि वो एक रात में दो लंड से बहुत चुद चुकी थी। पर हम भाइयों के बीच बेचारी कुछ नहीं कर पाई। बाथरूम के फर्श पर ही भैया ने मुझे बिठाया, और भाभी की गांड को मेरे लंड पर सेट करवाया।

अब भाभी की गांड की चुदाई  ( Gand Ki Chudai )करने की बारी थी.

मैंने और भैया ने भाभी की गांड में मेरा लंड पेला। भाभी चीख उठी, और रोने लगी। पर भैया ने एक ना सुनी. भैया अब भाभी के ऊपर से आगे से भाभी की चूत पर लंड घुसाने लगे।

कुछ देर में मेरा लंड भाभी की गांड में और भैया का लंड भाभी की चूत में चला गया। हम दोनों ने अपने-अपने तरीके से इसी पोज में भाभी को पेलना शुरू किया।

भाभी की हालत ख़राब होती मैं देख रहा था। तो मैंने भैया को रुकने का इशारा किया। भैया और मैंने आखिरी बार करीब एक-दो मिनट में चुदाई की, और हमारा  पानी भाभी के ऊपर निकाल दिया। फिर हम तीनो साथ में नहाये.

भैया और मैंने भाभी को बुलाया और तीनो नंगे ही सो गए। सुबह जब मैं उठा, तब भैया ऑफिस जाने के लिए तैयार थे। मैं और भाभी दोनों नंगे सोए थे। भैया ने मुझे अपने कमरे में जाने को कहा। मैं नंगा ही अपने कमरे में चला गया।

पीछे से भैया आ गये. मैं बहुत शर्मा रहा था. भैया ने बोला-

भैया:  कैसे लगी कल की भूलभुलैया? कैसी है तेरी भाभी? चल अब जल्दी से शादी कर ले, फिर मैं भी तेरी बीवी के साथ मजे ले सकता हूँ।

मैं हस दिया. इसके बाद हर हफ्ते मैं और भैया दोनों मिल के भाभी की चुदाई करते हैं। और इसके बारे में भाभी के साथ कई सारे अनुभव हैं। अगर आपको कहानी पसंद आती है, तो मुझे ज़रूर कमेंट में बताएं कैसी लगी कहानी, 

ऐसे और Bhabhi Sex Story पढ़ने के लिए readxxstories.com पर जाए|

धन्यवाद 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds