May 21, 2024
क्लाइंट भाभी को चोदा

नमस्ते, मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हूँ की कैसे मेने "क्लाइंट भाभी को चोदा और उनको चुदाई का पूरा आनंद दिया"

नमस्ते, मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हूँ की कैसे मेने “क्लाइंट भाभी को चोदा और उनको चुदाई का पूरा आनंद दिया”

मैं मुंबई से हूं. मैं एक हट्टा कट्टा नौजवान हूं. मेरी उम्र 28 साल है, मेरे लंड का साइज़ 6 इंच है.

मैं एक कॉल बॉय हूं. आंटियाँ, भाभियाँ, अकेली रहने वाली लड़कियाँ या कोई विधवा मुझे बुलाती हैं। मैं उन्हें खुश करने के लिए काम करता हूं. आज मैं आपके साथ एक ऐसा ही अनुभव शेयर करने जा रहा हूं.

एक दिन मुझे एक भाभी का ईमेल आया. उन्होंने मुझसे पूछा- आप अपनी सेवा कब और कैसे दे सकते हैं? आप क्या करते हैं? मैंने उनसे कहा- भाभी, मैं सब कुछ करता हूं.

मैं तुम्हारी चूत चूसूंगा, तुम्हारी गांड चाटूंगा और तुम्हें खा जाऊंगा. जैसी आपकी इच्छा। फिर उसने मुझसे पूछा- तुम्हें एक रात के लिए कितने पैसे देने होंगे?

मेरा जो भी चार्ज था, मैंने उन्हें बता दिया. उसने हाँ कह दिया और एक दिन मुझे अपना पता बताया और उस दिन रात को आने को कहा।

कुछ देर बाद वो दिन और रात भी आ गई. मैंने सारी तैयारी कर ली थी, बस मुझे वहां जाना था। उसने मुझे अपने घर बुलाया था तो मैं अच्छे से तैयार होकर उसके घर चला गया.

मैं वहां गया तो देखा कि वो बहुत बड़ा घर था. उस घर में भाभी के अलावा कोई नहीं था! फिर हमारी बातचीत हुई. उसने मुझसे कहा- मेरे पति विदेश में रहते हैं. वो कभी-कभार ही आते हैं।

जब भाभी मुझसे बात कर रही थी तो मैं बस उनके होठों को ही देख रहा था. क्या होंठ थे! मैं बस उन्हें देख रहा था. मेरा मन उन्हें चूसने का कर रहा था. मैं उन होंठों को चूसने वाला था।

फिर भाभी ने हमारे लिए ड्रिंक बनाई, अपने लिए और मेरे लिए! हमने दो पैग लगाए. धीरे-धीरे हमें पैग की हल्की-हल्की गंध महसूस होने लगी।

आशिका भाभी मेरे पास आकर बैठ गईं और मेरी शर्ट के बटन खोलने लगीं और मेरी बालों भरी छाती पर हाथ फिराने लगीं. वो सीधे मेरे होंठों पर टूट पड़ी और मुझे चूमने लगी.

भाभी की गर्माहट देख कर मैं भी उत्तेजित हो गया. मैंने भी उसे सीधे अपनी गोद में उठा लिया, मेरा लंड धीरे-धीरे अपनी पोजीशन में आने लगा और मैं उसके बालों को उसकी गर्दन से हटा कर उसे अपनी गोद में पकड़ कर चूम रहा था।

उसकी गर्दन को चूमते समय उसके मुँह से आहें निकल रही थीं। कुछ देर बाद हम दोनों ने एक दूसरे के कपड़े उतार दिये. अब भाभी मेरे सामने ब्रा और पैंटी में थीं.

गोरा बदन… उसके ऊपर काली ब्रा और पैंटी! मानो चांद पर दाग लग गया हो. अब मैं बस उस दाग को मिटाना चाहता था. मैंने जल्दी से उसकी ब्रा और पैंटी को उसके शरीर से अलग कर दिया।

शायद उसके स्तन 32″ के होंगे. और मैंने उसकी पैंटी निकाली तो वो 38″ की होगी. मैंने पहली बार ऐसा शरीर देखा था जिसमें लड़की के नितम्ब शरीर के बाकी हिस्सों से काफी बड़े थे।

मेरा मन कर रहा था कि आज इस साली को घोड़ी बना कर खूब चोदूं. लेकिन मैं जल्दबाजी करके माहौल खराब नहीं करना चाहता था.

मैंने धीरे-धीरे उसके स्तनों को चूमना शुरू कर दिया, उसके मुँह से तेज़ कराहें निकलने लगीं। फिर मैंने उसके निपल्स को चूसना शुरू कर दिया.

फिर मैं भाभी के पेट को चूमते हुए नीचे की ओर बढ़ रहा था. और चिकनी भाभी की चिकनी चूत तक पहुंच कर मैंने उसे खूब चाटा.

जब मैं भाभी की चूत चाट रहा था तो उनकी जांघें कांप रही थीं. मानो वो सालों से प्यासी हो. फिर वो मुझसे कहने लगी- बस करो अमन, अब आओ, मुझे चोदो।

मैंने अपना खड़ा लंड भाभी की चूत पर रखा और हल्का सा धक्का लगाया. चूत गीली होने के कारण पूरा लंड उसकी चूत में चला गया. भाभी खुल कर मजा ले रही थी.

अब तो बस उन्हें मजा देना ही बाकी रह गया था. उसने मुझे अपनी टाँगों से और मेरी कमर को अपने हाथों से पकड़ रखा था और बस यही चाहती थी कि मैं उसे छोड़ दूँ।

मैं उसे ऐसे ही चोदता रहा. लेकिन वो बहुत दिनों से प्यासी थी इसलिए वो झड़ने वाली थी और उसने झट से मेरे कंधे पकड़ लिए और वैसे ही झड़ गई. लेकिन मैं अभी तक स्खलित नहीं हुआ था. इसलिए मैंने उन्हें नियंत्रण में रखा.

मैंने उसे फिर से घोड़ी बनने को कहा. वो घोड़ी बन गयी. मैंने अपना लंड भाभी के चूतड़ों पर फिराया और फिर उनकी चूत में पेल दिया. मुझे बहुत गुदगुदी हो रही थी, मजा आ रहा था.

मैं भाभी की नंगी कमर को सहला रहा था. लेकिन वो पहले ही स्खलित हो चुकी थी इसलिए उसे थोड़ा दर्द हो रहा था। लेकिन वो हंसते हुए मेरा साथ दे रही थी.

मैं उसकी कमर और पेट को पकड़कर अपनी ओर धकेल रहा था. मुझे भी मजा आने वाला था, मैंने अपना लंड बाहर निकाला और सारा वीर्य उसके नितंबों पर छोड़ दिया।

फिर हम लेट गये क्योंकि हम दोनों थोड़ा थक गये थे तो थोड़ा आराम करने लगे. लेकिन कुछ देर बाद भाभी फिर से सेक्स की भूखी हो गईं और मेरा लंड चूसने लगीं.

मैं भी धीरे धीरे गर्म होने लगा और मेरे लंड ने उसके मुँह में अपना आकार ले लिया. उसे भी गटागट चूसे जा रहा था और पूरा लंड थूक से सना हुआ था.

लेकिन मुझे मजा आ रहा था, उसके मुँह की गर्मी मुझे पागल कर रही थी. फिर उसने मुझसे कहा- मुझे तुम्हारा पानी पीना है. प्लीज़ बाबू, मुझे अपना पानी पिला दो।

मैं बस उसके मुँह में धक्के मार रहा था और उसके मुँह से थूक निकल कर मेरी जाँघों पर और मेरे आंडों पर बह रहा था। लेकिन फिर भी उसके मुँह में धक्के लग रहे थे. कभी वो मेरे अंडे चूसती तो कभी मेरे लिंग को चूमती!

मैं पागल हो रहा था. फिर मैं ऐसे ही धीरे धीरे मजा लेता जा रहा था. मैंने उसे बिस्तर से नीचे बैठा दिया और खुद खड़ा हो गया और अपने लिंग को हाथ में लेकर आगे-पीछे करने लगा।

मैंने उससे अपना मुंह खोलने को कहा. उसने अपना मुँह खोला. फिर मैंने सारा पानी उसके मुँह में गिरा दिया. कुछ माल भाभी के होंठों पर गिरा, कुछ उनके चेहरे पर और उसने सारा वीर्य इधर उधर साफ़ किया और पी गयी.

फिर हम कुछ देर आराम करने के लिए बैठ गये. दो-तीन घंटे बाद भाभी मुझसे फिर बोलीं- चलो फिर से करते हैं.

फिर मैंने उससे मेरी सवारी करने को कहा. तो वो मेरे ऊपर आकर बैठ गयी. उसका स्तन ठीक मेरे मुँह के सामने था. मैंने उनको दबाया और चूसने लगा.

मैं उनकी नंगी कमर को पकड़कर नीचे से उनके स्तनों को मुँह में लेकर धक्के लगा रहा था, जबकि भाभी ऊपर से खूब मजा ले रही थीं.

फिर हम 69 की पोजीशन में आ गये, मैं उसकी चूत चाट रहा था और वो मेरा लंड चाट रही थी! हम दोनों बरसों से प्यासे एक दूसरे को खा जाना चाहते थे. कमरे में सिर्फ हमारी मादक कराहें गूँज रही थीं।

भाभी की चूत से सुगंधित लावा निकल कर उनकी जांघों की तरफ बह रहा था. हम कम से कम 15-20 मिनट तक इसी पोजीशन में रहे.

फिर मैंने भाभी को उल्टा लिटा दिया. अब मैं उसके गुदगुदे नितंबों का मजा लेना चाहता था. मैंने उसे सीधा लिटाया और अपना लंड उसके नितम्बों पर रखा और अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया।

मेरी जांघें उसके नितंबों से टकरा रही थीं, बहुत मज़ा आ रहा था। मैं तो बस धक्के पे धक्के मार रहा था. कुछ देर तक ऐसे ही चोदने के बाद मैंने उसे सीधा लेटा दिया.

उनका पूरा पेट भरने के बाद मैंने अपना लंड भाभी की चूत में डाल दिया और जी भर कर उनको चोदने लगा. इस बार मैं उसके साथ मिलकर सहना चाहता था। भाभी भी खुलकर मेरा साथ दे रही थीं. उनके बाल खुले हुए थे.

मैंने उसके बाल वापस सीधे कर दिये. मुझे ऐसा लग रहा था मानो मैं आज किसी परी को चोद रहा हूँ। गोरा बदन, काले बाल, माथे पर सिन्दूर लगा हुआ था। वाह… उसे चोदने में बहुत मज़ा आया!

मैंने उसे जी भर कर चोदा, उसकी हवस पूरी की। वह और मैं फिर से एक साथ संभोग सुख प्राप्त किया। उसने एक बार फिर मेरी योनि को अपनी टांगों से भर लिया और मेरा नाम पुकारते हुए स्खलित हो गई।

फिर मैंने भाभी को सुबह तक ऐसे ही कई बार चोदा. उसने मेरे साथ खुल कर मजा लिया. बीच में एक बार उसने मुझे सिर्फ मुख सुख दिया. मुझे भाभी बहुत अच्छी लगीं.

मैं एक कॉलबॉय हूं. मैं आज तक ऐसे किसी ग्राहक से नहीं मिला था. सभी भाभियाँ और आंटियाँ मुझसे सेवा लेती थीं लेकिन किसी ने मेरे लिए कुछ नहीं किया।

लेकिन ये भाभी अलग थी इसलिए मैंने उसका अनुभव आप सभी के साथ शेयर किया. मुझे आज भी उस भाभी की बहुत याद आती है. जब वो मुझे बुलाती हैं तो मैं महीने में दो-तीन बार उनके पास जाता रहता हूं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds