May 21, 2024
dost ki badi bahan ki chudai

दोस्त की बड़ी बहन की चुदाई की कहानी पढ़ने वाले सभी लोगों को मेरा नमस्कार। मेरा नाम है रुपेश यादव और मैं आपको अपनी चुदाई की एक कहानी बताना चाहता हूँ। मैं नोएडा का रहने वाला हूँ और आपको तो पता है

नोएडा की लड़कियाँ कैसी हैं? मेरा भी एक ऐसी ही लड़की से अफेयर था जो मेरे दोस्त की बड़ी बहन थी। ये कहानी तब की है जब मैं पहली बार चुदी थी। अब मैं आपको अपनी कहानी बताता हूं।

जब मैं छोटा था तो अपने घर के पास ही अपने दोस्त के घर अक्सर जाता था। मैं अक्सर उनके यहां खेलने जाता था और पूरा दिन वहीं खेलता था।

उसकी एक बड़ी बहन थी जो देखने में अद्भुत लगती थी लेकिन मैं उस समय नादान था।

वो साली कभी मेरा लंड पकड़ती तो कभी मेरी पैंट उतार देती। एक बार मैं अपने दोस्त के घर पर सोया था और जैसे ही उठा तो देखा कि मेरी पैंट थोड़ी नीचे थी और मेरी बहन मेरे लंड को छू रही थी। जैसे ही मैं उठने को हुआ तो दीदी ने अपनी पैंट ऊपर कर दी और वहां से चली गईं।

दो-तीन साल बाद बहन की शादी हो गयी और वह अपने ससुराल चली गयी। तब मेरी उम्र ज्यादा नहीं थी और कुछ साल बाद मुझे पता चला कि मेरी बहन का तलाक हो गया है। अब दीदी अपने घर यानि मेरे दोस्त के घर पर ही रहती थी। अब मैं कभी-कभी अपने दोस्त के यहाँ चला जाता था और मेरी बहन मुझे कम ही दिखती थी।

मैं ज्यादातर कंप्यूटर गेम खरीदने के लिए अपने दोस्त के यहाँ जाता था। कुछ दिनों के बाद कंप्यूटर मेरी बहन के कमरे में रख दिया गया और अब मैं अपने दोस्त के साथ अपनी बहन के कमरे में बैठता था। अब जब मैं कॉलेज में था और जिम जाने लगा था तो मैं अच्छा दिखने लगा था। मैंने कई बार अपनी बहन को मेरी तरफ वासना भरी नजरों से देखते हुए देखा है।

मैं जब भी किसी दोस्त के यहां जाता था तो सबसे पहले उसे फोन करता था लेकिन मुझे कुछ जरूरी काम था इसलिए मैंने अपने दोस्त को फोन किया और कहा कि मुझे तुम्हारे कंप्यूटर से कुछ चाहिए तो मैं तुम्हारे घर जाकर ले लूंगा।

उसने कहा हाँ ठीक है जाओ और मैं उसके घर चला गया। जिस कमरे में कंप्यूटर रखा था वो मेरी बहन का कमरा था और वो कमरा सबसे आखिर में था। इसलिए मैं अंदर गया और जैसे ही मैं उस कमरे के पास पहुंचा तो मैंने किसी के रोने की आवाज़ सुनी। लेकिन जब मैंने आवाजों को अनसुना कर दिया और दरवाजा खटखटाया तो दीदी ने दरवाजा खोल दिया।

तो मैंने दीदी से कहा कि मुझे कंप्यूटर में कुछ काम था तो दीदी बोली कि हाँ चिंटू (मेरा घर का नाम) आ जाओ। मैं कंप्यूटर चालू करने गया तो दीदी ने कहा कि इसमें कुछ दिक्कत है, तुम देख लो। तो मैंने पूछा कि दीदी को कैसी परेशानी है तो वो मेरे पास आकर बैठ गयी और मुझे बताने लगी।

दीदी मुझसे कहते हुए मुझे छू रही थी और अब मैं भी हरामी हो गया था तो मुझे भी मजा आ रहा था। ऐसे ही बात करते करते मेरा हाथ दीदी के मम्मों पर लग गया तो मैंने कहा- दीदी, सॉरी। बहन ने कहा कोई बात नहीं।

फिर मैंने कहा कि दीदी मेरा काम हो गया है, में जा रहा हूँ। तो मेरी बहन ने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अपने पास बिठाया और बोली- ठीक है रुको, क्या तुम अपने दोस्त से ही सारी बात करोगे, उसकी बहन से भी बात करो।

तो मैं वहीं बैठ गया और हम बातें करने लगे। फिर जब दीदी कुछ उठाने के लिए नीचे झुकी तो मुझे दीदी के स्तन दिख गये। जब मैं अपनी बहन के मम्मों को देख रहा था तो मेरी बहन ने झट से अपना सिर उठाकर मेरी तरफ देखा तो मैं इधर उधर देखने लगा।

अब मुझे डर लगने लगा तो मैं फिर वहां से चला गया। दीदी के स्तन काफ़ी बड़े थे इसलिए मैं बार-बार उन्हें चोदने के बारे में सोच रहा था और उनके बारे में सोच कर ही हस्तमैथुन कर लेता था।

काफी समय तक मैं दोबारा अपने दोस्त के यहां नहीं गया। तो कुछ दिनों के बाद मेरी बहन का फोन आया और उसने मुझे अपने घर बुलाया और कहा कि कंप्यूटर में कुछ दिक्कत है इसलिए तुम आकर देख लो। हालाँकि मेरा दोस्त बाहर गया हुआ था तो मुझे उसके घर जाना ठीक नहीं लग रहा था लेकिन मेरी बहन ने मुझे बुलाया था तो मैं चला गया।

मैं सोच रहा था कि क्या दीदी मुझे मारेंगी? मैं डरता हुआ उनके घर पहुंचा और अपनी बहन के कमरे में जाकर कंप्यूटर देखने लगा। दीदी मेरे पीछे बैठी थी तो दीदी ने मुझसे पूछा क्यों तुम्हारा हीरो कोई है? तो मैंने कहा नहीं दीदी। तो दीदी हंसने लगीं और दबी आवाज़ में बोलीं कि उन्होंने फिर कभी सेक्स नहीं किया होगा।

जब मैं शांत हुआ तो दीदी उठीं और बोलीं- उस दिन जब मैं झुकी थी तो तुम क्या देख रहे थे? मैं अचानक डर गया और कुछ नहीं बोला। तो दीदी फिर से मेरे सामने झुक गयी और बोली कि क्या देख रहे हो, फिर से देखो।

मैं डर रहा था तो दीदी ने मेरा हाथ पकड़ कर अपने मम्मों पर रख दिया और बोलीं- तुम यही देख रहे थे। मुझे समझ नहीं आ रहा था कि क्या हो रहा है? तो दीदी ने अपनी कुर्ती उतार दी और ब्रा भी नीचे खींच दी और बोलीं- अब ध्यान से देखो। तो मैं अपनी बहन के स्तनों को देखने लगा।

जब मैं अपनी बहन के स्तनों को घूर रहा था तो दीदी ने मेरा हाथ उठाकर अपने स्तनों पर रख दिया और बोलीं- क्या सिर्फ देखता ही रह जाएगा और कुछ नहीं करेगा? तो मैं समझ गया कि दीदी आज मुझसे चुदवाने के मूड में है।

मैं अपनी बहन के मम्मे दबाने लगा। जैसे ही मैंने उसके स्तनों को दबाना शुरू किया तो वह खुश हो गई। मेरी बहन के चेहरे पर हल्की सी मुस्कान आ गई और उसने मुझे चूम लिया। हमने 5 मिनट तक किस किया।

दीदी कामातुर होकर मुझे चूम रही थी। मैं अभी भी अपनी बहन के स्तन दबा रहा था और उसके स्तन बड़े थे और उनमें से दूध भी निकल रहा था और मैं उस दूध को पी रहा था।

फिर उसने मेरी पैंट खोली और मेरा लंड चूसने लगी। जैसे ही दीदी ने मेरे लिंग को अपने मुँह में लिया, मुझे अपने लिंग पर एक ठंडी अनुभूति महसूस हुई, मैं आअहह आअहह आआअहह ऊऊम्म्म्म ऊऊम्म्म्म करने लगा। फिर दीदी ने मेरा लंड चूसा और मैंने अपना सारा वीर्य उनके मुँह में ही निकाल दिया और दीदी सारा वीर्य पी गयी। फिर मैंने अपनी बहन की सलवार उतार दी और देखा कि उसने पेंटी भी नहीं पहनी थी। तो मैंने कहा कि आज तो में चुदाई करवाने के लिए पूरी तरह से तैयार हूँ।

फिर दीदी बिस्तर पर लेट गईं और मैं बैठ कर दीदी की चूत देखने लगा। यह पहली बार था जब मैंने असली चूत देखी थी और मेरी बहन की चूत में एक भी बाल नहीं था और वह बहुत चिकनी थी जैसे कि उसने आज ही उसे शेव किया हो।

मैंने धीरे से अपनी जीभ दीदी की चूत में डाल दी और धीरे-धीरे चाटने लगा। मैं चूत चाट रहा था तभी दीदी ने मेरा सिर पकड़ लिया और अपनी चूत में दबाने लगी और जोर जोर से आआह्ह्ह आआह्ह्ह आअह्ह्ह ऊऊम्म्म्म ऊऊम्म्म्म करने लगी। फिर मैं उठा और बहन से बोला- मैं बिना कंडोम के नहीं चोदूंगा।

तो दीदी ने गद्दे के नीचे से एक कंडोम निकाला और मुझे दिया और बोलीं कि चलो अब शुरू करते हैं। मैंने अपने लंड पर कंडोम लगाया और अपनी बहन की चूत में डाल दिया। अब मैंने दीदी को चोदना शुरू कर दिया और दीदी सिसकियाँ लेने लगी, आआह्ह्ह आआह्ह्ह आआह्ह्ह ऊऊम्म्म्म ऊऊम्म्म्म और करो।

फिर दीदी पलट गईं और मैंने उनकी एक टांग उठा कर अपना लंड उनकी चूत में डाल दिया और साइड से उन्हें चोदने लगा। अब दीदी उत्तेजित हो गई और उसने मुझे खींच कर बिस्तर पर गिरा दिया और मेरे लिंग पर बैठ गई और ऊपर-नीचे होने लगी।

अब मुझे अपने लिंग में दर्द होने लगा तो मैंने दीदी से रुकने को कहा तो दीदी हट गईं और मेरे लिंग से कंडोम हटा दिया और उसे चूसने लगीं। दीदी मेरे लंड को पकड़ कर हिला रही थी और कुछ देर बाद लंड निकल कर दीदी के मुँह पर गिर गया। फिर मैं वहीं अपनी बहन के साथ सो गया और जब उठा तो घर चला गया।

अब हम दोनों अक्सर सेक्स करते हैं और अब मैं उसके घर तभी जाता हूँ जब मेरा दोस्त घर पर नहीं होता और खूब सेक्स करता हूँ। आजकल मैं अपनी बहन की गांड भी चोदता हूँ। तो दोस्तो, आपको मेरी कहानी कैसी लगी?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds