July 9, 2024
dost ki bahan ki chut chudai

Readxxstories.com के पाठकों मेरा नमस्कार मैं आपकी अपनी प्यारी रितु जी आपके लिए एक चुकी हूं लेकर एक सेक्स कहानी दोस्त की बहन को पता कर दोस्त की बहन की चूत चुदाई.

कहानी में आगे पड़े: दोस्त की बहन की चूत चुदाई

इस कहानी का नायक मैं हूं और नायिका मेरे दोस्त की बहन मोनिका, 23 साल की जवान लड़की है. वह इतनी आकर्षक है कि आप उसे देखकर अपना लंड अच्छी तरह हिला सकते हैं. जवान कली कच्ची और कुंवारी होती है और वो भी इस उम्र में तो शायद ही कोई बच पाता है. लेकिन शायद मेरे साथ उसकी चुदाई लिखी थी इसलिए उसे कोई लड़का पसंद भी नहीं आया.

ज्यादा समय बर्बाद न करते हुए मैं सीधे कहानी पर आता हूँ। मैं आपको बता दूं कि मेरा नाम सूरज है और मेरी उम्र 21 साल है. मेरी हाइट 6 फीट 2 इंच है, शरीर मजबूत है. चूँकि मैंने और शिवम ने तीसरे साल में ही जिम ज्वाइन कर लिया था, शरीर गठीला हो गया था और सिक्स पैक भी आ गये थे। कुल मिलाकर मैं जवान और खूबसूरत दिखता हूँ और अगर कोई लड़की मेरे बदन को देख ले तो मुझसे प्यार करने लगेगी। लेकिन अभी तक मैंने किसी लड़की को इम्प्रेस नहीं किया था. मेरा मानना था कि कोई लड़की मुझे पटा ले.

शिवम ने बॉडी भी बनाई थी. वो मुझसे थोड़ा ज्यादा हैंडसम था इसलिए लड़कियाँ उसकी तरफ ज्यादा आकर्षित होती थीं। लेकिन इसमें मुझे किसी भी बात का बुरा नहीं लगा. शिवम की एक गर्लफ्रेंड थी, जिसका नाम माया था. और शिवम अपने मायाजाल में फंसा रहा. लेकिन उसने अभी तक शिवम के साथ सेक्स नहीं किया था, क्योंकि लड़की होशियार थी.

मैं और मेरा सबसे अच्छा दोस्त शिवम दोनों अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई का आनंद ले रहे थे। उस वक्त हम दोनों फाइनल ईयर में थे तो हम दोनों ने आगरा में ताज महल देखने का प्लान बनाया. तो शिवम ने कहा कि चलो माया को भी ले चलते हैं. हम दोनों को घर से कुछ पैसों की जरूरत थी, इसलिए जब हमने अपने परिवार को बताया तो मुझे अनुमति मिल गई, लेकिन मेरे दोस्त का परिवार सख्त था।

वह कानपुर के रहने वाले हैं इसलिए घर वालों को थोड़ी चिंता है कि बच्चा इतना दूर है आदि। उनके पिता ने कहा कि तुम अकेले कहीं नहीं जाओगी। तो उनका मूड ऑफ हो गया. फिर कुछ देर बाद उसके घर से फोन आया कि ठीक है, जाओ और तुम्हारी मोनिका दीदी भी तुम्हारे पास आ रही है, तो उन्हें भी ले जाना. तो वह मान गया.

अगले दिन हम दोनों शिवम की बहन को लेने नई दिल्ली रेलवे स्टेशन गए. मैंने शिवम की बहन मोनिका को कभी नहीं देखा था इसलिए मुझे नहीं पता था कि वो कैसी दिखती थी. मैं इधर-उधर देख रहा था कि लड़कियाँ कौन हैं, तभी ट्रेन की घोषणा हुई और फिर मोनिका दीदी थर्ड एसी डिब्बे से बाहर आईं।

उसने काली कुर्ती और नीली जींस पहनी हुई थी. उसकी आंखों पर काला चश्मा था और वह कहर ढा रही थी. उनकी हाइट 5 फीट 9 इंच थी और साइज की बात करूं तो 32-28-34 रही होगी. मैंने पहली बार इतना खूबसूरत बला देखा था.

शिवम उसके पास गया और फिर उसने अपनी बहन का परिचय मुझसे कराया और मैं उसे ऊपर से नीचे तक देख रहा था. कैसा सर्वनाश लग रहा था. कुछ ही देर में मैंने अपने मन में उसके फिगर के साइज की कल्पना कर ली. मैं उसकी तारीफ करना चाहता था, लेकिन शिवम मेरे सामने था, इसलिए मैं कुछ नहीं कह सका.

तभी उस की बहन बोली, ‘‘शिवम, कार में एक बैग रह गया है. माँ ने तुम्हारे लिए अचार और मिठाइयाँ बनाकर भेजी हैं।” उधर शिवम कार की ओर जाने लगा. मैंने सोचा कि मुझे उसकी तारीफ करनी चाहिए.

मैंने कहा, “और दीदी, आप कैसी हैं?”

बहन बोली, “मैं ठीक हूँ, तुम कैसे हो?”

मैंने कहा, “मैं तुम्हारे सामने ही हूं, जैसा हूं वैसा ही देखो।”

तो दीदी बोलीं- अरे क्या बात है! आप बातों को घुमा-फिरा कर बात करते हैं. तभी मुझे ख्याल आता है कि सूरज कौन है, जिसकी शिवम तारीफ करते नहीं थकता।”

तो मैंने कहा, “दीदी, तुम्हें भी मजा आने लगा. मैं कहाँ प्रशंसा के योग्य हूँ? आप प्रशंसा के पात्र हैं।”

तो दीदी बोलीं- ठीक है सर, कैसी तारीफ? और वो भी मेरा? कृपया हमें भी बताएं।”

तो मैंने अतिशयोक्ति से कहा, “दीदी, मैंने आप जैसी खूबसूरत लड़की आज तक नहीं देखी।”

तो दीदी भी बोलीं- तो तुम भी हॉट लग रही हो.

फिर मैंने कहा, “दीदी, मैं आपसे एक बात कहूँ, आप बुरा तो नहीं मानेंगी?”

बहन बोली, “बताओ।”

तो मैंने कहा, “दीदी, आप इस ड्रेस में कयामत लग रही हो. “आप बिल्कुल आश्चर्यजनक लग रहे हैं।”

तो दीदी ने कहा, “ठीक है-ठीक है, अब मेरी ज्यादा तारीफ मत करो. अन्यथा मेरी भावनाओं का उत्तर नहीं दिया जाएगा।”

मैंने द्विअर्थी भाव से कहा, “दीदी, आपके सारे भाव दिख जायेंगे, बस इंतजार कीजिये।”

तो बहन ने कहा, “तुम्हारा मतलब क्या है?”

मैंने हंस कर बात टाल दी और कहा, “अरे दीदी, आपकी बॉडी लैंग्वेज से पता चलता है कि आपको हमारी जरूरत पड़ेगी. क्योंकि आप शहर में नये हैं।” तो बहन ने कहा, “हाँ, यह सही है।” तभी शिवम सामान लेकर आ गया, तो हम तीनों टैक्सी लेकर फ्लैट पर आ गये, जो 2BHK फ्लैट था. जहां मैं और शिवम दोनों रहते थे और कभी-कभी शिवम माया को ले आता था. लेकिन उन दोनों ने अभी तक सेक्स नहीं किया है.

मैंने काजल दीदी से कहा, “दीदी, आप फ्रेश हो जाओ, फिर खाना खाते हैं।” तो दीदी फ्रेश होने चली गयी. फिर फ्रेश होने के बाद वो नहाने के लिए शिवम के बाथरूम में गई तो देखा कि उसका बाथरूम गंदा था. फिर उसने मेरा बाथरूम इस्तेमाल किया और जब नहाकर बाहर आई तो उसने सफेद रंग का टॉप और नीचे काले रंग की कैपरी पहनी हुई थी.

मैं उसे टॉप और कैपरी में देख कर हैरान हो गया क्योंकि वो बहुत गोरी थी. मैं उसके हाथों और पैरों को देखकर कल्पना करने लगा कि जब उसके हाथ और पैर इतने सफेद होंगे तो अंदर कैसा होगा। ये सोच कर मैं बहुत खुश हो गया और उसके जाते ही मैं बाथरूम में चला गया और उसके नाम से मुठ मारने लगा.

करीब 5 मिनट तक मैं नहीं झड़ा और मैं उसे अपनी कल्पना में ही चोदने लगा, यह सोच कर कि चूत गुलाबी होगी और स्तन भी सफ़ेद होंगे। मैं झड़ने ही वाला था कि तभी काजल दीदी ने मुझे आवाज़ दी, “आओ खाना खाते हैं, तुम क्या कर रहे हो?” तो मैंने कहा, “यह ख़त्म हो गया, बहन, यह ख़त्म हो गया, यह ख़त्म हो गया।” और फिर हस्तमैथुन करके बाहर आ गया.

आगे क्या हुआ, ये आपको कहानी के अगले भाग में पता चलेगा. अगर आपको कहानी पसंद आई हो तो कृपया एक टिप्पणी छोड़ें।

अगला भाग पढ़ें:- दोस्त की बड़ी बहन ने काजल को बहकाया और उसकी चूत फाड़ दी-2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds