May 14, 2024
दोस्त की बहन को चोदा

इस हिंदी सेक्स कहानी जिसका शीर्षक है "दोस्त की बहन को चोदा और बन गया उसकी चूत का प्रेमी" इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

हमारी आज की हिंदी सेक्स कहानी जिसका शीर्षक है “दोस्त की बहन को चोदा और बन गया उसकी चूत का प्रेमी” में मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे चलिए शुरू करते हैं आज की देसी सेक्स कहानी

आज मैं आयुष आपको अपनी चुदाई की सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ। बात उस समय की है जब मैं नए कॉलेज में गया था। कुछ दिनों बाद कॉलेज में मेरी एक लड़के से दोस्ती हो गई थी। उसका नाम अभय था।

हम दोनों की आपस में बहुत अच्छी बनती थी। जल्द ही हम दोनों पक्के दोस्त बन गए। वो मुझसे हर बात शेयर करते थे और मैं भी उन्हें सब कुछ बता देता था। धीरे-धीरे उसके घर भी आने जाने लगा।

शुरुआती दिनों में मेरे दिमाग में ऐसा कुछ नहीं था, लेकिन बाद में बहुत कुछ हुआ। दोस्तों मेरे दोस्त अभय की एक बहन भी थी। वो देखने में बहुत सुन्दर थी।

लेकिन मैंने उन्हें कभी गलत तरीके से नहीं देखा। क्योकि हम पक्के दोस्त थे, इस प्रकार का बात मेरे मन में कभी नहीं आई।

उसका नाम कृतिका था। उनका फिगर 34-28-36 था। क्योकि मैं उसके परिवार वालों से घुलमिल गया था, इसलिए मेरे पास उसकी बहन का फोन नंबर भी था।

लेकिन अब तक हमारे बीच ऐसा कुछ नहीं हुआ था। ऐसा कोई काम कभी नहीं होता था जिसके बारे में अलग से बात करनी पड़े।

लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। एक दिन अभय के माता-पिता और अभय को काम काम से बहार जाना पड़ा। लेकिन उस दिन उसकी बहन को कॉलेज छोड़ने वाला कोई नहीं था। पहले वो अपने पिता के साथ कॉलेज जाती थी।

अभय ने यह काम मुझे सौंप दिया। उसके जाने के बाद कृतिका के फोन से मेरे फोन पर मैसेज आया- कब तक आ रहे हो?

मैंने जवाब दिया – मैं बस 10 मिनट में पहुँच रहा हूँ।

उधर से जवाब आया- ठीक है, मैं इंतजार कर रही हूं।

मैं अपनी बाइक लेकर उनके घर चला गया। उस दिन मैंने कॉलेज की छुट्टी ले ली थी क्योंकि अभय भी अपने मम्मी पापा के साथ गया हुआ था तो मैं कॉलेज में बोर हो जाता।

सुबह जब मैं उसकी बहन को छोड़ने गया तो पहली बार उसके शरीर को लेकर मेरे शरीर में एक सनसनी महसूस हुई।

जब मैं बाइक चला रहा था तो उसके चूचे मेरी पीठ को छू रहे थे। उसने अपना हाथ मेरे कंधे पर रखा। जब भी कोई ब्रेकर होता था तो वो आकर मेरी पीठ से चिपक जाती थी। (दोस्त की बहन को चोदा)

मेरा लंड अचानक से टाइट होने लगा। लेकिन जींस के अंदर दबाता रहा।

फिर मैंने उसकी बहन को कॉलेज में छोड़ा और आ गया। मैं आया और मुठी मरी तब मुझे कुछ शांति मिली।

इसके बाद अभय ने फिर फोन किया कि उन्हें आने में देर हो जाएगी तो उसने मुझे उसकी बहन को कॉलेज से वापस लाने को कहा। अब मेरे मन में भी लालच आ गया था। न चाहते हुए भी मैं उसकी बहन को चोदने के बारे में सोचने लगा।

कॉलेज से वापस आते वक्त मैंने जानबूझकर बार-बार ब्रेक लगाए ताकि उसके मम्मे मेरी पीठ को छू सकें। वो भी पूरी तरह से मेरी पीठ से चिपकी हुई थी।

मेरा लंड पानी छोड़ने लगा था। मैं बाइक धीरे चला रहा था ताकि ज्यादा से ज्यादा समय उसके साथ बाइक पर बिता सकूं।

तभी रास्ते में स्पीड ब्रेकर पर बाइक उछल गई और उसकी बहन ने मेरी जांघ पर हाथ रख दिया। Sss… उसका हाथ मेरे लंड के बगल में इस तरह रखे जाने से मेरे अंदर वासना जागने लगी।

मेरा लंड झटके पर झटके मारने लगा। मैं उसका हाथ पकड़कर अपने लंड पर रखना चाहता था,

लेकिन मैंने अपने आप को रोक लिया क्योंकि मैं सोच रहा था कि उसके दिमाग में ऐसा कुछ होगा या नहीं।

घर पहुंचने के बाद मैंने उसे उतार दिया। वापस जाने के लिए बाइक घुमाई तो वो बोली- आयुष, कोल्ड ड्रिंक पीकर जाओ। बाहर बहुत गर्मी है।

जैसा कि मैं एक अवसर की तलाश में था, मैंने तुरंत हाँ कह दिया।

अंदर जाकर कृतिका किचन में गई और दो गिलास में कोल्ड ड्रिंक ले आई। मेरी तरफ बढ़ते हुए वो मुझे गिलास देने लगी तो मैंने कहा- पहले आप ले लीजिए।

वो बोली- मुझे आप क्यों बुला रहे हो, क्या मैं तुमसे इतनी बड़ी हूँ? ‘तुम’ कहकर ही मुझे बुलाओ।

मैंने कहा- ठीक है, पहले तुम ले लो।

वो मेरे सामने बैठकर कोल्ड ड्रिंक पीने लगी। मैं उसकी चूचो को देख रहा था। उनके टॉप में उनके क्लीवेज साफ नजर आ रही थी।

वो भी मेरी निगाहों पर नज़र रखे हुए थी और शायद जानबूझ कर नीचे झुक रही थी ताकि मैं उसके चूचो के उभार को देखकर उत्तेजित हो जाऊं।

Escort Service in Aerocity

हुआ भी कुछ ऐसा ही। मेरा लंड वहीं थरथराने लगा। जब मैंने जींस पहनी थी तो मेरे लिंग का आकार अलग तरह से चमकने लगा था।

मैंने एक पैर उठाकर दूसरे पैर पर रख कर खड़े हुए लंड को छुपाने की कोशिश की तो वो मुझे देखकर मुस्कुराने लगी।

वो तुरंत बोली- तुम्हारी भी कोई GF है क्या?

मैंने कहा- अभी नहीं।

उसने कहा- हैरानी की बात है कि इतने स्मार्ट लड़के की कोई गर्लफ्रेंड नहीं है।

मैंने कहा- किसने कहा कि मैं स्मार्ट हूँ?

वो बोली- मैं कह रही हूँ।

मैं समझ सकता था कि उसके दिमाग में क्या है। इसलिए मैंने भी कोशिश करने का मन बनाया और कहा- तुम भी कम खूबसूरत नहीं हो। तुम्हारा एक BF तो होगा ही। (दोस्त की बहन को चोदा)

उसने कहा- नहीं, अभी तक कोई ऐसा नहीं मिला जो दिल को छू सके।

मैंने कहा- तो तुम्हें कैसा BF चाहिए?

उसने कहा- तुम्हारी तरह।

बस इतना सुनना था कि मैंने गिलास मेज पर रख दिया और उसका हाथ पकड़ कर अपनी ओर खींच लिया और उसे अपनी गोद में बिठा लिया।

हॉट लड़कियां सस्ते रेट पर इन होटल्स पर बुक करें :

वो भी मेरी तरफ से पहल का इंतजार कर रही थी। गोद में आते ही हम दोनों के होंठ एक दूसरे के मुँह से कोल्ड ड्रिंक की मिठास चूसने लगे।

मेरे हाथ उसके निप्पलों को दबाने लगे और उसकी बाहें मेरी गर्दन पर आ गईं और मेरे बालों को पीछे से सहलाने लगीं। और लंड उछल कूद कर पागल हो रहा था। मैंने अभय की बहन को वहीं सोफे पर लिटा दिया और ऊपर से उसके निप्पलों को जोर-जोर से मसलने लगा।

कुछ देर किस करने और चाटने के बाद वो मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अपने कमरे में ले गई। अंदर जाते ही उसने दरवाजा बंद किया और मुझे गले से लगा लिया। मैं उसकी गांड को उसके प्लाजो के ऊपर से दबाने लगा।

हम दोनों एक दूसरे के होंठ चूस रहे थे। हम काफी देर तक खड़े रहकर एक-दूसरे से गले मिलते रहे।

उसके बाद मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसका टॉप उतार दिया।

उसकी ब्रा उतारकर उसने उसके मम्मो का पर्दाफाश कर दिया और मै उन्हें अपने मुंह में लेकर पीने लगा। वो मेरे बालों में हाथ फेरने लगी। उसके बूब्स एकदम सफेद और रसीले थे।

फिर मैंने उसका लोअर भी हटा दिया। मैंने उसकी पैंटी उतारी तो मैं उसकी चूत को देखता रह गया। ऐसा लग रहा था कि ये किसी जवान लड़की की चूत है।

बहुत गोरा और बहुत ही रोएँदार बालों वाला। मैंने उसकी टाँगों को फैलाया और अपने होंठ उसकी चूत पर रख दिए, तब मुझे पता चला कि उसकी चूत पूरी गीली हो चुकी है।

मैं उसकी चूत का रस चाटने लगा। वो जोर-जोर से सिसकने लगी और तड़पने लगी। उसने अपने पैर मेरे गले में लपेट लिए और अपनी चूत को चुसवाने लगी। मैं भी उसकी चूत का जूस पीता रहा। खूब मजा आ रहा था।

फिर मैंने अपने कपड़े भी उतार फेंके और नंगा होकर अपना लंड उसके सामने रख दिया।

मेरे लंड को देखकर उसकी आँखें फैल गईं। उसने कहा- क्या तुम्हारा इतना बड़ा है? यह मेरे छोटे से छेद से कैसे गुजरेगा?

मैंने कहा – उसके बारे में चिंता मत करो मेरे प्रिय, बस आनंद लो।

यह कहकर मैं उसके पास आ गया। (दोस्त की बहन को चोदा)

हम दोनों एक दूसरे के नंगे बदन को गले लगाने की कोशिश करने लगे। मैंने लंड को नीचे उसकी चूत पर रगड़ना शुरू कर दिया।

उसके बाद मैंने मौका देखकर लंड का टोपा उसकी चूत के छेद पर रख दिया और एक धक्का दे दिया।

Escorts in Delhi

टोपे के अंदर जाते ही वो रोने लगी। मैं उसके होठों को चूसने लगा। फिर दो मिनट बाद मैंने फिर से धक्का दिया और अपना आधा लंड दाल कर अपनी दोस्त की बहन की चुदाई शुरू कर दी।

वो कराहने लगी। मैं उसे दिलासा देता रहा कि यह खत्म हो गया है, अब और दर्द नहीं होगा।

लेकिन अब तक आधा ही लंड गया था। मैंने फिर से धक्का दिया तो मैंने पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया।

वो रो पड़ी।

मैं अपने होंठों को उसके होंठों पर रख कर उससे प्यार करने लगा।

वो बहुत दर्द में थी इसलिए चुप नहीं बैठ रही थी। लेकिन अब मेरा लंड वापस आने के मूड में नहीं था।

मैंने लंड को धक्कों के साथ अंदर-बाहर करना शुरू कर दिया। वो रोती रही और मैं उसे चोदता रहा।

फिर कुछ देर बाद वो नॉर्मल हो गई और उसे मजा आने लगा।

अब उसके मुँह से सिसकियां निकल रही थीं- उम्म्ह… आह… हाय… ओह… मम्मी… आह… और चोदो डार्लिंग… आई लव यू डार्लिंग!

जैसे-जैसे चुदाई आगे बढ़ी, उसने मुझे गले लगाना शुरू कर दिया। उसके हाथ मेरी पीठ को सहला रहे थे। फिर वो सिसकने लगी और अपने नाखूनों से मेरी कमर को कुरेदने लगी।

उसकी चूत से पानी निकलने की वजह से जब भी मेरा लंड उसकी चूत में जाता तो छटपटाहट की आवाज आती थी।

वो भी खुशी से मेरे लंड को अपनी चूत में ले रही थी और उछल कूद कर मेरा साथ दे रही थी। इस वर्जिन गर्ल को चोदने में बहुत मज़ा आ रहा था। (दोस्त की बहन को चोदा)

फिर अचानक उसने जोर से फुफकार मारी और वो झड़ने लगी। उसकी चूत से पानी निकल गया और अब मैं भी तेजी से धक्के मारने लगा क्योंकि मेरा भी पानी निकलने वाला था। अब उसकी पकड़ ढीली हो गई थी लेकिन मेरा जोर तेज हो गया था।

मैंने पूरे जोश के साथ उसकी चूत में दस-पंद्रह झटके मारे और फिर मेरा लंड वीर्य उसकी चूत में भरने लगा। मैं हांफते हुए उसके ऊपर गिर पड़ा। उसने मुझे अपनी बाहों में ले लिया। कुछ देर हम ऐसे ही रहे।

उसके बाद हम उठे और वो बाथरूम की तरफ जाने लगी। उसकी चूत में दर्द हो रहा था जिससे वो ठीक से चल भी नहीं पा रही थी। उसने बाथरूम जाने के बाद खुद को साफ किया और फिर मैंने भी खुद को साफ किया।

बाहर आकर हम दोनों ने कपड़े पहन लिए। लेकिन चादर पर खून के धब्बे थे। उसने तुरंत चादर उठाई और बाथरूम में रख दी और नई चादर बिछा दी। मैंने अभय की बहन की चूत की सील तोड़ दी थी।

फिर मैंने गोली लाकर उसे दे दी। एक गोली दर्द के लिए थी और दूसरी गर्भनिरोधक थी। जब उसने गोली ली, तो उसका दर्द कम हो गया। तब तक अभय का फोन भी आ गया।

वो एक घंटे में पहुंचने वाले थे। मैं तुरंत वहाँ से चला गया ताकि किसी को हम पर शक न हो।

कृतिका के पहले किस के बाद ऐसा लगा जैसे हम दोनों एक दूसरे के लिए प्यासे हों। जब भी मौका मिलता हम सेक्स करते थे।

तो दोस्तों अगर आपको मेरी यह चुदाई की कहानी पसंद आई हो तो मुझे मैसेज करें। 

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds