May 14, 2024
दोस्त की बीवी को चोदा

नमस्कार दोस्तों, मैं अमन आज में आपको की कैसे मेने अपनी "दोस्त की बीवी को चोदा जब दोस्त घर पर नहीं था"

नमस्कार दोस्तों, मैं अमन आज में आपको की कैसे मेने अपनी “दोस्त की बीवी को चोदा जब दोस्त घर पर नहीं था”

मेरे दोस्त की शादी को अभी एक महीना ही बीता था कि उसकी कंपनी से फोन आया कि उसे ड्यूटी ज्वाइन करनी है. और वह ड्यूटी पर चला गया. घर पर सिर्फ उसकी माँ और उसकी नवविवाहिता खूबसूरत पत्नी थी!

एक दिन अचानक मेरे दोस्त ने मुझे फोन किया और कहा- यार अमन, तुम्हारी भाभी की तबीयत खराब हो गयी है, ज़रा डॉक्टर से दवा ले आओ। तो मैंने कहा- ठीक है!

और मैं अपनी बाइक से उसके घर चला गया. मैंने दरवाज़ा खटखटाया तो मेरे दोस्त की पत्नी ने दरवाज़ा खोला और मुस्कुरा कर मेरा स्वागत किया और मुझे अन्दर आने को कहा.

भाभी के चेहरे की ख़ुशी देख कर मुझे उनमें कोई बुराई नहीं दिखी. फिर भी मैं उसे डॉक्टर के पास ले गया और दवा दिलाई.

मेरे दोस्त की बीवी दिखने में बहुत हॉट थी. भाभी का रंग गोरा, चिकनी त्वचा, मध्यम कद और साइज 28 30 32 होगा. लेकिन मैंने अपनी भाभी को कामुक वासना भरी नजर से नहीं देखा.

डॉक्टर ने मुझे अगले दिन फिर से देखने को कहा तो अगले दिन मैं भाभी के साथ फिर डॉक्टर के पास गया।

जब हम अपनी बारी का इंतजार कर रहे थे तो उसने मुझसे कहा- देवर जी, आपके दोस्त ड्यूटी पर क्यों चले गये, आपने तो मेरे घर आना ही बंद कर दिया?

मैंने कहा- नहीं भाभी, ऐसा कुछ नहीं है! जब भी तुम्हें मेरी जरूरत होगी मैं वहां मौजूद रहूंगा. और फिर हम दोनों हंसी मजाक करने लगे.

इसके बाद डॉक्टर से दवा ली. लेकिन उस दिन उन्होंने डॉक्टर से नींद की गोलियां भी ले लीं. और उसके बाद हम वापस आ गये.

एक-दो दिन बीत गए. फिर अचानक एक दिन मेरे दोस्त ने मुझे फोन किया और कहा- अब घर जाओ, तुम्हारी भाभी को बुखार हो गया है।

रात के 10 बजे थे, सर्दी का मौसम था। मेरा जाने का मन नहीं था. फिर भी मुझे अपने दोस्त से दोस्ती निभानी थी, मैंने अपने कपड़े पहने और चला गया।

मैं अपने दोस्त के घर गया और दरवाजे की घंटी बजाई तो भाभी ने दरवाजा खोला और कहा- अन्दर आ जाओ! मैंने कहा- तुम्हें बुखार था क्या? लेकिन आप बिल्कुल सही हैं. और आंटी कहाँ है?

उसने कहा- वो सो रही है. तुम अंदर आओ. तो मैं उसके कमरे में गया. मैंने कहा- अगर तुम दवा लेने जाना चाहती हो तो चलो. नहीं तो मैं चला जाऊंगा. काफी रात हो चुकी है.

उसने कहा- पहले तुम बैठो तो बेहतर रहेगा! मैं बैठ गया और वो भी मेरे साथ बैठ गई और बोली- अमन, तुम्हारे दोस्त हमारी शादी के तुरंत बाद चले गए।

तो मैंने कहा- नौकरी तो करनी ही होगी. बास की काल आई तो जाना तो पड़ेगा ही। उसने कहा- मेरा क्या? भाभी वो आ जायेगा. आप क्यों परेशान हो रही हो?

इसके बाद उन्होंने जो कहा उसे सुनकर मैं हैरान रह गया. वो बोली- मेरी शादी के बाद तुम्हारे दोस्त सिर्फ दो-तीन बार ही मेरे साथ सोये हैं. पहली बार सुहागरात को और फिर एक आध बार उसके बाद!

तो मैंने कहा- इसमें मैं आपकी कैसे मदद कर सकता हूँ? वो बोली- अमन, मैं बहुत दिनों से चुदवाना चाहती हूँ. इसलिए मैं तुम्हें बार-बार दवा के बहाने बुलाती थी.

लेकिन तुमने मुझे कभी नहीं समझा! लेकिन आज तुम्हें मुझे चोदना ही होगा. और ये कहते हुए भाभी ने मेरा लंड पकड़ लिया और दबाने लगीं.

तो मैंने कहा- देखो, आंटी आएंगी तो क्या कहेंगी? उसने कहा- मैंने मां को नींद की गोली दे दी है. वह सुबह तक नहीं उठेगी.

ये कहते हुए उसने मेरा लंड बाहर निकाल लिया और उसे आगे-पीछे करने लगी. अब मैं भी अपने आप पर काबू नहीं रख सका और उसे अपनी बांहों में ले लिया. हम एक दूसरे को चूमने लगे.

किस करते-करते मैंने उनकी साड़ी खोल दी और उसके बाद उनका ब्लाउज खोलकर उनके मम्मों को दबाने लगा.

वह भी अपने मुँह से सेक्सी आवाजें निकालने लगी जिससे मैं और भी उत्तेजित हो गया। फिर मैंने भाभी का पेटीकोट भी उतार दिया, अब वो मेरे सामने सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी.

वह कमाल की लग रही थी. और फिर मैंने भाभी की ब्रा खोल दी और उसके मम्मों को चूसने लगा. उसके मुँह से निकलने वाली आवाज मुझे पागल कर रही थी.

अब मैंने भाभी की पैंटी भी उतार दी. उफ़्फ़… क्या मस्त चिकनी चूत थी! उसकी चूत गीली हो गयी थी. मैं धीरे-धीरे भाभी की चूत को सहलाने लगा। फिर मैंने उसकी चूत को चूम लिया.

फिर भाभी बोली- अब मुझे चोदो! मैं बहुत दिनों से चुदाई करवाना चाह रही थी. तो मैंने कहा- अभी तो चोदना है.. लेकिन पहले तुम मेरा लंड चूसो। उसके बाद मैं तुम्हें चोदूंगा.

इतना कहते ही मेरे दोस्त की बीवी ने मेरी पैंट और अंडरवियर उतार दी और मेरा लंड चूसने लगी. क्या स्टाइल से वो मेरा लिंग चूस रही थी… ऐसा लग रहा था मानो कोई पोर्न स्टार मेरा लिंग चूस रही हो।

करीब बीस मिनट तक लंड चूसने के बाद मैं झड़ने वाला था. मैंने उससे कहा- मैं झड़ने वाला हूँ.

लेकिन उसने मेरी बात पर ध्यान नहीं दिया और कुछ देर बाद मेरे लंड ने अपना सारा वीर्य उसके मुँह में छोड़ दिया और वो मेरा सारा वीर्य निगल गयी.

फिर कुछ देर तक मैं भाभी के नंगे बदन से खेलता रहा और भाभी की चूत को सहलाता रहा। फिर वो बोली- अब मुझे चोदो… मुझे तुम्हारा लंड चाहिए!

और वो मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत पर लगाने लगी. लेकिन मेरा लंड अभी चोदने के लिए तैयार नहीं था. मैंने उससे कहा- पहले इसे चुदाई के लिए तैयार करो. फिर हम चुदाई करेंगे.

फिर वो मेरा लंड चूसने लगी. और मैं सोच रहा था कि इसकी चूत चोदूं या गांड … क्योंकि मुझे उसकी मटकती गांड बहुत पसंद थी. लेकिन वो अपनी चूत चुदाई करवाना चाहती थी.

अब मेरा लंड भी लोहे की तरह खड़ा हो गया. और फिर उसने मुझसे कहा- अब तुम्हारा लंड तैयार है, अब मुझे चोदो! तो मैंने कहा- मैं तुम्हारी गांड चोदना चाहता हूँ.

भाभी बोलीं- पहले मेरी चूत की आग बुझाओ. उसके बाद तुम मेरी गांड भी चोदना. अब सब कुछ तुम्हारा है. और वो लेट गयी और मेरा लंड अपनी चूत में डालने लगी.

फिर मैंने एक जोरदार धक्का मारा और मेरा पूरा लंड एक ही बार में भाभी की टाइट चूत में घुस गया. जिससे भाभी चिल्ला उठीं और बोलीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… आराम से… तुम्हारा लंड बहुत बड़ा है और मोटा भी!

लेकिन मैंने बिना रुके चोदना शुरू कर दिया. पहले तो उसे थोड़ा दर्द हुआ लेकिन कुछ देर बाद वो भी नीचे से गांड उठा-उठा कर मेरा साथ देने लगी.

भाभी बोलीं- पहली बार इतना लंबा और मोटा लंड मुझे चोद रहा है. मुझे चोदो… फाड़ दो मेरी चूत को… इसका भोसड़ा बना दो। तेजी से चोदो!

और मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी. पूरे कमरे में फच फच की आवाज गूंज रही थी. करीब बीस मिनट की चुदाई के बाद मैं झड़ने वाला था. उसे भी ओर्गास्म हो गया था.

मैंने पूछा- पानी कहां निकालूं? तो वो बोली- मेरी चूत में ही झड़ जाओ और इसकी प्यास बुझा दो। मैं भी अपनी स्पीड बढ़ाते हुए आशिका भाभी की चूत में ही स्खलित हो गया और उनके ऊपर लेट गया.

हम पूरी तरह थक चुके थे. कुछ देर बाद भाभी ने पूछा- और क्या करना है? तो मैंने कहा- अब मुझे तुम्हारी गांड को चोदना है। उन्होंने कहा- जो तुम्हारी इच्छा.. लेकिन आराम करो।

क्योंकि मैंने कभी अपनी गांड में लंड नहीं डलवाया था. मैंने कहा- कोई बात नहीं, मैं आज ही पोस्ट कर दूंगा. पहले मेरे लंड को तैयार करो. और मैंने अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया. मेरे दोस्त की बीवी बड़े मजे से मेरा लंड चूसने लगी.

कुछ देर बाद मेरा लंड फिर से तैयार हो गया और अब मैंने अपने दोस्त की पत्नी को डॉगी स्टाइल में लिया और उसकी गांड पर अपना लंड सेट किया. फिर एक हल्का सा धक्का दिया.

लेकिन भाभी की गांड टाइट होने के कारण लंड फिसल गया. मैंने फिर से अपना लंड भाभी की गांड पर सेट किया और हल्का सा दबाव दिया. लंड फिर फिसल गया.

इस बार मैंने थोड़ी सी क्रीम अपने लंड पर लगायी और उसकी गांड पर भी! और फिर से अपना लंड भाभी की गांड पर सेट किया और जोर से धक्का मारा.

इस बार मेरा आधा लंड एक ही बार में भाभी की गांड में घुस गया. लंड अन्दर जाते ही भाभी की चीख निकल गयी और वो लेट गयी जिससे मेरा लंड बाहर आ गया. वो बोली- प्लीज मेरी गांड मत चोदो … मुझे बहुत दर्द हो रहा है.

मैंने कहा- बस एक बार … अगर मजा नहीं आएगा तो नहीं करूंगा. वह मान गई और मैंने उसे लिटा दिया ताकि वह आगे-पीछे न हो सके।

और मैंने उनकी टांगें फैलाईं और उनके ऊपर लेट गया, अपना लंड भाभी की गांड पर सेट किया और जोर से धक्का मारा. इस बार मेरा पूरा लंड एक ही बार में भाभी की गांड में घुस गया जिससे वो चीखने चिल्लाने लगीं.

वो कह रही थी- मुझे छोड़ दो.. बहुत दर्द हो रहा है। उसकी छटपटाहट से साफ पता चल रहा था कि उसे कितना दर्द हो रहा होगा.

लेकिन मैं हटा नहीं.. मैं थोड़ी देर रुका और फिर से भाभी की गांड में धक्के लगाने लगा। वो चिल्ला रही थी लेकिन मैं नहीं रुका.

कुछ ही देर में वो भी मेरा साथ देने लगी और अपनी गांड उठा-उठा कर मेरा पूरा लंड अपनी गांड में लेने लगी.

भाभी कह रही थी- और जोर से चोदो मुझे.. मुझे बहुत अच्छा लग रहा है। काश तुम मुझसे पहले मिले होते! आह चोदो और ज़ोर से चोदो! फाड़ दो मेरी गांड! और मैं अपनी स्पीड बढ़ाता गया.

अब मैं झड़ने वाला था. मैंने उससे पूछा- मैं अपना पानी कहाँ निकालूँ? तो उसने कहा- डाल दो अपनी भाभी की चूत में! फिर मैंने अपना लंड भाभी की चूत में डाल दिया और 8-10 धक्कों के बाद मैं झड़ गया.

उसके बाद हम बाथरूम गए और उसने मेरे लंड को अच्छे से साफ किया. भाभी ने भी अपनी चूत और गांड साफ़ की. बाथरूम से आकर हम दोनों नंगे ही लेट गये.

फिर उस रात हमने दो बार और जमकर चुदाई की और उसके बाद जब भी हमें मौका मिला. हमने चुदाई की। कभी मैं भाभी की गांड चोदता हूँ तो कभी भाभी की चूत!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds