June 18, 2024
गर्लफ्रेंड की धकापेल चुदाई

आज की हिंदी सेक्स कहानी है "दोस्त के फ्लैट में अपनी सेक्सी गर्लफ्रेंड की धकापेल चुदाई करी" इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

आज की हिंदी सेक्स कहानी है “दोस्त के फ्लैट में अपनी सेक्सी गर्लफ्रेंड की धकापेल चुदाई करी” इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

नमस्कार दोस्तों, मैं सुनील हूं। मैं फिलहाल बैंगलोर में रह रहा हूं। मैं 21 साल का सुन्दर लड़का हूँ। लेकिन अभी मैं नौकरी की तलाश में हूं। मेरी हाइट 5 फीट 11 इंच है।

दोस्तों आज मैं आपके सामने अपनी कहानी पेश करने जा रहा हूँ। यह मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की सच्ची घटना है।

मुझे उम्मीद है कि आप सभी को मेरी कहानी जरूर पसंद आएगी। तो अब मैं आपका ज्यादा समय न लेते हुए सीधे अपनी कहानी पर आता हूँ।

यह घटना मेरे कॉलेज के दिनों की है। मेरे घर में चार सदस्य हैं। माँ (शहनाज़) जो एक गृहिणी हैं, पिताजी (शिवम) जो एक किसान हैं और मेरी बड़ी बहन (पूनम) जो सेना में काम करता है।

स्कूल तक मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं थी लेकिन जब मैं कॉलेज पहुँचा तो मेरी दोस्ती एक लड़की से हुई जिसका नाम कृतिका था और वह दिखने में बहुत अच्छी थी। उसका रंग गोरा था और कद भी काफी अच्छा था।

इसके साथ ही भगवान ने उन्हें इतना अच्छा फिगर दिया है कि कोई भी उनके नाम पर हस्तमैथुन किए बिना नहीं रह सकता। मैं भी उनमें से एक था।

फिर जब हमारी दोस्ती को काफी समय हो गया तो एक दिन मैंने सही मौका देखा और उसे प्रपोज कर दिया। उसने भी हां में जवाब दिया।

उस दिन के बाद से हमारा मिलना-जुलना और घूमना-फिरना अधिक हो गया। हम दोनों पूरी रात बातें करते रहे। कुछ दिनों बाद हम फोन सेक्स भी करने लगे।

हम दोनों एक दूसरे के बहुत करीब आने लगे। मैं कृतिका से प्यार करने लगा था और शायद वह भी मेरे लिए ऐसे ही सोच रखती थी।

एक दिन की बात है जब मेरा दोस्त सुनील, जो मेरा बहुत अच्छा दोस्त है, बैंगलोर में रहता था और सामान्य प्रतियोगिता की तैयारी करता था। उसने मुझसे कहा कि यार मुझे कुछ दिनों के लिए अपने घर जाना है।

उसी वक्त मेरे दिमाग की बत्ती जली और मैंने उससे कहा- आराम से जाओ, बस मुझे अपने कमरे की चाबी दे दो।

उसने भी तुरंत हां कह दिया।

उसी दिन मैंने अपनी गर्लफ्रेंड को फोन किया और उससे कहा कि हमारी सेक्स की चाहत खत्म होने वाली है। मेरे जवाब में उसने पूछा- वो कैसे?

तो मैंने उसे सारी बात बता दी और फिर जब मेरा दोस्त चला गया और उसका घर खाली हो गया तो मैंने कृतिका को मुझसे मिलने के लिए कहा।

मैंने कृतिका को फ़ोन किया और पूछा- कहाँ हो?

तो उसने जवाब दिया- मैं बस घर से निकल रही हूं।

फिर मैंने पूछा- कहां मिलोगी?

तो उसने कहा- आप बताओ। (गर्लफ्रेंड की धकापेल चुदाई)

फिर मैंने कहा- एक काम करते हैं, तुम पार्क के गेट के पास रुको, मैं तुम्हें वहीं से ले लूँगा।

मैं अपने दोस्त को लेने बताई गई जगह पर पहुंच गया और करीब 20 मिनट बाद हम दोनों मेरे दोस्त के घर पहुंच गए।

जब हम वहां गए तो मैंने दरवाजे का लॉक खोला और फिर उसे अंदर ले जाकर दरवाजा बंद कर लिया। फिर मैंने लाइट चालू कर दी और पंखा भी चला दिया।

उसके बाद हम दोनों एक दूसरे को देखते रहे और कुछ देर बाद मैंने उसे अपनी बांहों में ले लिया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये और उसके होंठों को चूसने लगा। उसे भी अच्छा लग रहा था और वह भी मेरा साथ देते हुए मेरे होंठों को चूसने लगी।

मैं उसके होंठों को चूसते हुए उसके मम्मों को भी दबा रहा था और वो मेरे होंठों को चूसते हुए मेरे शरीर को सहला रही थी। हम दोनों करीब 15 मिनट तक एक दूसरे को ऐसे ही चूमते चाटते रहे।

उसके बाद मैंने उसका टॉप उतार दिया और ब्रा के ऊपर से उसके मम्मों को दबाने लगा और उसके मुँह से आह… उन्ह… उम्ह की कामुक आवाजें निकलने लगीं।

उसके बाद मैंने उसकी ब्रा भी उतार दी और उसे ऊपर से पूरी नंगी कर दिया। क्या अद्भुत स्तन थे उसके, बिल्कुल गोल और कसे हुए।

अब मैं उसके दोनों स्तनों को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा और उसे मजा आने लगा।

मैं उसके दोनों स्तनों को बारी-बारी से चूस रहा था और जोर-जोर से दबा रहा था। वो कामुक सिसकारियां लेते हुए मेरे बालों को सहलाने लगी। मैंने उसके मम्मों को खूब दबाया और 15 मिनट तक खूब चूसा।

गर्लफ्रेंड की धकापेल चुदाई

उसने मेरी शर्ट के बटन खोले और मेरी छाती पर हाथ फेरते हुए नीचे की ओर चलने लगी। उसके हाथ मेरी जींस पर घूम रहे थे।

मेरा लंड पहले से ही खड़ा था। वह मेरे तने हुए लंड के किनारों पर अपना हाथ फिरा रही थी लेकिन लंड पर अपना हाथ नहीं रख रही थी। मेरे लंड का उछलने से बुरा हाल हो गया था।

जब वो ऐसा करती रही तो मैंने उसका हाथ अपने हाथ से पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया। उसका हाथ रखते ही मेरे लंड ने ज़ोरदार उछाल मारा।

उसके बाद मैंने उसके हाथ को अपने लंड पर दबा लिया और उसके हाथ से अपने लंड को सहलाने लगा।

कुछ पल बाद वो खुद ही मेरे लंड को पकड़ने की कोशिश करने लगी। मेरा लंड मेरी जींस पैंट फाड़ने को बेताब हो रहा था। कृतिका ने मेरी जीन्स का बटन खोला और फिर ज़िप खोलने लगी।

मैंने उसकी मदद की और अपनी पैंट को अपनी जांघों से नीचे खींच लिया और अपने पैरों से दूर कर दिया। मेरा लंड मेरे अंडरवियर में तंबू बना रहा था और बार-बार झटके दे रहा था। जब कृतिका ने मेरे लंड पर हाथ रखा तो मेरी आह निकल गयी।

मैंने उससे मेरा लंड ठीक से पकड़ने को कहा तो उसने उसे पकड़ लिया और फिर मेरे अंडरवियर के ऊपर से उसे दबाने लगी।

उसके बाद मैंने भी अपना हाथ उसके हाथ पर दबा दिया। उसके कोमल हाथों का स्पर्श मेरे लंड को एक अजीब आनंद से भर रहा था।

फिर मैंने अपना अंडरवियर उतार दिया और मेरा खड़ा लंड बाहर आ गया। मैंने कृतिका से कहा कि एक बार मेरा नंगा लंड पकड़ कर सहलाओ।

पहले तो वो मना करने लगी लेकिन बाद में उसने लंड पकड़ लिया।

मैंने उसका हाथ अपने लंड के सिरे पर रखवाकर उसे हस्तमैथुन करवाया। मुझे ऐसा लगा कि मैं उसके हाथ में ही झड़ जाऊँगा, लेकिन अभी उसकी चूत की चुदाई नहीं हुई थी इसलिए मैंने उसका हाथ हटा दिया।

हाथ हटाकर मैंने उसकी गर्दन पकड़ कर अपने लंड के पास रख दी। वह पीछे हटने लगी लेकिन मैंने नीचे की ओर दबाव डालकर उसे अपना लंड चूसने पर मजबूर कर दिया।

उसने अनिच्छा से मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और फिर मेरा लंड चूसने लगी। पहले तो शायद उसे मजा नहीं आ रहा था लेकिन फिर वो मजे से मेरा लंड चूसने लगी। वो तेजी से अपना मुँह मेरे लंड पर चला रही थी।

जब उसने मेरे लंड को अच्छे से चाट-चाट कर गीला कर दिया तो वो मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी और मैं उसके सिर के बालों को सहलाने लगा। (गर्लफ्रेंड की धकापेल चुदाई)

वो मेरे लंड को ज़ोर-ज़ोर से आगे-पीछे करते हुए चूस रही थी और मैं उसके मुँह को चोद रहा था।

फिर मैंने उसकी जींस भी उतार दी और उसे वहीं लेटा दिया और उसकी पैंटी भी उतार कर उसे नंगी कर दिया।

उसकी चूत बिल्कुल चिकनी थी। उसकी चूत किसी बड़े पंजे की तरह फूली हुई थी और अन्दर से लाल दिख रही थी।

हॉट लड़कियां सस्ते रेट में इन जगह पर बुक करें :

उसके बाद मैंने उसकी टांगों को फैलाया और उसकी चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा और वो कराहने लगी।

उसकी चूत चाटते समय मैं उसके भगनासा को अपने होठों से दबा रहा था और चूस रहा था और वो मेरा मुँह अपनी चूत पर दबा रही थी।

कुछ देर उसकी चूत चाटने के बाद मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा तो वो मचलने लगी और बोली- प्लीज़ जल्दी से अन्दर डालो, अब बर्दाश्त नहीं होता।

मैंने एक शॉट मारा और मेरा आधा लंड उसकी चूत में चला गया।

वो दर्द से कराह उठी, उम्म्ह… अहह… हय… याह… और उसकी आँखों से आँसू गिर पड़े। अब मुझे उन आंखों में दर्द साफ नजर आ रहा था जो कुछ देर पहले तक सेक्स की प्यासी थीं।

लेकिन मैंने उसे दिलासा देते हुए कहा- बस जान, दर्द बस थोड़ी देर ही रहेगा और उसके बाद तुम्हें जन्नत का मजा मिलने लगेगा।

मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उसे चूसता रहा और अपना लंड उसकी चूत में डाल कर उसके ऊपर लेटा रहा ताकि वो जल्द से जल्द मेरे लंड के धक्के झेलने के लिए तैयार हो जाए।

बीच-बीच में वह उसके स्तन भी दबा रहा था। कुछ देर बाद वह फिर कराहने लगा। अब उसकी गांड खुद ब खुद मेरे लंड की तरफ आने लगी।

मैं समझ गया कि मेरी गर्लफ्रेंड की चूत अब मेरे लंड के झटके सहने के लिए तैयार है।

मैंने अपने होंठ उसके स्तनों से हटाये और अपने हाथों की मदद से अपने शरीर का भार संभालते हुए उसकी चूत में एक जोरदार धक्का मारा और मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया।

वह फिर कराह उठी लेकिन इस बार उसका दर्द जल्द ही दूर हो गया। मैंने मौका देख कर अपना लंड उसकी चूत में अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया।

मेरा मोटा लंड उसकी कसी हुई चूत में अन्दर-बाहर होने लगा और मुझे अद्भुत आनन्द आने लगा।

मेरा मन कर रहा था कि पूरी ताकत से साली को ठोक दूं, लेकिन अभी ज्यादा तेजी दिखाना ठीक नहीं था। इसलिए मैंने अपने आप पर काबू रखा और धीरे धीरे धक्का लगाया।

दो-चार मिनट बाद ही उसके मुँह से आनंद भरी कराहें निकलने लगीं। अब मैंने भी अपने लंड से उसकी चूत को चोदने की स्पीड बढ़ा दी।

गर्लफ्रेंड की धकापेल चुदाई

मैं जोर जोर से शॉट मारते हुए उसकी चूत को चोदने लगा।

फिर मैंने उसे कुतिया बनाया और उसके पीछे जाकर अपना लंड एक ही बार में पूरा अन्दर डाल दिया।

मैंने फिर से कृतिका को चोदना शुरू किया और पूरा लंड बाहर निकाला और फिर से पूरा डाल दिया। मेरा लंड उसके अंदर जाकर अच्छे से टकरा रहा था।

मुझे बहुत मजा आ रहा था, दोस्तो, इतना मजा मैंने अपनी जिंदगी में कभी नहीं लिया था।

सेक्स का आनंद दुनिया का सबसे आनंददायक आनंद है।

कसी हुई चूत और मोटी गद्देदार गांड होने से सेक्स का मज़ा और भी बढ़ जाता है। ऐसा ही आनंद मुझे अपनी गर्लफ्रेंड कृतिका की चूत चोदते समय मिल रहा था।

वो भी पूरे जोश में मेरे लंड से चुदवा रही थी। उसकी गांड बार-बार पीछे आकर मेरे लंड पर दबाव डाल रही थी।

तभी वो अचानक चिल्ला उठी और मुझे उसकी चूत से निकला तरल पदार्थ अपने लंड पर महसूस हुआ।

चुदाई करवाते समय वह आनंद से चरम सीमा पर पहुँच गयी थी।

उसके झड़ने से चूत से पच-पच की आवाज आने लगी। इस आवाज से मेरे अन्दर उत्तेजना और भी बढ़ गयी। मैं और तेजी से उसकी चूत में धक्के लगाने लगा।

अब मेरे लंड के धक्को से उसकी चूत सूज गयी थी और उसे दर्द होने लगा था।

वो मुझसे अपना लंड बाहर निकालने के लिए कहने लगी लेकिन मैंने उसकी चूत में धक्के लगाना बंद नहीं किया। अब मैं उसकी चूत में अपना वीर्य छोड़ने का सुख लेना चाहता था।

वो बोली- अन्दर मत निकालना, नहीं तो बच्चा हो जायेगा।

लेकिन मैंने उसकी एक न सुनी और उसकी गांड को अपने हाथों से पकड़ कर थोड़ा अपनी ओर खींचा और तेजी से फिर से उसकी चूत में अपना लंड डालने लगा।

अब मेरे धक्के इतने तेज़ हो गए थे कि मेरी जाँघें उसकी गांड से टकराने लगीं और इस टक्कर से पूरे माहौल में तेज़ पट-पट की आवाज़ गूँज उठी।

अब मेरा लंड भी उसकी चूत को जबरदस्त तरीके से चोदते हुए हांफने लगा था। लंड में अजीब सी कठोरता थी।

मैंने पूरी ताकत से दो-तीन धक्के लगाए और मैं उसकी पीठ पर लेट गया। मेरे लंड से गर्म लावा निकल कर उसकी चूत में भर गया। (गर्लफ्रेंड की धकापेल चुदाई)

ऐसा लग रहा था जैसे मेरी सांसें थमने वाली हैं। मैंने खुद को पूरी तरह से ढीला छोड़ दिया। इस चुदाई ने मुझे अंदर तक पूरी तरह निचोड़ दिया था।

करीब 20 मिनट तक चली इस गर्मागर्म चुदाई के दौरान मेरी गर्लफ्रेंड दो बार ऑर्गेज्म का आनंद ले चुकी थी। उसकी चूत सूज गयी थी।

फिर रात को करीब तीन बजे मैंने फिर से उसकी चूत पर अपने लंड से हमला कर दिया। रात को उसकी चूत चोदने के बाद मैंने उसकी गांड भी मारी।

फिर एक बार सुबह भी मैंने उसकी चूत फिर से चोदी। उसकी चूत को चोद कर मैंने उसकी हालत इतनी खराब कर दी कि जब वो सुबह उठी तो उसे चलने में भी दिक्कत हो रही थी।

इस तरह मैंने अपने दोस्त की गैरमौजूदगी में अपनी गर्लफ्रेंड की जमकर चुदाई की।

मुझे यह भी डर था कि कहीं वह गर्भधारण से डर न जाये, इसलिए मैंने उसे गर्भधारण रोकने की गोली दे दी।

जब तक मेरा दोस्त पांच दिन बाद वापस आया, कृतिका हर दिन मेरे पास आती थी और हम दोनों खूब मस्ती करते थे।

अब भी हम दोनों मिलते रहते हैं और एक दूसरे को पसंद करते हैं। हमें उम्मीद है कि एक दिन हम शादी करेंगे।

दोस्तो, आपको मेरी यह कहानी पसंद आई या नहीं, कृपया मुझे मेल करें। अगर कहानी में मुझसे कोई गलती हो भी जाए तो प्लीज़ नजरअंदाज कर देना।

तो दोस्तों, आपको मेरी यह चुदाई की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं।

अगर आपको यह गर्लफ्रेंड की धकापेल चुदाई कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds