May 21, 2024
Hot Behan Ki Chudai

मेरी बहन ने मुझे Hot Behan Ki Chudai का मजा दिया. दीदी ने मुझसे अपनी सहेली की भी चुदाई करवाई. लेकिन फिर दीदी ने मुझे चूत देना बंद कर दिया. मैंने बहन को उसके बॉयफ्रेंड के साथ सेक्स करते हुए देखा. 

मेरा नाम मोहित है, मैं मध्य प्रदेश के भोपाल शहर में रहता हूँ।
मेरे परिवार में हम चार लोग हैं, माँ, पापा, बहन और मैं।

यह Hot Behan Ki Chudai मेरी बहन की है जो भरे हुए बदन की मालकिन है.
बहन का नाम शेहनाज है, वो मुझसे कई साल बड़ी है.

बात उन दिनों की है जब मेरी बहन की जवानी शुरू हो रही थी.
उस समय हम लोग गांव में रहते थे.

वहीं हमारे घर के पास ही मेरी बहन की सहेली कमला भी रहती थी.

एक दिन ऐसा हुआ कि माँ और पापा किसी काम से शहर गये हुए थे।

तभी दीदी और उनकी सहेली को पता नहीं उनके मन में क्या आया, वो दोनों मुझे मेरे घर के अंदर ले गईं।

मैं बहुत भोला था.
कमरे में ले जाकर मेरी बहन ने सबसे पहले मेरी पैंट उतारी और मुझे नंगा कर दिया.
उसके बाद दीदी ने सलवार का नाड़ा भी खोल दिया, दीदी मेरे सामने पूरी पैंटी में थी.

फिर धीरे से दीदी ने अपनी पैंटी भी उतार दी.
फिर मैंने देखा कि मेरी बहन की चूत में हल्के हल्के बाल थे और मेरे लंड पर एक भी बाल नहीं था.

मैं कुछ देर तक तो बस दीदी की चूत को देखता रहा.
फिर दीदी ने चूत की तरफ इशारा करते हुए कहा- इसे अपने हाथ से रगड़ो!
लेकिन मैंने डर के मारे कुछ नहीं किया.

फिर दीदी बिस्तर पर लेट गईं और अपनी सहेली को इशारा करके बोलीं.
वहाँ दीदी की सहेली भी थी तो उसने मुझे पकड़ लिया और दीदी के ऊपर लिटा दिया।

उसने मेरा लंड पकड़ कर बहन की Chut ki Chudai की दरार में रख दिया.

दीदी ने अपने नितंब उठाये और मेरा लंड अपनी चूत में लेने की कोशिश करने लगी.
लेकिन मेरा लंड खड़ा नहीं था इसलिए वो दीदी की चूत के अंदर नहीं जा रहा था.

फिर मुझे खड़ा करके बहन की सहेली ने मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसा और मेरा लंड खड़ा हो गया.
इस तरह मैंने अपना लंड खड़ा करके अपनी बहन की चूत के सामने रखा और उसने मुझे धक्का लगाने को कहा.

उसके कहने पर मैंने धक्का लगाया और मेरा लंड मेरी बहन की चूत में चला गया.

उस वक्त मुझे बहुत दर्द हुआ और मेरे लंड की सील मेरी बहन की चूत ने तोड़ दी.
फिर मैंने अपनी बहन को चोदा.

उसके बाद दीदी ने अपनी सहेली कमला से उसके कपड़े उतारने को कहा.
कमला भी मेरे सामने नंगी हो गई, मैंने कमला को भी चोदा।

मैं सेक्सी हॉट लड़की को चोद कर बहुत थक गया था.

वो मेरी First Time Sex थी, उस वक्त मुझे सेक्स के बारे में ज्यादा कुछ पता नहीं था.

मुझे नहीं पता कि उसके बाद क्या हुआ, बहन ने फिर कभी मेरे साथ ऐसा नहीं किया।

फिर जब मैं बड़ा हुआ तो अपनी बहन को चोदने के बारे में सोच कर खुश होता था.

एक बार जब मेरे पेपर चल रहे थे तो मैं आँगन में बैठ कर पढ़ाई कर रहा था।
बाथरूम मेरे घर के आँगन में ही बना हुआ था।

आपने देखा होगा कि गाँव में बाथरूम बिना दरवाजे का और ऊपर से पूरा खुला होता है!
हमारा बाथरूम लकड़ी के तख्तों से बना था।

मैं बाथरूम के दरवाजे के ठीक सामने बैठा था.

फिर दीदी कपड़े लेकर मेरे सामने ही बाथरूम में नहाने चली गईं.

फिर जैसे ही दीदी ने अपनी शर्ट उतारी तो जैसे ही मैंने उन्हें ब्रा में देखा तो ऐसा लगा जैसे मेरे लंड में तूफ़ान आ गया हो.

इसके बाद जैसे ही दीदी ने अपनी सलवार उतार दी और दीदी सिर्फ पैंटी में थीं, उनकी गोरी जांघें देख कर मैं पागल हो गया.

दीदी ने मेरी तरफ ध्यान नहीं दिया, उन्हें लगा कि मैं पढ़ रहा हूँ.
फिर जैसे ही दीदी ने अपनी ब्रा उतारी तो मेरी नज़र उनके नंगे बदन से हट ही नहीं रही थी.

दीदी की बड़ी बड़ी चुचियां मेरे सामने आ गयीं.
तो मुझे अपनी बहन के स्तन देखकर बहुत बुरा लगा क्योंकि मैं पहली बार इतने बड़े स्तन देख रहा था।
पिछली बार जब दीदी मेरे सामने नंगी थीं तो उनके मम्मे इतने बड़े नहीं थे.

अब मेरा पूरा ध्यान मेरी बहन पर था.

मुझे नहीं पता कि मेरी बहन ने मुझे उसे घूरते हुए कैसे देख लिया और अपने स्तन छुपाने लगी।
फिर वो मेरी तरफ पीठ करके नहाने लगी ताकि मुझे उसके चूचे न दिखें.

अब मैं निराश हो गया और पढ़ाई करने लगा.
लेकिन मैं अपनी पढ़ाई पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दे पा रहा था, मुझे बस अपनी बहन के बड़े-बड़े स्तन मेरी आँखों के सामने तैरते दिख रहे थे।

अब मैं अपनी बहन के बारे में बहुत बुरी बातें सोचने लगा.
जब भी मेरी बहन नहाने जाती तो मैं उसे नंगा देखने की पूरी कोशिश करता और ऐसा करता भी.

मैं हस्तमैथुन भी करने लगा था.

समय बीतता गया, बहन की पढ़ाई पूरी हो गई और बहन की शादी हो गई।

अब मुझे मेरी बहन के चूचे नजर नहीं आ रहे थे.

मेरी बहन की शादी को अभी तीन महीने ही बीते थे कि मेरे जीजाजी की किसी कारणवश मृत्यु हो गई और मेरी बहन हमारे घर वापस आ गई.

लेकिन अब मैं दीदी का चेहरा नहीं देख पाता था क्योंकि वो हमेशा उदास रहती थी.
इसलिए मैं दीदी को नहाते हुए देख भी नहीं पाया, अब मेरा भी मन नहीं हो रहा था.

फिर धीरे-धीरे समय बीतता गया.
दीदी भी सब कुछ भूल कर हंसने और खुश होने लगी थी.

दीदी ने आगे की पढ़ाई शुरू की और नौकरी कर ली.
उनकी नौकरी भोपाल में थी.

फिर मेरे माता-पिता ने मुझे अपनी बहन के साथ रहने के लिए कहा और मैं उसके साथ रहकर पढ़ाई करने लगा।

दीदी काम पर चली जाती थी और मैं कॉलेज चला जाता था.
ऐसा हर दिन होने लगा.

फिर एक दिन दीदी नहाने के लिए बाथरूम में गयी थी, तभी उनके फोन पर एक व्हाट्सएप मैसेज आया.
मैसेज में ‘हाय सोना’ लिखा हुआ था.

फिर मैसेज देखकर मेरी नजरें तेज हो गईं. शायद वो मैसेज दीदी के बॉयफ्रेंड का था.
अब मैं फिर से दीदी के बारे में गलत सोचने लगा.

एक दीदी और मैंने खाना खाया और मैं अपने कमरे में सोने चला गया और दीदी अपने कमरे में चली गई।

रात के करीब एक बजे होंगे जब मैं पानी पीने के लिए उठा.
तभी मुझे दीदी के कमरे से कुछ अजीब सी आवाजें आने लगीं.
लेकिन मुझे उसकी आवाज़ साफ़ सुनाई नहीं दे रही थी.

फिर जब मैंने कान लगाकर सुना, ‘आह!’ ओह! अहा!’ सुना गया।
तो मैंने सोचा कि दीदी बहुत दिनों से चुदी नहीं होगी, इसलिए उंगली करती होगी.

लेकिन मुझे उसकी आवाज के साथ किसी और की आवाज भी सुनाई दी.
तब मुझे यकीन हो गया कि दीदी जरूर किसी मर्द से चुदाई करवाती होगी.

फिर मैं धीरे से दीदी के कमरे की खिड़की के पास गया.
मैं खिड़की के अंदर साफ देख सकता था.

जैसे ही मैंने अंदर देखा तो अंदर का नजारा बिल्कुल देखने लायक था.

दीदी घोड़ी बनी हुई थी और उसका बॉयफ्रेंड राहुल दीदी को चोद रहा था.
एक बार दीदी ने मुझे राहुल से मिलवाया.

कुछ देर बाद राहुल ने अपना लंड दीदी की चूत से निकाल कर दीदी के सामने रख दिया और उसे चूसने को कहा.
तो दीदी ने तुरंत उसका लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी.

दीदी का ये रूप देख कर मेरे लंड में भी आग लग गयी.
अब दीदी रंडी की तरह राहुल का लंड चूस रही थी.

कुछ देर लंड चुसवाने के बाद उसने दीदी को फिर से घोड़ी बनाया और उसके बाल पकड़ कर चोदने लगा.
दीदी के मुँह से ‘आह ओह… माय गॉड… फक मी’ की आवाज आने लगी.

बहन और राहुल की चुदाई काफी देर तक चली.
फिर धर्मेन्द्र ने अपना लंड उसकी चूत के अन्दर से बाहर निकाला और अपना सारा वीर्य उसके मुँह में छोड़ दिया.

इसके बाद दोनों एक-दूसरे से लिपटकर सो गए।

सुबह जब मैं उठा तो दीदी बहुत खुश लग रही थी।

शायद मेरी वजह से वो चुदाई नहीं कर पा रहे थे.
लेकिन रात Bur ki Chudai के बाद दीदी बहुत खुश थी.

तब से 15 दिन बीत चुके हैं.
शायद राहुल किसी काम से शहर से बाहर गए होंगे.

एक दिन जब दीदी सुबह नहाने गईं तो उनके मोबाइल पर मैसेज आया कि वो आज सुबह भोपाल पहुंचने वाले हैं.
मैसेज पढ़ने के बाद मैंने अपनी बहन का मोबाइल वहीं रखा और बाहर चला गया.

कुछ देर बाद जब मैं कमरे में गया, तब तक बहन नहा कर तैयार हो चुकी थी और काम पर निकल चुकी थी.

मुझे पता था कि आज दीदी की जोरदार चुदाई होगी क्योंकि हम दोनों 15 दिन बाद मिल रहे थे.

मेरा कॉलेज में मन नहीं लग रहा था इसलिए मैं कॉलेज से जल्दी घर आ गया।

जब मैं घर पहुंचा तो घर का ताला खुला था.
फिर मैंने धीरे से दरवाजे को धक्का दिया तो वह खुल गया.

जैसे ही मैं अंदर गया तो अंदर का नजारा कुछ और ही था.
दीदी धर्मेन्द्र का लंड चूस रही थी.
वो पूरी नंगी थी, दीदी की चूत बहुत चिकनी थी, शायद दीदी ने आज ही अपनी चूत शेव की होगी.

दीदी मुझे देख कर डर गईं और अपना बदन छुपाते हुए राहुल के पीछे छिप गईं.

मैं दीदी को इस हालत में देख कर डर गया और मुझे देख कर धर्मेन्द्र ने अपने कपड़े पहने और भाग गया।

दीदी ने ‘ऐसा कभी नहीं होगा’ कहकर मुझसे माफ़ी मांगी.
वह मुझे देख नहीं पाई.

ऐसे ही 1 महीना बीत गया.

फिर मैंने दीदी के बारे में सोचा कि दीदी को भी किसी मर्द की बहुत ज़रूरत है ताकि वो अपनी इच्छा पूरी कर सके.
मैंने दीदी से बात करने की सोची.

2 दिन बाद एक बार मैं दीदी के बारे में सोच कर मुठ मार रहा था और मुझे नींद आ गई और मैं ऐसे सो गया, मुझे कुछ पता ही नहीं चला.

सुबह दीदी मेरे कमरे में आईं और पोंछा लगाने लगीं.
मेरा लंड लोअर से बाहर निकला हुआ था.

जैसे ही दीदी ने मेरे लंड को देखा तो वो देखती ही रह गयी और अपने हाथ से उसे छू भी रही थी.
शायद धर्मेन्द्र और दीदी को सेक्स किये काफी समय हो गया था.. इसलिए दीदी मेरा लंड देखकर सब कुछ भूल गई थीं।

दीदी मेरे लंड को हिलाने लगीं लेकिन कुछ देर बाद दीदी कमरे से बाहर चली गईं.

दिसम्बर का आधा महीना बीत चुका था, तब बहुत ठण्ड थी। मेरी छुट्टियाँ ख़त्म हो गई थीं.

अब हम भी गांव जाने के बारे में सोचने लगे और अपना सामान पैक करने लगे क्योंकि हमारी बस शाम 7 बजे निकलने वाली थी इसलिए जल्दी में हम कंबल रखना भूल गए।
वैसे तो मैंने कम्बल रखा था लेकिन दीदी ने नहीं रखा था.

बस में हमारी स्लीपर सीट थी.
बस में बैठते ही हमें बहुत ठंड लगने लगी.

फिर दीदी ने बैग चेक किया तो कम्बल नहीं मिला और हम दोनों एक दूसरे की तरफ देखने लगे.
फिर हम दोनों ने मेरे द्वारा लाये गये कम्बल से अपने आप को ढक लिया।

फिर करीब 10 बजे बस एक ढाबे पर रुकी.
तभी हमें पता चला कि बस यहां 30 मिनट रुकेगी.

फिर सभी लोगों ने ढाबे पर खाना खाया और बस चलने का इंतजार करने लगे.

10:30 बजे बस ढाबे से निकली और अब सबको नींद आ रही थी.
सभी लोग अपनी सीटों पर आराम करने लगे.
मैं और दीदी भी कम्बल ओढ़ कर सो गये.

रात को करीब 2 बजे मेरी नींद खुली.
तब दीदी मेरी तरफ पीठ करके सो रही थी.
वो मुझसे बिल्कुल चिपकी हुई थी, जिससे मेरा लंड खड़ा होने लगा और दीदी की Moti Gand में जाना चाहता था.

कुछ देर बाद दीदी ने करवट बदल ली और मेरी तरफ मुँह करके सोने लगीं.
फिर मैंने भी करवट ली और दीदी की तरफ पीठ करके सो गया.

कुछ देर बाद दीदी ने अपना हाथ मेरे ऊपर रख दिया.
करीब 15 मिनट तक मैंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी, फिर दीदी मेरे लोअर में मेरे लंड को सहलाने लगीं.

मुझे भी नींद नहीं आ रही थी इसलिए मैं भी जाग रहा था.
अब मेरा लंड भी खड़ा हो गया था तो दीदी समझ गयी थी कि मैं जाग रहा हूँ.

दीदी कम्बल के अंदर से ही मेरा लंड चूसने लगीं.
मुझे तो यह स्वर्ग जैसा लगने लगा था.

कुछ देर तक मेरा लंड चूसने के बाद दीदी मेरे ठीक सामने साइड में आ गईं और सोने लगीं.
दीदी नीचे से पूरी नंगी थी, मेरा लंड पूरा खड़ा था.

दीदी के स्तन भी बाहर थे. दीदी मेरे सिर को अपने स्तनों के पास लायी और अपना निपल मेरे मुँह में डाल दिया और उसे चूसने लगी।

अब दीदी ने मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत के सामने सेट किया और अन्दर लेने के लिए आगे बढ़ी.
लेकिन मेरा लंड दीदी की चूत के अंदर नहीं जा रहा था.

इसी तरह दीदी ने 4-5 बार कोशिश की लेकिन मेरा लंड बार बार फिसल जा रहा था.

फिर मैं अपने आप पर काबू नहीं रख सका और मैंने एक जोरदार धक्के के साथ अपना लंड अपनी बहन की चूत में डाल दिया.
जिससे दीदी चिल्ला उठीं और और चिल्लाने लगीं- भैया प्लीज़ इसे बाहर निकालो!

मैं सुनने के मूड में नहीं था.

राहुल और दीदी की चुदाई को याद करके मैंने पूरी रात काफी देर तक अलग-अलग पोजीशन में दीदी की चुदाई की.
इस सेक्सी Hot Behan Ki Chudai पर अपने विचार मेल और कमेंट्स में बताएं.

ऐसे ही और Bhai Behan Ki Sex Stories पढ़ने के लिए Readxstories.com को सब्सक्राइब करें ताकि आपके पास सबसे पहले नई 2023 की Hindi Sex Story ऑफ है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds