May 21, 2024
कुंवारी चूत की चुदाई

आज की हिंदी सेक्स कहानी "गांव की लड़की की कुंवारी चूत की चुदाई करी" इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

हमारी आज की हिंदी सेक्स कहानी जिसका शीर्षक है “गांव की लड़की की कुंवारी चूत की चुदाई करी” में मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे चलिए शुरू करते हैं आज की देसी सेक्स कहानी

दोस्तों, मैं अपने सभी पाठकों का स्वागत करता हूँ।

मुझे उम्मीद है कि आपको मेरी कहानी बहुत पसंद आएगी।

यह गांव की लड़की सेक्स कहानी मेरे और मेरी क्लास की लड़की के बीच हुए सेक्स के बारे में है।

ये दो महीने पहले की बात है। परीक्षाएं शुरू हो चुकी थीं।

एक बेंच पर दो छात्रों के बैठने की व्यवस्था की गयी थी।

किस्मत से मेरे बगल में एक बहुत ही हॉट और सेक्सी फिगर वाली लड़की बैठी थी। उसका नाम कृतिका था और वह दिल्ली की रहने वाली थी।

उसके चूचे मानो किसी पहाड़ी चट्टान की तरह थे।

वे इतने सख्त और ठोस लग रहे थे मानो उन्हें अभी तक किसी ने छुआ ही न हो।

पूरी क्लास उसकी गांड की दीवानी थी।

और पागल हो भी क्यों न… वह सांवली और बहुत सेक्सी थी।

जो भी उसकी गांड एक बार देख ले तो लंड सलामी देने लगता है।

कृतिका मेरी तरफ देखती थी लेकिन मेरी गांड फट जाती थी कि कहीं साली नाराज न हो जाएं।

वह असल में एक बड़े अधिकारी की बेटी और बहुत आधुनिक लड़की थी।

चूँकि मैं पढ़ाई में बहुत तेज़ था, जिसके कारण सभी शिक्षक मुझे पसंद करते थे।

शायद कृतिका भी मेरी इस क्षमता से प्रभावित थी।

उस दिन टीचर ने पेपर बाँट दिया और सभी लोग पेपर करने लगे।

मेरा पेपर एक घंटे में हो गया।

जब मैं फ्री हुआ तो उसकी गांड देख रहा था।

फिर अचानक उसने अपने बालों को हाथ से ज़ोर से झटका दिया, फिर उसने मेरे चेहरे को छू लिया।

आह मुझे ऐसा लग रहा था मानो उन बालों में उसके बदन की खुशबू हो और वो मुझे अपनी जवानी का रस पीने के लिए आमंत्रित कर रही हो।

फिर मैंने टीचर से टॉयलेट जाने की इजाज़त ली और टॉयलेट में अपना लंड सहलाने लगा।

उधर मैं कृतिका की याद में अपना लंड जोर-जोर से हिलाने लगा।

कुछ ही देर में मैंने अपना लंड हिला कर रस छोड़ दिया और पैंट बंद करके बाहर आ गया।

फिर मैं अपनी सीट पर बैठ गया।

मैं हल्के से खांसा, उसी वक्त उसने मेरी तरफ देखा, फिर मैंने धीरे से उसे आई लव यू कहा।

वह हंसी।

तभी मैंने कहा- एग्जाम के बाद कैंटीन में मिलते हैं।

उसने होठों पर हल्की सी मुस्कान के साथ हाँ में सिर हिलाया।

फिर मैंने मेम से पेपर जमा करने को कहा तो वो मान गये।

मैंने पेपर जमा कर दिया और एक बार उसकी तरफ देखा और आंख मार दी और मैं कैंटीन में उसका इंतजार करने लगा।

कुछ देर बाद मैंने उसे दूर से आते हुए देखा।

मैंने दो कॉफ़ी का ऑर्डर दिया।

उसके आते ही मैंने उसे बैठने के लिए कहा।

वह बैठ कर इधर उधर देखती रही।

मैं उसकी तरफ देखने लगा।

वह पर्स में कुछ ढूंढने का नाटक करते हुए धीमी आवाज में बोली- ऐसे क्या देख रहे हो?

मैंने कहा- जन्नत। (कुंवारी चूत की चुदाई)

वह हंसी।

दिल्ली में सस्ती और सेक्सी लड़कियां चुदाई के लिए बुक करे :

उसी समय कॉफ़ी आ गयी।

कॉफ़ी पीते पीते मैंने उससे कहा- मेरे पास तुम्हारे लिए एक सरप्राइज़ है और ये एक राज़ है। शाम को होटल में मिलते हैं।

वो बोली- ये कैसा सरप्राइज है और मुझे ऐसे बहाने से बार-बार बुलाना बंद करो।

मैंने कहा- ये बहाने तभी बंद होंगे जब तुम मेरे पास परमानेंट आओगे।

वो बोली- अच्छा, इतना आगे की सोच कर बैठे हो? क्या बात है आ।

मैंने कहा- मुझे नहीं पता मैडम आपने क्या सोचा है.. बस आप साथ दीजिए।

मैंने कहा- शाम को आना, तब सब बताऊंगा।

वो बोली- अगर मैं नहीं आई तो!

मैंने कहा- तो फिर अगले दिन तुम्हें अखबार में खबर पढ़ने को मिलेगी।

वो बोली- और वो कौन सी खबर होगी?

मैंने कहा- एक प्रेमी ने अपनी प्रेमिका के नापसंद होने पर पेड़ पर फाँसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

उसने अचानक मेरे मुँह पर हाथ रख दिया और बोली- चुप हो जा बेवकूफ।

मैंने कहा- हां मैं पागल हो गया हूं।

वो बोली- मैं इस पागल से मिलने जरूर आऊंगी। लेकिन मैं तुमसे कमरे में मिलूंगी।

मैं कहा ठीक है।

उसने पूछा- कौन से होटल में आना है?

मैंने होटल का नाम बताते हुए कहा- समय लेकर आओ.. जाने की जल्दी मत करना। (कुंवारी चूत की चुदाई)

उसने फुसफुसा कर मुझे प्रणाम किया और बोली- कमरे में मिलने को कहा था। मैं पूरे समय आऊंगR। मुझे पूरी रात के लिए आने को कहो।

मैंने कहा- मुझे तुम्हारे साथ रात बिताना और भी अच्छा लगेगा।

वो बोलीं- देखते हैं, मुझे घर पर भी सेटिंग करनी है, किस दोस्त के साथ पूरी रात रुकने वाली हूं।

मैं हंसा और वो आंखें बंद करके उठ गईं।

उसके बाद वो चली गयी और मैं भी अपने घर आ गया।

मैं बहुत खुश था।

फिर शाम होते ही मैं तय होटल पर पहुंच गया।

मैंने मैनेजर से एक कमरे में फूल और गुब्बारे रखने को कहा।

मैंने होटल में मैनेजर से पूछा तो पता चला कि कमरा बिल्कुल तैयार है।

मैंने भी उससे कमरे की चाबी ले ली और कृतिका के आने का इंतज़ार करने लगा।

फिर वह एक ऑटो से उतर कर होटल की लॉबी में आ गयी।

मैं कमरे की ओर बढ़ने लगा।

आगे सुनसान था तो मैंने उसका हाथ पकड़ लिया।

वो शायद इसी का इंतज़ार कर रही थी।

उसने तुरंत मुझे गले लगा लिया।

उसके स्तन मेरी छाती से दब रहे थे, मेरा लंड खड़ा हो गया था।

मैंने अपना हाथ उसकी गांड पर रख दिया और उसकी गांड की सख्ती देख कर मेरी हालत खराब हो गयी।

वह बेहद खूबसूरत लग रही थीं। उसने लाल रंग का टॉप और काले रंग की टाइट जींस पहनी हुई थी।

अब मैं उसे कमरे की ओर ले जाने लगा।

मैंने उससे कहा- जब तक मैं तुम्हें आँखें खोलने के लिए न कहूँ, तुम आँखें मत खोलना।

उसने कहा ठीक है और मेरी तरफ देखने लगी।

मैं उसे कमरे के अंदर ले गया और खड़ा किया और एक गुलाब का फूल लिया और उसके सामने घुटनों के बल बैठ कर प्रपोज किया।

उसने आँखें खोलीं और कमरा देखकर खुश हो गई।

मैंने उससे कहा कि मैं तुमसे प्यार करता हूं।

उसने यह भी कहा कि मैं तुमसे प्यार करती हूं।

मैंने उसे बैठने को कहा और पूछा- तुम क्या लोगी?

उसने कहा- आज मेरा वोडका पीने का मन हो रहा है। (कुंवारी चूत की चुदाई)

मैंने उसके लिए वोदका और अपने लिए बीयर खरीदी।

मैं उसके लिए वोदका का पैग बनाने लगा।

फिर अपनी बीयर मग में डाली और चियर्स कह कर हम दोनों घूंट लेने लगे।

एक पैग गले से नीचे उतार कर वह अपना पैग बनाने लगी।

मैंने उससे पूछा- तुम्हारे सेक्सी फिगर का राज क्या है?

वह हंसी।

मैंने उसका पेग उठाया और वो पीने लगी।

उसके गुलाबी होंठ ऐसे लग रहे थे मानो वोदका डालने से उनकी चमक बढ़ गई हो।

अब वो थोड़ा नशे में थी।

मैंने उससे किस करने को कहा तो उसने हाँ कह दी।

मैं उसे चूमने लगा और धीरे-धीरे उसके बालों में अपनी उंगलियाँ घुमाने लगा, उसके बालों को सहलाने लगा।

लगातार किस करने से वो गर्म हो चुकी थी और जवाब देने के लिए भी तैयार थी।

उसने भी मेरे होंठ चूमे।

फिर हम दोनों ने एक दूसरे के मुँह में जीभ डाल दी और मजा लेने लगे।

जीभ चूसने से हम दोनों की वासना भड़क उठी और उसी वक्त मैंने अपना हाथ उसके मम्मों पर रख दिया।

जब वो कुछ नहीं बोली तो मैं धीरे-धीरे उसके दूध सहलाने लगा।

वो भी मेरे बालों को सहलाने लगी।

फिर मैंने उसका लाल रंग का टॉप उतार दिया और उसकी काली रंग की ब्रा के ऊपर से ही उसके मम्मों को चूमने लगा।

कुछ देर बाद मैंने उसके बड़े-बड़े कबूतरों को उसकी कसी हुई ब्रा से आजाद कर दिया और उनका रस निचोड़ने लगा।

उसकी चुचियों के गुलाबी निपल्स को अपनी जीभ से सहलाने लगा।

उसका फिगर साइज करीब 32-28-34 रहा होगा।

मेरी हरकतों से उसके दिल की धड़कनें तेज़ हो गईं।

धीरे धीरे कमरा मादक आवाजों से गूँज रहा था।

फिर मैं उसकी नाभि को लगातार चूमने लगा।

वह सिहर उठी।

फिर मैंने उसकी जींस उतार दी और अपने कपड़े भी उतार दिये।

अब वो मेरे सामने सिर्फ काले रंग की पैंटी में थी और वासना से कांप रही थी।

उसका चेहरा नशे से लाल हो गया था।

आँखों में सेक्स का नशा साफ़ दिख रहा था।

फिर मैंने वहां रखा गुलाब का फूल उठाया और उसकी पैंटी के ऊपर से ही फूल से उसकी चूत को सहलाने लगा।

इससे उसकी पीड़ा बढ़ती जा रही थी; चूत गीली हो गयी थी। (कुंवारी चूत की चुदाई)

उसने मेरी तरफ कनखियों से देखा तो मैं समझ गया कि अब उसकी बुर देखने का वक्त आ गया है।

मैंने उसकी पैंटी की इलास्टिक में अपनी उंगलियां फंसाईं तो उसने अपनी गांड उठा दी।

मैंने एक झटके से उसकी पैंटी उतार दी और नीचे झुक कर उसकी चूत को सूंघने लगा।

मैंने एक लंबी सांस ली और फिर से फूल को उसकी गुलाबी चूत पर घुमाने लगा।

फिर अचानक से उसकी चूत से पानी निकलने लगा और मैं अपनी जीभ से उसकी चूत को साफ करने लगा।

हॉट लड़कियां सस्ते रेट में इन जगह पर बुक करें :

इससे वह बहुत गर्म हो गयी और इधर-उधर घूमने लगी।

मैंने उसे 69 में आते देखा तो अपना लंड उसके मुँह में दे दिया।

वो लंड को चूसने लगी।

उसकी गर्म भाप मेरे लंड को बहुत आनंद दे रही थी।

मैं भी अपनी गर्म जीभ से उसकी चूत के दाने को सहलाने लगा और वो पूरी तरह से तड़प उठी।

उसका हाथ मेरे लंड पर चलने लगा, वो मेरी गोटियों को मुँह में लेकर चूसने लगी।

मैंने अपनी पोजीशन सेट की और अपना लंड उसकी कुंवारी चूत में डाल दिया।

जैसे ही उसने लंड डाला तो उसके मुंह से इतनी तेज आवाज निकली कि मैं डर गया।

मैंने झट से अपना मुँह उसके मुँह पर रख दिया और उसे चूमने लगा।

कुछ पल बाद मैंने उसकी चूत में एक और तेज झटका लगा दिया।

इस बार मेरा पूरा लंड उसकी चूत में फंस गया था।

उसकी चूत की सील टूट गयी थी। उसकी चूत से खून निकलने लगा और ये देखकर वो अचानक से डर गयी।

मैंने उसे समझाया कि यह कौमार्य झिल्ली टूटने का संकेत है।

वो समझ गयी और मुझे गले लगा लिया।

मैं उसे तेज झटके देकर चोदने लगा।

करीब सात आठ मिनट बाद वो झड़ गयी।

मैं डाल रहा हूँ।

फिर कुछ देर बाद मैं भी उसकी चूत में ही झड़ गया।

हम दोनों एक ही चुम्बन से बहुत थक गये थे।

वो बोली- मैं न जाने कब से तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहती थी।

मैंने कहा- कभी तो इशारा कर दिया होता।

वो बोली- हां, मैं इशारा नहीं कर सकी लेकिन आपने भी कभी मुझसे कुछ नहीं कहा।

मैं हंसा और उसे अपने सीने से लगा लिया।

इसी तरह हमने 2 बार सेक्स किया और मैंने उसे बहुत खुश किया। मुझे भी एक गांव की लड़की के साथ सेक्स करने में मजा आया।

तो दोस्तो, आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं।

अगर आपको यह कुंवारी चूत की चुदाई की कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds