May 14, 2024
ladki bani ek anjaan mard ki rakhail

Readxstories के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार कैसे हो, उम्मीद है कि आप सब बढ़िया ही होंगे। आज की कहानी वर्जिन लड़की बनी एक अंजान मर्द की रखैल और खेला चुदाई का खेल

मैं दिल्ली जा रही थी, और रास्ते में मुझे एक आदमी मिला। पढ़िये कैसे उसने मुझे पहले गरम किया, और फिर घर ले जा कर चोदा।

नमस्ते दोस्तो, मेरा नाम तानिया गुप्ता है। मेरी उम्र 20 साल है. आज मैं आपको बताऊंगी कि कैसे मैं एक बस में मिले अंजान आदमी से चुदी। तो ये बात 2 साल पहले की है। मैं अपने गांव से दिल्ली आ रही थी।

मेरी मम्मी मुझे बस स्टैंड तक छोड़ने आई थी। बस में भीड़ होने के कारण मम्मी आगे बैठी थी, और मुख्य बस में आखिरी सीट पर बैठी थी। मेरे बाजू में एक कुछ 30-35 साल के अंकल बैठे थे।

थोड़ी देर बाद वो अंकल मुझसे मेरे बारे में पूछने लगे, और मैं भी उनसे उनके बारे में पूछने लगी। अपना नाम विशाल शेख बताया, और कहा कि वो वास्तव में यूपी से थे, और यहां पे काम करते थे।

उनकी 2 बिविया और 5 बच्चे थे। बात करते-करते विशाल जी ने अपना हाथ मेरी जांघों पर रखा। मुझे थोड़ा अजीब लगा, लेकिन मैंने नज़र अंदाज़ किया हमसे बात को। फिर धीरे-धीरे विशाल जी का आत्मविश्वास और बढ़ने लगा, और उनका हाथ मेरी चूत तक पहुंच गया, और मेरे अंदर एक करंट सा फील हुआ। मैंने तुरेंट उनका हाथ हटा दिया, और विशाल जी की तरफ देखा। तो अनहोनी ने एक शैतानी सी स्माइल दी मुझे।

मैं भी थोड़ा अजीब हो गई थी, और थोड़ी मुस्कुरा दी। थोड़ी देर बाद विशाल जी का हाथ फिर से मेरी जांघों पर था, लेकिन सौभाग्य से बस स्टैंड का स्टॉप आ गया। फिर मैंने राहत भारी सांस ली, और उतर गई। लेकिन जब मैंने पीछे मुड़ के देखा, तो विशाल जी भी वहीं पे उतर गये।

मैं थोड़ी हैरान थी, क्योंकि विशाल जी का स्टॉप बहुत आगे था, और वो उनके स्टॉप से पहले ही उतर गए थे। फिर मैं मम्मी के साथ रेलवे स्टेशन गई। वाहा पर पहुंचने के बाद मैंने टिकट ली, और जा कर मैं और मम्मी एक जगह बैठ गईं। विशाल जी भी हमारे पास ही के एक बेंच पर बैठ गए, और वो लगतार मुझे देखे जा रहे थे।

थोड़ी देर बाद ट्रेन आई, मैंने मम्मी को बाय किया और मुख्य ट्रेन में चढ़ गई, और विशाल जी भी मेरे पीछे-पीछे उसी डिब्बे में चढ़ गए। वो मेरी बाजू वाली सीट पर आ कर बैठ गए। ट्रेन ज्यादा खाली ही थी, और डिब्बे में मुश्किल से 10-12 लॉग द। लेकिन वो सब दिब्बे के दूसरी साइड पे थे, और हम दोनो अकेले एक साइड पर।

विशाल जी फिर से मेरी जांघें सहलाने लगे। मुझे अच्छा लग रहा था, लेकिन मैं उनसे छूटने की कोशिश कर रही थी। धीरे-धीरे उनको और जोश आया, और दूसरे आठ से वो मेरे स्तन सहलाने लगे। फिर उन्होंने मुझसे मेरी मम्मी के बारे में पूछा।

तो मैंने उनको बताया कि मैं अकेली जा रही थी। ये सुन कर उनके चेहरे पर एक अलग सी मुस्कान आ गई, और वो मेरे स्तन और ज़ोर से दबाने लगे। उनका दूसरा हाथ जो मेरी जांघों पर था, वो अब मेरी शॉर्ट्स पर से मेरी चूत पर था।

अब मैं पूरी उनके कंट्रोल में थी। फ़िर विशाल जी ने मुझे कड़पे चेंज करने को कहा। मैंने उनसे पूछा क्यों, तो उन्हें कहा कि वो मुझे उनके कमरे पर ले जा रहे थे। मैंने जब मन किया, तो उन्हें मेरा टॉप ज़ोर से खींचा, और फाड़ दिया।

अब मजबूरन मुझे कपड़े बदलने पड़े। उन्हें दुपट्टा पहनने को कहा और फिर अगला स्टेशन आते ही, हम दोनों उतर गए। वाहा से हम बस स्टैंड गए, और फिर एक बस में चढ़ गए। फिर वो मुझे अपने घर पर ले गये।

घर में पहुँचते ही विशाल जी मेरे ऊपर भूखे भेड़िये की तरह टूट पड़े। वो मुझे किस करने लगे। उनका घर ज़्यादा बड़ा नहीं था, और 1RK ही था। विशाल जी ने नीचे एक गद्दा डाला, और मुझे उसने ढकेल दिया। मैं सीधी उस गद्दे के ऊपर पीठ के बल गिरी।

फ़िर विशाल जी ने उनकी शर्ट निकाली, और वो मेरे ऊपर चढ़ गये। उसके बाद वो मुझे मेरे होठों पर गले पर चुंबन करने लगे। फिर धीरे-धीरे वो मेरे एक-एक करके सारे कपड़े उतारने लगे, और थोड़ी ही देर में मैं उनके सामने सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी।

वो मेरी ब्रा के ऊपर से ही मेरे स्तन दबाने लगे, और मैं सिसकियाँ ले रही थी। फिर वो उठ कर खड़े हुए और मुझसे अपनी पैंट निकलवाई। मैंने जैसे ही उनकी पैंट निकाली, तो उनका लंबा, मोटा, कटवा लंड देख कर शॉक हो गई थी।

फिर उन्होंने मुझे लंड चुनने को कहा। मैंने पहले कभी कोई लंड चूसा नहीं था, बाल्की मैंने तो कभी चुदाई भी नहीं की थी। तो मैं वर्जिन थी. मैंने लंड चुनने से मन कर दिया, तो विशाल जी ने गुस्से में कहा-

विशाल: साली, तुझे यहाँ आराम नहीं मिला। चुप-चाप चूज़ इसको. हां कोई तेरी सुनने वाला नहीं है.

ये सुन कर मैं ना चाहता हूँ भी लंड चुनने को तैयार हो गई। मुझे जिंदगी में पहली बार किसी ने डांटा था। मेरे मम्मी-पापा ने भी मुझे कभी डांटा नहीं था। मुझे वो लोग एक राजकुमारी की तरह रखते थे।

और आज पहली बार किसी ने मुझे डांटा था। फिर मैंने झिझकते हुए लंड मुँह के पास लिया, और मुँह खोल के उसको जीब से टच किया। लंड की गंध से मुझे उल्टी की तरह महसूस होने लगा। लेकिन विशाल जी ने मेरा सर पकड़ा और लंड मेरे मुँह में रख के सर को ज़ोर से दबाया, और पूरा लंड मेरे मुँह में डाल दिया।

उनका लंड मेरे गले तक चला गया था, और लंड की वजह से मेरा गला फूल गया था। बाहर से आसानी से उनके लंड का उभार मेरे गले पर दिख रहा था। फिर वो मेरे मुँह को चोदने लगे. मुझे अब लंड चुनने में मज़ा आने लगा था।

कुछ 20-25 मिनट बाद उनको उनका लंड मेरे मुँह से निकला। मेरा मुँह और उनका लंड पूरा मेरी थूक से गीला हो गया था। बहुत सा थूक नीचे भी गिरा हुआ था।

मुहं चोदने के बाद विशाल जी ने मुझे फिर से गद्दे पे लिटाया, और उन्होंने किचन से एक चाकू लिया। मैं बहुत डर गई थी. फिर मेरी ब्रा और पैंटी को चाकू से फाड़ दिया, और मुझे नंगा कर दिया।

मेरा नंगा बदन देख कर वो और जोश में आये, और मेरे स्तनों को चुनने और काटने लगे। वो मेरे स्तनों को मानो जैसे किसी जॉ मसाजर की तरह चबाने लगे और निपल्स को काटने लगे। बूब्स पर उनके दांतो और चुनने के निशान साफ दिख रहे थे।

क्या सब में मुझे बहुत मजा आ रहा था, और मेरी चूत गीली हो रही थी। फ़िर वो मेरी चूत के पास चले गये। भले ही मैं वर्जिन थी, लेकिन स्वच्छता की वजह से मैं अपनी चूत हमेशा साफ रखती थी। तो मेरी चूत पर एक भी बाल नहीं था।

विशाल जी मेरी चूत चुनने लगे। उनकी दाढ़ी मेरी चूत को और उत्तेजित कर रही थी और थोड़ी देर बाद मैं झड़ गई। फिर विशाल जी ने अपना लंड मेरी चूत पर टिकाया, और मेरी चूत पर घिसने लगे। मैं अब उनका लंड लेने के लिए शादी कर रही थी, क्योंकि मेरी चूत में अब बहुत ज़ोर से चोदने की आग लगी थी।

लेकिन वो बस मेरी चूत को घिसे जा रहे थे। मुझसे रहा नहीं जा रहा था, तो मैंने अपनी जोड़ी फेलाई और विशाल जी से कहा-

मैं: प्लीज़ मुझे चोदो. अब मुझसे रहा नहीं जा रहा.

विशाल जी: ठीक है, लेकिन एक शर्त पर।

मैं: मुझे कोई भी शर्त मंजूर है. बस मेरी चूत की आग शांत कर दो।

विशाल जी: देख ले बाद में मुकरना नहीं है.

मैं: नहीं मुकरूंगी.

और फिर विशाल जी ने अपनी शर्त बताई।

विशाल जी: शरत ये है, कि तू आज से मेरी रखैल बन कर रहेगी।

चूत की आग के सामने मुझे और कुछ दिखा नहीं, और मैंने हा कर दी।

मैं: हा ठीक है, आज से मैं आपकी रखाइल.

विशाल: राखैल पता है ना क्या होती है?

मैं: नहीं.

विशाल: राखैल मतलब आज से तू मेरी है। और मैं जिसे चाहूँ, जब चाहूँ तुझे चुदवा सकता हूँ। और तुझे चोदना होगा.

मैं: मतलब?

विशाल: मतलब ये, कि आज से तू यहीं पर रहेगी और मेरी रखाल बैन कर रहेगी।

ये कहते ही विशाल जी ने एक झटका मारा, और थोड़ा लंड मेरी चूत में डाल दिया। चूत गीली होने के कारण लंड थोड़ा सा अंदर गया और मेरी सील टूट गई।

मेरी चूत से खून निकलने लगा, और मुझे बहुत दर्द होने लगा। मुझे सिर्फ इस फैसले पर अब पछतावा हो रहा था। मैं विशाल जी से गिड़गिड़ाने लगी, कि मुझे बहुत दर्द हो रहा था, और वो मुझे छोड़ दे। लेकिन अब बहुत देर हो चुकी थी।

अन्होने मेरी एक ना सुनी, और एक और झटका लगाया। और फिर 2-3 इंच का लंड और अन्दर चला गया. अन्होने फ़िर एक और झटका लगाया, और उनका पूरा लंड मेरी चूत के अंदर था। मैं दर्द से रोये जा रही थी, लेकिन विशाल जी को कोई फ़र्क नहीं था।

वो धीरे-धीरे मेरी चूत में अंदर-बाहर करने लगे। फिर धीरे-धीरे मेरा दर्द कम हुआ, और मुझे मजा आने लगा। विशाल जी की स्पीड भी बढ़ने लगी. वो मुझे अलग-अलग पोजीशन में चोदने लगे। उनका मेरे खून से भरा लंड मेरी चूत को फीका जा रहा था।

करीब-करीब 30-40 मिनट तक चोदने के बाद, विशाल जी झड़ने को आये। और वो मेरे अंदर ही झड़ गए। अन्होने लंड वैसे ही मेरी चूत में रखा, और वो मेरे ऊपर वैसे ही लंड अन्दर डाले हुए लेट गए।

उनका गरम माल मेरे अंदर पूरा मुझे फील हो रहा था। थोड़ी देर बाद उन्हें कुछ झटके और मारे और लंड बाहर निकला। उनका लंड मेरे खून, पानी और उनके माल से पूरा भीगा हुआ था। मेरी चूत से उनका माल निकल रहा था।

उनको जो माल निकल रहा था, वो एक छम्मच से लिया, और मुझे पीने को कहा। मैंने थोड़ी झिझक से वो सब पिया। फिर वो मेरे बाजु में लेट गए, और मुझे लंड चुनने को कहा। मैं उनके नीचे गयी, और उनका लंड चुनने लगी।

चूस्ते-चूस्ते उनका लंड पहले टाइट हो गया। फिर उन्होंने मुझे डॉगी स्टाइल में बिठाया, और लंड मेरी गांड के छेद पर रखा। उन्हें थोड़ी थूक डाली छेद पर, और फिर लंड अंदर डालने लगे। मुझे बहुत दर्द होने लगा, लेकिन चूत की चुदाई की थकान के कारण मैंने उन्हें छूने की कोशिश नहीं की।

मैंने उनको लंड डालने दिया. फिर वो मेरी गांड पर थप्पड़ मारते-मारते चोदने लगे। थोड़ी देर बाद उन्हें उनकी पैंट से बेल्ट निकाली, और उसे मेरी गांड और पीठ पर मारने लगे ज़ोर-ज़ोर से। मैं दर्द से बहुत रो रही थी।

जिंदगी में पहली बार इतना दर्द हो रहा था। लेकिन पता नहीं क्यों दर्द के साथ-साथ मुझे ये दर्द अच्छा भी लग रहा था। फिर उन्हें बेल्ट मेरे गले में बांध दी, और पीछे खींचने लगे। फिर वो मेरी गांड मार रहे.

करीब एक घंटा मेरी गांड मारने के बाद, वो मेरी गांड में ही झड़ गई। मैं वैसे ही नीचे गिर गई, और सो गई। तभी विशाल जी ने बेल्ट से मुझे एक ज़ोर से मारा और मुझे उठा कर कहा-

विशाल जी: तो क्या कर रही है बे, साली छिनाल, बहनचोद. मेरी राखाइल है तू. आज से जब तक मैं ना कहू, तुझे आराम नहीं मिलेगा। और तू इस कमरे से बाहर भी नहीं जाएगी, समझी?

मैने हा किया, और तुरंट बैठ गयी। उस दिन विशाल जी ने पूरे दिन मुझे चोदा, और रात को बहुत चोदा। उस दिन के बाद से मैं विशाल जी की रखील बन कर हमारे कमरे में रहने लगी। मैं घर के सारे काम करती हूं जैसे कि साफ-सफाई, खाना बनाना, कपड़े धोना वगैरा-वगैरा।

वो मुझे पूरा टाइम नंगा रखता है। ताकी जब भी उनका मन करे वो मुझे चोद सके। और वो मेरे गले में एक कुत्ते का पत्ता डाल के रखते हैं। पहले मुझे ये सब बहुत बुरा लगता था, लेकिन धीरे-धीरे मुझे ये सब बहुत पसंद आने लगा।

धन्यवाद!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds