April 16, 2024
माँ को चोदा

हमारी आज की हिंदी सेक्स कहानी जिसका शीर्षक है "गांडू बेटे की माँ को चोदा" इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

हमारी आज की हिंदी सेक्स कहानी जिसका शीर्षक है “गांडू बेटे की माँ को चोदा” में मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे चलिए शुरू करते हैं आज की देसी सेक्स कहानी

हेलो दोस्तों मेरा नाम राहुल है और मैं दिल्ली में जोर बाग का रहने वाला हूँ। मैं घर पर अपने माता-पिता और बड़े भाई के साथ रहता हूँ। हालाँकि मैंने कई चूतों का मजा लिया है लेकिन यह घटना मेरे जीवन की सबसे अजीब घटना है।

बात करीब 3 साल पहले की है जब मैं 11वीं क्लास में था। मैं उस वक्त 18 साल का था। मुझे बचपन से ही अपने लंड की मालिश करने का शौक था।

मैंने अपने लंड को खूब रगड़ा था जिससे उसका आकार और बनावट बहुत अच्छी हो गयी थी।

एक दिन मेरी क्लास के सभी दोस्त बाथरूम में कुछ कर रहे थे।

मैं वहां गया तो वे सब डर के मारे चले गये।

जब मैंने पूछा कि आप लोग क्या कर रहे हैं तो उन्होंने जो जवाब दिया उसे सुनकर मुझे हंसी आ गई।

वो सभी एक दूसरे को अपना लंड दिखा रहे थे।

उनमें मेरा एक दोस्त प्रदीप भी था जो मेरी ही उम्र का था।

वह दिखने में गोरा और पतला था। वह मुझे भाई कहकर बुलाता था।

ये कहानी प्रदीप की वजह से बनी है।

वो बोला- तुम भी अपना लंड दिखाओ ना?

मैंने उनके सामने अपना लंड निकाला तो वो सब देखने लगे।

कुछ हँसने लगे और कुछ मेरे लंड की तुलना अपने लंड से करने लगे।

मेरा लंड उन सबमें सबसे मोटा और लंबा था।

प्रदीप मेरे लंड को छूकर देखना चाहता था।

एक-दो बार उसने मेरे लंड को छुआ भी लेकिन मैंने उस वक्त उस पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया।

फिर हम सब वहां से चले गये।

मैं अक्सर प्रदीप के यहां पढ़ने जाता था क्योंकि वह पढ़ाई में बहुत होशियार था।

एक बार मैं उसके घर पढ़ने गया तो मजाक मजाक में हम दोनों एक दूसरे का लंड पकड़ने लगीं।

ये सब मस्ती में हो रहा था इसलिए मुझे कुछ अजीब नहीं लगा।

फिर ऐसे ही प्रदीप ने मेरा लंड पकड़ लिया और फिर छोड़ा नहीं।

वह उसे पकड़े रहा।

मेरे लंड में तनाव आना शुरू हो गया। जैसे-जैसे मेरे लंड का आकार बढ़ता गया, उसके हाथ की पकड़ भी लंड पर बढ़ती गयी।

मैंने कहा- अब रहने दो।

उसने मेरा लंड नहीं छोड़ा।

मैंने कहा- क्या कर रहे हो यार… अभी छोड़ो, आंटी देख लेंगी।

उसने कहा- मम्मी घर पर नहीं हैं। कोई नहीं देखेगा। भाई मुझे तेरा लंड देखना है।

मैंने मज़ाक करते हुए कहा- क्यों… मुँह में लेना है क्या?

उन्होंने इस बारे में कुछ नहीं कहा।

अब तक मेरा लंड पूरा तन चुका था।

मैंने सोचा कि दिखावा करने में क्या जाता है, वैसे भी तना हुआ है, चेन खोल कर दिखा दूँ।

जब मैं चेन खोलने लगा।

उसने कहा- भाई, सारी पैंट उतार दो, वैसे भी हम अकेले हैं। पैंट उतारते ही पूरा दिखेगा।

तो मैंने अपनी पैंट उतार दी। (माँ को चोदा)

फिर जैसे ही मैंने अपना अंडरवियर नीचे किया तो मेरा बड़ा लंड उसके सामने आ गया।

जैसे ही लंड सामने आया प्रदीप ने उसे पकड़ लिया।

प्रदीप का वह स्पर्श मेरे लंड को और भी सख्त बना रहा था।

वो मेरे लंड को आगे पीछे कर रहा था।

मुझे मजा आने लगा और उसी मदहोशी में मेरी आंखें बंद हो गईं।

फिर अचानक प्रदीप ने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा।

मेरी साँसें अचानक तेज़ होने लगीं।

मैंने प्रदीप से कहा- ये क्या कर रहा है?

फिर प्रदीप ने लंड मुँह से बाहर निकाला और बोला- तुमने ही तो कहा था, मैं भी वही कर रहा हूँ।

इतना कह कर उसने लंड मुँह में ले लिया और लंड का सुपारा चूसने लगा।

मुझे भी अच्छा लगने लगा। मैं भी उसके मुँह में अपना लंड पेलते हुए चोदने लगा।

मेरा लंड उसके गले तक जा रहा था।

अचानक वह उठकर बगल वाले कमरे में चला गया।

जब वह वापस आया तो उसके हाथ में नारियल का तेल था।

मैंने पूछा- ये क्यों लाये?

इस पर वह हंसने लगा और बोला- भाई, अब पता चल जायेगा!

उसने अपना पजामा उतार दिया और मुझसे कहा- मैं चाहता हूं कि तुम मेरी गांड को चोदो!

इतना कह कर उसने मेरे लंड पर तेल लगाना शुरू कर दिया।

मैं भी बहुत उत्साहित था।

उसने कई मिनट तक मेरा लंड चूसा था और अब मुझे अपने लंड को शांत करना था।

उसकी गांड बहुत गोरी और चिकनी थी इसलिए मैं उसे चोदने के पूरे मूड में था।

मैं अपने लंड पर तेल लगाकर बेड पर घोड़ी बन गया।

मैं अपना लंड उसकी गांड की दरार पर रगड़ने लगा।

मैंने उसकी गांड में लंड पेल दिया और उसे चोदने लगा।

उसने आसानी से मेरा लंड अपनी गांड में ले लिया और चुदाई में मेरा साथ देने लगा।

मुझे उसकी गांड चोदने में बहुत मजा आ रहा था।

उसको भी लंड से चुदने में बहुत मजा आ रहा था।

हम दोनों नशे में थे।

तभी अचानक उसकी माँ घर के अंदर आ गयी और उसने हमें ये सब करते हुए देख लिया।

यह देख कर वह प्रदीप को थप्पड़ मार कर अपने साथ ले गयी और पास के कमरे में बंद कर दिया।

जब वह वापस आई तो मैं अपनी पैंट पहन रहा था।

मैंने दबी आवाज़ में आंटी को सॉरी कहा और वहां से चला गया।

आंटी ने मुझसे कुछ नहीं कहा।

इसके बाद प्रदीप कई दिनों तक स्कूल नहीं आया।

मुझे उसकी चिंता होने लगी कि कहीं मेरी वजह से उसकी मां ने उसे बहुत पीटा न हो, इसलिए मैं उसके घर चला गया।

जब मैं घर पहुंचा तो अंदर कोई नहीं था।

आवाज लगाई तो कोई जवाब नहीं मिला।

तभी अचानक आंटी बाथरूम से बाहर आ गईं। (माँ को चोदा)

मैं उन्हें देख कर हैरान हो गया क्योंकि आंटी नहा कर बाहर आ चुकी थीं और उन्होंने सिर्फ तौलिया लपेटा हुआ था।

उसकी चुचियों की गीली दरार साफ़ दिख रही थी।

मैंने एक नजर उसके स्तनों की घाटी पर डाली और फिर अपनी नजरें घुमा लीं।

मौसी बोली- बैठ बेटा!

मैंने कहा- आंटी, प्रदीप कई दिनों से स्कूल नहीं आ रहा है।

दिल्ली में सस्ती और सेक्सी लड़कियां चुदाई के लिए बुक करे:

वो बोलीं- उनकी तबियत ठीक नहीं है। और उस दिन के लिए माफ़ करना, गुस्से में मैंने तुमसे चाय-पानी के लिए भी नहीं पूछा। बैठो मैं चाय बना कर लाती हूँ।

जब वो जाने लगी तो मैंने उसे रोकने की कोशिश की लेकिन वो नहीं रुकी।

फिर जब वो कपड़े पहनने के लिए जाने लगी तो उसके गीले बदन से टपक रहे पानी पर उसका पैर फिसल गया और मैंने उसे गिरने से बचा लिया।

लेकिन उसे संभालने के चक्कर में मेरा एक हाथ उसकी चूची पर लग गया और मेरे हाथ ने उसकी चूची को जोर से दबा दिया, जिससे उसकी चीख निकल गई- आआ!

मैंने सॉरी कहते हुए उसकी चूची छोड़ दी और उसे उठा लिया।

आंटी की चूची दबाने के एहसास से मेरा लंड खड़ा हो गया।

आंटी ने मेरा खड़ा लंड देखा और मेरी आँखों में देखा।

मैंने नजरें झुका लीं।

फिर न जाने क्या हुआ कि आंटी की चुचियों पर लिपटा तौलिया नीचे गिर गया और उनकी चुचियां मेरे सामने नंगी हो गईं।

मेरी आंखें फटी की फटी रह गईं। मैं आंटी की चुचियों को घूरने लगा।

उनके मोटे मोटे चुचों पर बड़े मटर के दाने जैसे गहरे भूरे रंग के निपल्स थे।

मैं स्तनों को घूर रहा था और आंटी उन्हें ढक भी नहीं रही थीं।

वो बस मुझे देख रही थी और मैं आंटी के गोरे नंगे बदन को देख रहा था।

फिर वो मेरे पास आई और मेरी आँखों में देखने लगी।

मुझे तो पता ही नहीं क्या हुआ मैंने आंटी का हाथ पकड़ कर अपने खड़े लंड पर रख दिया और आंटी ने मेरी पैंट के ऊपर से ही मेरा लंड पकड़ लिया।

मैंने अपने हाथ से उसकी चूची दबाई तो उसने मेरा दूसरा हाथ भी अपनी चूची पर रखवा दिया।

हम दोनों एक दूसरे के मन की बात समझते थे।

आंटी भी सेक्स की उतनी ही प्यासी थी जितनी मैं!

मैं दोनों हाथों से आंटी की चुचियां दबाने लगा और वो मेरे लंड को सहलाने लगीं।

अब हम दोनों के होंठ मिलने में देर नहीं लगी और मैं वहीं खड़ी नंगी आंटी को मसलने लगा।

उसके मुँह से आहें निकलने लगीं।

उसका बदन मुझे पागल कर रहा था।

फिर मैंने उसके गर्दन को चाटना शुरू कर दिया।

मैंने उसकी पैंटी खींच कर उतार दी।

मुझे उसकी चूत के दर्शन हो गये।

आंटी की चूत पूरी गीली हो चुकी थी, ये देखते ही मैंने अपने होंठ उनकी चूत पर रख दिए और तेज़ी से चाटने लगा।

मैं अपनी पूरी जीभ उसकी चूत में डाल रहा था। उसकी चूत से मादक खुशबू आ रही थी।

फिर मैं उठा और उससे बिस्तर पर चलने को कहा। (माँ को चोदा)

बिस्तर पर आते ही मैंने उसे घोड़ी बनाया और अपना लंड उसकी चूत पर रखा और रगड़ने लगा।

मैंने अपने लंड को चूत के द्वार पर रख कर अन्दर डाल दिया।

लंड आधा अन्दर चला गया और आंटी के मुँह से चीख निकल गयी।

मैंने देर न करते हुए पीछे से अगला झटका दे दिया, जिससे मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया और मैं उसे चोदने लगा।

उसके मुँह से मादक आवाजें निकल रही थीं।

तभी वो बोलीं- बेटा, जितना चाहो मुझे चोदो… लेकिन प्रदीप से दूर रहना। मैं तेरी रंडी बन कर तुझे ऐसे ही चुदूँगी।

उसकी ये बातें सुनकर मैं और जोश में आ गया और धक्के लगाने लगा।

उसे दर्द भी हो रहा था और मजा भी आ रहा था।

उसकी चूत पूरी गीली हो चुकी थी।

मैं तेजी से आंटी को चोदने लगा।

उसकी चूत चोदते समय अब पच-पच की आवाज आने लगी थी। मेरे धक्कों से आंटी के चूचे तेजी से हिल रहे थे और वो मजे से लंड ले रही थीं।

कुछ देर चोदने के बाद अब मेरा भी निकल गया।

मैंने आंटी की चूत से लंड निकाला और उन्हें सीधा किया और उनके होंठों और पलकों के पास अपने लंड को फिराने लगा।

आंटी आँखें बंद करके चुपचाप बैठी हुई थी।

तभी मेरा वीर्य निकल कर उसके होंठों और पूरे मुँह पर गिर गया।

आंटी का पूरा मुँह मेरे वीर्य से गीला हो गया था और मैं वहीं निढाल होकर पड़ा रहा।

आंटी उठीं और फिर से नहाने को कहा, अपने कपड़े उठाए और मुस्कुराते हुए बाथरूम में चली गईं।

मुझे नहीं पता था कि प्रदीप वहां है। प्रदीप ने सब कुछ देख लिया था।

कुछ देर बाद मैं प्रदीप के कमरे में गया।

वह उदास हो गया क्योंकि उसने अपनी माँ को मुझसे चुदते हुए देखा था।

तभी मुझे उसकी चिकनी गांड याद आयी; मैं उसे मनाने लगा।

मैं उसे मनाते हुए उसका पजामा उतारने लगा।

वो मुझे रोकने लगा और बोला- मम्मी आ जायेगी।

मैंने कहा- नहीं आऊंगी, अभी वो नहाने गई है, उसे टाइम लगेगा।

ये कह कर मैंने उसे बिस्तर पर उल्टा लिटा दिया। उसने उसकी चिकनी गांड पर नारियल का तेल लगाया और मैंने अपना लंड उसके छेद पर सेट करके उसके ऊपर लेट गया।

उसकी गांड बहुत टाइट थी।

मैंने धक्का लगाया और मेरा सुपारा अन्दर चला गया। मैं उसे चोदने लगा।

उसे चोदते हुए अभी दो-तीन मिनट ही हुए थे कि उसकी मां की आवाज आई।

हम दोनों जल्दी से उठ गये क्योंकि अब मैं प्रदीप को उसकी माँ के सामने नहीं चोद सकता था।

मैं उठा और जल्दी से अपनी पैंट पहन कर बाहर आ गया।

मेरा लंड अभी भी खड़ा था और मैं सेक्स के लिए तड़प रहा था। (माँ को चोदा)

जब वह बाहर आया तो आंटी दोबारा नहा कर बाथरूम से बाहर आ चुकी थीं।

उसने मेरा खड़ा लंड देख लिया। वो बोली- अभी तक सोया नहीं क्या?

मैंने कहा- आंटी आपको देखने के बाद तो बैठ ही नहीं रहा है।

मैंने हवस में कुछ नहीं सोचा और उन पर टूट पड़ा।

उनके मम्मों और होंठों को बुरी तरह से चूसने लगा।

फिर मैंने उसे लिटा दिया और उसकी चूत चाटने लगा।

मौसी ने पूछा- तुम प्रदीप के पास क्यों गये थे?

मै कहा माफ करो!

इतना सुनते ही उसने अपनी टांगें खोल दीं और मुझे चोदने का निमंत्रण देने लगी।

मैंने अपना लंड उसकी चूत में सैट किया और एक जोरदार धक्के के साथ लंड पूरा अन्दर कर दिया।

फिर मैंने धीरे-धीरे धक्के लगाना शुरू कर दिया।

वो भी मेरा पूरा साथ देने लगी।

वो मुझसे बोलने लगी- मैं भी बहुत दिनों से किसी बड़े लंड के दर्शन के लिए उत्सुक थी। आज तुम मेरी प्यास बुझा दो।

यह सुन कर मैंने भी उसके मम्मों को जोर से दबा दिया और उसकी चूत को चोदने लगा।

मैंने आंटी को करीब 10 मिनट तक रगड़ कर चोदा।

तब अचानक आंटी का शरीर अकड़ गया, वो मुझसे लिपटने लगीं और झटके खाकर शांत हो गईं।

उसकी चूत का रस निकल गया। मैं भी उसके गर्म रस के साथ ज्यादा देर टिक नहीं पाया और उसकी चूत में ही खाली हो गया।

झड़ने के बाद मैं आंटी के ऊपर लेट गया।

जब तक प्रदीप बाहर आया, हम दोनों सामान्य हो चुके थे।

फिर मैंने घर पर जाकर आंटी को कई बार चोदा।

इस तरह मैंने अपने दोस्त और उसकी माँ का खूब मनोरंजन किया।

उसके बाद वह शहर छोड़ दिया और दूसरी जगह चला गया, अन्यथा, मैंने उसकी गांड को फिर से चुदाई की और उसकी माँ को भी बार बार चोदा।

मुझे अपने दोस्त की गांड चुदाई कई बार याद आती है।

अगर आपको यह माँ को चोदा कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Surat Call Girls

This will close in 0 seconds