May 21, 2024
मौसा के घर में चोदा

आज की हिंदी सेक्स कहानी है "शादीशुदा बहन को मौसा के घर में चोदा और सीखा चुदाई का पाठ" इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

आज की हिंदी सेक्स कहानी है “शादीशुदा बहन को मौसा के घर में चोदा और सीखा चुदाई का पाठ” इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

Readxstories के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार। मैं दिल्ली से रवि हूं, मेरी उम्र 24 साल है।

मुझे सेक्स कहानियां पढ़ने का बहुत शौक है और इसे पूरा करने के लिए Readxstories से बेहतर कोई जगह नहीं है। मेरी ये कहानी दो साल पुरानी है। मतलब जब मैं 21 साल का था।

बात जून महीने की है। इन दिनों जब मुझे पढ़ाई से फुर्सत मिलती थी तो मैं अक्सर अपनी छोटी मौसी के घर चला आता था।

मैं आपको अपने बारे में बता दूँ कि मेरी 4 सगी मौसियाँ हैं। सबसे बड़ी मौसी की बेटी की शादी छह साल पहले हुई थी। मेरी 4 में से 2 मौसियाँ एक ही गाँव में रहती हैं।

मेरी चचेरी बहन और मेरे बीच बहुत करीबी रिश्ता है। हम एक दूसरे से सारी बातें शेयर करते हैं, चाहे वो घरेलू हो या सेक्सुअल… हम एक दूसरे से कुछ भी नहीं छिपाते।

एक बार गर्मियों के दिनों में मैं दस दिनों के लिए अपनी छोटी मौसी के यहाँ गया था और उन दिनों मेरी बहन भी वहीं थी। जब उसे पता चला कि मैं अपनी छोटी मौसी के यहाँ रहने जा रहा हूँ तो वह भी मेरे साथ वहीं रहने आ गयी।

जिस दिन मैं अपनी मौसी के घर आया तो शाम को मेरी बहन भी वहां आ गयी। हम सबने मिलकर खूब बातें की, फिर सबने खाना खाया और सोने की तैयारी करने लगे। मेरी मौसी और मौसा अपने कमरे में सोने चले गये।

मेरी इस मौसी के कोई संतान नहीं है। इस वजह से हम दोनों दूसरे कमरे में जाकर सो गये।

मैं और मेरी बहन पूरी रात अपने बारे में, अपने घर के बारे में और सेक्स के बारे में कुछ बातें करते रहे। हम दोनों ने रात को कुछ Readxstories कहानियाँ भी पढ़ीं और बातें करते-करते सो गये।

सुबह जब हम उठे तो देखा कि मौसा-मौसी दोनों तनाव में थे और फोन पर बात कर रहे थे।

हम दोनों उठे और अपनी मौसी से पूछा, तब हमें पता चला कि हमारी दादी को दिल का दौरा पड़ा था और उन्हें तुरंत पास के अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। इस कारण मौसी और मौसा का तुरंत वहां जाना ज़रूरी था।

मौसी ने मुझसे और मेरी बहन से कहा- तुम दोनों यहीं रुको, हम जाएंगे और वापस आएंगे।
हमने भी हाँ कह दी और मौसा-मौसी दोनों चले गये।

हम दोनों ने अपना दिन का काम ख़त्म किया और टीवी देखने लगे।
फिर मैंने अपनी बहन से कहा- चलो पोर्न वीडियो देखते हैं।
दीदी बोलीं- ठीक है।

मैंने बताया कि मेरे लैपटॉप में बहुत सारी पोर्न वीडियो हैं। आप टीवी बंद कर दीजिये।
दीदी ने हाँ कहा और टीवी बंद कर दिया। हम वीडियो देखने के लिए अपने कमरे में चले गए।

तभी मेरा फ़ोन बजा… मैंने मोबाइल उठाया और देखा तो मौसी का फ़ोन था।
मैंने तुरंत फोन उठाया और बात की तो मौसी बोलीं- दादी की तबीयत बहुत खराब है.. इसलिए मैं और तुम्हारे मौसा परसों सुबह तक घर आ पाएंगे।
अपनी बात ख़त्म करने के बाद मैंने अपनी बहन को बताया और उसने सिर हिलाकर इशारा किया।

हम दोनों पोर्न देखने बैठ गये। पॉर्न देखते समय मेरा लंड खड़ा हो गया था और मेरी पैंट को तंबू बना दिया था। जब मेरी बहन ने उस पर ध्यान दिया तो वह हंसने लगी।
दीदी ने मुझसे बड़े प्यार से कहा- जाओ और मुठ मारो!

इतना कह कर वह फिर हंसने लगी। मैं उठ कर मुठ मारने के लिए बाथरूम में चला गया और हाथ धो कर वापस कमरे में आने ही वाला था। फिर मैंने देखा कि दीदी अपने हाथों से अपनी चूत को ऊपर से ही सहला रही थी। मैं भी कमरे की दहलीज से ये नजारा देख रहा था। दीदी बहुत गरम हो गयी थी।

जैसे ही मैं कमरे में गया, दीदी ने तुरंत हाथ हटा दिया और वीडियो देखने लगीं।
कुछ देर बाद मैंने अपना हाथ दीदी के कंधे पर रख दिया, लेकिन दीदी कुछ नहीं बोलीं। वह पोर्न देखने में व्यस्त थी।

मैंने थोड़ी हिम्मत जुटाई और अपनी बहन के कंधे के दूसरी तरफ के स्तन को छुआ। (मौसा के घर में चोदा)
अब दीदी बोलीं- क्या कर रहे हो? मैं आपकी बहन हूं और क्या कोई किसी बहन के साथ ऐसा करता है?

मैं डर गया और तुरंत अपना हाथ हटा लिया। मेरे हाव-भाव देखकर दीदी जोर से हंस पड़ी और उन्होंने खुद ही मेरा हाथ अपने कंधे से हटाकर अपने स्तन पर रख दिया।

तभी दीदी ने नशीली आवाज में कहा- चल धीरे-धीरे मुझे सहला।
जैसे-जैसे मैं दीदी के स्तनों को सहला रहा था, दीदी जोर-जोर से कराह रही थी। दीदी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… हय…’ कर रही थी।

मैंने लैपटॉप एक टेबल पर रखा और अपनी बहन को चूमने लगा। पहले तो उसने मना कर दिया, लेकिन मेरे ज़ोर देने पर वो मान गयी। हम दोनों पांच मिनट तक एक दूसरे को चूमते रहे। वो भी मेरा बराबर साथ दे रही थी। मैं अपनी बहन को चूमने के साथ-साथ उसके स्तनों को भी मसल रहा था। उसके स्तनों की मालिश और उसके होंठों को चूमना एक साथ हो रहा था। जिसमें दीदी मेरा पूरा साथ दे रही थी।

फिर मैंने दीदी को बिस्तर पर लेटा दिया और उनकी कुर्ती उतार कर फेंक दी। मेरी बहन गोरी है और उसकी उम्र करीब 25 साल है। उनका फिगर 34-30-36 है, वो दिखने में भी खूबसूरत हैं। दीदी की लम्बाई पांच फुट एक इंच रही होगी।

जैसे ही मैंने अपनी बहन की कुर्ती उतारी, मेरी आंखों के सामने मानो बिजली चमक गई। मुझे ऐसा लग रहा था मानो मेरे सामने किसी अप्सरा का शरीर दिखाई दे रहा हो। (मौसा के घर में चोदा)

उसका दूधिया सफ़ेद शरीर और उसके बड़े स्तन अद्भुत लग रहे थे। दीदी ने अपने दूधिया स्तनों पर नीले रंग की ब्रा पहनी हुई थी, जिससे उनके दूधिया स्तन और भी ज्यादा दिख रहे थे।

हम कुछ देर तक चुम्बन और मालिश का खेल खेलते रहे। फिर मैं दीदी के पजामे का कमरबंद खोलने ही वाला था कि दीदी ने मना कर दिया।

मैंने अपना कहा बहन- मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ और बस एक बार तुम्हें चोदना चाहता हूँ, प्लीज मेरी एक इच्छा पूरी कर दो।

दीदी ने ना कहकर बात टाल दी लेकिन मैं मानने वालों में से नहीं था। मैंने जबरदस्ती बहन के पजामे का नाड़ा खोल दिया और अन्दर हाथ डाल कर उसकी चूत को सहलाने लगा।

मेरी बहन की बहुत कोशिशों के बावजूद भी वो मुझे रोक नहीं पाई और कुछ देर बाद उसे भी मजा आने लगा। वह जोर जोर से कराह रही थी। कुछ ही देर में मैंने दीदी का पायजामा भी उतार दिया।

अब दीदी मेरे सामने सिर्फ नीली ब्रा और पैंटी में थीं। कसम से दोस्तो, उस दिन मेरी बहन गजब लग रही थी।

मैं हमेशा अपने साथ कंडोम का एक पैकेट रखता हूँ, क्या पता कब और कहाँ मुझे किसी की चूत चोदने को मिल जाये।

मैं कुछ देर और दीदी को चूमता रहा। मैं एक हाथ से उसके स्तन दबा रहा था और दूसरे हाथ से उसकी चूत को सहला रहा था।

कुछ ही देर में दीदी की पैंटी गीली हो गयी थी। शायद दीदी की चूत ने पानी छोड़ दिया था। (मौसा के घर में चोदा)

दीदी अब बहुत गर्म हो गई थी, मैंने धीरे से उनकी ब्रा का हुक खोल दिया और उनकी पैंटी भी उतार दी। अब दीदी मेरे सामने नंगी थी। वो भी खुद को रोक नहीं पा रही थी।

उसने जल्दी से मेरी टी-शर्ट उतार दी और मेरे शॉर्ट्स को भी उतारने के लिए उसे नीचे खींच रही थी। मैंने उसकी मदद की और खुद को उसके सामने नंगा कर दिया। हम दोनों एक दूसरे के कामुक शरीर पर टूट पड़े।

दीदी मेरे लंड को सहलाने लगीं। मैं उसकी चूत में उंगली करने लगा। मैंने उसकी तरफ देखते हुए ओरल करने का इशारा किया, उसकी चूत के रस से सनी उंगली बाहर निकाली और मुँह में लेकर चूस ली।

दीदी भी मान गयी और अपनी पीठ के बल लेट गयी, अपनी टाँगें फैला दी और अपनी चूत खोल दी। मैं 69 पोजीशन में आ गया और उसकी चूत चाटने लगा। वो मेरे लंड को मुँह में लेकर चूस रही थी।

करीब दस मिनट तक हम एक दूसरे को चूसते रहे। इस चुसाई से दीदी ने एक बार पानी छोड़ दिया। ओरल सेक्स के दौरान मैंने अपना वीर्य भी उसके मुँह में छोड़ दिया।

दीदी ने तुरंत सारा पानी अपने मुँह से बाहर थूक दिया, लेकिन मैं उनका सारा पानी पी गया।
क्या मस्त खुशबू थी और उसका पानी तो बहुत स्वादिष्ट मलाई जैसा था। मुझे बहुत मज़ा आया।

अब दीदी मुझसे कहने लगीं- रवि प्लीज़, अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है… जल्दी से अपनी दीदी की चूत को अपने लंड से भर दो और चोद दो अपनी दीदी की चूत को। मैंने जल्दी से कंडोम पहना और दीदी की चूत पर रगड़ने लगा।

मैंने जोर लगा कर एक ही झटके में अपना लंड अन्दर पेल दिया।

दीदी बहुत जोर से चिल्लाईं और कहने लगीं- हरामी इसे जल्दी से बाहर निकाल। … बहुत दर्द हो रहा है … इतना बड़ा लंड तो मेरे पति का भी नहीं है, जल्दी हटो।

मैंने अपने होंठ दीदी की चूत पर रख दिया और एक और जोरदार धक्का देकर अपना लंड पूरा अन्दर डाल दिया, जो अभी आधा ही अन्दर गया था। (मौसा के घर में चोदा)

पूरा लंड अन्दर घुसते ही दीदी की आँखों में पानी आ गया। चूंकि मेरे होंठ मेरी बहन के होंठों पर थे इसलिए वो कुछ नहीं बोल पा रही थी। कुछ देर तक मैं बिना कुछ किए अपनी बहन के ऊपर लेटा रहा और फिर धीरे-धीरे अपने झटके शुरू कर दिए।

एक मिनट बाद दीदी को भी मजा आने लगा। उसका दर्द भी कम हो रहा था। अब वो भी मुझसे जोर जोर से धक्के लगाने को कह रही थी।

फिर मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी और जोर-जोर से अपनी बहन को चोदने लगा। दीदी भी अपनी टांगें उठा उठा कर पूरे मजे से चुदवा रही थी। मैंने उसके ऊपर झुकते हुए उसके एक दूध के निप्पल को अपने होंठों के बीच दबाया और अपने पूरे लंड से उसे चोदने लगा।

दस-बारह मिनट की चुदाई में दीदी दो बार झड़ चुकी थीं और अब मैं भी झड़ने वाला था। इसलिए मैंने अपने धक्के तेज़ कर दिए। अगले दो मिनट में मैं भी झड़ गया और अपनी बहन के ऊपर ही सो गया।

शाम को करीब आठ बजे तक हम एक दूसरे से चिपक कर सो रहे थे। तभी मेरे मोबाइल की घंटी बजी, इससे मेरी बहन जाग गयी। दीदी ने टेबल से मोबाइल उठाया और देखा तो वो मौसी का फोन था।

उसने मौसी से बात करने के बाद फोन उठाया और रख दिया। कुछ देर ऐसे ही सोने के बाद दीदी ने मुझे उठाया और हम दोनों नहाने के लिए बाथरूम में चले गये। हम दोनों ने एक साथ शॉवर लिया और मैंने अपनी बहन से कहा- हम कल तक घर पर नंगे ही रहेंगे। (मौसा के घर में चोदा)

दीदी ने हां कहा और शॉवर से बाहर आ गईं।

उस रात उसने नग्न अवस्था में ही खाना बनाया।
फिर हमने किचन में, सोते समय और अगले दिन नहाते समय सेक्स किया। दीदी को मेरे लंड से चुदना बहुत पसंद था। वो खुद बार-बार मेरे लिंग को मुँह में लेकर चूसती थी। उसे अपने पति के लंड से ज्यादा मेरे लंड से चुदने में मजा आया।

खाना खाते समय दीदी ने मुझसे कहा कि तुम्हारे जैसा लंड मुझे आज तक कभी नहीं मिला।

इस वजह से मैंने उससे पूछा कि क्या उसने जीजू के अलावा कोई और लंड लिया है।
इस पर दीदी हंस पड़ीं। वो बोली- चलो, पहले खाना खा लो, फिर बिस्तर पर तुम्हें सब बताऊंगी।

ये सारी रसभरी बातचीत आपको बहुत दिलचस्प लगेगी। अगर आप आगे की कहानी जानना चाहते हैं तो कृपया मुझे लिख कर बताएं।

आगे की कहानी : शादीशुदा बहन को मौसा के घर में चोदा और सीखा चुदाई का पाठ भाग 2

तो दोस्तों, आपको मेरी यह चुदाई की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं।

अगर आपको यह मौसा के घर में चोदा कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds