May 21, 2024
nanihal me ki bhai ne bur chudai

नमस्कार दोस्तों, आप सब कैसे हैं? मेरा नाम सोनिया है और मैं दिल्ली से हूँ। मैं एक कॉलेज का छात्र हूँ और बी.ई. की पढ़ाई कर रहा हूँ। दिल्ली विश्वविद्यालय से. मैं दिखने में सांवली हूं लेकिन मेरा फिगर बहुत अच्छा है

ननिहाल में की भाई ने बुर चुदाई की कहानी में पड़े कैसे ननिहाल में मेरे भाई ने मुझे चोदा और मुझे अपने लंड का दीवाना बना लिया और बहन चोद बन गया

मेरा फिगर 32-28-34 है. और मेरी हाइट भी अच्छी है 5 फुट 6 इंच है. मेरी पर्सनैलिटी देखकर अच्छे-अच्छों का लंड खड़ा हो जाता है और जब भी मैं बाजार जाती हूं.

तो हर कोई मेरी खूबसूरती और फिगर की तारीफ करता है और सीधी सी बात है, वो बस मुझे चोदना चाहते हैं। जब भी मैं ट्रेन या बस से यात्रा करता हूं

तो कभी-कभी लोग मुझे यहाँ छूते हैं और कभी-कभी मेरी गांड में अपना लंड डाल देते हैं, मुझे भी ये सब बहुत पसंद है और जब मैं स्कूल में थी तब एक बार मेरी चुदाई भी हुई थी और मेरा एक बॉयफ्रेंड था।

जिसने मुझे पहली बार चोदा लेकिन अब मैं उससे बात नहीं करती और मैंने उससे ब्रेकअप कर लिया है. अब मैं आपको अपने मायके में सेक्स के बारे में बताती हूं.

यह घटना अप्रैल की है जब मैं अपने सेमेस्टर के पेपर ख़त्म होने के बाद अपनी नानी के घर गयी था। हुआ यूं कि मां काफी समय से अपने घर यानी मायके नहीं गई थी और नानी की भी तबीयत ठीक नहीं थी तो मां ने सोचा कि क्यों न मैं मायके से वापस आ जाऊं. तो मैंने तुरंत माँ से कहा कि मैं भी चलूँगा, अब आप यहाँ नहीं रहोगी तो मैं बोर हो जाऊँगा। तो माँ ने कहा ठीक है तुम भी मेरे साथ चलो.

मेरी दादी मेरे मामा के साथ रहती थीं और मेरे मामा का एक ही बेटा था और मैं भी अपने माता-पिता की इकलौती बेटी हूं। फिर इसके बाद पापा ने हम दोनों के लिए रिजर्वेशन करा दिया था और हमने वहां फोन भी कर दिया था और बताया था कि हम अगली सुबह वहां पहुंचेंगे, उन्होंने भी कहा कि ठीक है.

फिर हम अपना सामान लेकर सुबह 8 बजे ट्रेन से निकल गये. हमें वहां पहुंचने में बस देर हो गई थी और फिर हम अगले दिन दोपहर में अपने मायके पहुंच गए. मेरा भाई यानि मेरे मामा का लड़का मुझे लेने आयीथा.

वह देखने में बहुत स्मार्ट लगता था और ऐसा लगता था कि वह जिम भी जाता होगा क्योंकि उसकी पर्सनालिटी बॉडी बिल्डर टाइप की लगती थी।

फिर उसने हमारा सामान अपनी कार में रखा और फिर उनके घर की ओर चल दिया. मैंने रास्ते में उससे पूछा, नेहाल कैसी है, तुम मुझे भूल गई हो, न कॉल करो, न मैसेज करो, कुछ नहीं।

वह उम्र में मुझसे छोटा है तो उसने कहा कि दीदी मैं अभी बी.कॉम की पढ़ाई कर रहा हूं और उसने कहा कि क्या बताऊं दीदी मुझे किसी से ज्यादा बात करने का समय नहीं मिलता है. तो मैंने कहा ठीक है कोई बात नहीं.

फिर ऐसे ही बातें करते हुए हम सब घर पहुँच गये और जैसे ही अंकल बाहर आये तो मैंने उनके पैर छूकर नमस्ते की और उन्होंने भी मेरे गाल खींचे और बोले अरे सोनिया तुम तो बहुत बड़ी हो गयी हो.

मैंने हंस के चाचा से भी कहा कि हां चाचा अब बड़े हो रहे हैं जबकि मां दादी से मिलने गई थीं. चाचा ने मुझसे कहा कि जब तक तुम्हें नहाने से फुरसत नहीं मिल जाती, तब तक माँ दादी के पास रहेंगी. मैंने कहा ठीक है फिर मैं नहाने चला गयी. मेरा कमरा मेरे भाई के बगल में था और 5 मिनट के बाद मैं नहाने चला गयी।

लेकिन मैं तौलिया ले जाना भूल गयी था. नहाने के बाद मैंने आवाज़ लगाई- कोई है क्या? तो मुझे किसी ने कोई जवाब नहीं दिया, मैं बहुत देर तक आवाज़ देती रही, फिर मेरे भाई ने मुझसे पूछा कि दीदी क्या आप नहा लीं? आंटी आपसे पूछ रही हैं, मैंने कहा कि मैं नहा चुका हूँ लेकिन मैं तौलिया लाना भूल गयी हूँ, कृपया मुझे तौलिया दे दो।

जैसे ही मैंने थोड़ा सा दरवाजा खोला और उसका पैर फिसल गयी, दरवाजा पूरा खुल गयी और मैं नीचे गिर गयी. उसने मुझे बिल्कुल नंगा देखा.

मैंने शर्मा का तौलिया उठाया और अपने शरीर को छुपाने लगी और उसने भी उठकर मुझसे सॉरी कहा और हँसते हुए जल्दी से चला गयी। मुझे बहुत शर्मिंदगी महसूस हो रही थी लेकिन मैं क्या कर सकता था? मैंने भी उससे कुछ नहीं कहा और उसने भी मुझसे कुछ नहीं कहा.

मैं जैसे ही नीचे गयी तो मां ने कहा कि मैं नहा लूंगी, जब तक तुम अपनी दादी से मिलो. तब मैं अपनी दादी के पास बैठकर बातें कर रहा था, तभी मेरा भाई वहां आयीऔर मेरी दादी के लिए दलिया लेकर आयीथा.

उसने मेरी तरफ देखा और मैंने उसकी तरफ देखा और हम दोनों मुस्कुराये। फिर ऐसे ही दिन बीत गयी और रात आ गयी. फिर हम सब इधर उधर की बातें करते हुए खाना खा रहे थे. खाना खाने के बाद हम सब सोने जाने लगे तो मैंने चाची से पूछा कि क्या आप मुझे रात को एक गिलास दूध देंगी? तो उन्होंने कहा हां बिल्कुल.

फिर हम सब सोने लगे, रात को मेरी नींद खुली तो मुझे बहुत प्यास लगी थी तो मैं किचन की तरफ जाने लगी और भाई का कमरा मेरे बगल में था. उसके कमरे की लाइट जल रही थी इसलिए मुझे आश्चर्य हुआ कि वह इतनी रात में क्या कर रहा था। फिर जैसे ही मैं एक कदम आगे बढ़ा तो मुझे सिकरिया भरने की आवाज सुनाई दी.

तो मैंने उसके दरवाज़े से झाँककर देखा तो दंग रह गयी। वह अपने विशाल लिंग को हाथ में लेकर हिला रहा था और मुझे भी गुस्सा आ रहा था क्योंकि वह मेरी ब्रा और पैंटी को सूंघ रहा था, मेरा नाम ले रहा था और हस्तमैथुन कर रहा था।

मैं तुरंत कमरे में गयी और पूछा कि वह क्या कर रहा है। तो उसने झट से अपना लंड अन्दर डाला और ब्रा पैंटी नीचे फेंक दी. फिर उसने कहा कि दीदी यह कुछ नहीं कर रहा है, मैंने भी सोचा कि इसका वीर्यपात हो गयी होगा, बेचारे के पास करने के लिए दो दिन हैं और मैं वहाँ से चला गयी। मेरे पास बहुत सारी सेक्सी ब्रा और पैंटी हैं इसलिए मुझे इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता।

लेकिन अगले दिन फिर मेरी ब्रा पैंटी गायब हो गई और मुझे पता चल गयी कि ये किसका काम था. मैंने उसे पकड़ने का प्लान बनाया. जब सब लोग खाना खा रहे थे तो मैंने कहा, भाई मेरे कपड़े चोरी हो गये हैं, पता तो लगाओ कि किसने चोरी की है।

यह | वह बोला बहन मैं जरूर पता लगाऊंगा। फिर अगली रात जब वो मेरी ब्रा और पेंटी को सूंघ रहा था तो मैंने पीछे से कहा कि भाई मुझे चोर मिल गयी है. वह डर गयी और बोला, मुझे माफ कर दो। तो मैंने कहा कि ये पगले ब्रा और पेंटी क्यों सूंघ रहा है, मेरी चूत की खुशबू तो सूंघ लो.

वो मुझे पागलों की तरह देख रहा था और मैंने अपनी शॉर्ट्स उतार कर उसे अपनी चूत दिखाई और कहा कि आओ. मैं उसका लंड पहले ही देख चुकी थी इसलिए मुझे पता था कि मैंने घाटे का सौदा नहीं किया है.

वो एक बच्चे की तरह मेरी चूत को चाटने लगा और मैंने कहा- आआआअहह आआम्म्म्म उम्म्म्म कमीने, अब मेरी पूरी चूत चाट और मेरा सारा पानी पी जा। वो ये सब कहने लगी और फिर मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए.

वो कुतिया की तरह मेरी चूत चाट रहा था और मैं कामुक सिसकारियाँ निकाल रही थी। मैंने भी उसके मुँह को अंदर तक धकेल दिया और उसके मुँह पर पेशाब कर दिया।

वो सब पी गयी और फिर उसने अपना लम्बा लंड बाहर निकल के कहा दीदी इसको मुह में लो प्लीज | मैंने तुरंत उसकी बात मानी और उसका लम्बा मोटा लंड मुह में लेलिया जैसे ही मु में लिया उसने मुठ गिरा दिया |
मैंने कहा क्यों आज तक बुर चुदाई नहीं की है क्या मादरचोद ?
एक तो मैं ने तेरा लंड मु में लिया तो तू ने तुरंत ही मुमे जार दिया दल्ले बहनचोद रंडी के पूत।

उसने कहा आप पहले हो दीदी | तो मैंने कहा मैं सब सिखा दूंगी और उसका मुरझाया हुआ लंड फिर से चूसने लगी | फिर मैंने कहा चल देर मत कर मेरे बूब्स को चूस और इतना करवाते हुए मैंने उसका लंड पकड़ अपनी चूत में डलवा लिया | अआह्ह्ह क्या मज़ा आयीथा मुझे |

अम्म्मम्म्म्मम्म्म्म उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म आअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह बस ऐसी ही आवाजें आ रही थी छत पर | फिर मैंने उसका मुठ अपने बूब्स पर गिरा लिया पर उस कमीने का लंड फिर भी खड़ा था | फिर मैं उसे नीचे लेकर गयी और तीन बार चुदवाने के बाद उसका लंड शांत हुआ | फिर तो हमने चुदाई के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds