April 16, 2024
Sautela baap ne ki bur chudai

मेरा नाम मोनिका है. मैं 19 साल की हूं. आज की कहानी में पड़े मम्मी की गैर हाजिरी में सौतेले बाप ने की बुर चुदाई मेरे असली पिता की मौत बहुत साल पहले हो गई थी। मम्मी ने दूसरी शादी कर ली और मैं अपने सौतेले पिता को पापा कहती हूं। मम्मी की नौकरी कुछ ऐसी है कि उन्हें शहर से बाहर आना-जाना पड़ता है। लेकिन पापा शाम 5 बजे के बाद ड्यूटी से वापस आ जाते हैं। पापा बहुत लम्बे, स्मार्ट और हैंडसम हैं।

एक दिन मम्मी को 2 दिन के लिए काम शहर से बाहर जाना पड़ा। तो मैं और पापा अकेले घर। शाम को मैंने पापा को बताया कि मैं अपने दोस्त के घर जा रही थी। लेकिन जब मैं गई तो मेरी सहेली घर थी ही नहीं। तो मैं वापस आ गयी.

जब मैं वापस आया तो पापा के कमरे से आवाज आ रही थी। मैंने रूम का दरवाजा खोल के देखा तो पापा एक लड़की की चूत में फिंगरिंग कर रहे थे, और वो लड़की पापा का लंड चूस रही थी। वो दोनों मुझे देख के चौंक गए एक-दम, और मैंने जल्दी से दरवाजा बंद कर दिया। फिर मैं भाग के अपने कमरे में चली गई। रात तक मैं बाहर नहीं गई, और ना ही पापा आए मुझे बुलाएं।

फिर रात को 1-2 बजे पापा ने दरवाजा खटखटाया। मैंने दरवाजा खोला तो पापा ने सिर्फ ट्राउजर पहना था। उफ्फ मैं तो पापा को देखती रह गई। आज से पहले कभी ऐसी फीलिंग नहीं आई थी। पापा की भीगी-भीगी चेस्ट और उसके हल्के-हल्के बाल थे।

मैंने पूछा: जी पापा, कोई काम?

उनको ने कहा: बहार बारिश हो रही है, और कुछ सामान अंदर रखना है। मेरे साथ आ कर रखवा दो.

मैं बहार गई और बारिश में पूरी भीग गई। पापा मेरे बूब्ज़ को देखते जा रहे थे। लेकिन मैं थोड़ी असहज भी हो रही थी। फिर हम अंदर आ गए और लाइट गई हुई थी। पापा ने तौलिया पकड़ा, और कहा-

पापा: आओ मैं तुम्हारे बाल सुखा दूं.

मैं कुर्सी पर बैठ गई और पापा ने पहले मेरे बाल सुखाए। फिर आहिस्ता-आहिस्ता मेरी गर्दन से होते हुए तौलिये को मेरे स्तन तक ले आएं और घिसे हुए मेरे कपड़े भी सुखाने लगे। पर उसके साथ-साथ मेरे स्तन भी मसल रहे थे।

मैं एक-दम घबरा गई, और उठ के कहा: मैं कमरे में जा रही हूं।

पापा मेरी बाजू पकड़ी और कहा: रुको, लाइट नहीं है और मौसम भी खराब है। तो आज रात एक ही कमरे में सोना चाहिए। मैंने हिचकिचाते हुए कहा-

मैं: नहीं पापा मुझे कोई मसला नहीं है, मैं तो कमरे में आराम से जाऊंगी।

पापा: मैंने कहा ना मौसम ठीक नहीं. मैं तुम्हारे साथ सोऊंगा.

फ़िर पापा मुझे अपने कमरे में ले गए और कहा: तुम लेट जाओ, मैं नहा के आता हूँ।

फिर मैंने तकिया और कंबल लिया, और सोफे पर लेट गई। कुछ आधे घंटे बाद पापा नहा के आये। मैं तो चुकी थी. उन्हें मुझसे उठाया और मैंने देखा कि उन्हें सिर्फ नीचे तौलिया बांधा हुआ था और वो बहुत हॉट लग रहे थे। अनहोनी मुझे कहा-

पापा : तुम यहाँ क्यों लेती हो? बिस्तर पर आओ.

मैंने कहा: नहीं पापा, मैं ठीक हूं यहीं।

उन्हें मुझे बाजु से पकड़ कर उठाया और कहा: आ जाओ, चलो बिस्तर पर। कभी तो बात सुना करो मेरी.

खैर मैं चुप करके बिस्तर पर उनसे काफी दूर हो कर लेट गई। वो अपना फोन देखने लग गए, और मैं बस चुप करके लेती रही।

फिर उन्होंने कहा: अरे तुम इतनी साइड पे क्यों लेती हो? क्या तुम्हारे पापा होते तो ऐसे असहज होते? मुझे भी अपना पापा ही समझा।

और उन्हें ये कहते हुए अपनी बाहे खोली और कहा: आओ मेरे बाजू पे आ कर लेटो।

मेरा दिल ज़ोर-ज़ोर से धड़कने लगा। पर मैं लेट गई उनकी बाजू पे सर रख के। फ़िर उन्हें अपना हाथ मेरी कमर पे रख दिया, और हल्का-हल्का सहलाने लगे।

उन्होंने कहा: तूने आज मुझे और प्रीति को एक साथ देखा, ये बात अपनी माँ को तो नहीं बताएगी ना?

मैंने कहा: नहीं पापा, मैंने कुछ नहीं देखा।

पापा ने हल्का-हल्का हाथ मेरी बूटी पे सहलाना शुरू किया, और कहा: सच में? ये भी नहीं देखा कैसे वो मेरा लंड चूस रही थी?

मैं: पापा आप ये क्या कह रहे हैं?

पापा: अच्छा चलो छोड़ो, ये बताओ तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है?

मैं: नहीं पापा.

पापा: तो कभी किसी के साथ चुदाई की कोशिश नहीं की?

मैं: नहीं पापा.

पापा का लंड तौलिया के नीचे नजर आ रहा था।

पापा: दूर से क्या देख रही है, हाथ लगा के देख ले।

ये कहते हुए पापा ने मेरा हाथ अपने लंड पर रख दिया। उफ्फ इतना मोटा लम्बा और गरम लंड था उनका. उनको मेरा हाथ पकड़ा हुआ था, और मेरे हाथ से अपना लंड सहलाने लगे। मेरी आंखें बंद थीं, और वो हल्का-हल्का मेरी गर्दन को छूने लगे।

मैं मदहोश होने लग गई, और साथ-साथ कहने लगी: पापा ये ठीक नहीं, ये गलत है। मम्मी को पता चल जायेगा.

पापा मेरे ऊपर आ गए और मेरी शर्ट उतार दी। मैंने नीचे ब्रा नहीं पहनी थी, और मेरे निपल को ज़ोर से उंगलियों में दबा के कहने लगे-

पापा: जब तेरी मम्मी को ये नहीं पता चला के मैं उसके पीछे से किस-किस लड़की को घर लाके चोदता हूँ, तो हमारे बारे में कैसे पता चलेगा?

मैं अंदर से डर रही थी कि मम्मी को किसी तरह पता चल जाएगा। फ़िर पापा ने मेरे स्तन चूसने शुरू किये, और हल्का-हल्का मेरे निपल्स पर काटने लगे।

मैंने पापा को कहा: पापा रुक जाओ प्लीज, मुझे नहीं करना ये सब। मैं मम्मी को बता दूंगी सब कुछ।

पापा मेरे ऊपर से उतरे, और मुझे बालों से पकड़ के कहा: क्या कहेंगे तूने? मम्मी को बताएगी? पहले तो मैं तुझे प्यार से चोदने वाला था। लेकिन अब तेरी चूत फाड़ दूँगा।

ये कहते हुए उन्होंने मुझे उल्टा किया, और मेरी बूटी पे स्पैंक करने लग गए। 2-3 स्पैंक्स से हाय मेरी बूटी पिंक हो गई। पर वो रुके नहीं और 20 दफा मुझे स्पैंक किया और कहा कि मैं साथ काउंट करु। मैं गिनती करते हुए आहें भर रही थी। और मेरी चूत पूरी लाल हो गई थी।

उसके बाद उन्होंने मुझे खड़ा किया, और मेरी पैंटी ज़ोर से ऊपर की तरफ खिंचने लगे। इसे मेरी चूत में दर्द हो रहा था. मैं चिल्लाने लगी, और पापा साथ-साथ कह रहे थे, “बतायेगी अब किसी को”?

फिर उन्हें मुझे बिस्तर पर फेंक कर मेरी पैंटी उतार दी, और अपना लंड मेरी चूत पर जोर से मारने लगे। मैं मदहोश हूँ कर आहें भर रही थी। फ़िर उन्होंने लंड मेरी चूत पर मारते-मारते एक-दम से अंदर डाल दिया और मैं तड़प उठी। उसके बाद उनहोने मुझे चोदा।

मैं कहती रहती हूं: पापा बस करो प्लीज। आआहह पापा बस बहुत दर्द हो रहा है आआह आआआह। आपका लंड बहुत बड़ा है पापा आअहह.

फिर पापा जब डिस्चार्ज होने लगे, तो अपना लंड निकल के मुझे बालों से पकड़ लिया, और मेरे मुँह में लंड डाल के अंदर बाहर करने लगे। उन्हें मेरे मुँह में डिस्चार्ज कर दिया, और तब तक लंड बाहर नहीं निकला, जब तक मैं सारा निगल नहीं गयी।

उसके बाद मैं निधाल हो कर लेती रही। फ़िर पापा ने मुझे अपनी बाहों में लिया और मेरे स्तन आराम-आराम से चूसते रहे। ऐसी ही सुबह हो गई. अब जब भी मम्मी बाहर जाती थी, तो पापा मुझे ऐसे ही चोदते थे, और मुझे भी बहुत मजा आता है।

तो दोस्तों आज की कहानी आपको कैसी लगी हमें कमेंट के माध्यम से बताएं। ऐसी ही और कहानियां पढ़ने के लिए वेबसाइट को सब्सक्राइब करें ताकि आपके पास सबसे पहले ऐसी ब्रूटल वर्ल्ड सेक्स स्टोरियां पहुंच पाएऔर आप भी अपने मन कीअंतर्वासना को शांत कर पाए। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Surat Call Girls

This will close in 0 seconds