May 14, 2024
Sauteli bahan ki Shiddat se chudai ki

मेरा नाम मोनू है, मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ। आज मैं आपको अपनी बहन की शिद्दत से चुदाई की कहानी बता रहा हूँ. मेरा बाप शुरू से ही चूत का भूखा आदमी था. और मेरे पैदा होने से पहले उसने कई लड़कियों की इज्जत लूटी थी.

पहली शिकार उसकी बहन थी. हाँ, यह बिल्कुल सच्ची खबर है कि मेरे पापा ने अपनी जवान बहन को दोपहर में मुँह पर रुमाल रखकर चोदा। इस मामले को लेकर काफी हंगामा हुआ था.

मेरे उद्दंड पिता का व्यवहार देखकर उन्होंने तुरन्त विवाह कर लिया। अब तो मेरा बाप मेरी नयी बीवी को दिन रात चोदता रहता है. लेकिन इससे पहले कि वह ज्यादा आनंद ले पाता, पहली औरत जिससे मैं बच्चा था, मर गई।

मेरी मां किसी बीमारी से पीड़ित थीं. मैं उस वक्त 2 साल का था. अभी मेरी माँ की चिता ठंडी भी नहीं हुई थी कि मेरे पापा को चूत की चाहत होने लगी. उन्होंने दूसरी शादी कर ली. मेरे पापा को एक नयी बीवी मिल गयी और उसके साथ एक नयी चूत भी.

इससे पहले मेरे पापा ने मेरी नयी माँ को खूब चोदा था और उनकी भी मौत हो गयी थी. दोस्तों मैं जानता हूं कि आपको यह सुनकर अजीब लगेगा कि एक आदमी 2 पत्नियों को कैसे खो सकता है, लेकिन यह बिल्कुल सच है।

अब मेरी दूसरी सौतेली माँ के मुँह से पानी टपकने लगा तो मेरे पिता बहुत डर गये। जब उन्होंने अपनी कुंडली पंडित को दिखाई तो उन्हें पता चला कि कुछ गड़बड़ है। मेरे पिता का घर ख़राब चल रहा है.

यह भी पता चला कि उनकी तीसरी शादी के बाद उनकी नई पत्नी उनका साथ देगी और न तो उन्हें मारेगी और न ही उन्हें छोड़ेगी। मेरा घर और मेरे पिता पूरे मोहल्ले में हंसी का पात्र बन गये थे.

हर कोई हमेशा मेरे पिता के बारे में बात करता रहता था. ‘ देखना !! ये मोनू का घर है. उसका पिता हर साल एक जवान लड़की लाता है और उसे खूब बहकाता है। लेकिन कोई भी चूत एक या दो साल से ज्यादा नहीं टिकती.

मोनू के पिता शेन वार्न हैं। 2 महिलाओं को बर्खास्त कर दिया है. अब वह तीसरी औरत लाने जा रहा है’ सब इसी तरह की बातें करते थे. धीरे धीरे मैं भी जवान हो गया. मुझे नहीं पता कि मेरे पिता का जन्म किस समय हुआ था.

उसको चूत की बहुत इच्छा हो रही थी. मेरे पिता ने तीसरी बार शादी करने का फैसला किया. उन्होंने पूरे उत्तर प्रदेश में कानपुर, लखनऊ, दिल्ली, इटावा, मैनपुरी आदि स्थानों की यात्रा शुरू कर दी।

लेकिन कोई भी आदमी अपनी बेटी मेरे पिता को देने को तैयार नहीं था. सभी ने कहा कि यह उसके पिछले जन्मों के पापों के कारण है कि जो स्त्री उसे लाती है वह उसे खा जाती है। जैसे-जैसे सप्ताह और महीने बीतते गए।

मेरे पापा को चूत की तीव्र इच्छा होने लगी. मेरे पिता एक छोटा सा मेडिकल स्टोर चलाते हैं। अब वह मुझे दुकान पर बैठाने लगा। वह बस मोटरसाइकिल पर घूमता रहेगा और अपने लिए लड़की ढूंढता रहेगा।

मेरे बाप को चूत की बड़ी जोरों की तलब लगने लगी| मेरा बाप एक छोटा मेडिकल स्टोर चलाता है| उसने अब मुझे दुकान पर बिठाना शुरू कर लिया| मोटर साइकिल वो बस रिश्तेदारी में ही टहलता रहता और अपने लिए लडकी ढूंढ़ता रहता|

पर अब हालत बदल गये थे| कोई भी बाप अपनी लडकी को मेरे मनहूस बाप को देने को तयार नही था| जब काम न बना तो मेरे बाप ने रिश्तेदारी, पट्टीदारी में कह दिया की जो कोई उसकी शादी करवाएगा उसे वो १ लाख का इनाम देगा|

मेरे रिश्तेदार भी बड़े लालची थी| कुछ दिन बाद ही एक विधवा औरत का रिश्ता आ गया|मेरे बाप ने झट से उससे शादी कर ली| मेरी सौतेली माँ की एक जवान लडकी भी थी| पर ये बात मुझे नही पता चली|

अभी २ महीने पहले की मेरी तीसरे नंबर की सौतेली माँ की जवान लडकी काजल मेरे घर आ गयी| मेरे बाप ने काजल को लाने मुझे रेलवे स्टेशन भेजा| जैसे ही वो ट्रेन से उतरी मेरा उखड़ा उखड़ा मूड तुरंत बन गया|

इसकी माँ की !! तुरंत ये मेरे मुँह से निकल गया|भाई वो सच में बड़ी कमाल थी| नशीली आँखें, गोरे गोरे हाथ पैर, गोरी गोरी पतली पतली उँगलियाँ| पहली नजर में काजल मेरी नजर और आँखों में बस गयी|

वो अच्छी खासी कद काठी वाली लडकी थी| मेरे घर में सिर्फ २ कमरे ही है इसलिए मेरे बाप ने मुझे हुक्म दिया की काजल मेरे साथ मेरे कमरे में रहेगी|काजल के बोलने का तरीका मुझे बहुत जादा पसंद आया|

वो बड़ी प्यारी लगी मुझे| वो बड़े प्यार से धीरे धीरे बोलती थी| मैं अपनी तीसरे नंबर की सौतेली माँ को कुछ जादा पसंद नही करता था, पर काजल को देख में मुझे अच्छा लगा| काजल की शादी हो चुकी थी|

पर पति से कुछ झगड़ा हुआ था| इसलिए वो हमारे घर में आ गयी थी| काजल मेरे कमरे में साथ में पहने लगी|तुरंत मेरे दिमाग ने उसे अपना दोस्त मान लिया| मुझे काजल में अपना एक अच्छा दोस्त मिल गया था|

एक दिन वो रो रोकर अपने पति के बारे में बताने लगी की किस तरह से उसका पति उसके साथ मारपीट करता है| अपनी कहानि सुनाते सुनाते काजल होने लगी| मुझे उस पर कुछ जादा ही प्यार आ गया|

मैंने उसे सीने से लगा लिया ‘मत रो बहन !! मत रो!!’ मैंने कहा|रिश्ते में काजल मेरी बहन लगती थी, पर सच कहूँ तो मुझे उसे देखते ही प्यार हो गया था| पहले की दिन से जबसे मैंने उसे देखा था मैं उसका दीवाना हो गया था|

आज जब काजल बड़े बड़े मोटे मोटे आंसू बहा रही थी, मैंने उसे सीने से लगाकर दिलासा दे रहा था|काजल मुझे अपना सौतेला भाई समझ के सिसक रही थी| मैं उसके रोते हुए नही देख पा रहा था|

पता नही क्या हुआ मैंने काजल को चूम लिया| मैंने झुककर उसके आशुं से बहते गोरे चिकने गाल को चूम लिया| काजल को कुछ गलत लगा| मैं उसका सौतेला भाई था| वो हट गयी और दूर हो गयी|

रात में वो मेरे कमरे में सो रही थी| मुझे चुदास लगी थी|काजल जैसी हसीन लडकी कोई रोज रोज नही मिलती| ये सब सोचकर मैं उसके दुसरे बेड पर चला गया| उसका बेड मेरे बेड से कोई ७ ८ फिट दूर थी|

वो गहरी नींद में सो रही थी| मैंने उसके बगल लेट गया| उसके हाथ पर मैंने अपना हाथ और पैर पर मैंने अपना पैर रख दिया| वो जग गयी|भाई !! ये सब क्या है? क्या कर रहे हो ये??’ वो अपनी टिपिकल स्टाइल में बोली|

जिस तरह वो बड़ी धीरे धीरे बड़े प्यार से बोलती थी उसी तरह बोली|बहन!! तुम्हारी दुखी कहानी सुनकर मैं तुमसे प्यार करने लगा हूँ| जिस दिन मैं तुमको लाने रेलवे स्टेशन गया था उसी दिन से तुम मेरी आँखों में बस गयी हो|

मैं तुमसे प्यार करता हूँ| तुमको मैं अपना प्यार देना चाहता हूँ| पर कोई जबरदस्ती नही है!’ मैंने काजल का हाथ पकड़ के कहा| वो सोच में पड़ गयी|फिर वो मान गयी| सायद उसको भी लंड चाहिए था| मैंने उसको बाहों में कस लिया|

दोस्तों, वो इतनी प्यारी थी की मैंने उसको बड़ी सम्भाल के मैंने उसको पकड़ा था| सच में वो बहुत सुंदर थी| उस जैसी प्यारी लडकी से कोई आदमी मारपीट कैसे कर सकता है|यही बात मैं बार बार सोच रहा था|

मैंने आगे बढ़कर काजल के गुलाबी पंखुडियां जैसे होठ पर चुम्मी ले ली| वो मान गयी| सर हिलाकर मुझे मूक सहमती थी| मैंने काजल की कमर में हाथ डाल उसे अपनी तरफ खींचा| फिर उसके ओंठ पीने लगा|

उसकी सांसों की खुसबू मेरी साँसों में गयी|मैंने कई बार काजल की खुबसुरत आँखों में चूम लिया| वो मुझे बहुत सुंदर लगी| मेरे हाथ उसके उरोज छूने को बेताब थे| मैंने उसके सूट के उपर से काजल के मम्मो का पता लगाया

फिर दाबने लगा| पर उपर से कुछ ख़ास मजा नही आ रहा था| मैंने अपना हाथ उसके सूट में नीचे से डाल दिया और उपर उसके मम्मों तक ले आया|काजल के मलाई के गोले ब्रा की दीवारों में कैद थे|

इसलिए मैंने काजल को हल्की करवट दिलाई और पीठ में हाथ डाल के उसकी ब्रा को खोल दिया| अब मेरी सौतेली बहन के शानदार मलाई के गोले ब्रा की दीवार से आजाद हो गये थे|

मैंने बिना देर किये सूट के भीतर से उमरी के चूचो को हाथ में ले लिया और दबाने लगा|वो मचलने लगी| मेरे हाथ काजल के मम्मो का साइज़ नापने लगे| मैं जोर जोर से उसे दबाने लगा| १० १५ मिनट बीते होंगे की काजल चुदासी हो गयी|

‘भाई! आप सूट उतार कर पी सकते हैं. उसने कहा, ‘मुझे कोई आपत्ति नहीं है।’ मैंने उसे बैठाया और सूट उतार दिया. ब्रा भी उतार दी. काजल फिर लेट गयी. मैं अपनी सौतेली बहन के दूध पीने लगा.

काजल इतनी गोरी और चिकनी थी कि मुझे उसके स्तनों की नीली नसें दिखाई दे रही थीं। हकीकत में वह किसी अफसर से कम नहीं थीं. मैं उसके दूध पीने लगा. मैंने उसके शानदार स्तनों को चूसना शुरू कर दिया।

उसके स्तनों पर बड़े काले गोलाकार छल्ले थे। वो बहुत ही कामुक लड़की थी. मैं काजल के दूध जोर जोर से पी रहा था. बहुत जोर से दबा रहा था. मैं एक पल के लिए वहशी बन गया था.

मैं अपनी सौतेली बहन के आमों को जोर जोर से दबा रहा था. काजल को भी कामुकता महसूस होने लगी थी. जब मेरा मन काजल के स्तनों से भर गया तो मैंने अपना लोअर उतार दिया. फिर निक्कर उतार दी.

मेरा लंड मेरी सौतेली बहन को चोदने के लिए तैयार था. शायद मैं आपको बताना भूल गया कि काजल के होंठ पतले, बहुत सुंदर और बहुत गुलाबी थे। मेरी बहन के होंठों को चोदने की इच्छा जाग उठी. मैंने अपना लंड काजल के होंठों से लगा दिया.

वो चूसने लगी. उसने अपनी आंखें बंद कर ली थीं. कुछ देर बाद वो मेरे लंड को अपने हाथ से सहला रही थी और अपने मुलायम गुलाबी होंठों से चूस रही थी. मुझे पता चल गया कि उसका पति उसे अपना लंड चुसवाता होगा.

वो जी भर कर मेरे लंड का रस पी रही थी. कभी-कभी मैं अपने लंड से काजल के मुँह और होंठों को ज़ोर-ज़ोर से चोदने लगता। कभी-कभी मैं गति धीमी कर देता था ताकि काजल क्लोज़-अप में पूरा आनंद ले सके। अब मैं उसके बगल में लेट गया. मैंने अपनी सौतेली बहन की सलवार की कुंडी खींच दी जैसे कोई ट्रेन को रोकने के लिए जंजीर खींचता है।

मैंने सलवार उतार दी. काजल ने गुलाबी रंग की लेस डेर पैंटी पहनी हुई थी. मैंने इसे बाहर फेंक दिया. मुझे इतनी ज़ोर से चुदाई का अहसास हुआ कि मेरे शरीर में खून बहुत तेज़ गति से दौड़ने लगा। मेरे बदन में भयानक आग लग गयी थी.

मैं वासना की आग में जल रही थी. मेरा हाथ अपने आप काजल की चूत पर चला गया. मेरी उंगलियों ने काजल की चूत की गहराई को छूकर जांचा. खूब चुदाई हुई. चूत पूरी फट कर खुल गयी थी.

मेरा हाथ मेरी सौतेली बहन की चूत में चला गया. मैं अपने दाहिने हाथ की आगे की उंगलियों को अपनी बहन की चूत में अन्दर बाहर करने लगा. काजल की चूत जोर जोर से पेलने लगी. मेरे कमरे में फच फच की आवाज आने लगी.

मैंने काजल की चूत के दाने को भी खूब सहलाया. फिर मैं नीचे चला गया. सौतेली बहन की चूत पीने लगा. मैंने कई बार उसकी चूत को सूंघा. बहुत ही मनमोहक खुशबू थी. कुछ देर तक बहन की चूत पीने के बाद.

मैंने अपने हाथ की मदद से अपना लंड काजल की चूत में डाल दिया और उसे चोदने लगा. काजल आ हा हा हा हो हो! धीमी धीमी आवाजें निकालने लगी. मैंने उसे पेलना शुरू कर दिया.

दोस्तों जब मेरे पापा ने तीसरी शादी की तो वो ज्यादा खुश नहीं थे. लेकिन जब मुझे काजल के बारे में पता चला तो अचानक मेरे दिल में अपनी सौतेली माँ के लिए सम्मान जाग उठा।

मैं जल्दी जल्दी काजल को खाने लगा. उसे अपनी चूत के अंदर मादक रगड़ महसूस हुई. वो बार-बार अपने दोनों पैर उठाने लगी. दोस्तो, काजल उस क्लास की लड़की थी जिसकी तस्वीर देखते ही सीधे दिल में छप जाती है।

इस फर्स्ट क्लास लड़की को चोदते समय किसी की माँ या बहन की गाली देना पाप होता. काजल पलकों पर बिठाने लायक लड़की थी. मैंने उसका पूरा सम्मान किया. मैं उसे पूरे प्यार और सम्मान के साथ चोद रहा था.

मैंने दिल ही दिल में उसे अपनी गर्लफ्रेंड का दर्जा दे दिया था. चुदाई करते-करते काजल ने दोनों को सीधा हवा में उठा लिया. इससे मुझे कोई खास परेशानी नहीं हुई. मैं उसे बैठ कर चोद रहा था.

फिर मैंने काजल की गोरी, चिकनी जांघों को पूरे प्यार, सम्मान और नजाकत से चूमा। मैंने काजल के सिर की तरह उसके दोनों पैरों को आगे की ओर झुकाया और तेजी से उन्हें चूमना शुरू कर दिया. काजल की गहरी चुदाई होने लगी.

कुछ देर बाद मैं उसकी चूत में ही स्खलित हो गया। हम दोनों एक दूसरे से लिपट कर काफी देर तक साथ लेटे रहे. मैं पानी पीने के लिए कमरे से बाहर आया और जल शोधक अग्नि के पास गया। हमेशा की तरह मेरा चूत का भूखा बाप काजल की माँ को चोद रहा था.

मैं अन्दर आ गया. दूसरी तरफ मेरा बाप काजल की माँ को चोद रहा था और दूसरी तरफ मैं उसकी बेटी को खा रहा था. इस बार मैंने काजल को अपने लंड पर बैठा लिया. ‘चोद साली!’ मैंने धीरे से कहा। उधर वो मेरे लंड पर बैठने लगी.

कुछ देर बाद वो जल्दी जल्दी चुदवाने लगी. जैसे कोई लड़की घोड़े की सवारी करती है, काजल कुडुक कुडुक करके उसे चोदने लगी. मुझे बहुत मज़ा आया। ‘और जोर से बहन!!

थोड़ा ऊपर बैठो और फिर मुझे चोदो!’ मैंने कहा था। अब काजल एक प्रोफेशनल रंडी की तरह मेरे लंड की सवारी करने लगी. सचमुच यह पल मेरे जीवन के सबसे सुखद पलों में से एक था। मैं उसे तेजी से धक्के मारने लगा.

मैं काजल के बड़े बड़े गोरे स्तनों को अपने हाथों से दबा रहा था। अगर इस वक्त कोई मुझे काजल जैसी चीज खाते हुए देख लेता तो मैं आंखों में आंसू भरकर मर जाती. मैं पूरे जोश से अपनी सौतेली बहन को खा रहा था.

कुछ देर बाद मैंने अपना गरम गरम माल उसकी चूत में छोड़ दिया. दोस्तो, आप लोग यकीन नहीं करेंगे लेकिन थोड़ी ही देर में तीसरी बार मेरे लंड में फिर से झनझनाहट होने लगी और खड़ा हो गया।

मैंने काजल को दोनों हाथों और घुटनों के बल कुतिया बना दिया. मैंने उसके गोल-मटोल, बेहद खूबसूरत नितंबों को चूम लिया। जैसे ही मैंने अपना लंड उसकी फटी हुई योनि में डाला, सौतेली बहन उछल पड़ी। आराम से करो भाई, बहुत गड़बड़ हो रही है!’

काजल ने कहा. मैंने मोटा खूंटे जैसा लंड बाहर निकाला. पास में ही नारियल तेल की बोतल रखी हुई थी. मैं इस तेल को अपने बालों में लगाता था। मैंने पूरे लिंग पर अच्छी तरह से तेल लगा लिया। मैंने दोबारा काजल की बुर में डाला तो वो नहीं डूबा.

मैंने धीरे-धीरे उसमें धक्के लगाना शुरू कर दिया। मेरा लंड बिना किसी परेशानी के मजे से काजल की चूत में सरक रहा था. मैं धीरे धीरे स्पीड बढ़ाने लगा. दीदी की चूत से फड़फड़ाने की आवाज आने लगी.

बहुत ही मादक रगड़ लग रही थी. मेरे लंड की चमड़ी पीछे की तरफ टाइट चूत में जा रही थी. लेकिन तेल से दोनों को राहत मिल गई. मैं धीरे-धीरे काजल को प्यार भरे झटके देकर खाने और चोदने लगा। बहुत मजा आया दोस्तो.

मैं अन्दर आ गया. दूसरी तरफ मेरा बाप काजल की माँ को चोद रहा था और दूसरी तरफ मैं उसकी बेटी को खा रहा था. इस बार मैंने काजल को अपने लंड पर बैठा लिया. ‘चोद साली!’ मैंने धीरे से कहा। उधर वो मेरे लंड पर बैठने लगी.

कुछ देर बाद वो जल्दी जल्दी चुदवाने लगी. जैसे कोई लड़की घोड़े की सवारी करती है, काजल कुडुक कुडुक करके उसे चोदने लगी. मुझे बहुत मज़ा आया। ‘और जोर से बहन!!

थोड़ा ऊपर बैठो और फिर मुझे चोदो!’ मैंने कहा था। अब काजल एक प्रोफेशनल रंडी की तरह मेरे लंड की सवारी करने लगी. सचमुच यह पल मेरे जीवन के सबसे सुखद पलों में से एक था। मैं उसे तेजी से धक्के मारने लगा.

मैं काजल के बड़े बड़े गोरे स्तनों को अपने हाथों से दबा रहा था। अगर इस वक्त कोई मुझे काजल जैसी चीज खाते हुए देख लेता तो मैं आंखों में आंसू भरकर मर जाती. मैं पूरे जोश से अपनी सौतेली बहन को खा रहा था.

कुछ देर बाद मैंने अपना गरम गरम माल उसकी चूत में छोड़ दिया. दोस्तो, आप लोग यकीन नहीं करेंगे लेकिन थोड़ी ही देर में तीसरी बार मेरे लंड में फिर से झनझनाहट होने लगी और खड़ा हो गया।

मैंने काजल को दोनों हाथों और घुटनों के बल कुतिया बना दिया. मैंने उसके गोल-मटोल, बेहद खूबसूरत नितंबों को चूम लिया। जैसे ही मैंने अपना लंड उसकी फटी हुई योनि में डाला, सौतेली बहन उछल पड़ी। आराम से करो भाई, बहुत गड़बड़ हो रही है!’

काजल ने कहा. मैंने मोटा खूंटे जैसा लंड बाहर निकाला. पास में ही नारियल तेल की बोतल रखी हुई थी. मैं इस तेल को अपने बालों में लगाता था। मैंने पूरे लिंग पर अच्छी तरह से तेल लगा लिया। मैंने दोबारा काजल की बुर में डाला तो वो नहीं डूबा.

मैंने धीरे-धीरे उसमें धक्के लगाना शुरू कर दिया। मेरा लंड बिना किसी परेशानी के मजे से काजल की चूत में सरक रहा था. मैं धीरे धीरे स्पीड बढ़ाने लगा. दीदी की चूत से फड़फड़ाने की आवाज आने लगी.

बहुत ही मादक रगड़ लग रही थी. मेरे लंड की चमड़ी पीछे की तरफ टाइट चूत में जा रही थी. लेकिन तेल से दोनों को राहत मिल गई. मैं धीरे-धीरे काजल को प्यार भरे झटके देकर खाने और चोदने लगा। बहुत मजा आया दोस्तो.

करीब 30 मिनट बाद मैं स्खलित हो गया. काजल 2 महीने तक मेरे घर में मेरे कमरे में रही. तभी उसका पति आया और उसे मनाकर ले गया। वह चली गई। बाद में मैं उन्हें याद करके कई बार रोया.

भले ही मैंने उसे 2 महीने तक खाया, लेकिन काजल की तस्वीर मेरे दिल में हमेशा के लिए बनी रही। आज भी मुझे उसकी याद आती है.

ऐसी कामवासना से भारी Hindi Sex Stories पढ़ने के लिए Readxstories.com पर बने रहें। हम आपको विश्वास दिलाते हैं कि हम आपकी पसंद की सभी कहानियाँ आपके लिए लाएँगे। और चूत और लंड की गर्मी को शांत करता रहूँगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds