June 25, 2024
Tadapti Chut Ki Chudai Ki Pyas

नमस्कार दोस्तों में आप की काजल  फिर से आप सभी के लिए readxxstories.com पर एक और नई Hindi Sex Story ले कर आई हूँ। ये कहानी बिल्कुल असली है, 100% असली हैं .

हमारी आज की स्टोरी का शीर्षक है- मालिक का मोटा लंड और मेरी तड़पती चूत की चुदाई की प्यास ( Tadapti Chut Ki Chudai Ki Pyas )

जिस मे आप पढ़ोगे की कैसे मैं अपनी रंडी नौकरानी को रोज़ आपने कमरे में चूत चुदाई करवाने के लिए बुलाता था और आगे की कहनी राहुल जी बतायेँगी आप लोगो को ,

मेरा नाम राहुल है ,और मैं दिल्ली के Saket  का रहने वाला हूँ 

तो चलिए आज की कहानी शुरू करते है।  

हेलो दोस्तों, ये मेरी  Real Hindi Sex Story है ये कहानी 2016 में शुरू हुई। मैं उस वक्त 24 साल का था। काफ़ी नौकरियाँ बदलने के बाद, हमने एक नौकरानी फाइनल की। बसंती नाम था हमारी नौकरानी का। और हां ये असली नाम है उसका.

वो उमर में मेरे से एक साल छोटी थी। बहुत सेक्सी फिगर था उसका. स्तन छोटे थे उसके, लेकिन गांड फैली हुई थी। चलिए अब कहानी शुरू करते हैं।

जब उसने ज्वाइन किया, तब तो मैंने ज्यादा कुछ सोचा नहीं था। सब कुछ नॉर्मल चल रहा था. लेकिन एक दिन मेरे को एहसास हुआ, कि बसंती को शायद मेरे में दिलचस्पी थी। आप सोच रहे होंगे, कि मुझे कैसे पता चला?

तो जवाब ये है, कि वो एक्स्ट्रा प्यार दिखाती थी मेरे को। पहले मेरे को उसका ये व्यवहार सामान्य लगा। धीरे-धीरे मुझे समझ आया, कि नहीं, वो तो मुझमें दिलचस्पी दिखा रही है। फिर मेरे दिमाग में एक आइडिया आया।

मैंने सोचा, कि यार ये साली सेक्सी तो बहुत है। ये नौकरानी है, लेकिन अगर मैं भूल के उसको देखूं, तो एक ही सोच थी दिमाग में। और मैंने सोचा था, कि बस एक बार वो बहन की लोड़ी मुझ से चुद ले।

अब मैंने प्लान बनाया, कि उसको कैसे चोदूंगा।

पहले मैं अपने बारे में थोड़ा आप सब को बता दूं। मैं दिखने में औसत से बेहतर हु। और मेरा लंड 8.3 इंच का है और लंड मोटा भी है।

फिर मैंने सोचा, कि उसको पहले मैं अपना लंड दिखा दूं किसी तरह। इसे मेरे को ये पता चल जाएगा, कि वो मुझमें दिलचस्पी रखती है की नहीं । क्योंकि मेरा लंड देख कर ही आधी लड़की मुझ से खुद ही चुदने के लिए बोल देती है। अब मैं अपना प्लान बताता हूं।

मैंने उसको रोज़ रात को, सब के सोने के बाद, अपने कमरे में बुलाना शुरू किया। मैंने उसको बोला –

मैं: रात को जब मैं खाना खा लेता हूं. उसके बाद मेरे कमरे से तुम अगले दिन धोने वाले कपड़े ले जाया करो।

अब वो रोज़ आती है, और कपड़े लेके चली जाती है। फिर मैंने इसको आगे बढ़ाया. जब वो आती थी, तब मैं कपडे पहन कर इंतज़ार करता था। फिर मैं अंडरवियर के अलावा सब उसके सामने उतारता था। एक दिन मैंने उससे पूछा-

मैं: अरे चड्ढी भी देनी है, अभी उतार दो?

और उसने आगे से कहा: जो उतारना है उतार दो। मुझे तो एसी की हवा से मतलब है।

ये बोलते ही हम दोनों ने एक-दूसरे की तरफ देखा और मैंने उससे पूछा-

मैं : मतलब तुम्हें फर्क नहीं पड़ता अगर मैं तुम्हारे सामने पूरे कपड़े उतार दूं तो?

उसने बहुत धीमी आवाज में कहा-

बसंती: नहीं.

ये मेरे लिए ग्रीन सिग्नल था. फिर क्या था, मैंने चड्ढी भी उसके सामने ही उतार दी। अब मेरा लंड पूरा तन्ना हुआ था. उसके बाद वही हुआ, जो मैंने सोचा था। वो मेरे पास आई और बोली-

बसंती: इतना बड़ा हो जाता है क्या? मैंने इतना बड़ा कभी नहीं देखा.

ये सुन कर मुझे लगा वो पहले चुद चुकी होगी। लेकिन वो अपने छोटे भाइयों की बात कर रही थी। वो वर्जिन थी, लेकिन गर्मी बहुत थी उस की चूत मैं। उसमें फिर वो मेरे पास आई और बोली –

बसंती: मुझे अच्छे से देखना है.

मैंने कहा: देख लो, सब तुम्हारा ही है।

फ़िर उसने पूछा: क्या मैं छू सकती हूं इसको?

मैने कहा: हा जरूर.

फ़िर उसके छूते  ही मेरा लंड पूरा का पूरा खड़ा हो गया था। हां मैं स्पष्ट कर दूं, कि मैं वर्जिन नहीं थी। लेकिन सिर्फ 2 बार किया था मैंने उसके यहाँ काम करने से पहले।

तो मुझे जब ये पक्का था, कि वो वर्जिन थी, तो मैंने कंडोम का भी नहीं सोचा। मैंने बस ये सोचा, कि उसको चोदूंगा कैसे। फिर मुझे लगा, कि वो भी गरम हो रही थी। और मैंने उससे पूछा –

मैं: बसंती, क्या हुआ?

वो कहती है: पता नहीं.

मैने कहा: बताओ ना.

तो उसने कहा: मुझे ऐसा लग रहा है की मेरे चूत गीली ( Gili Chut ) हो चुकी है।

मैंने कहा: वो पेशाब नहीं है. वो ये साबित है कि उसको मेरा लंड अपने अंदर चाहिए।

ये सुन कर वो पहले तो घबरा गई। फिर वो मेरा लंड पकड़ के बोली-

बसंती: अच्छा तो लग रहा है मुझे.

उसके ये बोलते ही मैंने उसके स्तन पकड़ लिए, और उसको चूमना शुरू कर दिया। उसको बहुत मजा आ रहा था, और हम दोनों एक-दूसरे में खो गए थे। फिर मैंने उसके  कपड़े उतारना शुरू किया। जब मैंने उसकी चूत पर हाथ मारा तो साली पूरी गीली थी। फ़िर मैंने उसको कहा-

मैं: इसका मतलब तुम्हें भी मजा आ रहा है।

इसपे वो कुछ नहीं बोली, और बस किस करती रही। फिर मैंने उसके स्तन चूमे बहुत देर तक। उसके बाद मैं उसकी चूत चटाई ( Chut Chatai )करने लगा, तो उसको समझ नहीं आया। लेकिन मेरी जीभ उसकी चूत में लगती ही उसकी बॉडी में करंट दौड़ना शुरू हो गया। फ़िर मैंने उसको कहा-

मैं: तुम्हें भी मेरा लंड चूसना पड़ेगा।
फिर जब उसने मना  किया, तो मैंने भी सोचा कि मौका हाथ से ना चला जाए। ये सोच कर मैंने भी उसके साथ ज़बरदस्ती नहीं की। अब वो पूरी नंगी मेरे बिस्तर पे लेती हुई थी। फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ना शुरू किया।

वो सांस तक नहीं ले पा रही थी। जैसा ही मुझे लगा अब मौका सही था, मैंने अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया। पहले तो वो चिल्लाई, लेकिन उसकी चूत इतनी गीली थी, कि दो झटके में ही उसका दर्द ख़त्म हो गया। मैंने तीन बार चोदा  उसको।
मैंने कभी उसको घोड़ी बना के, तो कभी अपने ऊपर बैठा के चोदा। फिर रोज़ रात को वो मेरे कमरे में आती थी, और हमारी चूत चुदाई( Chut Chudai ) चलती थी। उसको एक बार मैंने चोदते हुई गाली दे दी थी। मुझे लगा उसको पसंद नहीं आई, लेकिन उसने मुझे बाद में बताया कि उसको गलिया बहुत पसंद थी।

उसने कहा, चोदते हुए मैं उसको गालियाँ दिया करु। बस उसने ये बोला और उस दिन से उसको बसंती तो बोला ही नहीं मैंने। उसको मैं रंडी, कुत्ती, मेरी फ्री की रांड, बड़े लंड की दीवानी, फटी हुई चूत, मेरी सेक्स नौकरानी, रांड की भुगतानिश कहता था।

बस ऐसे ही गालियों से बुलाता था मैं। मैं अपने लंड से भी उसके मुँह पर बहुत चांटे मारता था। एक बारी मैंने उसके अंदर ही झाड़ दिया था। फिर साली प्रेग्नेंट हो गई थी. बच्चा भी गिरवाया था उसका मैंने। काफ़ी बार तो वो एक दम चूत से निकला हुआ लंड भी चूस ( Land chusai )लेती थी। उफ्फ वो सबसे सेक्सी याद है हमारी रंडी बसंती की।

ये सब 6 साल चला. साली ने मेरा लंड भी चूसा, और मुँह में मुँह भी लिया। फ़िर वो मुठ पिया भी उसने। फिर 2018 में उसकी शादी हो गई, और वो चली गई। और उसके पति को मिली मेरे से फाड़ी हुई चूत, जो मैंने फाड़ी थी।

कभी-कभी मुझे बसंती की चूत की बहुत याद आती है।

तो दोस्तों ये थी मेरे Real Sex Kahani

ऐसे और xxxकहानी पढ़ने के लिए readxxstories.com पर जाए

अलविदा दोस्तों।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Dehradun Call Girls

This will close in 0 seconds