May 21, 2024
अंधेरे में बहन को चोदा

आज की हिंदी सेक्स कहानी है "रात को जंगल के अंधेरे में बहन को चोदा" इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

आज की हिंदी सेक्स कहानी है “रात को जंगल के अंधेरे में बहन को चोदा” इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

नमस्कार दोस्तों, मैं कपिल हूँ, करोल बाग, दिल्ली का रहने वाला हूँ। हमारा एक छोटा सा परिवार है जिसमें मैं, मेरे माता-पिता, एक छोटा भाई और बहन हैं।

करीब एक साल पहले मेरी बहन की शादी पास के एक गांव में हुई थी।

ये बात करीब दस महीने पहले की है, जब हमारे दादाजी जीवित थे। वह हमारे घर पर ही रहते थे। उन्हीं दिनों दादाजी बहुत बीमार रहने लगे।

वे बार-बार मेरी बहन को ससुराल से लाने की बात करने लगे। चूंकि मेरी बहन घर में अकेली लड़की होने के कारण सबकी लाड़ली थी। इसलिए दादाजी को उनकी ज्यादा याद आ रही थी।

दोस्तों, अगर आप भी सेक्सी लड़कियों को चोदना चाहते है तो Escort Services in Delhi से बुक कर सकते है आइये अब आगे की कहानी पढ़ते है।

माँ ने मुझे मेरी बहन को लाने के लिए उसके ससुराल भेजा, ताकि वह कुछ दिन दादाजी के पास रह सके।

मेरी बहन की ससुराल जाने के लिए जंगल के बीच से एक रास्ता है और एक छोटा रास्ता पगडंडी से भी होकर गुजरता है।

मैं बस से अपनी बहन की ससुराल गया, जहाँ उसी दिन मेरा जीजाजी भी अपनी नौकरी से छुट्टी पर आये थे। उन्होंने मेरा स्वागत किया और बातचीत करते हुए मैंने उन्हें अपने आने का कारण बताया।

जीजाजी अचानक तनाव में आ गए, लेकिन मामला दादाजी की सेहत का था इसलिए कुछ कह पाना संभव नहीं था।

उसकी माँ ने बात संभालते हुए कहा- बेटा, तुम आज ही आये हो, तुम भी आज यहीं रुक जाओ, अपने जीजाजी से बात कर लेना, सुबह जल्दी चले जाना।

मैं भी उसकी स्थिति को समझ कर सहमत हो गया। जीजाजी कभी-कभार ही घर आते थे और दीदी के साथ सेक्स का मजा लेने के बाद चले जाते थे। (अंधेरे में बहन को चोदा)

जब मैंने कहा कि मैं आज ही दीदी को लेने आया हूं तो जीजाजी का मूड खराब हो गया। लेकिन किस्मत अच्छी थी कि बहन की सास ने बात संभाल ली।

खाना खाने और थोड़ी देर बातें करने के बाद करीब 8।30 बजे सभी लोग सोने चले गये। मैं भी दीदी के जीजाजी के कमरे में सोया था।

अभी करीब 9 बजे ही थे कि घर से फोन आया कि पापा को ऑफिस के काम से तुरंत जाना होगा और छोटा भाई भी घर पर नहीं है। इसलिए मुझे रात को ही निकलना होगा।

मैंने आंटी को पूरी बात बताई तो उन्होंने कहा- अपनी बहन को जगाओ और उसे अपने साथ ले जाओ और जीजा की बाइक पर बैठ जाओ।

मैंने दीदी का कमरा खटखटाया तो दीदी थोड़ी अस्त-व्यस्त हालत में बाहर आईं। मैं समझ गया कि अंदर क्या हो रहा है। चूंकि दीदी के ब्लाउज के बटन पूरे नहीं लगे थे इसलिए मुझे उनकी एक चूची दिख रही थी। जिससे मेरा मूड अच्छा हो गया।

खैर मैंने अपनी बहन की चुचियों को देख कर उसे सब कुछ बता दिया और अभी जाने को कहा।

उसने मुझे इंतज़ार करने को कहा और अंदर चली गयी। मैं दरवाजे से झाँकने लगा तो देखा कि दीदी अपनी पैंटी पहन रही थी और जीजाजी कुछ गुस्से में लग रहे थे।

मुझे पूरी कहानी समझ आ गई और ये देखकर मैं थोड़ा उत्तेजित भी हो गया।

करीब दस मिनट में हम दोनों वहां से निकल गये। मैं जानबूझ कर बाइक को जंगल के रास्ते से ले गया और कुछ दूर जाने के बाद मैंने बाइक बंद कर दी।

दीदी बोलीं- क्या हुआ?

मैंने कहा- शायद पेट्रोल ख़त्म हो गया है।

दीदी बोलीं- अब क्या होगा?

तो मैंने कहा कि मुझे बाइक खींचनी होगी और पैदल चलना होगा। (अंधेरे में बहन को चोदा)

हम दोनों चलने लगे।

हम कुछ ही दूर चले होंगे कि मैं जानबूझ कर हांफने लगा और प्यास से परेशान होने का नाटक करने लगा।

बहन ने कहा चलो यहीं कहीं आराम करते हैं।

मैंने कहा कि बहन जंगल में रहना ख़तरनाक हो सकता है, चलो आगे कोई सुरक्षित जगह ढूंढ लेते हैं।

थोड़ा आगे चलने पर हमें एक झोपड़ी दिखी तो हमने वहीं रुकने का फैसला किया। लेकिन मुझे तो कुछ और ही चाहिए था, मैंने फिर प्यास का बहाना बनाया और दीदी से कहीं से पानी लाने को कहा।

दीदी अपने मोबाइल फोन की रोशनी में पानी ढूंढने लगीं, लेकिन सुनसान जगह पर उन्हें पानी कहां मिल सकता था। बहन चिंतित हो गयी।

मैंने अपनी बहन से कहा, ‘प्यास के कारण मेरी हालत खराब हो रही है, मुझे अपना गला गीला करना पड़ रहा है।’

बहन बोली- पानी नहीं है, फिर कैसे?

मैंने कहा- मेरे पास एक तरकीब है, तुम थोड़ा सा पेशाब पिला दो, फिर मैं वही पी लूँगा और तुम्हें कुछ राहत मिलेगी।

दीदी- लेकिन ऐसा कैसे हो सकता है, मुझे शर्म आएगी।

मैं: यहाँ तो बस मैं और तुम ही हैं, इसमें शरमाना कैसा? … मैं तुम्हारा भाई हूँ।

तो दीदी ने हाँ कह दिया।

मुझे इसकी प्रतीक्षा थी। मैंने अपनी शर्ट और बनियान उतार कर एक तरफ रख दी।

दीदी- तुमने ये क्यों खोला?

मैं: क्योंकि अगर वो भीग गया तो घर पर क्या कहेगा?

दीदी मान गईं, मैं ज़मीन पर सीधा लेट गया। (अंधेरे में बहन को चोदा)

जैसे ही दीदी अपनी पैंटी उतार कर मेरे सामने आईं, मैं पागल हो गया। क्या चूत थी। एकदम साफ़, शायद जीजाजी के लिए ही साफ़ रखा था।

जैसे ही दीदी पेशाब करने लगी, मैंने अपना मुँह खोला और सारा पेशाब पी गया। पेशाब करते समय मैंने अपनी बहन की चूत भी चाटी। इससे दीदी भी गर्म हो गयीं। वैसे भी उसने अपनी चुदाई अधूरी छोड़ दी थी।

जैसे ही पेशाब पूरा हुआ तो मैंने अपना मुँह अपनी बहन की चूत पर रख दिया। दीदी इसके लिए तैयार नहीं थी, लेकिन उसे ये अच्छा लगा और वो आहें भरने लगी।

अब मैं उसकी चूत से खेल रहा था और वो मेरे बालों से खेल रही थी।

कुछ ही देर में हम दोनों पूरे मूड में आ गये। मैंने बहन से कहा- क्या तुम अपनी प्यास नहीं बुझाना चाहती?

दीदी मेरा इशारा समझ गयी। उसने मेरी पैंट की ज़िप खोली और मेरा लंड बाहर निकाल लिया।

एक ही झटके में मेरा 7 इंच लम्बा और 3 इंच लम्बा लंड फुंफकारता हुआ बाहर आ गया और अगले ही पल मेरी बहन के मुँह में था।

Hire Our Best Call Girls Model At Your Location :

बहन पूरे मन से मेरा लंड चूस रही थी, लेकिन मैं कुछ नहीं कर पा रहा था।

मैंने दीदी को खड़ा किया और उनके कपड़ों की तरफ देखा और कहा- अब ये सब उतारो।

दीदी बोलीं- अपने हाथ से ही उतारो भाई। (अंधेरे में बहन को चोदा)

मैंने जल्दी से दीदी की साड़ी और उनके सारे कपड़े उतार दिए।

फिर मैंने दीदी को अपनी पैंट की तरफ इशारा किया तो दीदी ने तुरंत मेरी पैंट और अंडरवियर उतार फेंकी। उसने फिर से मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी।

मेरा एक हाथ उसके स्तनों और पीठ को माप रहा था। हालाँकि बहन बहुत आकर्षक नहीं थी, लेकिन जब चूत का भूत सवार हो तो हर चीज़ आकर्षक लगती है।

दीदी के चूसने से मेरा लंड जल्दी ही स्खलित हो गया और दीदी मेरा सारा वीर्य चाट गईं। जैसे मैंने उसका मूत पी लिया हो।

फिर दीदी बोलीं- अब मेरी आग कैसे बुझेगी, जो तेरे जीजू ने लगाई है?

मैंने कहा- मुझे पता है, तभी तो मैंने गाड़ी रोकी और ये प्रोग्राम बनाया।

यह सुन कर दीदी हैरान हो गईं और मुझे प्यार से मुक्का मारने लगीं।

दीदी- तुम बहुत बहनचोद हो। …और मैं तुम्हें सीधा सीधे समझ रही थी।

मैं: तुम मुझे बहनचोद क्यों कह रहे हो? …मैंने अपनी बहन को कब चोदा?

दीदी: अब अपनी बहन को चोदो और बहनचोद बन जाओ।

उसने कामातुर होकर एक बार फिर मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और करीब पांच मिनट तक चूस कर उसे फिर से सख्त कर दिया।

दीदी- अब और बर्दाश्त नहीं होता भाई.. जल्दी से मेरी प्यास बुझा दो, नहीं तो मैं तड़प कर मर जाऊँगी।

मैं- नहीं दीदी, आप अपने भाई के होते हुए प्यासी मर जाओ.. ऐसा कभी नहीं हो सकता।

मैंने अपनी बहन को लिटाया और उसकी टाँगें अपने कंधों पर रखीं और अपना लंड उसकी चूत पर सेट किया और जोर लगाकर अन्दर घुसाने की कोशिश की।

यह मेरा पहला अनुभव था। उधर दीदी भी कई दिनों से प्यासी थी। उसकी चूत पहले से ही गीली थी।

उसने अपने हाथ से मेरे लंड को चूत के छेद तक का रास्ता दिखाया और मुझे आँख मारी। मैंने भी अपने लंड को धक्का दिया और मेरा लंड मेरी बहन की चूत में घुसता चला गया।

दीदी की आह निकल गई- उम्म्ह… अहह… हय… याह… मार डाला… भैनचोद… धीरे कर हरामी, तेरा लंड तेरे जीजा से बहुत बड़ा है। (अंधेरे में बहन को चोदा)

यह सुनकर मुझे आनंद आया। एक-दो धक्के में ही मेरा पूरा लंड मेरी बहन की चूत में समा गया। मैं लंबे-लंबे स्ट्रोक देने लगा। दीदी भी अपनी गांड उठाकर लंड को निगलने लगीं।

हम दोनों जल्द ही एक लय में आ गये। जब मैं अपनी बहन की चूत में अपना लंड डालता तो मेरी बहन मेरे सीने से चिपक जाती और मुझे अपने स्तनों का मजा देती । और जब मैं लंड बाहर खींचता तो दीदी भी अपनी गांड दबा कर स्ट्रोक के लिए तैयार हो जाती।

चुदाई शुरू हो गई। दीदी दूध चुसवाते हुए मुझसे चोदने को कहने लगीं। मैंने दीदी के स्तनों को अपने हाथों से पकड़ कर आटे की तरह गूँथ लिया और उनको चोदने का तूफ़ान शुरू कर दिया।

फिर घमासान लड़ाई हुई जो 20 मिनट की चुदाई के बाद ही शांत हुई।

अब तक मेरे घर से और बहन की ससुराल से करीब 20 मिस्ड कॉल आ चुकी थीं।

जब भाई-बहन की चुदाई का तूफ़ान थमा तो हम दोनों को सब याद आया। मैंने समय देखा तो रात के दो बज रहे थे।

उसने तुरंत घर फोन किया और देरी का कारण बताते हुए कहा कि बाइक की लाइटें काम नहीं कर रही थीं। साथ ही उनकी कार्यकुशलता की खबर भी दी।

इसके बाद हम दोनों ने जल्दी से अपने कपड़े पहने, एक दूसरे को चूमा और घर के लिए निकल गये।

गांव के पास पहुंच कर मैंने बाइक की लाइट बंद कर दी और धीमी गति से घर पहुंच कर बाइक पार्क कर दी।

परिजन तनाव में इंतजार कर रहे थे। कुछ देर बाद उन सबको सुलाने का बहाना बनाकर हम भाई-बहन भी सो गये। उसके बाद जब भी दीदी या मेरा मूड होता तो मैं उनसे मिलने उनकी ससुराल चला जाता और अपनी बहन की जम कर चुदाई करता।

उसे भी मेरा मोटा लम्बा लंड कभी-कभी जीजा जी से मिलने वाले लंड से ज्यादा पसंद आता था।

दोस्तों, अगर लिखने में कोई गलती हो तो माफ कर देना।

तो दोस्तो, आपको मेरी यह चुदाई की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं।

अगर आपको यह अंधेरे में बहन को चोदा कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds