May 14, 2024
मॉल में मिली लड़की को गर्लफ्रेंड बनके चोदा

दोस्तो, मेरा नाम अमन है। आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे में "मॉल में मिली लड़की को गर्लफ्रेंड बनके चोदा और उसकी गांड भी मारी"

दोस्तो, मेरा नाम अमन है। आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे में “मॉल में मिली लड़की को गर्लफ्रेंड बनाके चोदा और उसकी गांड भी मारी”

मैं दिल्ली में रहता हूँ. मैं 23 साल का एक स्मार्ट लड़का हूँ. यह मेरी कुछ दिन पहले की सेक्सी कहानी है. मैं अपने दोस्तों के साथ मॉल गया था. उस वक्त शाम के 7 बजे थे. हमने वहां खूब मौज-मस्ती की.

तभी मुझे वहां एक लड़की दिखी. जिसका नाम आशिका था। आशिका 20 साल की थी. जब मैंने उसे देखा तो मेरी नजरें उसी पर अटक कर रह गईं.

मैं कुछ देर तक उसे ऐसे ही देखता रहा. वह एक पटाखा लड़की थी. आशिका की लम्बाई 5 फुट 2 इंच थी, उसका रंग सांवला था, लेकिन शरीर कामुक था।

आशिका का फिगर कुछ ऐसा था. उसके बिल्कुल गोल स्तन 30 इंच के… उसकी बलखाती कमर 28 इंच की और उसकी उठी हुई गांड 34 इंच की।

उसे देखते ही मैं उसकी लाजवाब गांड का दीवाना हो गया. क्योंकि उसकी गांड का आकार बहुत ही लाजवाब था. अगर कोई भी पहली नजर में आशिका की गांड देख लेगा तो अपनी नजरें नहीं हटा पाएगा.

कुछ देर बाद उसने भी मुझे देखा और दूसरी तरफ देखने लगी. कुछ देर मॉल में घूमने के बाद मेरी नजर बार-बार उससे टकरा रही थी.

आखिरी बार जैसे ही मेरी उससे नजरें मिलीं तो मैंने आंखें दबा लीं और होंठ गोल करके चूमने का इशारा कर दिया.

शायद यही देखकर उसने मुझसे बात करने का फैसला किया. जब वो मेरे पास आई तो पहले तो मुझे डर लगा कि कहीं कुछ हो न जाए.

लेकिन वो मेरे पास आई और बोली- हैलो… मैं आशिका हूं. मैंने कहा- हैलो…मैं अमन। आशिका- तुम मुझे बहुत देर से घूर रहे हो.. क्या चाहते हो?

मैं- तुम बहुत खूबसूरत हो, मैं बस इसी वजह से तुम्हें देख रहा था. आशिका- ठीक है. मेरे हां। इसके बाद उन्होंने मुझसे कुछ और बातें कीं और हम दोनों साथ में मॉल में घूमने लगे.

हम सब रात 10 बजे मॉल से निकले. वह अपने दोस्तों के साथ थी. जब वो अपने घर जाने लगी तो ऑटो में बैठते समय उसने मेरा मोबाइल मांगा.

उसी वक्त उसने मेरे मोबाइल में अपना मोबाइल नंबर मिलाया और फिर बाय बोलकर चली गयी. मैं अपने दोस्तों के साथ अपने घर आ गया.

घर आकर मैं बस उसके बारे में ही सोच रहा था. उसके स्तन और गांड मुझे सोने नहीं दे रहे थे. मैं काफी देर तक उसे कॉल करने के बारे में सोचता रहा.

लेकिन मुझमें हिम्मत नहीं थी. एक घंटे बाद उसका खुद मैसेज आया. हमारी बातें शुरू हो गईं और हमारी बातें रात के 2 बजे तक चलती रहीं.

अगली सुबह उसका गुड मॉर्निंग मैसेज आया. मैंने भी जवाब दिया. पूरे दिन मुझे बहुत बेचैनी महसूस हुई. एक अजीब सा आकर्षण मेरे दिलो-दिमाग पर छाया हुआ था।

उस रात हमने फिर बात की और सुबह चार बजे तक हमारी बातचीत चलती रही. आज उन्होंने मुझसे क्या बात की वो मैं आपको नीचे बता रहा हूँ.

आशिका- हाय अमन.
मैं- हाय आशिका.
आशिका- क्या कर रहे हो?
मैं- आपके मैसेज का इंतजार है.
आशिका- अच्छा क्यों?
मैं: मैं तुमसे बात किये बिना नहीं रह पाऊंगा.
आशिका- ओहो… क्या बात है तुम फ़्लर्ट कर रहे हो.

मैं- नहीं यार, ऐसा नहीं है. अगर आशिका बुरा न माने तो एक बात बताऊं?
आशिका- हां बताओ..
मैं- आई लव यू आशिका.
आशिका- मैं भी तुमसे प्यार करती हूँ मेरी जान… मैं कब से तुम्हारे मुँह से ये सुनने के लिए तरस रही थी.
मैं- ठीक है… तो अब सुन कर खुश हो गए!
आशिका- बहुत ज्यादा.

फिर कुछ देर बात करने के बाद हम सेक्स चैट करने लगे.
आशिका- अच्छा ये बताओ तुम मॉल में मुझे क्यों घूर रहे थे?
मैं तो तुम्हारे सौन्दर्य का तेज देखता रह गया।

आशिका- अच्छा तो ये भी बताओ कि वो क्या है?
मैं: तुम्हारी गोल गुंदाज गांड … जिसे देख कर गांड मारने का मन करने लगा।
आशिका- हम्म… तुम बहुत बदमाश हो…
मैंने कहा क्यों?
वो बोली- छोड़ो … यार, मेरा भी मन कर रहा है … कोई प्लान बनाओ न मिलने का.
मैं- वो तो बाद की बात है मेरी जान.. अभी तुम मुझे अपनी नंगी फोटो भेजो, फिर मूड बन जायेगा.

फिर आशिका ने 4 पिक्स भेजीं. कसम से मेरा लंड एकदम से खड़ा हो गया.
आशिका- तुम भी मुझे अपने लंड की फोटो भेजो.
मैंने कहा- लाइव ही देख लो.
वो बोली- ठीक है.

अब हम दोनों वीडियो कॉल पर आ गये और एक दूसरे के नंगे अंगों का मजा लेने लगे. हम दोनों ने फोन सेक्स भी किया.

हमारी बातचीत इसी तरह चलती रही. अब हमारा मन एक दूसरे को चोदने के लिए तैयार हो गया था. बस मिलने की देर थी.

फिर आई 31 दिसंबर की रात. उस रात मेरा परिवार मेरी मौसी की नये साल की पार्टी में गया था। उनको दूसरे दिन ही वापस आना था.

जब मैंने यह बात आशिका को बताई तो उसने भी अपने घर पर कहा कि मैं अपने दोस्त के यहां पार्टी में जा रही हूं।

उसने मुझे फोन किया और कहा कि मैं घर से निकल रही हूं, तुम मुझे लेने आ जाओ. मैं उसे लेने के लिए अपनी बाइक से वहां पहुंचा और उसे सीधे अपने घर ले आया.

जैसे ही मैं उसे घर लाया तो सबसे पहले मैंने दरवाजा अंदर से बंद किया और आशिका की तरफ घूम गया. उसने टाइट नीली जींस और सफेद शर्ट पहन रखी थी।

मैंने अपनी बांहें उसकी तरफ बढ़ा दीं, वो तुरंत मेरी बांहों में आ गई और मुझे चूमने लगी. मैंने भी उसका समर्थन किया.

करीब 10 मिनट तक हम दरवाजे के पास किस करते रहे. इसके बाद मैंने आशिका को अपनी गोद में इस तरह उठाया कि उसकी चूत मेरे लंड पर टिक गयी.

वो अपनी चूत को मेरे लंड पर रगड़ते हुए ऊपर-नीचे होने लगी. उसकी चूत में भी बड़ी आग लगी हुई थी. मैंने अपना लंड उसकी चूत से रगड़ा और उसे अपने बेडरूम में ले आया.

बेडरूम में जाकर मैंने उसे बिस्तर पर गिरा दिया और फिर मैं भी उसके ऊपर चढ़ गया. हम दोनों एक-दूसरे को चूमने लगे और एक-एक करके एक-दूसरे के कपड़े उतारने लगे।

मैंने उसकी शर्ट उतार दी. उसने गुलाबी रंग की ब्रा पहनी हुई थी. उसकी टाइट ब्रा में उसके छोटे-छोटे स्तन बहुत प्यारे लग रहे थे। मैंने उन्हें दबाया तो आशिका कामुक कराहने लगी.

फिर मैंने उसकी जींस भी उतार दी. वो काली पैंटी में थी. मैं उसके बदन को बड़े आकर्षण से देखने लगा. इस समय वो मेरे सामने ब्रा और पैंटी में लेटी हुई थी और शर्मा रही थी.

अब मैंने उसके पैरों से चूमना शुरू कर दिया. उसकी चूत को सहलाया तो वो उछल पड़ी. मैंने उसकी ब्रा और पैंटी उतार दी. मैंने उसकी सफाचट चूत में उंगली डाल दी और उसके मम्मों को चूसने लगा.

कुछ ही देर में वो गर्म हो गई और अपनी गांड उठाने लगी. वो बोली- तुम भी अपनी पैंट उतारो. यह कहते हुए उसने मेरी मदद से खुद ही मेरी पैंट उतार दी और मेरा अंडरवियर भी उतार दिया.

मेरा 7 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा लंड देख कर वो डर गयी. मैंने तुरंत उसे कसकर गले लगा लिया और उसे चूमना शुरू कर दिया। फिर मैंने उसका हाथ पकड़ा और अपने लंड पर रख दिया.

आशिका मेरे लंड को प्यार से सहलाने लगी. मुझे उसके हाथ की कोमलता बहुत अच्छी लग रही थी.. क्योंकि यह सब करने का यह मेरा पहला अवसर था।

इसके बाद हम दोनों ने 30 मिनट तक 69 में मजा किया और एक दूसरे का पानी पिया. झड़ने के बाद दस मिनट तक आराम करने के बाद हम दोनों फिर से गर्म हो गये.

मैं आशिका की चूत में उंगली करने लगा तो आशिका एकदम पागल हो गई और चिल्लाने लगी. आशिका- आह अमऩ … जल्दी से अपना लंड मेरी चूत में डालो. मैंने बिना समय बर्बाद किये अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया.

वो दर्द से रोने लगी तो मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये और उसके मम्मों को दबाने लगा. करीब दो मिनट बाद वो अपनी गांड उठाने लगी. मैं धक्के लगाने लगा.

अब वो बहुत मजे से कराह रही थी और चिल्ला रही थी- जोर से चोदो मुझे डार्लिंग… फाड़ दो मेरी चूत को… आह मेरी जान… अब मैं तुमसे रोज चुदवाऊंगी… आह मेरी जान आह आह… हां आह चोदो मुझे.

उसकी ये बातें सुनकर मैं और जोश में आ गया और उसे और जोर से चोदने लगा. अब तक वह दो बार चरमसुख प्राप्त कर चुकी थी. करीब 30 मिनट के बाद मैं उसकी चूत में ही झड़ गया.

इसी समय उसने अपना तीसरा स्खलन भी पूरा कर लिया. कुछ देर बाद हम दोनों एक दूसरे से चिपक कर सो गये. रात के 3 बजे मुझे कुछ महसूस हुआ तो देखा कि आशिका मेरा लंड चूस रही है. यह देख कर मैं भी उत्तेजित हो गया.

मैंने उसे अपने ऊपर खींच लिया और उसकी चूत चाटने लगा. इस बार मैंने आशिका से कहा कि यार आशिका मुझे तुम्हारी सबसे खूबसूरत चीज़ चाहिए.

ये सुनकर वो चौंक गई और बोली- मैंने तुम्हें अपनी जवानी दे दी है. इससे कौन सी बहुमूल्य वस्तु बच जाती है? मैंने कहा- डार्लिंग, तुम्हारी गांड बहुत मस्त है … मैं तुम्हारी गांड चोदना चाहता हूं.

पहले तो उसने मना कर दिया. लेकिन जब मैंने कहा कि यही वो चीज़ है जिसकी वजह से मैं तुम्हारा दीवाना था. यह सुनकर वह हंस पड़ी और गांड मरवाने के लिए तैयार हो गयी.

मैंने उसकी गांड के छेद पर ढेर सारी क्रीम लगाई और अपना लंड उसकी गांड के मुँह पर रख दिया. जैसे ही लंड का टोपा गांड के अन्दर गया आशिका की चीख निकल गयी.

मैं जानता था कि दर्द तो होगा ही। तो मैं रुका नहीं और धक्के लगाने लगा. कुछ देर बाद आशिका भी मजे से अपनी गांड मरवाने लगी.

मैं आपको बता नहीं सकता दोस्तों कि मुझे उसकी चूत से ज्यादा उसकी गांड चोदने में मजा आया. क्योंकि उसकी गांड बिल्कुल फुटबॉल की तरह गोल थी और गोरी त्वचा तो कमाल की थी.

मुझे आशिका की गांड बजाने में बहुत मजा आ रहा था और आशिका भी अपनी गांड में लंड लेने का मजा ले रही थी.

आशिका मजे में जोर जोर से चिल्ला रही थी- आह अमन मेरी जान, और जोर से चोदो मुझे… फाड़ दो गांड… टुकड़े टुकड़े कर दो।

मैं उसकी गांड को भी अपने लंड से बजा रहा था. करीब 35 मिनट तक लगातार उसकी गांड चोदने के बाद मैं उसकी गांड में ही झड़ गया. उस रात हम दोनों ने 3 बार सेक्स किया.

इस में, मैंने एक बार आशिका की गांड को चुदाई की और उसकी चूत को दो बार गड़बड़ कर दिया। सुबह वह अपने घर जाने के लिए तैयार हो गयी. मैंने उसके लिए ओला को फोन किया था. जाने से पहले मैंने उसे एक दर्द निवारक गोली दी.

दिल्ली में सस्ती और सेक्सी लड़कियां चुदाई के लिए बुक करें:-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds