May 21, 2024
आंटी को होटल मे चोदा

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने "आंटी को होटल मे चोदा और उन्हें वाइल्ड सेक्स मजा दिया"

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम अमन है आज में आपको बताने जा रहा हु की कैसे मेने “आंटी को होटल मे चोदा और उन्हें वाइल्ड सेक्स मजा दिया”

मैं दिल्ली में रहता हूँ। मैं 26 का हूँ। मेरा शरीर औसत है कद 5 फीट 4 इंच है। मेरा लिंग करीब ढाई इंच मोटा और आठ इंच लंबा है.

मैं दिखने में स्मार्ट और दिल का साफ़ हूँ. दरअसल, मुझे खूब बातें करने का शौक है, इसलिए मैं नए-नए दोस्त बनाता रहता हूं।

इसके लिए मैंने अपना एक फेक फेसबुक अकाउंट भी बनाया है. उसके जरिये मैं कई महिलाओं और दोस्तों से बात करता रहता हूं.

फेक अकाउंट की वजह ये है कि मैं अपनी असली पहचान किसी को नहीं देना चाहता और किसी को जानना भी नहीं चाहता.

हुआ यूं कि दोस्तो, एक दिन मेरे पास करीब 39 साल के एक आदमी की फ्रेंड रिक्वेस्ट आई। उसका नाम रोहन था. और वह दिल्ली से ही थे.

कुछ दिनों तक इधर उधर की बातें करने के बाद उसने मुझसे कुछ ऐसा कहा कि मैं खुद परेशान हो गया. उनकी पत्नी आशिका, जो 35 साल की थी और दो बच्चे थे, जो पुणे में मुंबई की पढ़ाई कर रहे थे। वे दोनों वहीं रहते थे.

उन्होंने बताया कि उनकी जिंदगी बहुत अच्छी चल रही है. लेकिन पिछले कुछ सालों से उनकी सेक्सुअल लाइफ बोरिंग हो गई थी.

उसकी पत्नी उससे ठीक से बात नहीं करती थी. इस वजह से उनके बीच तनाव बढ़ गया था. इसका एक कारण यह था कि उसने अपनी पत्नी को ब्लू फिल्में देखना सिखाया था।

ब्लू फिल्में देखने के बाद उसकी पत्नी की वासना बढ़ गई थी और वह शारीरिक सुख चाहती थी, जिसे वह पूरा नहीं कर पा रहा था।

इसलिए उसने किसी दूसरे पुरुष के जरिए अपनी पत्नी को यौन सुख दिलाने का उपाय सोचा, लेकिन उसे डर था कि समाज में उसकी इज्जत खत्म हो सकती है.

इसी वजह से वह किसी अनजान शख्स की तलाश में था. जिसकी तलाश में उसने मुझे पाया. जब उसने ये सब बताया और अपनी पत्नी को चोदने की इच्छा जताई तो मैं सोचने लगा कि 35 साल की औरत बिस्तर पर कैसी होगी.

मैंने उससे उसकी पत्नी आशिका की फोटो मांगी. उसने मुझे कुछ तस्वीरें भेजीं. जब मैंने उसकी बीवी आशिका की फोटो देखी तो मेरा लंड खड़ा होकर सलामी देने लगा.

आशिका आंटी के स्तनों का आकार काफी अच्छा था. ये लगभग 38 साइज के थे. उसकी 40 साइज की बड़ी गांड कामुकता बिखेर रही थी. आंटी बहुत सेक्सी लग रही थीं.

रोहन अंकल और मैंने मिलने का प्लान बनाया. रोहन अंकल ने एक 3 सितारा होटल में 2 कमरे बुक किए। मैं तय समय के अनुसार होटल पहुंच गया.

जब मैं उनके कमरे में पहुंचा तो आशिका आंटी पंजाबी ड्रेस में थीं और रोहन अंकल टी-शर्ट और जींस में थे। दोनों ने मुस्कुरा कर मेरा स्वागत किया.

कमरे में प्रवेश करते ही मैं एकदम ताजगी से भर गया। उसके बाद मैंने अपने स्वभाव के अनुसार उन दोनों से खूब बातें कीं और माहौल को खुशनुमा बना दिया. वे दोनों मेरी बातों से बहुत प्रभावित हुए.

तभी रोहन अंकल ने सूटकेस से व्हिस्की और वोदका की बोतलें निकालीं और इंटरकॉम पर कुछ स्नैक्स का ऑर्डर दिया। हम तीनो के बीच शराब की महफिल जम गयी.

हॉट सेक्सी आशिका आंटी ने वोदका के 3 बड़े पैक पी लिए. अब हम दोनों 4-4 पैग तक पहुँच चुके थे। इसी बीच मुझे सिगरेट पीने का मन हुआ तो मैंने उससे कहा कि मैं अपने कमरे में जाकर आता हूँ.

जब मैंने यह बात कही तो शायद आशिका आंटी को कोई ग़लतफ़हमी हो गयी थी। वो बोली- लगता है तुम मुझे पसंद नहीं करते, तभी बहाने बना रहे हो.

मैंने उसे टोकते हुए कहा- तुम बहुत हॉट आइटम हो, मुझे सिगरेट की तलब हो रही थी, इसलिए बाहर जा रहा था. इस पर रोहन अंकल हंसते हुए बोले- ठीक है यार … तुम यहां सिगरेट पी सकते हो, हमें कोई आपत्ति नहीं है.

मैंने सिगरेट सुलगाते हुए कहा- देखो आशिका जी, आप मुझे बहुत पसंद आईं. लेकिन मैं आपकी मर्जी के बिना कुछ नहीं करूंगा। यह सुनकर आशिका आंटी ने रोहन अंकल की तरफ देखा।

रोहन अंकल- तुम दोनों बात करो. मैं बगल वाले कमरे में आराम करने जा रहा हूँ। इतना कह कर अंकल उठ कर चले गये. आशिका आंटी- देखो… मैं चाहती हूं कि किसी को हमारा नाम पता न चले.

मेरे पति का समाज में बहुत सम्मान है. आपको इस बात का ख्याल रखना होगा. मैं- देखिये आशिका जी, मुझे ये पता है… और मैंने रोहन सर से वादा भी किया है, आप निश्चिंत रहें।

दूसरी बात, मैंने आज तक सर से आपका असली नाम नहीं पूछा. इससे मुझे कोई मतलब नहीं है. मेरा मतलब केवल आपसे है, जो दुनिया की सबसे खूबसूरत महिलाओं में से एक है।

मेरे मुँह से अपनी तारीफ सुनकर आशिका आंटी खुश हो गईं. वो मेरी तरफ आते हुए बोला- ठीक है. अब से तुम मुझे आशिका ही कहोगे. वो मेरे पास बैठ गयी और बड़ी हसरत से मेरी तरफ देखने लगी.

हम एक दूसरे की आंखों में खो गये. फिर आंटी ने मेरे पूरे होंठ अपने मुँह में खींच लिए. शायद उसे वाइल्ड सेक्स पसंद था. मैंने उसे जोर से चूमते हुए अपने हाथ उसके मम्मों पर रख दिए और मजे से उन्हें सहलाने लगा.

आंटी के स्तन काफी बड़े थे. मेरे चेहरे पर उसकी गर्म सांसें मुझे बहुत मदहोश कर रही थीं. करीब 5 मिनट तक किस करने के बाद मैंने उसे अपने से अलग किया.

आंटी को समझ आ गया कि अब क्या करना है. वो खड़ी हो गई.. फिर मैंने उसका टॉप उतार दिया। अब मेरे सामने उसके बड़े-बड़े स्तन काली ब्रा के अंदर से बाहर आने को बेताब लग रहे थे।

आंटी के खूबसूरत स्तन देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया. मैंने उसकी ब्रा की स्ट्रिप खोल दी. इससे आंटी के स्तन आजाद हो गये. आंटी के स्तन बड़े थे, लेकिन एकदम आकार में थे।

इस उम्र में इतने सुडौल स्तन मैंने पहली बार देखे थे। मैंने उसके एक स्तन को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा। वह मेरे सिर को अपनी छाती पर दबा रही थी और मेरे बालों में अपनी उंगलियाँ फिरा रही थी।

हॉट सेक्सी आंटी के चॉकलेटी रंग के निपल्स चूसने में मुझे बहुत मजा आ रहा था. मैंने दोनों निपल्स को एक एक करके चूसा. इसी बीच मैंने उसकी सलवार का नाड़ा खींच दिया.

उसकी सलवार ज़मीन पर गिर गयी. आंटी ने अन्दर काली पैंटी पहनी हुई थी. आंटी का गोरा बदन बहुत मस्त था. मैं अपने आप को रोक नहीं सका. मैं उसके सामने घुटनों के बल बैठ गया.

मैंने एक बार उसकी तरफ देखा तो वो मुस्कुरा दी. मैंने एक बार फिर से उनकी तरफ देखा तो हॉट सेक्सी आंटी मुस्कुराईं और अपने दोनों पैर खोल दिए. यह मेरे लिए निमंत्रण था. मैंने पैंटी के ऊपर से ही चूत को सूंघा.

वाह, क्या खुशबू है. मैं कामुक हो गया. मैंने आंटी की पैंटी के ऊपर से ही उनकी चूत को चूम लिया. अपनी चूत पर मेरे होंठों का स्पर्श पाते ही वो सिहर उठी.

मैंने उसकी पैंटी के साइड से उसकी चूत के चारों ओर अपनी जीभ फिराई. इससे उन्हें और भी अधिक आनंद आया. कुछ देर तक ऐसा करने के बाद मैंने उसके नितम्बों को सहलाते हुए उसकी पैंटी को नीचे खींच दिया।

अब मेरे सामने आशिका आंटी की सांवली चूत थी, जिस पर हल्के हल्के बाल थे. मैंने उसकी एक टांग उठा कर सोफे पर रख दी. अब उसकी गीली चूत मेरे सामने खुल गयी थी.

मैंने अपना जादू दिखाना शुरू कर दिया. अपनी जीभ से उसकी चूत के अंदरूनी भाग को कुरेदते हुए उसकी चूत की दोनों फांकों को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा।

वो वासना की आग में जल रही थी. उसकी उंगलियाँ मेरे बालों में घूम रही थीं. उसके मुँह से ‘आह्ह… ह्ह्ह… स्स्स्स… इह्ह… उम्म्म्म… आह्ह…’ की मादक कराहें निकल रही थीं।

तभी आंटी की चूत से रस बहने लगा. वो अपनी कमर हिला कर अपनी चूत मेरे चेहरे पर रगड़ने लगी. वो एक हाथ से मेरा मुँह अपनी चूत पर दबा रही थी.

‘अहह हाआ आआ… उइइइइइ..’ कराहते हुए आंटी मेरे मुँह में ही कामोन्माद हो गईं। मैंने आंटी की चूत का रस चाट लिया. कुछ देर बाद आंटी ने मेरी तरफ देखा.

मै समझा। फिर आंटी ने मुझे खड़ा किया और मेरे सारे कपड़े उतार दिये. मैं नंगा था, मेरा बड़ा लंड उसकी आँखों में सेक्स की प्यास बढ़ा रहा था.

फिर उसने मुझे फर्श पर लिटा दिया. मेरे मीनार की तरह खड़े लंड को देख कर आंटी ने पहले तो उसे अपने हाथ में लिया और सहलाया.

फिर वो फर्श पर बैठ गयी और मेरे लंड की तरफ आ गयी. अगले ही पल आंटी ने धीरे से मेरे गुलाबी लिंग-मुंड पर अपनी जीभ फिराई।

जैसे ही मुझे अपने लिंग पर जीभ का अहसास हुआ, ऐसा लगा जैसे मेरे शरीर में बिजली दौड़ गयी हो. एक-दो पल बाद आंटी ने लिंग को अपने होंठों के बीच ले लिया. अब आंटी मेरा खड़ा लंड चूस रही थीं.

इस दौरान मेरे हाथ आंटी के नितंबों को सहला रहे थे. तभी मुझे फिर से उसकी चूत चूसने का मन हुआ. मैंने उसे 69 में अपने ऊपर खींच लिया।

अब उसकी चूत मेरे मुँह पर थी और उसका मुँह मेरे लंड पर था। हम दोनों 69 की पोजीशन में एक दूसरे को चूस रहे थे. कुछ ही देर में आंटी की चूत से फिर से पानी निकलने लगा.

अपनी चूत की उत्तेजना के कारण आंटी मेरे लंड को हल्के से काट भी रही थीं. उसकी चूत का दबाव भी मेरे मुँह पर बढ़ता जा रहा था.

मेरा लंड आंटी के मुँह में था, फिर भी आंटी के मुँह से ‘उम्म्म्म ह्म्म्म्म…’ करते हुए मादक कराहें निकल रही थीं. फिर अचानक आंटी ने मेरा लंड छोड़ दिया और अपने दोनों पैर फैलाकर मेरे चेहरे पर बैठ गईं.

अचानक हुई इस हरकत से कुछ देर के लिए मेरी सांसें अटक गईं. मेरे मुँह पर बैठते ही आंटी ने अपनी चूत रगड़ते हुए फिर से अपना पानी छोड़ दिया. मैंने उसका सारा रस पी लिया.

ऑर्गेज्म के बाद आंटी पूरी तरह से रिलैक्स हो गईं, वो उठकर सोफे पर बैठ गईं. उसकी हालत देखकर मैं समझ गया कि अब असली काम का समय आ गया है.

मैं उठ कर उसके पास गया. उसका एक पैर सोफे के नीचे था और दूसरा ऊपर. मैंने अपने लंड पर कंडोम लगाया और आंटी की चूत को सहलाते हुए लंड को धक्का दे दिया.

आंटी की चूत फिसलन भरी थी और चिकनाई भी बहुत ज्यादा थी. चिकनाई इतनी ज़्यादा थी कि मेरा लिंग लम्बा होने के बावजूद सीधा अन्दर चला गया। उसके मुँह से उम्म्ह… अहह… हय… याह… की आवाजें निकलने लगीं.

मैंने धीरे धीरे स्पीड बढ़ा दी. अब वो लंड का मजा ले रही थी. उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया. हम दोनों जोर जोर से किस करने लगे.

इतने में मुझे एहसास हुआ कि रोहन अंकल कमरे में आ गये हैं। सेक्स करते समय हम दरवाज़ा लॉक करना भूल गए. रोहन अंकल अन्दर आये और हमारी चुदाई देख रहे थे।

मैं कुछ पल के लिए रुका. आशिका आंटी ने रोहन अंकल की तरफ देखा तो उन्होंने मुस्कुरा कर इशारा किया ‘जाने दो..’ हम फिर से एक दूसरे में खो गये.

दस मिनट की जबरदस्त चुदाई के बाद मैं रुक गया. अब मैंने आशिका आंटी को डॉगी स्टाइल में ले लिया. हमारे बगल वाले सोफे पर बैठे रोहन अंकल ने अपना लंड बाहर निकाल लिया था और उसे सहला रहे थे.

जैसे ही आशिका आंटी की नज़र अंकल के लंड पर पड़ी तो वो और भी उत्तेजित हो गईं. उसने रोहन अंकल को अपने पास खींच लिया। उसने अपने पति का लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी.

इधर मैंने पीछे से आंटी की चूत में अपना लंड डाल दिया. मैं उसकी कमर पकड़ कर जोर जोर से धक्के मारने लगा. मेरे झटकों से आशिका कभी-कभी अपने मुँह से मेरे लिंग को बाहर निकाल कर कराह रही थी।

मेरे झटकों की आवाज़ और आशिका आंटी की ‘अहह उम्म्म्म उफ़ अहह आअहह आआ ईईईईई… करो… और ज़ोर से और ज़ोर से… आआआहह… सिइइइइइइइइइइइइ…’।

कमरा उनकी आवाजों से गूँज रहा था। मेरा काम ख़त्म होने वाला था तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी. ‘उम्म्म उम्म्ग्ग उम्म्म..’ आशिका आंटी के मुँह में रोहन अंकल का लंड पूरा घुसा हुआ था, फिर भी उनकी आवाज़ें निकल रही थीं।

फिर मैंने नीचे झुक कर आशिका आंटी के दोनों मम्मों को अपनी मुट्ठी में ले लिया और उन्हें मसलते हुए दबाने लगा. मेरी स्पीड अचानक बढ़ गई और मैंने पांच-छह धक्कों के साथ अपना वीर्य छोड़ दिया.

उधर आशिका आंटी भी जा चुकी थीं. उसका सारा रस उसके घुटनों तक बह रहा था. उसी समय उत्तेजना में रोहन अंकल ने पिचकारी आशिका आंटी के मुँह में छोड़ दी, जिसे वो पूरा चाट कर पी गईं.

हम तीनों को चरमसुख प्राप्त हो चुका था। इसके बाद आशिका आंटी और मैं साथ में नहाये. नहाते वक्त भी मैंने आशिका आंटी को एक बार फिर से चोदा.

नहाकर जब हम कमरे में पहुँचे तो रोहन अंकल ने सबके लिए ड्रिंक बना रखी थी। जब तक हमने ड्रिंक किया तब तक खाना आ गया था। खाना खाने के बाद कुछ देर तक बातें होती रहीं.

मैंने आशिका आंटी से पूछा- आपको मेरा साथ कैसा लगा? उसने उत्तर दिया-यह तो स्वर्ग का सुख था। उसके बाद फिर हमने थ्री-सम किया और नंगे ही सो गये.

सुबह उठकर मैंने उनसे विदा ली और अपने गंतव्य की ओर निकल पड़ा। पिछले 2 महीनों में हम 3 बार मिल चुके हैं. यह एक मजेदार चुदाई का खेल है. शराब और सिगरेट के साथ थ्रीसम चुदाई होती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds