May 21, 2024
कामुक आंटी की जबरदस्त चुदाई

आज की हिंदी सेक्स कहानी है "कॉलेज गर्ल और कामुक आंटी की जबरदस्त चुदाई" इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

आज की हिंदी सेक्स कहानी है “कॉलेज गर्ल और कामुक आंटी की जबरदस्त चुदाई” इस कहानी को पढ़ने के बाद आप अपना लंड हिलाने से नहीं रोक पाएंगे।

नमस्कार दोस्तों! मैं हर्ष हूं। वैसे मैं मुंबई से हूं। लेकिन नौकरी के चलते कभी दिल्ली तो कभी मेरठ में रहना पड़ता है। मैं क्रिकेट खिलाड़ी रहा हूं, जिसके कारण मेरा शरीर गठीला है और एब्स के साथ-साथ मेरा लंड सात इंच लंबा और 3 इंच मोटा है। मैं आकर्षक शरीर वाला गोरा दिखने वाला आदमी हूँ।

स्कूल से पास होने के बाद जब वे कॉलेज की पढ़ाई के लिए दिल्ली गये; ये उस समय की कहानी है। मैं नई दिल्ली शहर गया। उत्साह तो पहले से ही था, बस गर्मी निकालने की जरूरत थी। ये काम एक आंटी ने किया।

दिल्ली के महिपालपुर में मेरे घर के पास एक आंटी किराये पर रहती थीं। आंटी का नाम पूनम था। क्या बताऊँ दोस्तो… क्या खूबसूरती थी उसकी, उसकी कमर, गोरेपन और स्तनों का हर कोई दीवाना था। उसका फिगर 34-30-36 था। उस मस्त माल की गांड भी बहुत मस्त थी।

चेहरे से तो वो सती सावित्री लगती थी लेकिन अंदर से वो पक्की रंडी थी। उसके ऊपर मेरे कॉलेज की एक जवान लड़की मोनिका रहती थी जिसका फिगर 30-28-34 था।

मोनिका देखने में सीधी थी और वैसे भी सीधी थी। लेकिन जब से वह आंटी से मिली थी, उसका व्यवहार बदल गया था और उसका रवैया बदल गया था। शायद आंटी ने उसे कुछ सिखाया होगा।

एक दिन मैं अपनी ऊपर वाली छत पर खड़ा होकर आंटी को छुप कर काम करते हुए देख रहा था। उसी समय मैं Readxstories की कहानी पढ़ रहा था।

छत ऊपर होने के कारण कोई नहीं देख सका कि मैं क्या कर रहा हूँ और आंटी के ख्यालों में खोकर मुठ मारने लगा। आंखें बंद हो गईं और आंटी की चूत दिखने लगी।

तभी मोनिका पता नहीं कहाँ से आई और उसने मुझे अपना लम्बा लंड हिलाते हुए देख लिया। जब मैंने उसकी आवाज सुनी तो मैं एकदम से चौंक गया। मेरा लंड मेरे हाथ में था लेकिन मैं डर रहा था। डर और शर्म के कारण मै अपने लंड को एक तरफ छुपाना भी भूल गया।

मोनिका ने कुछ सेकंड के लिए मेरी तरफ देखा और फिर सीधे आंटी के पास भागी।

मैं तो अपने होश खो बैठा… बहनचोद, क्या हुआ?

लेकिन अगले ही पल मैंने अपने मन को समझाया कि मैं सिर्फ हस्तमैथुन कर रहा था, मैं किसी चूत को नहीं चोद रहा था जिससे उसके लिए परेशानी खड़ी हो जाती। वैसे भी वह मुझे पहले से ही जानती थी। मैंने खुद को आश्वस्त किया कि वह आंटी को कुछ नहीं बताएगी।

जब उस दिन की रात बीत गई तो मामला ख़त्म हो गया।

लेकिन उस दिन के बाद से आंटी मुझ पर ज्यादा ध्यान देने लगीं। मोनिका भी अक्सर अपनी छत से देखती रहती थी।

एक दिन आंटी ने मुझे अपने पास बुलाने के लिए एक छोटा सा बच्चा भेजा। मेरे मन में कोई शंका थी की जरूर दाल में कुछ काला है, वरना आंटी कभी मुझे इस तरह फोन करने के लिए नहीं कहतीं। (कामुक आंटी की जबरदस्त चुदाई)

साथ ही यह भी डर था कि कहीं मोनिका ने हस्तमैथुन के बारे में आंटी को न बता दिया हो। यह कुतिया मोनिका मुझे घर से निकलवा सकती है और मुझ पर एक नई मुसीबत आ पड़ेगी। ऐसे विचार मेरे मन में आ रहे थे।

मैं डरते हुए आंटी के पास गया।

आंटी बोलीं- तुम्हारा नाम हर्ष है?

मैने हां कह दिया।

फिर वो बोली- मोनिका ने मुझे तुम्हारे बारे में कुछ बताया है।

मैं: मैं कुछ समझा नहीं?

वो बोली- मोनिका कह रही थी कि एक दिन तुम मुझे गंदी नजरों से देख रहे थे और कुछ और भी कर रहे थे।

आंटी ने ये कहा तो मेरी गांड फट कर मेरे हाथ में आ गयी। मेरे मुँह से आवाज नहीं निकल रही थी कि क्या जवाब दूं।

आंटी बोलीं- क्या हुआ, कुछ बताओ, क्या मोनिका सही कह रही थी?

मैंने हकलाते हुए कहा- हां आंटी, वो.. वो..

आंटी बोलीं- अरे घबराओ मत, खुल कर बताओ क्या बात थी?

मैं- कुछ नहीं आंटी … बस ऐसे ही हो गया।

मेरी बात सुनकर आंटी मुस्कुराने लगीं। मैं समझ गया कि मामला कुछ और है। वह भी शायद कुछ चाहती है।

लेकिन फिर अगले ही पल आंटी ने मोनिका को बुला लिया। मोनिका भी ऐसे टपकने लगी मानो दरवाजे पर खड़ी हो। वह अन्दर आ गयी और दरवाजे के पास सिर झुका कर खड़ी हो गयी।

आंटी बोलीं- हर्ष, ये लड़की मोनिका तुम्हें पसंद करती है।

आंटी की ये बात सुनकर मुझे अपने कानों पर यकीन नहीं हुआ। सामने खड़ी लड़की खुद किसी को अपने दिल की बात बता रही थी।

आंटी बोलीं- वो तुमसे प्यार करती है, क्या तुम्हें ये पता है?

मैं- नहीं आंटी, मैंने कभी ऐसा नहीं सोचा था। (कामुक आंटी की जबरदस्त चुदाई)

आंटी बोलीं- उस दिन तुम जो भी कर रहे थे, आज मुझे दिखाओ। हम दोनों देखना चाहते हैं कि आप कैसे हैं।

एक बार तो मैं चौंक गया लेकिन फिर पूरा मामला समझ आया। ये दोनों मुझसे चुदवाने की फिराक में हैं। इसलिए वह मुझे इस तरह से भड़का रही है।’ फिर मुझे मे भी हिम्मत आ गई और मैं मुस्कुरा दिया।

इससे पहले कि मैं कुछ शुरू कर पाता, आंटी ने मेरे लोअर के ऊपर से ही मेरे लंड को छू लिया। मैंने थोड़ा झिझकते हुए आंटी के मम्मों को छेड़ा तो वो बोलीं- डरते क्यों हो, इन्हें अच्छे से दबाओ। मैं स्वयं तुम्हें अनुमति दे रही हूं।

मैंने आंटी के स्तनों को कस कर दबाया तो आंटी के मुँह से आह बाहर आ गयी।

आंटी बोलीं- हम्म.. अच्छा है मोनिका, दूर क्यों खड़ी हो.. आओ.. हम जो ढूंढ रहे थे वो मिल गया।

मोनिका भी धीरे-धीरे हम दोनों के पास आ गई और आंटी मोनिका की शर्ट के बटन खोलने लगीं। मोनिका ने मेरी तरफ देखा तो उसकी आंखों में अब कोई शर्म नहीं थी।

मेरे चेहरे की तरफ देखते हुए उसकी नजर नीचे मेरे लोअर में तने हुए लंड पर पड़ी। मेरे लोअर में मेरा लंड तम्बू बना चुका था।

आंटी ने एक हाथ से मेरा टेंट पकड़ा और हिलाया। मैंने आंटी की गांड दबा दी। अब तक मोनिका की शर्ट उतर चुकी थी और वो ब्रा में थी। 

फिर आंटी ने मोनिका से अपनी पैंट भी उतारने को कहा। अब वो भी बेशर्मी से अपनी पैंट खोलने लगी और अगले ही पल सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी।

मैं मोनिका के मम्मों को ब्रा के ऊपर से दबाने लगा। इधर मोनिका आंटी का ब्लाउज खोलने लगी। आंटी के बड़े बड़े स्तन नंगे हो गये। मैं अपना मुँह आंटी की चुचियों की तरफ ले गया तो उन्होंने मुझे रोक दिया।

वो बोलीं- पहले इस बेचारी की प्यास तो बुझाओ। मैं तेरे लंड का मजा बाद में लूंगी। (कामुक आंटी की जबरदस्त चुदाई)

यह कहते हुए आंटी ने मेरा लोअर नीचे खींच दिया। मेरा सात इंच का लंड मेरे अंडरवियर में खड़ा और असहज हो रहा था।

आंटी ने मेरा अंडरवियर भी उतार दिया। वो मेरे लंड को हाथ में लेकर सहलाने लगी तो मैं कराहने लगा।

फिर मोनिका भी मेरी गोटियों को छेड़ने लगी। इन दोनों रंडियों के मुलायम हाथों के स्पर्श से मेरा लंड झड़ने वाला था इसलिए मैं थोड़ा पीछे हट गया।

मैंने मोनिका की ब्रा उतार दी और उसके मम्मों को चूसने लगा। वो मेरे बालों में हाथ फिराते हुए कराहने लगी। मैं नीचे से उसकी चूत को सहलाने लगा।

तब तक आंटी ने मोनिका की पैंटी उतार दी थी। मोनिका अब पूरी नंगी थी। मैं मोनिका के मम्मे चूस रहा था और आंटी मेरा लंड चूसने लगी थीं। मैं तो पागल हो रहा था कि किसका ध्यान रखूँ। ये दोनों आज मुझे निचोड़ डालेंगी।

फिर आंटी उठीं और मुझे कमरे में जाने को कहा और मुझे अंदर ले जाकर बिस्तर पर लेटा दिया। आंटी ने फिर से मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और मोनिका मेरा हाथ पकड़ कर अपनी चूत पर फिराने लगी।

मैंने मोनिका की चूत में उंगली डाली तो उसकी चीख निकल गई।

मैंने आंटी से कहा- धीरे से चूसो, नहीं तो मेरा वीर्य तुम्हारे मुँह में निकल जायेगा।

आंटी मेरे लंड के ऊपर से हट गईं। फिर उसने मोनिका को इशारा किया और मोनिका बेड पर मेरे बगल में आकर लेट गयी।

आंटी बोलीं- पहले इस बेचारी की चूत को शांत करो। वो बहुत दिनों से तुम्हारे लंड के लिए तरस रही है।

मैंने मोनिका की टाँगें फैलाईं और अपना मुँह उसकी चूत पर रख दिया और उसकी खुशबू लेने लगा। उसकी चूत से बहुत मस्त खुशबू आ रही थी।

अगले ही पल मैंने अपनी जीभ उसकी चूत में डाल दी और वो कराह उठी। उसने मेरा मुँह अपनी चूत पर दबा लिया और अपना मुँह वाइब्रेटर की तरह चलाने लगी। उसके पूरे शरीर में झुरझुरी सी दौड़ रही थी।

आंटी मोनिका के मम्मे दबाने लगीं। मोनिका की कामुक आवाजें कमरे में गूंजने लगीं। आह्ह…इस्स्स…ओह्ह…कठोर…

जब आंटी ने मोनिका की हालत खराब होती देखी तो आंटी बोलीं- राजा, अब देर मत करो, इसकी चूत की खुजली मिटा दो।
आंटी के कहने पर मैंने अपना सात इंच लम्बा लंड मोनिका की चूत पर रख दिया। (कामुक आंटी की जबरदस्त चुदाई)

जैसे ही लंड ने मोनिका की चूत को छुआ तो वो दर्द से छटपटाने लगी। फिर आंटी ने मेरा लंड पकड़ कर मोनिका की चूत पर एक-दो बार लगाया और हटा दिया। मोनिका लंड अन्दर डलवाने के लिए रिक़ुएस्ट करने लगी।

आंटी को भी उस जवान नंगी लड़की की चूत सहलाने में मजा आ रहा था। आंटी ने फिर से मेरा लंड उसकी चूत पर सेट किया और बोलीं- अब चोद कुतिया को!
उसके इशारे पर मैंने अपना लंड मोनिका की चूत में पेल दिया और मोनिका की चीख निकल गई,

वो चिल्लाने लगी- आआआ… आंटी… मुझे बचा लो… मर गई…

आंटी बोली- मर गई नहीं .. कहो कि चुद गई।

मोनिका की चूत ज्यादा खुली नहीं थी जिससे मैं कह सकता था कि शायद उसने अपनी चूत में लंड का स्वाद कम ही चखा था। लेकिन उसकी हरकतें देख कर मैं कह ही नहीं सकता था कि वो वर्जिन थी। लेकिन जो भी हो मुझे एक सेक्सी लड़की की चूत फ्री में चोदने को मिल रही थी।

मैं ज़ोर-ज़ोर से मोनिका की चूत चोदने लगा और पूनम आंटी मोनिका के मम्मे दबाने लगीं। कभी उसे हाथ में लेकर जोर से दबाती तो कभी चूसने लगती। आंटी भी नंगी थी और अब मोनिका भी चुदाई का मजा लेने लगी। वो आंटी की चूत में उंगली करने लगी।

मैंने करीब बीस मिनट तक मोनिका की चूत को चोदा और फिर मैं उसकी चूत में झड़ने वाला था तो मैंने लंड बाहर निकाल लिया।

मोनिका बोली- क्या हुआ, और करो?

मैंने कहा- मेरा निकलने वाला है।

उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और अपने ऊपर लेटा लिया और मेरे लंड को अपने हाथ से पकड़ कर अपनी चूत में डाल लिया। वो मेरे होंठों को चूसने लगी। मैं समझ गया कि वो माल अन्दर ही लेना चाहती है। साली मेरे लंड के लिए बहुत प्यासी लग रही थीं।

मैंने तीन-चार जोरदार धक्के लगाए और उसकी चूत में वीर्य छोड़ना शुरू कर दिया। मैं पूरी तरह से उसकी चूत में ही स्खलित हो गया।

दो मिनट तक मोनिका के ऊपर पड़े रहने के बाद जब मैं बिल्कुल रुक गया और उठने लगा तो आंटी बोलीं- रुक, अब मेरी तरफ भी देख। साले तूने उसकी चूत तो भर दी, लेकिन मेरी प्यासी चूत को भी तेरा लंड चाहिए।

मैंने कहा- आंटी, मुझे पांच मिनट दीजिए। मैं अचानक कैसे खड़ा हो पाऊंगा? अभी-अभी मैं मोनिका की चूत में ही स्खलित हुआ हूं।

आंटी बोलीं- तुम उठो, तुम्हारा लंड उठाना मेरा काम है।

आंटी के कहने पर मैं उठ गया और मोनिका एक तरफ हट गयी। आंटी ने मुझे बिस्तर पर गिरा दिया और मेरी छाती को चूमने लगीं। आंटी के स्तन मेरी नाभि के आसपास छू रहे थे।

फिर आंटी मेरे होंठों को चूसने लगीं। मैं भी नंगी आंटी के बदन के स्पर्श का आनंद लेने लगा। मैंने आंटी को कस कर पकड़ लिया और उनके होंठों को जोर-जोर से चूसने लगा। (कामुक आंटी की जबरदस्त चुदाई)

आंटी ने अपने होंठ मेरी गर्दन पर चिपका दिए और मेरी गर्दन को अपने सारे थूक से चुपड़ कर चूसने लगीं। आंटी के खूबसूरत स्तन अब मेरी छाती से छू रहे थे।

आंटी एक हाथ से नीचे से मेरे लंड को सहला रही थी। वह उसे जल्द से जल्द उठाने की कोशिश कर रही थी।

आंटी कुछ देर तक मेरे शरीर को चूमती रहीं और फिर अचानक उनके होंठ मेरे लंड से छू गये। आंटी ने मेरा आधा सोया हुआ लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगीं।

मुझे गुदगुदी तो हो रही थी लेकिन थोड़ा मजा भी आ रहा था। आंटी ने मेरे लंड के सुपारे को अपने मुँह के अंदर तक खोला और लंड के सुपारे पर तेजी से अपनी जीभ फिराने लगी। अब मेरे लंड में हलचल होने लगी थी।

पांच मिनट बाद मेरे लंड में तनाव आना शुरू हो गया। आंटी को तनाव महसूस हुआ, उन्होंने और तेजी से अपना मुँह मेरे लंड पर चलाना शुरू कर दिया और अब मेरे मुँह से हल्की-हल्की कराहें निकलने लगीं।

मोनिका मेरे सीने पर हाथ फिराने लगी और मेरे निपल्स को छेड़ने लगी। मैं मोनिका की चूत को छेड़-छेड़ कर उसका मजा लेने लगा।

जब मेरा पूरा लंड खड़ा होकर आंटी के मुँह में भर गया तो आंटी ने मेरा लंड बाहर निकाला जो थूक से चिकना हो गया था। लंड पूरा गीला हो चुका था।

आंटी ने अपनी दोनों टाँगें फैला दीं और मेरे दोनों तरफ मेरी जाँघों पर बैठ गईं। वो थोड़ा आगे बढ़ी और लंड को अपनी चूत पर फिराने लगी।

आंटी ने लंड लेने की तैयारी कर ली थी। फिर पूनम आंटी उठीं और अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत के मुँह पर रख लिया और मेरे लंड पर बैठने लगीं। लंड आंटी की चूत में घुसने लगा।

आह्ह … आंटी की चूत बहुत चिकनी और गर्म थी। मुझे वाकई मज़ा आया। मोनिका की चूत में लंड डालने के बाद भी मुझे इतना मजा नहीं आया।

पूनम आंटी ने पूरा लंड अपनी चूत में घुसा लिया और अपने मम्मे दबाने लगीं। जब पूरा लंड आंटी की चूत में घुस गया तो मुझे स्वर्ग जैसा मजा आने लगा। आंटी धीरे धीरे मेरे लंड पर कूदने लगीं।

तभी मोनिका भी उठ गयी। उसने अपने पैर मेरी छाती के दोनों तरफ रख दिए और अपनी चूत मेरे मुँह के सामने करके मेरी छाती पर बैठ गई।

अब आंटी तेजी से मेरे लंड पर कूदने लगीं और मोनिका ने अपनी चूत मेरे मुँह पर रख दी। मोनिका अपनी चूत मेरे मुँह पर दबाने लगी और आंटी अपनी चूत मेरे लंड पर दबाने लगीं। (कामुक आंटी की जबरदस्त चुदाई)

दोनों के मुँह से तेज़ आवाज़ें निकलने लगीं, उम्म्ह… अहह… हय… याह… हर्ष… हय… आआस्स… स्स्स… उफ़… और वो दोनों मेरे शरीर का आनंद लेने लगे।

मैंने मोनिका की गांड पकड़ कर उसे अपनी ओर खींचा और उसकी चूत को अपने होंठों से चिपका लिया और अपनी जीभ मोनिका की चूत में डाल दी। मोनिका मेरे बाल खींचने लगी।

जीभ उसकी चूत में घुस चुकी थी और वो पागल हो गयी थी। मैं मोनिका की चूत में तेजी से अपनी जीभ चलाने लगा। आंटी नीचे की तरफ मेरे लंड पर उछल रही थीं।

पांच-सात मिनट बाद मोनिका की चूत ने मेरे मुँह पर पानी छोड़ दिया। वह शांत हो गयी और मुझे छोड़ कर चली गयी। वो उठी और एक तरफ लेट गयी। लेकिन आंटी अभी भी मेरे लंड पर उछल रही थीं।

मैंने आंटी की गांड को अपने हाथों से पकड़ लिया और जोर जोर से अपने लंड पर मारने लगा। गच्च-गच्च की आवाज के साथ मेरा लंड आंटी की चूत को चोदने लगा।

पांच मिनट बाद आंटी की चूत ने भी मेरे लंड पर गर्म पानी छोड़ दिया लेकिन मैंने आंटी को उठने नहीं दिया। मैंने आंटी को नीचे पटक दिया और उनकी टांगें उठा कर उनकी चूत को फाड़ने लगा। आंटी के चेहरे पर संतुष्टि का भाव साफ़ दिख रहा था। वो मेरे लंड से चुदाई का मजा ले रही थी।

पांच बजे तक मैंने आंटी की चूत चोदी और फिर दूसरी बार मेरा लंड झड़ने की कगार पर पहुंच गया। मैंने जोर-जोर से तीन-चार धक्के मारे और आंटी की चूत को भी अपने वीर्य से भरपूर कर दिया।

उस दिन के बाद चुदाई का क्रम चलता रहा। जब भी उनमें से किसी को प्यास लगती थी तो वो मेरे कमरे में आ जाती थीं और अपनी चूत चुदाई करवाती थीं। जब तक मैं वहां रुका, उसने मजे से मेरे लंड और अपनी चूत की प्यास बुझाई।

दोस्तों ये थी मेरी कहानी। जवानी में तो मुझे पहली बार में ही इतना मजा मिल गया था।

तो दोस्तों, आपको मेरी यह चुदाई की कहानी कैसी लगी, जरूर बताएं।

अगर आपको यह कामुक आंटी की जबरदस्त चुदाई कहानी पसंद आई तो हमें कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं।

यदि आप ऐसी और चुदाई की सेक्सी कहानियाँ पढ़ना चाहते हैं तो आप “Readxstories.com” पर पढ़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds