May 21, 2024
Beti ki bur chudai

Readxstories के पाठकों को मेरा नमस्कार कैसे है आप सब लोग?, उम्मीद है सब अच्छे ही होंगे आज की कहानी में पड़े खेल खेल में बेटी की बुर चुदाई की और बेटी की कामवासना को चोद के ठंडा किया

मैं रोहित कुमार हूं. मैं एक एमएनसी कंपनी में जनरल मैनेजर के पद पर हूं. लोग मुझे प्यार से रोहित कहते हैं. अभी मेरी उम्र 52 साल है. लेकिन जो कहानी मैं आपको बताने जा रहा हूं वो पांच साल पहले की है.

शनिवार की सुबह थी. सुबह साढ़े सात बजे मैं नाश्ता करके ऑफिस जाने के लिए तैयार हो रहा था। मेरी पत्नी शेहनाज मेरे सामने बैठी थी और कुछ दूरी पर कृतिका स्कर्ट और ब्लाउज पहने हुए सोफे पर बैठी थी. मैंने उससे नाश्ता करने के लिए भी कहा. कृतिका ने बताया कि उसने दूध पी लिया है और अपनी सहेली किरण का इंतजार कर रही है.

कृतिका: माँ, मेरे लिए खाना मत बनाओ, मैं अपने दोस्तों के साथ होटल में खाना खाऊंगी. और डरो मत, मैं वहां किसी दोस्त से मिलने नहीं जा रही हूं. मैं डेढ़-दो बजे तक वापस आ जाऊंगी।

मेरी पत्नी ने अपनी बेटी की तरफ देखे बिना कहा- तुम जवान हो गई हो, अगर कोई बॉयफ्रेंड भी मिल जाए तो भी मैं तुम्हें नहीं रोकूंगी. आपकी उम्र में कई लड़कियों की शादी हो जाती है और उनके बच्चे भी हो जाते हैं। अगर तुम्हें भी शादी करनी है तो बताओ, मुझे लड़का ढूंढना शुरू कर देना चाहिए. मेरी राय में 2-3 अच्छे लड़के हैं.

शेहनाज ने एक बार भी पीछे मुड़कर नहीं देखा कि उसकी बेटी क्या कर रही है। अगर वह पीछे मुड़कर भी देखती तो उसे पता नहीं चलता कि लड़की ने अपनी स्कर्ट कमर से ऊपर उठा रखी है। उसने मुझे आंखों से इशारा करते हुए अपनी उंगलियों से चूत की फांकों को अलग कर दिया था. डेढ़ मिनट तक बेटी ने मुझे अपनी चूत के अन्दर गुलाबी माल का नजारा दिखाया. लड़की ने पैंटी नहीं पहनी थी. अपनी बेटी की चूत देख कर मेरी हालत खराब हो गयी थी. मेरा मन कर रहा था कि अपनी बीवी के सामने ही अपनी बेटी की चूत में अपना लंड डाल दूँ.

कृतिका की हरकतें देख कर इसमें कोई शक नहीं रह गया था कि लड़की खुल कर चुदवाने लगी थी. तीन महीने पहले ही उसका 19वां जन्मदिन था. वह अपनी स्कर्ट को कमर से ऊपर उठाकर वहीं बैठी रही और एक-एक करके ब्लाउज के चारों बटन खोले और ब्लाउज के दोनों पल्लू को पूरा फैला दिया।

मेरी बेटी कृतिका मुझसे 10-12 फीट की दूरी पर नंगी बैठी थी. वह गंदी हरकतें कर रही थी. वो मेरी तरफ मुस्कुरा कर देख रही थी और अपने बाएँ हाथ की बीच वाली उंगली को अपनी चूत में अन्दर-बाहर कर रही थी। उसकी गन्दी हरकतें मुझे साफ़ बता रही थी कि “पापा, मुझे चोदो।”

2-3 मिनट तक मैंने खुद को उंगली से चोदा होगा, तभी घंटी बजी. मेरी बेटी ने अपनी उंगली अपनी चूत से निकाली और मेरी तरफ देखते हुए उंगली चूसने लगी जैसे दिखा रही हो कि वो ऐसे ही लंड चूसती थी. कृतिका खड़ी हुई और मेरी तरफ पीठ करके दरवाजे के पास गयी. उसने अपने ब्लाउज के बटन बंद कर रखे होंगे. दरवाज़ा खुला तो मेरी बेटी की आवाज़ सुनाई दी.

“आओ किरण, मैं तुम्हारा ही इंतज़ार कर रहा था।”

किरण अपनी सहेली की बात का कोई जवाब दिए बगैर बोलती हुई मेरी ओर आ गई.

“गुड मॉर्निंग अंकल, आप दिन-ब-दिन और भी जवान और खूबसूरत होते जा रहे हैं। आंटी, आप 24 साल से अंकल के साथ रह रही हैं। आप रोहित जी को तलाक दे दीजिये, मैं अंकल से शादी करना चाहती हूँ।”

मेरे दोनों गालों को चूमने के बाद वो शेहनाज के पास गयी. गले लगाने के बाद दोनों ने एक दूसरे के गालों को चूमा.

शेहनाज ने कहा, “तलाक या शादी करने की क्या जरूरत है? रात को मेरे पास रुकना, हम दोनों मिलकर देखेंगे कि तुम्हारे पति में दो रंडियों को ठंडा करने की ताकत है या नहीं।”

किरण अक्सर हमारे घर आती रहती थी. लेकिन उस दिन से पहले उसने कभी मुझे चूमा नहीं था, न ही कभी मुझसे शादी की बात की थी. मेरी बेटी सब कुछ देख-सुन रही थी. उसने उत्तर दिया, “किरण आज रात यहीं रुकेगी। लेकिन वह तुम दोनों के साथ नहीं सोयेगी बल्कि मेरे साथ रहेगी. कुतिया, जल्दी करो, तुम्हें देर हो रही है।”

दोनों लड़कियों ने मुझे आँख मारी और अपना-अपना हैंड बैग लेकर बाहर चली गईं। मेरी पत्नी ने किरण की हरकतों के बारे में कुछ नहीं कहा. लेकिन मैं दोनों लड़कियों को जल्द से जल्द चोदने के लिए बेताब हो गया.

जब मैं कॉलेज में पढ़ता था तो मैंने अपनी सेक्स लाइफ की शुरुआत एक टीचर की पत्नी को चोदकर की जो मुझसे दोगुनी उम्र की थी. वह औरत मुझसे इतनी खुश थी कि उसने कई शादीशुदा महिलाओं के साथ-साथ कई कॉलेज की लड़कियों को भी मुझसे चुदवाया। फिर मुझे सेक्स की लत लग गयी. किसी तरह से मैं हर महीने 2-3 नई लड़कियाँ चोदने लगा।

अपनी इंजीनियरिंग की अंतिम परीक्षा पूरी करने के एक महीने के भीतर ही मेरी शादी शेहनाज से हो गई। लेकिन इतनी खूबसूरत पत्नी होने के बावजूद भी मैं इधर उधर मुठ मारता रहता था. मुझे ऐसी नौकरी भी मिली जहां केवल महिलाएं थीं। मुझे कभी भी नये सामान की तलाश नहीं करनी पड़ी।

लेकिन सैकड़ों चीजें हाथ में होने के बावजूद मेरा लंड सबसे पहले मेरी बेटी कृतिका और उसकी सहेली किरण की चूत में घुसना चाहता था. लेकिन जब मैं सोच रहा था कि अपनी बेटी को कैसे पटाऊँ, उसे कैसे चोदूँ, तो मुझे मेरी बेटी की बात याद आ गई –

“मैं 2 बजे तक घर पहुँच जाऊँगा।”

पत्नी एक बड़े सरकारी बैंक में अधिकारी थीं. वो 9.30 बजे जाती थी और शाम को करीब 6 बजे वापस आती थी. मैं आठ बजे जाता था, लेकिन आने का समय तय नहीं था. आमतौर पर वह शाम सात बजे के बाद ही आता था. मैंने उस दिन 1-1:30 बजे तक आने का फैसला किया.

अचानक मेरी पत्नी की आवाज़ सुनाई दी, “क्या बात है? क्या तुम्हें किरण की याद आ रही है?”

मैंने नाश्ता ख़त्म कर लिया था, अपनी जगह से उठा और अपनी पत्नी के पीछे खड़ा होकर अपने दोनों हाथ उसके गाउन के अंदर डाल दिये। मैंने उसके दोनों मस्त मांसल स्तनों को मसलते हुए कहा, मैंने झूठ बोला।

“किरण नहीं, किरण की हरकतों ने मुझे बीस साल पहले बाली की चुलबुली मस्त शेहनाज की याद दिला दी। तुम पहले मेरा कितना ख्याल रखती थी।”

पत्नी ने मेरी बात काटते हुए कहा, “अगर तुम स्वार्थी न होते तो आज भी इतना ही ख्याल रखते।”

मेरी पत्नी ने जो कहा उसे सुनकर मैं हैरान रह गया. जब मैंने उस पर ध्यान नहीं दिया तो मैंने पूछा। पत्नी ने गाउन के अंदर से मेरा हाथ बाहर निकाला और खड़ी हो गयी. वह दो कदम पीछे हटी और बोली,

“मैंने सब कुछ ध्यान में रखा है। अपनी पहली चुदाई से लेकर अगले सात सालों में मैंने अपने 47 दोस्तों और परिचितों को आपसे चुदवाया। उनमें बहुत-सी कुँवारी भी थीं। परन्तु तुम मेरे लिये एक भी पुरूष न लाये। तो फिर मुझे और क्या करना चाहिए? आपके लिए माल की तलाश बंद कर दी।

किरण की बातों से साफ़ है कि वो तुमसे चुदवाना चाहती है. या तो खुद उसे पटाओ या अपनी बेटी से कहो कि वह अपने दोस्त को तुमसे चुदवाए।”

पत्नी मेरा जवाब सुने बिना ही रसोई में चली गयी.

शेहनाज ने जो भी कहा बिल्कुल सही कहा. उस समय तक मैं ग़लतफ़हमी में था कि मैं बहुत अच्छा चोदता हूँ, इसीलिए वो मेरे लिए सामान ढूंढती थी और मुझसे चुदाई करवाती थी। मुझे कभी एहसास ही नहीं हुआ कि मेरी पत्नी को भी किसी दूसरे मर्द की ज़रूरत हो सकती है. अगर ये ग़लतफ़हमी न भी होती तो भी मैं किसी भी हालत में अपनी खूबसूरत बीवी को किसी और से नहीं चोदवा पाता.

मैं समय पर ऑफिस के लिए निकल गया. तीन सुबह की बैठकों के बाद, मैंने अपनी सचिव ग्रेसी (28 वर्षीय एक आकर्षक महिला) से कहा, “मैं बहुत बीमार महसूस कर रहा हूं, इसलिए मैं घर जा रहा हूं।” और उसे उस दिन की बाकी बैठकों को अन्य दिनों में समायोजित कर लेना चाहिए.

ग्रेसी मेरे पास आई और मेरा एक हाथ उठाकर अपने स्तनों पर दबाया और बोली,

“रोहित, तुम्हें आराम की नहीं, अच्छी चुदाई की ज़रूरत है। चलो अपने पुराने अड्डे पर चलते हैं। क्या हो गया, इतनी बेचैनी क्यों है?”

उसने उसके स्तन दबाते हुए कहा,

“ग्रेसी, मुझे लगता है कि मेरी पत्नी शेहनाज किसी और से चुदवाती है।”

मेरी बात सुनकर ग्रेसी जोर से हंस पड़ी. वो बोली, “मैं शादीशुदा हूँ और तुम मुझे 6 साल से चोद रहे हो. इस फैक्ट्री में 250 से ज्यादा महिलाएं काम करती हैं. तूने लगभग सभी को चोदा है. 8-10 को छोड़ कर बाकी सब किसी न किसी की बीवी हैं. दूसरे मैनेजर भी चोदते हैं, लेकिन तुम्हारे अलावा सबके पास 3-4 खास बातें हैं, और तुम किसी को भी चोद लेते हो। फिर अगर कोई तेरी बीवी चोद रहा है तो तू बेचैन क्यों होता है?

अब तक मुझे शेहनाज जैसी खूबसूरत महिलाएं दिखाई नहीं दीं। दुनिया में कोई भी पुरुष खूबसूरत महिला नहीं बन सकता। मेरी जैसी साधारण दिखने वाली बाली महिलाओं को आप जैसी खूबसूरत मैन सार्जेंट से चोदते हैं, तो आप ऐसी सोच भी कैसे सकते हैं कि बाला की खूबसूरत जैसी दिखने वाली पत्नी को दूसरी नहीं चोदते होंगे? शेहनाज किस्से चुदवाती है चिंता छोड़ो कर अपनी नई माल ढूंढो। मुझे पता चला कि फैक्ट्री में किसी नई महिला ने सेक्स किया है या नहीं। शेहनाज की चिंता छोड़ो और घर तुम जा कर आराम करो।”

ग्रेसी ने क्या कहा क्या नहीं मैंने ध्यान नहीं दिया। मुझे अपनी बेटी को चोदना था. मैं दोपहर एक बजे से पहले घर पहुँच गया। हम तेरे के पास घर की चाबी थी। मैं घर चला गया। थोड़ा आगे आया तो देखा कि जिस सोफे पर बैठ कर कृतिका ने मुझे अपनी नंगी जवानी दिखाई थी उसके नीचे एक मोबाइल था। मैंने मोबाइल उठाया। वो शेहनाज का मोबाइल था। मुझे आश्चर्य हुआ कि जो महिलाएं हर समय फोन पकड़ कर बैठती हैं वो फोन कैसे बाहर छोड़ देती हैं?

मैंने फोन को चालू करने की कोशिश की थी लेकिन बैटरी जीरो थी। मैंने मोबाइल को रिचार्ज पर लगाया और अपने कमरे में जाकर कपड़े उतार कर नंगा हो गया। और किचन में आकर। नंगा ही किचन में अपने लिए कुछ खाने कोलेने लगा और फिर सोफा पर नंगा ही बैठकर लैपटॉप खोल के काम करने लगा , काम करते-करते मैं यह भी सोच रहा था मेरी बेटी मुझे से चुदने के लिए कब तैयार होगी या तो मैं अपनी बेटी को जबरदस्ती चोद दूं या फिर उसकी जो फ्रेंड किरण है उसका जबरदस्ती बलात्कार कर दूं पर फिर मैंने सोचा नहीं-नहीं मैं ऐसा नहीं हूं।

यह सोचते सोचते पता ही नहीं लगा कि कब बैटरी जीरो से 60% हो गईमैं अपनीबेटी की वह गुलाबी चूत अपने दिमाग से नहीं निकल पा रहामेरा मन अंदर से तड़प रहा है कि मैं अपनी बेटी को ही चोद दूं उसकी चीखें सुनने के लिए मेरे कान तड़प रहे हैं

फिर मैं फोन का पासवर्ड खोल और गैलरी में गया मेरी आंखें फटी की फटी रह गई थी।

जिस सोफे पर मैं बैठा थाइस सोफे पर एक लड़का उसकी उम्र करीबन 20 से 21 साल होगी वह मेरी बीवी को कुटिया की तरह चोद रहा था और यह देखकर मेरी आंखें फटी की फटी रह गई और मेरे दिमाग में ख्याल आया कि मेरी बीवी अब मुझसे खुश नहीं रहती क्या उसको मेरा लैंड पसंद नहीं है क्या जो वह गैर मर्दों से अपनी बुर चुदवाती है और उन्हें बोलती है कि मेरे पति से भी अच्छा लैंड है तुम्हारा और जोर से चोदो।

वो आदमी मेरी पत्नी को चोदते हुए बोल रहा था,

“रानी, ​​रोहित के साथ बीस-पच्चीस साल से हो, अब उसे छोड़ कर मुझसे शादी कर लो”

वीडियो बंद हो गया। मैंने वीडियो को जांच के लिए डाला। वीडियो उसी दिन का था. मैंने वीडियो को स्टार्टअप से देखा। आदमी ने अनीमा को सोफ़ा पर लिटाया। मैंने देखा, वीडियो बंद होने का समय 9:45 और 10:25 था। शेहनाज ने बस पेटीकोट और ब्रा ही पहना था। मतलब साफ़ था. शेहनाज अपने यार का इंतज़ार कर रही थी। आदमी ने सबसे पहले ब्रा को खोला। दोनों भाइयों को दबाते हुए बारी-बारी से दो घुंडियों को चोदा। उसके बाद उसने पेटीकोट का नाडा पेटीकोट को बाहर से बाहर तक खींच लिया।

रैंडी ने भी अपनी बेटी जैसी पेंटी नहीं कैसल थी।

जैसा कि मैं हर बार चुदाई के पहले करता था, उस आदमी ने बुर को ना चोदा, ना ही चोदा। शेहनाज सोफ़ा पर नंगी लेटती रही और उसके सामने खड़ा हो गया। उसने अपने सारे चित्र उतारे। आदमी का लौड़ा पूरा टाईट था। लेकिन मुझे ये देख कर दुख हुआ कि मेरा लौड़ा शेहनाज के यार के लौड़ा से कम से कम 2 इंच ज्यादा लंबा था, मोटा भी था। फिर भी रैंडी ने लौड़े को पकड़ कर दोस्त और बेसहारा होकर बोली बोली,

“अशोक, जल्दी से चोदो।” आज डायरेक्टर साहब के साथ भी एक आदर्श स्थान है।”

यानी मेरी पत्नी के यार का नाम अशोक था।

अशोक मेरी पत्नी के ऊपर आया। शेहनाज ने अपने एक पैर को फूल पर फैलाया, और अशोक ने धक्का मारा।

“वाह राजा, मज़ा आ गया”, शेहनाज ज़ोर से बोली।

तभी मुझे लगा कि मेन डोर का दरवाज़ा खुल रहा था। मैंने फोन को ऑफ कर एक मैगज़ीन के नीचे रखा था, कि दरवाजा खोल कर मेरी बेटी अंदर घुसी हुई थी।

मुझे रीस्टार्ट या कपड़ों की शैली का मौक़ा ही नहीं मिला। कृतिका ने अपने एक पैर से दरवाजे को ज़ोर का झटका दिया। दरवाज़ा बंद हो गया। उसने अपना बैग फेंक दिया और दौड़ती हुई मेरी गोदी में बैठ गई। कई बार मेरे गालों और शेयरधारकों को हिलाएं। एक हाथ से लंड को पकड़ कर छीन लिया।

मेरी बेटी ने ज़ोर से कहा, “पापा, मैं यह देखकर बहुत खुश हूं कि मेरी प्यारी पापा का बल्ला बेटी की क्लिप में शॉट मारने की तैयारी है।” मेरे बिस्तर पर ले जाकर हम वहीं चुदाई का खेल खेलेंगे।”

मैंने अपनी तरफ से कोई कोशिश नहीं की और मेरी बेटी मेरे साथ चुदाई के खेल के लिए तैयार थी।

बाकी की कहानी अगले पाठ में अगली कहानी में पड़े किस तरीके से मैंने अपनी बेटी को जबरदस्त तरीके से चोदा और उसकी खेल-खेल में बेटी की बुर चुदाई की करके उसकी चूत से खून निकाल दिया
और बाद में अपनी बीवी के साथ BDSM और बेटी, उसकी सहेली किरण के साथ के साथ Threesome Sex किया।

दोस्तों आज की कहानी आपको कैसी लगी मुझे कमेंट के माध्यम से बताया और ऐसी ही और ब्रूटल सेक्स कहानियां पढ़ने के लिए हमारी Readxstories को सब्सक्राइब करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds