July 16, 2024
bhabhi ji ki bur chudai

Readxxstories.com के पाठकों को मेरा नमस्कार आज की कहानी में पड़े भाभी जी की बुर चुदाई की और चूत की आग को शांत किया 

भाभी जी की बुर चुदाई की कहानी में अब आगे :

एक बार अगर आपके पड़ोस में कोई एक हॉट और सेक्सी भाभी रहने आ गई, तो आप अपने लंड को कैसे काबू कर सकते हैं? मेरा नाम सौरभ है, और मेरी उमर 23 साल की है। कॉलेज में पढ़ता हूँ, और जिम रोज़ जाता हूँ। कॉलेज में सारी लड़कियाँ मरती हैं मुझ पर। कुछ लड़कियों की सील मेरे लंड ने तोड़ दी है।

मेरा कुछ समय के लिए लड़कियों को चोदने का कोई इरादा नहीं था।. और ठीक उसी वक्त मेरे पड़ोस में एक जोड़ा रहने आया। कुछ ही दिनों में उनकी और मेरी मम्मी की अच्छी जान-पहचान हो गई। उसकी वजह से हम परिवार के सदस्यों को भी वो लोग पहचानते थे। रोज़ सुबह 8 बजे भाभी के पति नाइट ड्यूटी करके वापस आते हैं, और शाम 7 बजे फिर ड्यूटी पर निकल जाते हैं।

एक रोज़ मम्मी ने घर पर पाव भाजी बनाई, तो बाजू में देने को कहा। मैं पाव भाजी लेकर उनके घर गया। वाहा खिड़की से झाँकते हुए देखा तो भाभी बिस्तर पर लेती हुई थी। वो अपने हाथों से अपनी साड़ी को ऊपर उठाये, अपनी चूत में उंगली डाले हस्तमैथुन कर रही थी।

वो दृश्य देख कर एक झटका में मेरा लंड खड़ा हो गया। उस दिन के बाद रात दिन मुझे बस उनके ही सपने आते थे। ये कुछ और ही लग रहा है. इतनी लड़कियों को नंगा देख चुका था, और उनकी चूत की चुदाई कर चुका था। पर ना-जाने भाभी जी में ऐसी कौन सी बात थी, जो मेरे ज़ेहन से निकल ही नहीं रही थी।

भाभी जी 34-28-34 की थी. उनका रंग गोरा था, और उनके ब्लाउज के ऊपर से उनके स्तन बड़े-बड़े साफ नज़र आ रहे थे। उनकी उभरी हुई गांड और गोरी कमर है, क्या मस्त लगती थी भाभी। मेरा लंड तो उनके बारे में सोच कर ही खड़ा हो जाता है। मैं अब उनको लुभाने की कोशिश में लग गया हूं। रोज़ जैसे ही वो बहार आती है, तब मैं जान-बूझ कर किसी बहाने से बहार आती हूँ।

कभी शर्ट उतारकर एक्सरसाइज करता, तो कभी सिर्फ चड्ढी में कोई काम करने लगता। भाभी से नज़र मिलती तो मुस्कुरा देता, और भाभी भी अब मुझे भाव देने लगी थी।

एक रोज़ मेरे घर कोई नहीं था, तो मैंने सोचा बाजू में टाँक-झनक करनी चाहिए। शायद उस दिन जैसा कुछ देखने को मिल जाए तो आंखें सिक हो जाएंगी। मैं भाभी जी के बेडरूम में देखने लगा। वाहा कोई नहीं था. मैं और इधर-उधर से देखने लगा तो भाभी ने मुझे पकड़ लिया। भाभी ने मुझे घर के अंदर लेके दरवाजा बंद किया।

भाभी: ये क्या ताका-झाकी चल रही है?

मैं: कुछ नहीं भाभी. बस ऐसे ही.

भाभी: सब समझ में आ रहा है. आज कल खूब बॉडी बन रही है।

मैं: हा बस ऐसे ही. स्वस्थ और फिट रहना चाहिए।

भाभी: स्वस्थ रहना है या कॉलेज में लड़कियाँ के लिए चल रहा है सब?

मैं: नहीं भाभी. ऐसा तो कुछ नहीं.

भाभी: ज़रा मुझे भी तो दिखाओ अपनी बॉडी.

ये कह के भाभी सोफ़े पर बैठ गयी। मेरा तो जैसा सपना पूरा हो गया। मैंने भी अचानक हुए शान मारते हुए अपनी टी-शर्ट उतारी, और बॉडी दिखाने लगा।

भाभी: अब जब दिखा ही रहे हो तो पैंट भी उतार दो।

मेरी आंखें बड़ी हो गयीं. भाभी को कैसे बताऊं कि पैंट तो उतार दूंगा, पर उनको देख कर जो लंड खड़ा हुआ था उसका क्या? तो मैं पलट गया, और उनकी तरफ पीठ करके अपनी पैंट उतार दी। अंदर सिर्फ संक्षिप्त थी. मैं सिर्फ चड्ढी में भाभी जी के सामने खड़ा था।

भाभी मेरे करीब आई, और मेरे सामने खड़ी हो गई। मेरा खड़ा लंड चड्डी में से साफ दिख रहा था। भाभी ने उसे देखा और मुस्कुरायी। मैं शर्मा गया. पर भाभी ने कहा-

भाभी: कोई बात नहीं, जवानी का जोश है सब. समझ सकति हू.

भाभी ने मेरे और मेरे सेक्स अफेयर्स के बारे में पूछा। और मैंने भी उन्हें अपनी सेक्स स्टोरीज के बारे में बताया, कि कैसे मैंने कितनी लड़कियों को चोदा था। भाभी ने बात करते-करते मेरे लंड पर हाथ रख दिया, और उनके छूटे ही छोटा चेतन टाइट हो गया।

उन्हें चड्ढी के ऊपर से सहलाया, और लंड में से एक बूंद निकल कर बाहर गिर गई। भाभी ने बिस्तर पर मुझे बिठाया और खुद नीचे दोनों जोड़ों के बीच में बैठ गई। साड़ी का पल्लू पीछे करते हुए कमर में घुसाया। बालों का जोड़ा बनाया, और सीधा अपने मुँह से मेरे लंड को चड्ढी के ऊपर से काटा।

मेरे मुँह से आह्ह आह्ह चोद निकल गया। भाभी ने चड्डी को नीचे खिसकाया, और मैंने अपनी गांड से नीचे करके उतार दिया। मैं नंगा बैठा हुआ था. भाभी अपने होठों से मेरे लंड को आजू-बाजू ऊपर और नीचे चुंबन और जीभ से चाटने लगी।

साथ ही अपने हाथों से मेरी दोनों गोटियों से खेलने लगी। साथ ही उनके हाथों की उंगली मेरी गांड के दरार में जाती है, और मेरी गांड के छेद को छेड़ती है। ये एक अलग ही कमाल का अनुभव था। थोड़ी देर बाद वो मेरा लंड मुँह में ले-जा कर चूसने लगी। कुछ मिनट बाद ही मुझे ऐसा लगा कि मेरा कम निकल जाएगा, तो मैं बोल पड़ा-

मैं: भाभी निकल जायेगी.

भाभी: चिंता मत करो, निकलने नहीं दूंगी.

भाभी ने 15-20 मिनट तक मेरा लंड चूसा, और मेरा वीर्य नहीं निकलने दिया। मैं समझ गया कि कुंवारी लड़कियों को सील तोड़ने में ज्यादा मजा तो भाभी के साथ है। और क्यों ना हो, इनका अनुभव जो होता है। ये सब देख कर मैं समझ गया था कि भाभी अपने पति का लंड लेने में एक्सपर्ट थी। और ये सब अच्छा अनुभव से हो तो आता है।

वरना किसी लड़की को मुंह में लेने के लिए मनाने में ही आधा टाइम बर्बाद हो जाता है। भाभी ने मेरा सह अपने मुँह में ले लिया, और पूरी आखिरी बूंद तक मैं भाभी के मुँह में ही झड़ गया। हाय ये आनंद ही कुछ और था. मैं लेता हुआ भाभी को देख रहा था। भाभी जी भी मेरे सामने खादी-खाड़ी अपने कपड़े उतारने लगी। एक-एक करके भाभी खुद नंगी हो गई।

उनके गोल-गोल बड़े-बड़े स्तन देखते ही मेरा लंड वापस खड़ा हो गया। अभी 10-15 मिनट हुए ही नहीं थे, कि मैं उनके स्तन पर झपट पड़ा। उन्हें बिस्तर पर लिटा कर किसी छोटे बच्चे की तरह मुंह में स्तन लेकर चूसने लगा। स्तनों को दबाने और ज़ोर-ज़ोर से मसलने लगा।

मेरे हैवान की बहुत ज़ोर लगाने और मसलने के बावज़ूद भाभी चीखने या चिल्लाने नहीं लगी। मैं समझ गया कि भाभी के पति उनको ऐसे ही परेशान करते हैं। तो अब उनको आदत हो जाएगी. कुछ देर बाद नीचे चूत की तरफ गया। फिर मैंने चूत चाटना शुरू किया। चूत का पानी निकल कर मेरे मुँह पर आ गया।

भाभी को मिशनरी पोजीशन में सेट करके मैंने अपना लंड डाला। कुछ ढक्को में ही मेरा लंड उनकी चूत में था। कुछ देर चुदाई चली. मैंने भाभी को डॉगी बनाया. हाए, मांगी गांड मेरे सामने थी। मैं अपने हाथों को कंट्रोल नहीं कर पाया, और सात करके उनकी गांड पर तमाचा मार दिया।

भाभी को भी मजा आया. मैंने फिर दो-चार तमाचे जड़ दिए, और फिर लंड उनकी चूत में फिर से डाल दिया। उनका कमर और गांड पकड़ कर जम कर चुदाई शुरू की। 15-20 मिनट की लंबी चुदाई के बाद मैं रुक गया, क्योंकि मुझे अभी आगे और करने का मन था। भाभी बिलकुल थकी नहीं थी. भाभी को मैंने पूछा कि ऐसे ही उनके पति आपको चोदते थे क्या?

उन्होंने कहा: वो जवानी में कस कर चोदते थे। इतना चोदते थे कि मैं रो देती थी उनके सामने। चुद-चुद कर मैं एक्सपर्ट बन गयी हूँ। पर आज कल वो ज्यादा वक्त नहीं दे पाता।

तो मैंने कहा: कोई नहीं भाभी, मैं हूं ना।

कुछ वक्त बाद मैंने भाभी को कहा कि मुझे उनकी गांड मारनी थी। तो भाभी टेबल के पास गई. टेबल पर उलटी मोड़ हो गई और मेरे लंड का अपनी गांड से स्वागत करने लगी। मैंने फिर उनकी गांड पकड़ी, और अपना लंड उनकी गांड में डाल दिया। उनकी गांड मैंने 20-25 मिनट तक मारी और उसके बाद उनकी गांड पर ही सारा कम निकल दिया।

क्या चुदाई में अलग ही मजा था. ना बाकी लड़कियों की तरह किच-किच, ना कोई रोक-टोक। भाभी को चोदना एक अनुभव वाली के साथ सेक्स करने जैसा था। जो लंड मांगता है वो इस्तेमाल करता है. फिर चाहे मुँह में डालो, चूत में या गांड में। कोई भी झंझट नहीं.

उस रात वही सो गया मैं और सुबह जब उनके पति आए, तो मैं पीछे के रास्ते से नंगा भागता हुआ अपने घर आ गया। फिर उस दिन के बाद मैंने भाभी को कई बार चोदा। भाभी को चोदने के बाद मुझे कॉलेज की वो वर्जिन लड़कियों में कोई दिलचस्पी नहीं है।

अगर आपको ये कहानी पसंद आई तो () पर प्रतिक्रिया भेजिए। आपकी आईडी सुरक्षित रहेगी, अगर आपको कहानी पसंद आती है, तो मैं और अनुभव जरूर साझा करूंगा। आपको भी कभी भाभी को चोदने का मौका मिलेगा, तो छोड़ियेगा नहीं। अपने लंड की इच्छा ज़रूर पूरी कीजियेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds