July 16, 2024

शादी के बाद मैं अपनी साली रोशनी के करीब आ गया, वह मेरी पत्नी से सिर्फ एक साल छोटी थी। लेकिन उसका जवान उभार उसे बहुत सेक्सी लुक दे रहा था। उसका रंग थोड़ा सांवला था। हम एक ही मोहल्ले में रहते थे। इस वजह से हम लगातार आमने-सामने आते और बात करने के मौके मिलते।

आज की कहानी मैं पड़े : साली के साथ खेला वासना का खेल वर्जिन साली की चुदाई की

परिस्थितियाँ भी हमारे सम्भोग को प्रोत्साहित कर रही थीं। वह बातूनी किस्म की लड़की थी। मैं उसकी ओर आकर्षित था, शायद यह प्यार था। ये बात मुझे उस वक्त पता नहीं थी। मैंने उसका बहुत ख्याल रखा। उसकी हर बात को लेकर चिंतित रहता था।

मेरी शादी को एक साल से ज्यादा समय बीत चुका था और इसी दौरान मैं एक बच्चे का पिता भी बन गया था। यहां हमारे बीच नजदीकियां भी बढ़ गईं। एक बार मैं अपने ससुराल वालों के साथ किसी हिल स्टेशन पर गया था, उस समय मेरी पत्नी गर्भवती थी। इसी कारण मेरी पत्नी हम सबके साथ नहीं आ सकी।

मैं उन सबके साथ करीब दस दिन तक रहा। उस दौरान रोशनी और मैं दोनों एक-दूसरे के काफी करीब आ गए। हम दोनों अपनी सारी बातें शेयर करते थे। हम खाना या अन्य सामान खरीदने के लिए एक साथ बाजार भी जाते थे।

वह बीए के अंतिम वर्ष में थी और मैं एलएलबी कर रहा था। हम दोनों देर रात तक साथ में पढ़ाई करते थे।

ये तो मैंने कहीं पढ़ा था कि सगे बाप-बेटी को भी एक साथ ज्यादा देर तक अकेले नहीं रहना चाहिए। लेकिन रोशनी और उसके सुखद साथ की मौजूदगी में मैंने इस बात को पूरी तरह से नजरअंदाज कर दिया। जीजा-साली बनकर हमारे बीच मस्ती और शारीरिक छेड़छाड़ का दौर शुरू हो गया था।

एक बार रात को पढ़ाई करते समय रोशनी ने मुझसे कहा- जीजाजी, मैं एक झपकी ले लूंगी। तुम मुझे दस मिनट बाद जगा देना।

वो मेरे सामने कुर्सी पर बैठ कर पढ़ रही थी। उसने अपनी आँखें बंद कर लीं और सो गई। उसी वक्त मेरी नजर उसके भरे हुए स्तनों पर पड़ी। दोनों स्तनों के बीच की दूरी साफ़ दिख रही थी। ऐसा लग रहा था मानो उसके मादक उभार मुझे आमंत्रित कर रहे हों। उसे देख कर मेरा ध्यान पढ़ाई से हट गया। उसके स्तन मुझे ललचा रहे थे..। उत्तेजित कर रहे थे।

इससे पहले मैंने कई बार छुप छुप कर रोशनी के मम्मे देखे थे। यह बात वह जानती थी, फिर भी उस ने कभी नाराजगी जाहिर नहीं की, न ही कोई आपत्ति जताई। उसकी यह अप्रतिरोधात्मक बात मेरे अंदर की कामवासना को भड़काने लगी।

आज मेरी वासना को अपनी मनमर्जी करने का मौका मिल गया। आज रोशनी के मादक स्तनों को छूने का सबसे अच्छा मौका लग रहा था। शायद उन्होंने मुझे इसके लिए इनवाइट किया था। एक पल के लिए मैं भी उसके प्रभाव में आ गया था।

मुझे पता था कि रोशनी का बहुत ही कम उम्र में दो लड़कों के साथ अफेयर था। वह अपनी मां के नक्शेकदम पर चल रही थी।

मैंने रोशनी के बारे में सुना था। उसके पिता उसकी माँ के प्रेमी थे जो पड़ोस में रहते थे।

ये सब याद आते ही मुझे आश्चर्य होता है कि मेरा प्यार अचानक कहां चला गया? मुझे न तो उस प्यार की परवाह थी और न ही उसके बारे में सोचने की जरूरत थी।

मैं बस दस मिनट ख़त्म होने का इंतज़ार कर रहा था, कभी घड़ी को देखता तो कभी उसके कपड़ों में बंधे हुए विस्तार को।

जैसे ही दस मिनट बीते, मैंने अधीर अवस्था में उसे जगाने के बहाने उसके एक स्तन को कस कर अपनी मुट्ठी में कैद कर लिया। मेरे छूते ही वो जाग गयी। मैंने अचानक उसके स्तनों पर हमला बोल दिया।

फिर भी उनके चेहरे पर एक अद्भुत मुस्कान दिख रही थी। जिसने मुझे यह स्वीकार करने के लिए मजबूर किया कि मुझे उसे इस तरह छूना बहुत पसंद आया।

उसकी शारीरिक भाषा ने भी मेरे अंदर के शैतान को भड़का दिया था। लेकिन मेरा प्यार अभी भी मेरे धैर्य की रक्षा कर रहा था।
अगले ही पल मैंने उसकी गोद में अपना सिर रख दिया…. तो उसने मुझसे सवाल पूछा- जीजू…. क्या आपको नींद आ रही है?
प्रश्न पूछते समय उसने मेरे सिर को प्यार से सहलाया और मैंने उसके स्तनों पर अपनी नाक रगड़ कर उसे अपने आलिंगन में भर लिया। उस वक्त वो बिना कुछ कहे चुपचाप मेरे घर से चली गई थी।

अगले दिन वो मेरे घर पढ़ने आ गयी। उसकी आंखों में गुस्सा या शिकायत का कोई निशान नहीं था। मैं रात भर अपने व्यवहार के लिए मानसिक रूप से स्वयं को कोसता रहा।

एक घंटे बाद वो मेरे सामने सोफे पर सो गयी। उसे देख कर अचानक मेरे दिमाग पर फिर से शैतान हावी हो गया।

ऐसा लग रहा था जैसे सेक्स की भड़कती आग ने मेरे प्यार को ख़त्म कर दिया हो। मेरे अंदर भावनाओं और वासना का युद्ध चल रहा था। मैंने अपने होंठ उसकी उभरी हुई छाती पर रख दिये। वो मेरे सामने आँखें बंद करके सो रही थी।

इसलिए मेरे लिए यह तय करना मुश्किल था कि वह मेरी हरकतों से खुश है या नाराज।
उन्होंने मुझे चेतावनी दी कि यह ठीक नहीं हो रहा है। लेकिन उसका हाथ उसके सीने पर स्थित सिर को भी सहला रहा था। अब इसका क्या मतलब हो सकता है?

क्या सही था? उसका टोकना या उसका मेरे सिर को सहलाना?
उनकी दो अलग-अलग प्रतिक्रियाओं ने मेरे मन में उलझन पैदा कर दी थी।

सभी महिलाओं के बारे में एक प्रचलित कहावत है। वह चाहकर भी कभी किसी बात के लिए हां नहीं कहती। वह तुम्हें पूरा सहयोग देगी।

हम भी आपका बिस्तर बन जायेंगे। लेकिन वह कभी भी अपने मुँह से ऐसी स्वीकारोक्ति नहीं करेगी। यह खुद को निर्दोष साबित करने का आम तरीका बन गया है। वह गलत होना चाहती है।

लेकिन चोरी पकड़े जाने के डर से वह दोहरा खेल खेलती है और अपनी शराफत का ढिंढोरा पीटते हुए सारा दोष पुरुष पर मढ़ देती है और उस पर मर्जी से जबरदस्ती संबंध बनाने का आरोप लगाकर उसे बदनाम करने में भी पीछे नहीं रहती है।

आप क्या सोचते हैं मेरे दोस्तों? रोशनी भी ऐसी ही क्लास में शामिल थी?

साली होने के नाते मैं उससे प्यार करता था। वह उसका बहुत ख्याल रखता था। दुश्मन हमारे बीच दरार पैदा करने की कोशिश कर रहा था। मैं उसे अपने निजी शत्रु से बचाना चाहता था। इसलिए मैंने उन्हें राखी बांधने का प्रस्ताव दिया था।’

मैं हमारे रिश्ते के बीच एक दीवार बनाना चाहता था। लेकिन मेरी सास ने इस मामले में खलनायिका की भूमिका निभाकर मेरी भावनाओं का अनादर किया है। जिसने मेरे अंदर के शैतान को जगाने का कुकृत्य किया था।

अगर रोशनी चाहती तो मेरा प्रस्ताव स्वीकार करके हमारे रिश्ते को बचा सकती थी। मेरे अंदर के राक्षस को हरा सके।

लेकिन उन्होंने अपनी मां की तरह भाई-बहन के रिश्ते का घोर अपमान किया था। शायद इस स्थिति ने मेरे अंदर के भाई को मार डाला था। मुझे गुमराही के बवंडर में धकेल दिया गया।

उसने दावा किया कि वह एक लड़के से प्यार करती है। ये लड़का उनसे प्यार करने वालों में तीसरे नंबर पर था। वह बिल्कुल बेकार और बेकार था। ज्यादा पढ़ा-लिखा भी नहीं था। रोशनी को शायद अपनी दादी की संपत्ति का लालच था, इसीलिए वह उसे छोड़ने को तैयार नहीं थी।

वह एक तरफ से प्यार करने का दावा करती थी और हमेशा शांति और आराम से सोती थी। उसका ऐसा व्यवहार देखकर मेरे मन में कई सवाल उठ रहे थे।

मैं भी रोशनी से खुले दिल से प्यार करता था, उससे प्यार करता था। मैं उसे किसी भी हालत में खोना नहीं चाहता था। इसलिए मैंने हमेशा उनका समर्थन किया।’ शायद यही मेरी सबसे बड़ी गलती थी।

उसने मेरी भावनाओं को समझने की कोशिश नहीं की। उसके भोलेपन ने मेरे अंदर के शैतान को भड़का दिया था।

जिसने मुझसे रोशनी का प्यार छीन लिया था। इसी हताशा में मैं वासना के दानव के इशारों पर नाचने को मजबूर और मजबूर हो गई थी।
मेरे सुप्त मन ने उस वासना की पुकार को स्वीकार कर लिया था। मुझे क्या करना था….।मुझे खुद भी नहीं पता था।

ऐसी ही मानसिक स्थिति में मैं एक दिन उनसे मिलने उनके कॉलेज पहुंच गया। बाद में मैं उसे वहाँ एक होटल के फैमिली रूम में ले गया, जहाँ मैं अक्सर शादी से पहले अपनी पत्नी को ले जाता हूँ।

मैंने अपनी कुर्सी रोशनी की ओर धकेलते हुए उससे पूछा- क्या तुम मुझे अपना हाथ दिखाओगी?
“क्यों? क्या तुम मेरा भविष्य बताओगे?”
मैंने मौन संकेत दिया और उसने अपना दाहिना हाथ मेरी ओर बढ़ा दिया।

मैंने उसे रोका और कहा- लड़की का बायां हाथ दिख रहा है।
‘सॉरी’ कहते हुए उसने अपना बायाँ हाथ मेरी ओर बढ़ाया। जब मैंने उसका हाथ छुआ तो मुझे ऐसा लगा जैसे मुझे बिजली का झटका लग गया हो।

मैंने ज्योतिष के बारे में अपने ज्ञान का प्रदर्शन करते हुए पांच मिनट तक रोशनी का हाथ अपने हाथ में रखा।

बाद में मैं उसे सुनहरे सपने दिखा कर उसके साथ फ्लर्ट करने लगा।

“तुम्हारे भाग्य में गाड़ी, बंगला, नौकर-चाकर सब कुछ है।”
“तुम झूठ बोल रहे हो। मेरा पिंटू बहुत गरीब है।”
“कल वह भी अमीर बन सकता है।”
“यह कैसे होगा?”
“इस बात का खुलासा उनकी होने वाली पत्नी के सीने में छुपी रेखाओं से होता है।” मैंने सामुद्रिक शास्त्र की मदद ली और उसे अपने जाल में लपेटना शुरू कर दिया।
“क्या कर रहे हो? मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा।”
“मुझे थोड़ा समय दो… मुझ पर विश्वास करो और जो मैं कहूँ वो करो।”
“हा बता।”
“छाती की रेखाएं देखने के लिए तुम्हें खुद को ब्लाउज और ब्रा के बंधन से आज़ाद करना होगा।”
“ठीक है…. तुम आगे बढ़ो और जो भी करना है…. बिना झिझक करो। मैं तुम्हें पूरा समर्थन दूँगा।”

उसकी बात सुनकर मैं उत्तेजित हो गया।

एक औरत, और वह भी मेरी साली, मुझे अपने कपड़े उतारने दे रही थी।

उसी क्षण मुझे याद आ गया। मुझे स्तन चूसने का बहुत शौक था। मेरे कहने पर मेरी पत्नी अपना ब्लाउज उठा कर मुझे स्तनपान कराती है। एक पल के लिए मैंने उसके साथ भी ये हरकत दोहराने के बारे में सोचा।

लेकिन क्या होगा अगर कल वह पलटवार करे और मुझ पर बलात्कार का आरोप लगाए? ये सवाल मेरे दिल में उठा था। लेकिन वो सवाल मानो सेक्स की आग में जलकर राख हो गया हो।

उसकी इजाज़त का फ़ायदा उठाते हुए मैंने ख़ुशी-ख़ुशी उसके शरीर का ऊपरी हिस्सा नंगा कर दिया।

“इस समय मेरे पास रेखाएँ देखने का साधन नहीं है।”
“फिर क्या होगा?” रोशनी ने निराश स्वर में मुझसे सवाल पूछा।
“चिंता मत करो। सबसे पहले मैंने तुम्हारे वक्षस्थल को अपने थूक से गीला किया। बाद में आप अपने पेशाब को अपने हाथों से अपनी छाती पर लगाएं। इन दोनों प्रतिक्रियाओं को एक साथ करने से आपकी छाती पर रेखाएं स्पष्ट रूप से दिखाई देने लगेंगी।
“अरे जीजा जी… मैंने आपको बता दिया है कि आपको जो करना है। आप ऐसा करते रहें। मुझे आप पर पूरा भरोसा है। आप मेरा अंडरवियर भी उतार सकते हैं।”

मैंने उसके स्तनों को पांच-दस मिनट तक चूसकर उसकी छाती पर रेखाएं बना दीं। उसके वक्षस्थल को अपने थूक से पूरा गीला कर दिया।

बाद में उसने उसका अंडरवियर उतार दिया और उससे कहा- अब तुम पेशाब करो। मैं तुम्हारे ही मूत्र से तुम्हारी छाती की मालिश कर दूँगा।
इसी बहाने मैंने उसकी छाती से खेलकर अपनी इच्छा पूरी कर ली।

पाँच मिनट बाद मैंने अपनी राय दी- चिंता मत करो। पिंटू के पास सब कुछ है। आप अपने भविष्य को लेकर निश्चिंत हो सकते हैं।
रोशनी का चेहरा खुशी से खिल रहा था।

कुछ ही दिनों में तो मानो उसने मेरे कानों में बम फोड़ दिया- जीजाजी… मैं प्रेग्नेंट हूँ और पिंटू भाग गया है।

“चिंता मत करो। मैं आपके सम्मान के बदले में आपके सम्मान की रक्षा करूंगा। बदले में तुम्हें एक काम करना होगा।

तुम्हें पता है कि मैं कई दिनों से तुम्हारी बहन के साथ नहीं सोया हूं। तुम्हें बस एक रात मेरे साथ सोना होगा। अगर मेरे अंदर की यौन आग नहीं बुझी तो बहुत बड़ी अनर्थ हो सकती है। वैसे भी तुम्हारा गर्भ ठहर गया है। इस हालत में तुम मेरा घी अपनी चूत में जमा कर सकती हो।

तुम्हारी चूत चोदने से तुम्हें कोई फर्क नहीं पड़ेगा। अगर खिचड़ी में घी गिर भी गया तो मेरी कामाग्नि शांत हो जायेगी और किसी को पता भी नहीं चलेगा। अगर तुम मेरा साथ नहीं दोगी तो मेरी हालत भी तुम्हारे चाचा जैसी हो सकती है।

तुम्हारे चाचा यौन संतुष्टि के लिए बदनाम बस्ती में जाते थे। आप तो जानते ही हैं कि वह वहां से क्या लेकर आया। वह सिफलिस का मरीज हो गया था, जो एक खतरनाक बीमारी थी।

न केवल तुम्हारी चाची, बल्कि तुम्हारी बहनें भी इस बीमारी की शिकार हो गई थीं। क्या आप चाहते हैं कि आपकी बहन का परिवार भी ऐसी बीमारी का शिकार हो जाए?”

“मैं आपके और आपके परिवार के साथ ऐसी अनर्थ होने की कल्पना भी नहीं कर सकता, जीजा जी। मैं तुम्हारी यह जरूरत पूरी कर दूंगा। लेकिन हमारे बीच के इस रिश्ते के बारे में किसी को पता नहीं चलना चाहिए।”
“यह मेरी ज़िम्मेदारी है।”

मैं बहाना बनाकर रोशनी को अपने घर ले आया था। उसी रात मैंने इतने दिनों की भूख और प्यास को ध्यान में रखते हुए सब कुछ किया, जो पिंटू ने अपनी चूत को देकर उसका भोसड़ा बना दिया था।

अगर मेरा घी गिरा भी तो वह खिचड़ी में था। इससे स्थिति में कोई फर्क नहीं पड़ने वाला था। इसलिए उसकी इज्जत बचाने की आड़ में मैंने अपनी राह पाने के लिए उसकी इज्जत से समझौता कर लिया।

एक महीने के अंदर ही उसकी शादी तय हो गई। शादी से पहले ही वह दोबारा गर्भवती हो गई। सावधानी बरतने के बावजूद रोशनी की ये हालत हो गई।

शादी के सात महीने के अंदर ही उसने मेरे बच्चे को जन्म दिया। जो एक लड़की थी। वह मेरी इकलौती लड़की थी। यह राज मैंने आज तक अपने दिल में रखा है। शादी के बाद भी हमारे बीच नजदीकियां बरकरार रहीं। वह नियमित रूप से मेरे घर आती है और हम दोनों अपने शरीर की हवस मिटाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds