May 21, 2024
Kunwari bahan ki chudai

हेलो दोस्तों, मैं शिल्पा हूं. मेरी उम्र उन्नीस साल है।
मैं कुछ दिनों से अपने भाई और भाभी के साथ कोलकाता में रह रही हूं। मैं यहीं कॉलेज में नर्सिंग की पढ़ाई कर रही हूं.

कुंवारी बहन की चुदाई की ये कहानी मेरी ही है.

मेरा भाई एक प्राइवेट कंपनी में काम करता है और भाभी घर पर ही रहती है।

पिछले कुछ दिनों से मेरे कॉलेज में छुट्टियाँ थीं इसलिए मैं यहाँ अपनी भाभी के पास थी और उनके घर के काम में उनकी मदद कर रही थी।
इस तरह हम दोनों बहुत अच्छे दोस्त बन गये.

वह अपने बारे में हर बात मुझसे शेयर करती है.
वो अपनी और अपने भाई की चुदाई के किस्से भी सुनाती रहती है.

भाभी ने कई बार पूछा था कि क्या मेरा कोई बॉयफ्रेंड है?
तो मैं कुछ नहीं कह पाई क्योंकि मेरा कोई बॉयफ्रेंड नहीं था.

भाभी मुझसे बहुत मजाक करती थी.
कई बार वो मजाक में कहती थी कि उसे सब कुछ पहले ही सीख लेना चाहिए, शादी के बाद पता नहीं उसे कैसा पति मिलेगा, मुझे नहीं पता कि वो उसे एक दिन में कितनी बार चोदेगा और कैसे चोदेगा। उसकी।
वो कहती थी कि मुझे सेक्स ट्रेनिंग लेनी चाहिए.

एक दिन भाभी ने पूछा- तुम्हारी चूत पर बाल हैं या नहीं?
मैंने कहा- हाँ आ गया है.
भाभी- हम्म.. तुम्हारी उम्र से तो मैं अपनी चूत में बहुत कुछ डाल चुकी हूँ.. और एक तुम हो.. कि तुम्हें अभी तक चोदना नहीं आता।

मैंने कहा- ऐसा नहीं है भाभी, मुझे सब पता है!
वो बोली- किस्मत को जानते हो? क्या आपने कभी लिंग देखा है… वह कैसा होता है?

दोस्तों मैंने एक बार भाई का लंड देखा था.
अब मैं भाभी को कैसे बताऊँ कि मैंने भैया का लंड देखा है?

फिर मैंने बताया कि मैंने भाई का लंड देखा है.
वो बोली- तो फिर क्या हुआ?
मैंने कहा- कुछ नहीं हुआ, उसने मुझे नहीं देखा.

फिर एक दिन घर पर कोई काम नहीं था तो भाभी ने अपने मोबाइल में एक ब्लू फिल्म डाउनलोड की और मुझे बुलाकर दिखाने लगी.
मुझे बहुत शर्म आ रही थी; मैंने अपना मुँह दूसरी तरफ कर लिया.

लेकिन तभी भाभी ने मेरा चेहरा पकड़ कर मुझे घुमा दिया और बोलीं- तुम्हें भाई का लंड देखने में शर्म नहीं आती… और मेरे साथ ब्लू फिल्म देखने में शर्म नहीं आती?

अब मैंने कुछ नहीं कहा और हम दोनों देसी सेक्स वीडियो देखने लगे.
उसमें एक आदमी एक लड़की को तेजी से चोद रहा था.
भाभी का तो पता नहीं, लेकिन मैं बहुत गर्म हो गयी थी.

भाभी मुझे देख रही थी और मुस्कुरा रही थी.
जब उसने साइड से मेरे चूचों पर हाथ रखा और दबाया तो मैं कामुक होने लगी.

भाभी बोलीं- तुम बहुत गर्म हो गी हो.. एक काम करो.. रसोई में बैंगन है, उसे अपनी चूत में लेकर ठंडा कर लो।

मैंने कहा- तुमने तो मुझे गर्म कर दिया है और बैंगन मांग रही हो.. लेकिन तुम खुद भाई से चुदाई करवा कर शांत हो जाओगी।
वो बोली- तो तुम क्या चाहते हो? क्या तू भी अपने भाई से चुदवायेगी?

फिर मैंने कहा- क्या कह रही हो..? वो मेरा सगा भाई है, मैं कैसे चुदाई कर सकती हूँ?
भाभी बोलीं- तो क्या हुआ? तुम्हें अपने भाई का लंड देखने में बहुत मजा आता है!
मैं: भाभी आप भी एक बात बार बार दोहराती रहती हो.

तो भाभी बोलीं- अगर तुम्हें चुदाने का मन हो तो बता देना.. मैं तुम्हारे लिए भी इंतजाम कर सकती हूँ.. कसम से.. तुम्हारा भाई तुम्हारी सारी गर्मी निकाल देगा।
में : भाभी आप पागल हो गयी हो क्या? मेरा भाई मुझे क्यों चोदेगा? और मैं फिर कभी उससे नजरें कैसे मिला पाऊंगी?

भाभी बोलीं- चिंता मत करो, मैं सब संभाल लूंगी. लेकिन ये बताओ क्या तुम चुदाई करवाने के लिए तैयार हो?
मैंने कहा- ऐसा कैसे हो सकता है भाभी!
भाभी- मैं हूँ न .. सब मुझ पर छोड़ दो। लेकिन जैसा मैं कहती हूँ वैसा करो. तुम्हें अपनी तरफ से तैयार रहना चाहिए और चुदाई करवाते समय बिल्कुल भी आवाज नहीं निकालना चाहिए, नहीं तो गड़बड़ हो जाएगी.

फिर अगले दिन शाम को भाभी ने मुझसे कहा कि उन्होंने भैया से फोन पर बात कर ली है और मुझे चुदाई के लिए तैयार रहना चाहिए.
मैंने कहा- लेकिन हुआ क्या?
वो बोली- बस इतना समझ लो कि आज वो बाहर खाना खा कर आयेगा और जिस दिन बाहर खा कर आयेगा उस दिन दारू भी पी कर आयेगा।

मैं समझ गया कि भाभी शराब के नशे का फायदा उठाकर भैया को मुझ पर हमला करवाना चाहती थीं.
लेकिन मुझे डर था कि जब मेरा भाई नशे में होगा तो पता नहीं मेरी चूत का क्या हाल होगा.
मैंने कभी अपनी चूत में लंड नहीं लिया था.

फिर भाभी ने मुझे अपनी साड़ी पहनाई.
मेरे शरीर की बनावट भाभी के शरीर से मिलती जुलती थी, बस भाभी का रंग गोरा था।

भैया और भाभी ने पहले ही बात कर ली थी कि उसे सेक्स के लिए तैयार रहना है और उसके आते ही उसे कुत्ते की तरह चोदेंगे.

भैया के आते ही भाभी ने लाइट बंद कर दी. आते ही वो फ्रेश होने के लिए बाथरूम में चला गया.
इसी बीच भाभी ने मुझे फिर चेतावनी दी कि मैं शोर मत मचाऊं.

फिर जैसे ही भैया बाहर आए, भाभी उन्हें बेडरूम में ले गईं और बेड पर बैठा दिया.
भाभी ने मुझे इशारे से बुलाया.

मुझे बहुत डर लग रहा था।
कमरे में पूरा अँधेरा था.

भाभी ने भैया को बिस्तर पर धक्का दे दिया.
भाई बोला- रंडी … धक्का क्यों देती हो?
भाभी बोलीं- तुम तो खुद पीकर आये हो.. अब मुझे कौन चोदेगा?

भाई- बहन, आज तू बहुत गर्म है… तेरी चूत में छेद कर दूँगा… रुक!
वो उठ कर आने लगे तो भाभी ने अचानक मेरा सामना उनसे करा दिया.

भाभी चुपचाप वहां से चली गयी और मैं डर के मारे कांप रही थी.
इससे पहले कि मैं कुछ और समझ पाती, भैया ने मेरे बालों को कस कर पकड़ लिया और मेरे होंठों को चूसने लगे.
वे जोश के साथ चूमने लगे.

कुछ देर किस करने के बाद भाई ने तुरंत मेरी साड़ी मेरे शरीर से अलग कर दी और मेरा ब्लाउज भी उतार दिया.
मैंने तुरंत अपना हाथ अपने चूचों पर रख दिया.

उसे यह भी पता नहीं था कि उसके सामने कौन खड़ा है. उसने मुझे उठाकर बिस्तर पर पटक दिया; मेरे ऊपर आकर उसने अपने दोनों हाथों से मेरे दोनों स्तनों को जोर-जोर से दबाना शुरू कर दिया।

मेरे स्तन दुखने लगे लेकिन मैं आवाज नहीं कर पाई.

मैं पहली बार किसी मर्द से इस तरह अपने स्तन दबवा रही थी.
धीरे-धीरे मैं कामुक होने लगी।

फिर भाई मेरे ऊपर आया और मुझे फिर से चूमा.
अब मुझे बेहतर महसूस होने लगा.
ऐसा लगा जैसे भाई ने मुझे सज़ा दी हो… और फिर प्यार से चुप करा दिया हो।

अब मुझे बहुत मजा आने लगा.

मुझे भी मजा आने लगा और मैंने उसके सिर पर हाथ रख दिया. मैं उसके बालों में हाथ फिरा रहा था और उसके होंठ चूस रहा था।

फिर वह नीचे की ओर जाने लगा. उसने मेरी गर्दन को चूमा और फिर मेरे स्तनों को प्यार से ऐसे चूसने लगा जैसे कोई बच्चा आम चूस रहा हो।
अब मुझे कुछ अलग ही मजा आ रहा था. मैं मन ही मन भाभी को धन्यवाद देने लगी.

फिर भाई ने अपने सारे कपड़े उतार दिये. अँधेरे में मुझे दिख तो नहीं रहा था लेकिन भाई का नंगा बदन मुझे महसूस हो रहा था।
उसे क्या पता था कि वो अपनी बहन को पकड़कर नंगा हो गया है.

भाई थोड़ा और नीचे आ गया.
मेरा पेटीकोट उतार दिया, मेरी टाँगें फैला दीं और अपना मुँह मेरी चूत पर रख दिया।

मैंने तो इसकी कल्पना भी नहीं की थी.
मेरी चूत पर मुँह का एहसास ऐसा था कि मैं बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी.

मैं जोर से कराहना चाहती थी लेकिन भाई को पता चलने का डर था इसलिए मैं अंदर ही अंदर कराहती रही.

भाई अपना पूरा मुँह चूत पर रगड़ने लगा और एक उंगली भी डाल दी.
मैं सेक्स से पागल होने लगी थी. मैं बिस्तर की चादर खुजा रही थी.

लेकिन मेरी चूत की आग बढ़ती जा रही थी.
मैं अचानक इतनी आनंद की स्थिति में पहुंच गई कि दो मिनट में ही मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया.

भाई ने मेरी चूत का सारा रस पी लिया.
वो बोला- डार्लिंग… आज मैं तुम्हारे मुँह में अपना लंड डालने का सोच कर आया था!
फिर भाई ने मुझे बैठाया और अपना लंड मेरे सामने रख दिया.

वो लंड चूसने को कहने लगा.
मैं सोच ही रही थी कि क्या करूँ और अचानक भाई ने अपना लिंग मेरे होठों पर रगड़ना शुरू कर दिया।
मैंने भी अपना मुँह खोला और लिंग अन्दर ले लिया.

वो बोला- मैं तो बहुत दिनों से सोच रहा था कि तुम्हें अपना लंड चुसवाऊं, आज तुम इतनी जल्दी मान गयी!
मुझे पता चल गया कि भाभी ने कभी भैया का लंड नहीं चूसा था.
फिर मैं लंड चूसने लगी.

मैं कुछ देर तक लंड चूसती रही और फिर भाई ने मेरे मुँह से लंड निकाल लिया और मेरी दोनों टांगें फैला दीं.
मैं डर गयी और भाभी की बात भी याद आ गई कि चिल्लाना बिल्कुल भी जरूरी नहीं है.

भाई ने लंड को चूत पर सैट किया.
उसे इस बात का अंदाज़ा नहीं था कि जिस चूत को वो चोदने जा रहा है वो उसकी कुँवारी बहन की चूत है।

मुझे नहीं पता कि भाई को पता चल पाया या नहीं… शायद वो नशे में था इसलिए वो बस सेक्स के नशे में पागल था।

भाई ने फिर से धक्का लगाया और लंड मेरी चूत में गहराई तक घुस गया.
मेरी चूत से खून निकलने लगा लेकिन भाई को इसका कोई अंदाज़ा नहीं था. मैं दर्द से कराह रही थी और अपनी आवाज़ पर काबू पाने की कोशिश कर रही थी।

अब भाई ने मेरी चूत को चोदना शुरू कर दिया.
उसके धक्के बढ़ने लगे और देखते ही देखते उसने मेरी चूत को कुत्ते की तरह पेलना शुरू कर दिया.
मैं कराहते हुए चुदवाने लगी और धीरे धीरे मेरी चूत को चोदने का मजा आने लगा.

भाई की चुदाई की ट्रेन सरपट दौड़ रही थी और अब मैं कराहने लगी- आह्ह… आह्ह… आईई… आह्ह!
मैं ज्यादा शोर नहीं कर रही थी लेकिन जो आवाजें मैं निकाल रहा था वो मेरे नियंत्रण से बाहर थीं और मैं उन्हें रोक नहीं पा रही थी।

मुझे सेक्स में इतना मजा आने लगा था कि अब मेरी गांड खुद ही ऊपर उठ कर भाई के धक्कों का स्वागत कर रही थी.
पूरे कमरे में पच-पच की आवाज गूंजने लगी.

अब मुझे चुदाई करवाने में इतना मजा आ रहा था कि मैं भाई की पीठ पर अपने नाखून गड़ाने लगी.

धीरे धीरे वो पल करीब आ गया जब भाई के लंड से वीर्य निकलने वाला था.
अब वो मुझे तेजी से चोद रहा था.
फिर अचानक उसके धक्के रुकने लगे और उसके लंड से वीर्य मेरी चूत में गिरने लगा.

मुझे ऐसा महसूस हुआ कि मेरी चूत के अंदर कुछ गर्म गर्म चीज़ जा रही है, जिससे मुझे अंदर से एक अलग ही शांति का एहसास हो रहा था।
फिर भैया ने मुझे नंगी ही बांहों में भर लिया और बोले- अब तो मैं तुम्हें और चोदूंगा मेरी जान … आज तो तुम कुछ अलग ही मजा दे रही हो.

उस रात भाई ने मुझे एक 2 और चोदा.
दूसरी बार सेक्स करने में और भी ज्यादा मजा आया क्योंकि कोई दर्द नहीं था, सिर्फ चरम आनंद था.

फिर उसके बाद तीसरा राउंड भी लिया गया.
मेरी चूत सूज गयी.

उसके बाद भाई मुझसे लिपट कर सो गये.

तीन-चार घंटे बाद सुबह हो गई लेकिन मैं नहीं उठी.
यह तो अच्छा हुआ कि भाभी ने आकर मुझे जगाया।

तभी भाभी ने देखा कि मेरे स्तन लाल हो गये थे और मेरी चूत भी सूज कर लाल हो गयी थी।

भाभी देखकर हंसने लगीं, फिर बोलीं- अब ऐसे क्यों खड़े हो? और भी ज्यादा चोदना चाहते हो? जल्दी आ जाओ, नहीं तो तुम्हारा भाई जाग जाएगा.

जब मैंने चलना शुरू किया तो मुझसे चला नहीं जा रहा था.
भाभी ने मुझे पकड़ लिया और बाहर ले गईं.

मैंने दूसरे कमरे में जाकर अपनी चूत साफ की और भाभी ने मेरी मदद की.

वह जल्दी से फिर भाई के कमरे में आई और खून से सनी चादर पर कपड़ा डाल दिया.
फिर जैसे ही भाई उठकर बाथरूम में गया तो उसने बेडशीट बदल ली.
इस तरह भाई को पता नहीं चला कि उसने रात को अपनी कुंवारी बहन की चुदाई दिया है.

मुझे भी भाई के लंड से पहली चुदाई का अनुभव मिला. भाई का लंड अपनी चूत में लेने से मुझे दर्द तो बहुत हुआ, लेकिन छोटी बहन की गांड मारने में मजा भी बहुत आया.

उसके बाद भी भाभी और मैं भैया से छुप छुप कर चुदाई करते रहे.

दोस्तो, यह थी मेरी पहली चुदाई की कहानी। कृपया मुझे बताएं कि आपको यह छोटी बहन की गांड तोड़ने की कहानी कैसी लगी. आप भी अपनी राय कमेंट में लिख सकते हैं. मैसेज करने के लिए आप मुझे मेरी ईमेल पर लिख सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds