July 9, 2024
jawan bhabhi ki bur chudai

Readxxstories.com के पाठकों को मेरा नमस्कारआज की कहानी में पड़े देवर ने चूची चूस चूसकर भाभी को चोदा – जवान भाभी की बुर चुदाई और अपनी हवस को शांत किया।

जवान भाभी की बुर चुदाई की कहानी : यह मेरी पहली कहानी है. मेरा नाम सोनिया है. मैं शादीशुदा हूं. मैं अपने परिवार के साथ दिल्ली में रहती हूँ। मेरे पति नौसेना में काम करते हैं। वह हर 6 महीने में कुछ दिनों के लिए घर आते हैं।

मेरे देवर मोहित के साथ मेरे अवैध संबंध हैं. मेरा अभी जो लड़का पैदा हुआ है वह भी मोहित का ही है. लेकिन मेरे पति को लगता है कि ये उनका बेटा है. शुरू शुरू में जब मेरे पति घर पर नहीं होते थे तो मैं चुदाई के लिए बहुत तरसती थी।

तभी मेरा अपने देवर जी के साथ अफेयर शुरू हो गया. अब हम दोनों खुल कर सेक्स का मजा लेते थे. मोहित की शक्ल बिल्कुल मेरे पति जैसी थी. जब मेरा बेटा हुआ तो वह मेरे पति जैसा दिखता था।

इसलिए उसे जरा भी संदेह नहीं हुआ. मोहित मेरी गांड भी जम कर चोदता था. अब वो मेरा पति बन गया था. मोहित एक आई टी कंपनी में काम करता था. जब उन्हें वेतन मिला।

कोई न कोई मेरे लिए उपहार जरूर लाएगा. जब मेरे पति फोन पर पूछते थे कि तुम कैसी हो तो मैं बहाना बना देती थी और कहती थी कि मुझे तुम्हारी बहुत याद आ रही थी. मेरा फिगर 34 32 36 था. मेरा शरीर फिट था।

न ज्यादा मोटा न ज्यादा पतला. जब मैं नहा कर तैयार होती थी तो साड़ी ब्लाउज पहन कर जी भर कर चूड़ियाँ पहनती थी। मैं बहुत अच्छा मेकअप करती थी. मैं अपने बालों को अच्छे से बांधती थीं और गजरा लगाती थीं।

देवर जी : जब मांग में सिन्दूर भरकर तैयार किया जाता था तो वो मुझे एकदम पटाखा लगती थी. भाभी!! आप बहुत अच्छे लग रहे हो। “कोई भी आपके लिए कुछ भी कर सकता है” मेरे देवर जी कहते थे।

मेरा बेटा अभी 6 महीने का था. घर में कोई नहीं था. मोहित सुबह सुबह मुझे पकड़ लेता था और मेरे होठों को चूमने लगता था। फिर मैं मोहित के लिए नाश्ता बनाती थी.

एक दिन उसने स्नान किया, अपने कपड़े पहने और खाने की मेज़ पर बैठ गया। मैं रसोई में उसके लिए आलू परांठे बना रही थी.

भाभी!! जल्दी नाश्ता लाओ. मुझे देर हो रही है” मोहित कहने लगा।

मैं लारहि हु बाबा!! मैं परांठे कुरकुरे बना रही हूं” मैंने रसोई से कहा और फिर उसे परांठा दे दिया। मोहित काट-काटकर खाने लगा। उसके लिए मैंने 4 परांठे बेक किये. इसी बीच मेरा बेटा जाग गया और दूध के लिए रोने लगा।

मैं कमरे में गयी और उसे अपनी गोद में उठा कर ले आयी और मोहित के सामने कुर्सी पर बैठ गयी. उसने अपना ब्लाउज खोला और अपने 32″ के बड़े स्तन बाहर निकाले और उसे अपने बेटे को खिलाने लगी। वह जल्दी-जल्दी चूसने लगा।

मेरे मोटे स्तनों से दूध की कुछ बूँदें बहने लगीं। परांठे खाते खाते मोहित मेरे स्तनों का स्वाद चखने लगा. कुछ देर बाद वह सहज हो गयी. भाभी!! अपने भतीजे को दूध पिलाओ, फिर मुझे चूत दो” मोहित बोला।

चौंक पड़ी मैं। आप ऑफिस जा रहे थे ना?? मैं पूछने लगा, मैं आज छुट्टी ले रहा हूँ? तुम्हारे स्तन देख कर मेरा दिमाग घूम गया है. मुझे अभी तुम्हारी चूत चाहिए” मोहित ने कहा।

फिर उन्होंने परांठे खाना भी बंद कर दिया. और उसने अपनी पैंट खोल कर अपना लिंग बाहर निकाला और तेजी से मुठ मारने लगा. कुछ ही देर में मोहित का लंड 8 इंच लंबा हो गया और खूब फूल गया.

शर्म करो। अपने भतीजे के सामने ऐसा मत कहो” मैं कहने लगी “वो मेरा भतीजा नहीं है, लड़का है” मोहित कहने लगा, उसके बाद मेरा बेटा दूध पीकर सो गया। मैंने उसे गोद में उठाया और कमरे में सुला दिया।

फिर हम दोनों ही बेडरूम में चले गये। मैं बेड पर बैठ गयी और मोहित मेरे पास आ गया। मेरे ब्लाउस की बटन अभी भी खुली हुई थी। आपको बताना भूल गयी की मेरा बेडरूम काफी बड़ा है और काफी खूबसूरत है।

मैंने उसे अच्छे से मेंटेन कर रखा है और सब तरह की सुविधाए है उसमे। काफी बड़ी बड़ी कांच की खिड़कियाँ मेरे बेडरूम में है जिससे दिन की सफ़ेद रौशनी उसमे खूब आती है।

मोहित मेरे पास ही बैठ गया और मुझसे चिपकने लगा। मैं लाल साड़ी ब्लाउस में थी। मेरे बेटे ने दूध पिया था इस वजह से दूध की कुछ बुँदे मेरे ब्लाउस को गीला कर दी थी। मोहित ने मुझे पकड़ लिया और किस करने लगा।

भाभी उतार दो अपना ब्लाउस!!” वो मेरे कान में बोलामेरा अभी चुदने का मन नही था। ये सब गंदे काम तो शाम को और रात में किये जाते है पर देवर का तो अभी ही मूड बन गया।

मोहित ने बैठे बैठे ही मेरे ब्लौस पर हाथ लगाना शुरू कर दिया। मुझे मजबूरन उतारना ही पड़ा। फिर ब्रा भी उतार दी।ओह्ह कितनी मस्त दिख रही हो!! अब बाल भी खोल दो” वो बोलामैंने अपने बालो में से पिन निकाल दिया।

अब मेरे बाल खुल गये। बहुत खूबसूरत और काले लम्बे बाल थे मेरे। मेरा जिस्म बड़ा सेक्सी और गोरा गोरा था। काले बालो में मेरी उजली चूचियां कुछ जादा ही सेक्सी दिख रही थी।

मोहित मुझे सीने से लगाकर किस करने लगा और खूब प्यार करने लगा। फिर मेरे लिप्स पर लिप्स रखकर चुम्बन करने लगा। वो मुझे उसी तरह चूस रहा था जैसे इमरान हाश्मी फिल्मो में किस करता है।

मेरी चूचियों को उसने पकड़ लिया और दबाने लगा। मुझे लिप्स पर किस कर रहा था और साथ में बूब्स को हाथ से प्रेस कर रहा था।लेट जाओ भाभी!!” मोहित बोला मैं बेड पर चित हो गयी।

वो मेरे सफ़ेद मक्खन जैसी चूचियों से खेलने लगा। हाथ से कस कसके के बूब्स प्रेस करने लगा। आटे की तरह गूथ रहा था। मैं “..अहहह्ह्ह्हह स्सीईईईइ….अअअअअ….आहा …हा हा सी सी सी” करने लगी।

हाथ से मेरे बूब्स को प्रेस करने लगा। फिर मुंह में लेकर चूसने लगा। मैं जोर जोर से सिसकी निकालने लगी। मेरे दूध 34” के गुब्बारे जैसे फूले हुए थे। देवर दबा दबाकर मजा ले रहा था। मुझे भी आनन्द आ रहा था।

उसने चूस चूसकर मुझे गर्म कर दिया। मेरे स्तनों के शिखर पर लाल लाल बड़े बड़े गोले थे जो बड़े कामुक लग रहे थे। मोहित उनको दबा दबाकर पी रहा था। वो मेरी निपल्स पर बड़े ही सेक्सी अंदाज में जीभ घुमा रहा था।

“आह सी सी सी…..कितने प्यारे हो तुम वैभव!! मुझे और जादा प्यार करो” मैं कहने लगीमोहित मेरी बात सुनकर और अच्छे से मेरी दोनों चूची चूसने लगा। मैं काम की अग्नि में जलने लगी।

फिर उसने उसी वक्त मेरी साड़ी खोल दी। मेरे पेटीकोट को खोला और उतार दिया। मेरी पेंटी को पकड़ कर उसने 1 सेकंड में नीचे खींच दिया। फिर मेरे पैरो से भी उसे निकाल दिया। मैं नंगी हो गयी।

सुबह सुबह चुदाई करना अच्छी बात नही होती है” मैं कही,अरे भाभी!! ये कोई नियम तो है नही। इसलिए जब इंसान का मूड बन जाए चुदाई कर लेनी चाहिए” मोहित बोलामैंने पैर खोल दिए। मैं उसके सामने नंगी बेड पर लेटी हुई थी।

क्या सेक्सी माल दिख रही थी। मैं विवाहित औरत थी इसलिए हाथो में खूब सारी चूड़ियाँ और सोने के कड़े पहनी थी। दोनों पैर में मेरी पायल छन छन की आवाज कर रही थी। मेरे गले में बड़ा सा सोने के लोकेट वाला मंगल सूत्र था।

मैं शुद्ध इंडियन औरत लग रही थी। मेरा देवर फिर से मेरे सेक्सी चुदासे जिस्म पर लट्टू हो गया और मुझसे प्यार करने लगा। वो अपनी शर्ट पेंट उतार दिया। अब नंगा था। उसका लंड 8” लम्बा था, अब खड़ा हो गया था।

मोहित का लंड काफी मजबूत तलवार जैसा दिख रहा था।वो मेरे उपर आ गया और मेरे पेट से खेलने लगा। मैं बहुत गोरी चिट्टी माल थी इसलिए मेरा पेट भी कम सेक्सी नही था। मोहित जीभ निकालकर पेट चाटने लगा।

मैं ,…अई…अई….अई…..इसस्स्स्स्…….उहह्ह्ह्ह…..ओह्ह्ह्हह्ह….”करने लगी। फिर मेरी चूत पर वो पहुच गया। मेरी बुर तो पहले से ही काफी कामुक थी। लाल लाल मलाई जैसी चूत थी मेरी।

फिर मोहित मुंह लगा लगाकर रस लेने लगा। अच्छे से चाटने लगा। मैं चीखने पर मजबूर हो गयी।सी सी सी सी….और चूसो वैभव!! मेरी आग को आज तुम शांत कर दो” मैं कहने लगी

वो भी बड़े जोश में आ गया और चूत को अच्छे से चाटने लगा। वो अंदर से रस निकाल रहा था। मैं तृप्त होने लगी। मुझ पर कामवासना का भूत चढ़ रहा था। बड़ी बेचैनी हो रही थी।

इसलिए मैं अपने दोनों पंजो से अपने दोनों बूब्स जोर जोर से दबाने लगी। अपनी निपल्स को ऊँगली में लेकर मरोड़ने तोड़ने ल। उधर मोहित ने बड़े अच्छे ढंग से मेरी बुर चाट चाट कर फुला दी।

मेरे चूत के दाने को उसने जीभ की नोंक से इतनी बार ठोकर मारी की मेरी तो ऐसी तैसी हो गयी थी। मेरी चूत काफी गहरी थी। मोहित अंदर तक जीभ घुसा रहा था। दरार में उपर से नीचे तक घुसा रहा था।

खोद खोदकर चूस रहा था। मेरी चूत के दोनों होठो को उसने चूस चूसकर चिकना बना डाला।देवर!! क्या आज तू मेरा काम नही लगाएगा???” मैं व्याकुल होकर कहने लगी

लगाऊंगा भाभी जान!! इतना बेसब्र क्यों होती हो। सब कुछ धीरे धीरे करूंगा” वो बोला,कब चोदेगा तू मुझे वैभव!! आऊ…..आऊ….जो करना है जल्दी कर” मैं बेचैन होकर कहने लगी |

मेरी बात सुनकर उसे मेरी तड़प समझ आ गयी. उसका लंड खड़ा होने लगा. जल्दी जल्दी हस्तमैथुन करने लगा. मैं लंड से चुदने के लिए बेताब थी. फिर मोहित मेरी चूत पर आ गया. उसने मेरी टांगें खोल दीं.

उसका 8 इंची लौड़ा काफी शानदार था। मोहित ने उसे पकड़ लिया और मेरी चूत की गद्दी पर थपकी देने लगा। मैं और जादा मचलने लगी। “आऊ…..आऊ….हमममम अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा..” करने लगी।

कुछ देर तक वो मेरी चूत में अपने लंड से मारता रहा. फिर उसने सुपारे को चूत की लाइन पर रगड़ना शुरू कर दिया. ऐसा करने से मेरी वासना और भी बढ़ गयी. मोहित मुझे नहीं चोद रहा था. वो बस अपने लंड के मुँह से मेरी चूत को रगड़ रहा था.

ऐसा करने से मेरी यौन इच्छा और बढ़ गयी.गांडू!! अब इसे अपनी चूत में डालूंगी या अपनी गांड दिखाऊंगी?” मैंने गुस्से में कहा। फिर मोहित ने अपना लंड पकड़ कर मेरी चूत में डाल दिया और अंदर-बाहर करने लगा।

अब मुझे कुछ अच्छा लग रहा था. मेरा देवर अब धक्के लगाने लगा. मैं चुदवाने लगी। कुछ ही मिनटों में मोहित ने अच्छी स्पीड बना ली और मुझे तेजी से चोदने लगा. मैं “….उंह उंह उंह.. हूँ… हूँ.

हमममम अहह्ह्ह्हह..अई…अई…अई…..” बोलकर उससे चुदवा रही थी।ohh!! yes yes yes वैभव!! fuck me hard ….ऊँ—ऊँ…ऊँ सी सी सी…” मैं मचल मचल कर कहने लगी |

वो जोर जोर से चूत में धक्के मारने लगा. फिर उसने मेरे बाएँ स्तन को अपने हाथ से पकड़ लिया और दबाते हुए मुझे चोद रहा था। मुझे असीम आनंद मिल रहा था. उसने मुझे सम्भोग का आहार दिया था.

फिर उसने बायां स्तन अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा और मुझे ठोक भी रहा था। मुझे जन्नत का मजा मिल रहा था.

मेरी कमर नागिन की तरह नाच रही थी. मोहित मेरी बेहतरीन चुदाई का प्रोग्राम कर रहा था. कुछ देर बाद मेरा देवरजी झड़ने वाला था. भाभी!! ……आआआ….अब मैं स्खलित हो जाऊँगा” मोहित कहने लगा

फिर उसकी गति बहुत तेज हो गई. उसका लंड किसी मशीन की तरह मेरी चूत को चोदने लगा. तभी उसका शरीर ऐंठने लगा. मैं मोहित के चेहरे पर संतुष्टि के भाव साफ देख सकता था.

फिर उसने मेरी चूत में ही माल छोड़ दिया. उसका ताजा गर्म पानी मुझे अपनी चूत में महसूस हुआ. उसके साथ ही मैं भी स्खलित हो गया. उसके पूरे चेहरे पर पसीना छलक आया। उसे मुझे चोदने में बहुत मेहनत करनी पड़ी.

लेकिन उन्होंने इसका भरपूर लुत्फ उठाया. मैं भी आया. ओह वैभव!! तुमने मुझे बहुत ज़ोर से चोदा” मैं कहने लगी, वह मेरे होठों के पास आया और मुझे फिर से चूमने लगा। आज की चुदाई में हम दोनों को बहुत संतुष्टि मिली.

वह काफी खुश नजर आ रहे थे. आज तुमने मुझे सुबह सुबह चोद दिया. देखो सुबह सुबह ये सब मत करना. मैं आपकी वजह से पूजा नहीं कर सका.” मैंने कहा, ”अरे भाभी!” जो मजा सुबह आता है वो रात को नहीं आता.

मोहित बोला, मैं जाने लगा. नहाने का सोचा. लेकिन फिर उसने मुझे पकड़ लिया. अब क्या???” मैंने कहा- तुमने तो मेरा लंड ही नहीं चूसा. चूसो प्लीज़” वो कहने लगा

अब हम दोनों बिस्तर से उतर गये. मोहित फर्श पर खड़ा था. मैं घुटने मोड़ कर बैठ गया. फिर उसने उसके लिंग को पकड़ लिया और अच्छी तरह से उसका हस्तमैथुन करने लगी। कुछ देर बाद देवर का लंड खड़ा हो गया.

वह सूज गया और काफी मोटा हो गया। मैंने उसे अपने हाथ से पकड़ लिया और मुठ मारने लगा. वह आनंद ले रहा था. मैंने अच्छे से हस्तमैथुन करके उसे सुख दिया. फिर उसने अपनी जीभ निकाली और लंड चाटने लगी. फिर सारी क्रीम को रोल की तरह मुँह में ले लिया.

जड़ तक चूसने लगा. ओह्ह माँ… उ उ उ उ उ… चूसो और चूसो भाभी!! अच्छा लग रहा है” मोहित कहने लगा मैं भी आवारा औरत की तरह चूसने लगी। वो अपने हाथ से लिंग को गोल गोल घुमा रही थी.

वह हस्तमैथुन कर रही थी. वो लंड को गले तक ले जाकर पूरे दिल और जान से चूस रही थी. बहुत मजा दे रहा था. फिर मैंने उसकी गोलियाँ मुँह में लीं और रसगुल्ले की तरह चूसा। भाभी!! मैंने तो तुम्हारी गांड भी नहीं ली. कृपया दे दीजिए.

वो बोला, मैं फर्श पर झुक कर कुतिया बन गयी. मेरी गांड का छेद बहुत खूबसूरत था. वो एक चॉकलेट ब्राउन सेक्सी छेद था. मेरी टाइट गांड देख कर मोहित उस पर मोहित हो गया और अपनी जीभ से उसे चाटने लगा.

खूब चूसा और चाटा उसने. फिर वो अपना लंड घुसाने लगा. मुझे बहुत दर्द हो रहा था क्योंकि गांड का छेद चूत जितना खुला नहीं था. इसलिए बहुत दर्द हो रहा था. मोहित ने धक्का देकर अपना लिंग बुर में घुसा दिया।

फिर जल्दी जल्दी चोदने लगा। मैं “उ उ उ उ उ……अअअअअ आआआआ… सी सी सी सी….. ऊँ…ऊँ…ऊँ….” करती रही। मुझे लग भी रहा था और मजा भी आ रहा था। बड़ा अजीब अहसास था गांड चुदाई का।

मेरी तो जान ही निकली जा रही थी। फिर भी फर्श पर किसी सीधी औरत की तरह कुतिया बनी हुई थी। मेरा देवर मोहित झुककर मेरी गांड चोदन का कार्यक्रम कर रहा था। उसने काफी देर मेरी ठुकाई की।

फिर लंड निकाल दिया। जल्दी जल्दी हाथ से मुठ देने लगा। मेरे बड़े बड़े चूतड पर उसने माल झार दिया। फिर जाकर मैं नहा ली।

इसी तरह की और भाभी सेक्स कहानियां पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट के हिंदी सेक्स स्टोरी को सब्सक्राइब करें ताकि आपके पास सबसे पहले ऐसी हवस से भरी कहानी पहुंच पाए। आज के लिए बस इतना ही धन्यवाद पाठक को अगली कहानी में जल्द ही मुलाकात होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds