June 18, 2024
Bhai Ne Ki Gand ki Chudai

आप सभी को मेरा नमस्कार. मेरा नाम रोहित है और मैं एमपी से हूं. मेरी आयु तेईस साल है। मुझे बचपन से ही लड़कियों के कपड़े पहनने का शौक है. जब भी मैं घर पर अकेली होती हूं तो मेरा काम अपनी बहन या भाभी के कपड़े पहनना और मेकअप करना होता है। जब भी मैं लड़कियों की तरह तैयार होती हूं तो खुद को पूनम समझती हूं और यही मेरा लड़कियों वाला नाम है।

वैसे तो मैं अब तक कई बार अपनी गांड मरवा चुकी हूं. लेकिन आज मैं आपको पहली चुदाई के बारे में बताने जा रहा हूँ. उससे पहले मैं आपको बता दूं कि मेरी हाइट 5’7″ है और फिगर 30-28-32 है.

यह घटना करीब 7 साल पहले की है, जब मैं कॉलेज में पढ़ता था. एग्जाम के बाद जब मैं फ्री होता था तो घर पर बोर हो जाता था. क्योंकि करने को कोई काम नहीं था.

फिर एक दिन मेरी भाभी ने मुझे बताया कि उनका भाई चंडीगढ़ में नौकरी करता था. इन दिनों वह वहां अकेला था, उसकी पत्नी घर पर नहीं थी। तो भाभी ने मुझसे कहा-

भाभी- अगर तुम चाहो तो चंडीगढ़ घूम आओ. वैसे भी तुम्हें घर पर फ्री रहना चाहिए. मैं उससे बात करूंगा, वह तुम्हें चंडीगढ़ ले जाएगा।

मैं पहले कभी चंडीगढ़ नहीं गया था इसलिए मैंने सोचा कि भाभी जो कह रही है वह सही है और मैं भी जाने के लिए तैयार हो गया। परिवार को भी कोई दिक्कत नहीं थी, क्योंकि भाभी का भाई था. तो वो भी मुझे भेजने को तैयार हो गये.

बस फिर क्या था। मैं दो दिन बाद चंडीगढ़ के लिए निकल गया. मैं शाम करीब 6 बजे चंडीगढ़ पहुंचा. वहां से मुझे खरड़ जाना था. इसलिए मैंने ऑटो लिया और वहां चला गया. वहां पहुंच कर मैंने अपनी भाभी के भाई को फोन किया, जो कुछ ही देर में मुझे लेने आ गये. उसके बाद हम उसके कमरे में गये.

इस बीच हमने एक-दूसरे का हाल-चाल पूछा और थोड़ी बातचीत की। अगर हम एक दूसरे को पहले से जानते होते तो सब कुछ सामान्य होता. कमरे में पहुँच कर उसने मुझसे पहले फ्रेश होने को कहा तो मैं फ्रेश होने चला गया।

आपको बता दूं कि भाभी के भाई का नाम नितिन है और उस समय उनकी उम्र करीब 27 साल थी. मैं उन्हें भाई ही कहता था. मैं तब 19 साल का था. उनकी शादी को 2 साल हो गए थे. कुछ समय पहले तक उसकी पत्नी भी यहीं थी, लेकिन अधिक गर्मी के कारण करीब डेढ़-दो माह पहले वह घर चली गयी थी.

रात को हमने खाना खाया और फिर थोड़ी देर बातें करने के बाद सो गये। मैं भी दिन भर सफर करके थक गया था और उसे सुबह काम पर जाना था. सुबह जब मैं उठा तो 7 बज रहे थे. वह काम पर जाने के लिए तैयार हो रहा था. उस दिन शनिवार था.

उसने कहा- मैंने चावल-दाल बना लिया है, फ्रेश होकर खा लेना. मुझे निकलना होगा, नहीं तो मुझे देर हो जायेगी.

उन्होंने मुझे 100 रुपए का नोट दिया और कहा- जैसे ही तुम नीचे उतरोगे, गली में कई ढाबे हैं, दिन में वहीं खाना खा लेना. आज कमरे में आराम करो. कल रविवार है इसलिए मैं तुम्हें कल चंडीगढ़ ले चलूंगा.

मैंने कहा ठीक है. उसके बाद वो काम पर चला गया और मैं भी वॉशरूम चला गया. बहुत गर्मी थी तो उसके बाद मैं भी ठंडे पानी से नहा लिया.

नहाने के बाद मैंने क्रीम ढूंढने के लिए अलमारी खोली तो वहां मुझे उसकी पत्नी के कपड़े दिखे. कपड़े देखते ही मेरे अंदर की औरत जाग उठी और मैंने उसका एक लाल सूट उठा लिया।

वह बहुत मुलायम कपड़ा था. मेरे शरीर पर एक अलग तरह का तकिया दौड़ गया। वैसे भी मैं शाम तक कमरे में अकेला रहने वाला था. तो मेरे मन में ख्याल आया कि बोर होने से अच्छा है कि लड़की बनकर एन्जॉय किया जाए. अब मैं अगली भाई ने गांड की चुदाई की कहानी एक लड़की यानी पूनम बनकर लिखूंगी.

इसलिए, मैंने जो सलवार कमीज़ चुनी थी, उसे देखकर ऐसा लग रहा था कि यह मुझ पर फिट बैठेगी। फिर मैं ब्रा और पैंटी ढूंढने लगी. मुझे कपड़ों के नीचे ब्रा पैंटी भी मिली. मैंने काले रंग की ब्रा और पैंटी उठाई. उसके बाद उसने जल्दी से अपने कपड़े उतार दिए और ब्रा और पैंटी पहन ली. मैं पतली थी इसलिए मैंने स्तन बनाने के लिए ब्रा के अंदर कुछ कपड़ा डाल लिया।

फिर मैंने भी वो सलवार कमीज़ पहन ली. वह भी मुझे फिट बैठता है. उसके बाद मैंने लिपस्टिक और बिंदी लगाई. हमारे हिमाचल में बचपन में जब लड़कों के बाल काटे जाते हैं तो उनके कानों में छेद करके सोने की तारें पहनाई जाती हैं। तो इस वजह से मेरे कानों में भी छेद हो गए.

हालाँकि अब मैंने उन तारों को हटा दिया था, लेकिन उनके छेद बंद नहीं हुए थे। क्योंकि मैं भाभी के इयररिंग्स पहनता था. मुझे अलमारी में झुमके, चूड़ियाँ और पायल भी मिलीं, इसलिए मैंने उन्हें भी पहन लिया। उसके बाद मैंने भी उसी सूट का लाल दुपट्टा अपने सिर पर ले लिया. अब मैं लड़की या औरत जो चाहो बनने को तैयार थी.

उसके बाद मैंने वही खाना खाया और फिर बर्तन आदि साफ किए। एक लड़की के रूप में काम करने का एक अलग ही आनंद है।’ मेरी सीडी बहनें समझ सकती हैं. बर्तन धोते वक्त मुझे ऐसा लगा जैसे मेरे पति काम पर गये हों और मैं पीछे से घर का काम कर रही थी. ये सोचते ही मेरी गांड में हलचल होने लगी और मैं खुद को नितिन की बीवी समझने लगी.

मैंने समय देखा तो 10 बज चुके थे. फिर मैंने फेसबुक खोला और लोगों से गंदी गंदी चैट करने लगा. मेरी आग बढ़ती जा रही थी. मैंने कुछ लोगों से कॉल पर बात भी की. इस सब में कब एक बज गया पता ही नहीं चला. मुझे टॉयलेट जाने की तेज़ इच्छा हो रही थी इसलिए मैं वॉशरूम चला गया। मैं बैठ गया और टॉयलेट करने लगा. फिर मुझे अपनी गांड में उंगली करने का मन होने लगा.

मैं जल्दी से उठकर बाहर गई, क्रीम का डिब्बा लिया और अपनी सलवार और पैंटी नीचे करके बिस्तर पर लेट गई। मैंने एक उंगली पर क्रीम लगाई और गांड में डाल दी. मैं पहले भी फिंगरिंग कर चुका था इसलिए आसानी से चला गया। और मैं अपनी उंगली जोर जोर से अन्दर-बाहर करने लगा. तभी अचानक कमरे का दरवाजा खुला, सामने देखा तो नितिन खड़ा था. मेरी नंगी गांड, जिसमें मेरी उंगली थी, नितिन के ठीक सामने थी। मैंने जल्दी से अपनी उंगली निकाली और सलवार ऊपर बांधने लगी.

सममिति बोला: अरे पेंटी भी ऊपर कर लो।

पैंट के मुँह से ये बात सुनके मुझसे थोड़ा होन्सला भी आया और शर्म भी। मैंने सलवार के अंदर हाथ में डाल के पैंटी को ठीक किया, और नाड़ा बांध दिया। शर्म से सिर नीचे झुक कर बिस्तर के कोने पर बैठ गया।

मैंने पुतिन से बोला: प्लीज भाई भाभी या किसी और को मत बताना ये सब।

ये वो बोले: यार मैं क्यों बताऊंगा। तेरी है तू जो मर्ज़ी कर। पर हम दोनों एक-दूसरे की ज़रूरत को पूरा कर सकते हैं। आरती (नितिन की पत्नी) को घर गए 2 महीने हो गए हैं। तब से लंड तड़प रहा है. चल दोनों एक-दूसरे की प्यास बुझाते हैं।

मेरा मन ही मन बहुत खुश था। क्योंकि जो मैं सुबह से सोच रही थी, वो बिना कुछ काम ही पूरा होने वाला था।

तभी मेरा डर दूर हो गया, और मैंने ओके बोला। मैंने अनुरोध किया-

मैं: आप इतनी जल्दी कैसे चले गए? आप तो शाम को आने वाले थे।

तो उन्होंने कहा: आज काम कम था, तो तुम्हें थोड़ा बाहर घुमा दूं। पर मुझे क्या पता था कि इस तरह से दर्शन होंगे।

इसी तरह मैं हंसते हुए बोल पड़ा: क्यों, इस तरह मैं अच्छा नहीं लग रही?

टेंटेंट ने मुझे बिस्तर में लिटा दिया और खुद मेरे ऊपर लेट गया। पुतिन ने अपने होठों को मेरे होठों पर रख दिया, और मेरे होठों को आकर्षित किया। मैं भी उनका साथ देने लगी। करीब 5 मिनट तक हमारा लक्ष्य किसिंग की। उसके बाद उनके रोबोटिक चित्रांकन कर नंगा हो गए। उनका लंड करीब 7 इंच का सामने फफड़ा रहा था।

रोबोट ने पूछा: चोगे?

मैंने हां में सर हिलाया। तोनोट ने अपना लौड़ा मेरे मुँह में डाल दिया। मैंने करीब 3-4 मिनट तक मजे से चोदा।

फिर से बोले: चल अब सलवार निकाल कर घोड़ी बन जा।

मैं सलवार और पैंटी उतारी और घोड़ी बनी। क्रीम की डिब्बी बेड पर ही बिछी थी। उन्होंने मेरी गांड और अपने लंड पर क्रीम लगाई और लंड पर रख कर जोर से झटका मारा। मैं चिल्लाया, पहली बार गांड मरवा रही थी। मुझे दर्द हो रहा था, पर मैं सहन कर रही थी।

धीरे-धीरे करके उन्होंने पूरा लंड गांड में डाल दिया। थोड़ी देर में ही मेरा दर्द कम हो गया तो उन्होंने रफ़्तार तेज़ कर दी। थोड़ी देर बाद मुझे मजा आया। तो मैं भी गांड हिलाकर उनके साथ दी गई।

करीब 10 मिनट तक गांड मेरी चुदाई के बाद वो मेरी गांड में ही डूब गई, और मैं थक कर थक गई। मत भी मेरे ऊपर ही पढ़ा गया।

बोटिन ने मुझसे पूछा: मज़ा आया?

मैंने हां कहा.

सारिणी ने पूछा: प्रयोग जारी है?

मैंने बोला: पहन लूँगी।

तो नोटोट बोला: ठीक है फिर रात को रोजगार जारी रखना। आरती बना कर चोदूँगा।

मैंने हंसते हुए कहा: वैसे तो मेरा नाम पूनम है, पर आपकी आरती भी बन जाऊंगी मेरे पति देव।

इसके बाद हम दोनों हंसते हुए थोड़ी देर के लिए एक-दूसरे की डिलीवरी में ही सो गए।

दोस्तों आगे की कहानी मैं बाद में लिखता हूं मिसाल की रात को आरती बनके और बाकी दिन हमने क्या-क्या किया। लेकिन उससे पहले आप मुझे ईमेल करें कि आपको मेरी Gay Sex Story in Hindi कैसी लगेगी। अगर आपका मेल आये तो ही मैं अगली लाइक कहानी का नमूना, नहीं तो समझो मेरी कहानी आपको पसंद नहीं आई।

Readxstories.com पर मुझे कमेंट के माध्यम से बताएं

आपकी प्यारी पूनम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Lucknow Call Girls

This will close in 0 seconds