May 21, 2024
senior ke sath gand chudai

मेरा नाम अंशुल है. ये कहानी मेरे कुछ महीने पहले की है। मैं बिल्कुल सीधा-सादा लड़का हूं. जब मैं कॉलेज हॉस्टल में रहने लगा, वहां मुझे एक सीनियर मिला सीनियर के साथ गांड चुदाई करके गांड चुदाई में मजा आने लगा और मैं गंड मरा स्टूडेंट बन गया

ये शुरूआती दिनों की बात है, जब हॉस्टल में रात को सीनियर्स हमारी रैगिंग लेते थे। मैंने वही पहली बार सामान्य रैगिंग के दौरन देखा। हमारी बात-चीत हुई. कॉलेज लाइब्रेरी में हम दोनो बैठ कर बातें करने लगे।

एक रोज़ सीनियर्स को ज़्यादा गुस्सा आया था। तो अनहोनी करने के लिए हम जूनियर्स को छत पर ले जा कर एक लाइन में खड़ा किया, और सब के कपड़े उतार दिए। सब जूनियर्स चड्ढी में खड़े थे और सब की रैगिंग शुरू हुई। उनसे एक सीनियर मेरे पास आया और मुझे कोने में ले जाकर खड़ा कर दिया। यहाँ से हम दोनों किसी को नज़र नहीं आ रहे थे।

उसने मुझे मेरी चड्डी उतारने को कहा। मैं डांग रह गया. मैंने मन किया तो उसने मुझसे कहा-

Wo: ये नॉर्मल रैगिंग है. सब के साथ होता है.

मैंने ठीक बोला, और उसने मेरी चड्ढी खींचनी शुरू कर दी, और गांड पर से थोड़ी नीचे उतार दी। उतने में वहा दूसरा सीनियर जिसकी बात मैंने शुरू की वो आया। उसका नाम गिरीश था. वो हट्टा-कट्टा और हॉट था. उसने वहां आके कहा-

गिरीश: इसे छोड़ दो. इसकी रैगिंग मैं लूंगा।

उसने मुझे उस दिन नंगा होने से बचा लिया। मैंने अपनी चड्ढी ऊपर उठाई, और मुझे रोना आ रहा था। वो मुझे ऐसी ही चड्ढी में अपने कमरे में ले आया।

वो बोला: रोटा क्यों है? पहले कभी नंगा नहीं हुआ क्या?

मैं चुप था.

उसने कहा: देख तू मेरा पसंदीदा जूनियर है।

ये सूरज के पता नहीं क्यों पर मेरे मन में लड्डू फूट गए।

गिरीश: कल से तुझे मर्द बना दूंगा। मैं जैसा कहता हूं वैसा करता जा बस।

गिरीश: किसी के साथ सेक्स किया है?

मैं: नहीं.

गिरीश: आज हिलाया?

मैं: नहीं.

गिरीश: हफ़्ते में कितनी बार हिलाता है?

मैं: एक-दो बार.

गिरीश: अबे मर्द है तू, रोज़ हिलाया कर।

मैं: हम्म.

गिरीश: किसी के सामने नंगा हुआ कभी?

मैं: नहीं.

गिरीश: अबे तू तो साले पूरी ही लड़की है. तुझे मर्द बनाना पड़ेगा. कल सुबह 9:30 बजे आना, साथ में नंगे नहाएंगे।

मुझे समझ नहीं आया कि मैं क्या बोलूं। इसलिए हा कर बैठा. दूसरे दिन सुबह मैं अपना सामान लेकर उसके कामरे में चला गया। बाकी सीनियर्स जो उसके रूममेट थे, वही थे। सब के सामने गिरीश ने अपने कपड़े उतारे, और चड्ढी पर आ गया। और मुझसे कपडे उतारने को कहा। सब ने पूछा क्या हो रहा था.

गिरीश ने कहा: आज इसके साथ नहीं रहूंगा।

सब के लिए ये बड़ी सामान्य बात थी, पर मैं शर्मा रहा था। उसने मेरा हाथ पकड़ा, और बाथरूम में ले गया, और शॉवर स्टार्ट कर दिया। हम दोनो भीग गये। उसने मोबाइल पर हल्का गाना चलाया, और डांस करने लगा। उसने मुझे भी नचाया.

सबुन लेकर मेरे और अपने बदन पर लगाया। अब तक सब ठीक था. फिर मेरे पास आया, और बोला-

गिरीश: चल खोल दे अपनी चड्ढी. उतर इसे.

मैं कांपने लगा. मुझे डर हुआ देख कर गिरीश ने खुद अपनी चड्ढी उतार दी, और मेरे सामने नंगा हो गया। नंगा देख कर मेरी शरम चली गई। पर उसका गोरा शरीर और लंबा लंड देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया।

उसने कहा कि मैं खुद अपनी चड्ढी उतारू। तभी मुझमें आत्मविश्वास आएगा। कुछ देर में मुझे अजीब लगा क्योंकि वो नंगा था। तो मैने भी अपनी चड्ढी उतारी. हमने साथ में शॉवर लिया, और तौलिया लपेट कर बाहर आ गए। सब हमें देख रहे हैं.

वाह दो और सीनियर. अन्होने मस्ती में मेरा और गिरीश का तौलिया खींच कर हमें नंगा किया, और मैं पानी-पानी हो गया। पर उनको देख के ऐसा लगा कि ये उनका रोज़ का काम था।

गिरीश नंगा हो कर भी मस्ती में था, मानो सब के सामने नंगा हो कर उसे और मजा आ रहा हो। जाते वक़्त गिरीश ने कहा-

गिरीश: रात को 11:30 बजे आ जाना. हम साथ में पोर्न देखते हैं.

उस रात हम दोनो अकेले ही थे। तो हम गिरीश के मोबाइल पर पोर्न देखने लगे। कुछ वक्त बाद हम दोनो गरम होने लगे। गिरीश तो कई बार अपने शॉर्ट्स में हाथ डाल कर हिलाने लगा। पर मुझे शर्म आ रही थी. उसने ये बात जान ली.

उसने कहा: चल साथ में मुंह मारते हैं, और एक साथ शॉट निकालेंगे।

मैं डर तो गया, पर अन्दर से मजा भी आ रहा था। हम दोनो ने शर्ट पैंट उतारी। हम अब सिर्फ चड्ढी में थे. उसने अपनी चड्ढी के अंदर हाथ डाल कर हिलाना शुरू किया। मैंने भी वैसे ही किया, पर मेरा ध्यान पोर्न से ज्यादा उसकी बॉडी और हाथों पर था।

उसकी चड्डी अब गीली होनी शुरू हो गई थी। उसने एक झटके में अपनी चड्ढी नीचे की, और जोड़ी फेला के लंड को सहलाने लगा। उसने मुझे देखा और कहा-

गिरीश: बहनचोद खोल अपना, मुझे भी देखने दे खड़ा हुआ कैसा लगता है।

मैं भी नंगा हो गया. हम दोनों अपना लंड हिलाने लगे. पर कुछ ही देर में उसने मेरा लंड पकड़ा, और हिलाने लगा। उसके हाथ मेरे लंड को छूटे ही मुझे एक करंट सा लगा, और मैं सातवे आसमान पर पहुंच गया। मैंने भी उसके लंड को पकड़ा.

पहली बार किसी लड़के का लंड अपने हाथ में लिया था। उसके टाइट लंड को मसलने में मुझे मजा आ रहा था।

उसने कहा: भडवे. दम नहीं है क्या? ज़ोर-ज़ोर से हिला, और तब तक हिला जब तक निकल न जाए।

ये सुनते ही मैंने एक हाथ से उसका हिलाना शुरू किया। उसने भी मेरा लंड हिलाया. कुछ वक्त में ही मेरा पानी उसके पूरे हाथ में निकल गया। पर उसका अब तक नहीं निकला था।

उसने कहा: स्वाद करेगा, आज़माओ। लेले मुँह में मादरचोद.

वैसे मुझे गलियाँ पसंद नहीं। पर उसके मुँह से मुझे गलियाँ अच्छी लगने लगीं। पहले मन किया, पर वो ज़बरदस्ती मेरा सर पकड़ के अपने लंड के पास लाया, और अपना लंड मेरी नाक और होठों पर रगड़ने लगा। पहले अजीब लगा, पर बाद में उसकी खुशबू मुझे पसंद आई।

धीरे से उसने टोपा मेरे मुँह में डाला। मैंने जीभ से चाटा, तो उसने पूरा लंड एक झटके में मेरे मुँह में डाल दिया। कुछ देर चुनने के बाद हम दोनों को काफी मजा आने लगा।

अब तक मैं उसके लंड का दीवाना हो चुका था। इसलिए लंड मुंह से बाहर निकलने के बाद भी मैंने उसकी गेंदों और गांड को चाटना शुरू किया। मुझे खुद से मजा आता देख उसे भी मजा आने लगा।

उसने फिर एक बार इशारा किया, और मैंने डॉगी बन कर उसका लंड मुँह में ले लिया। उसने मेरा सर पकड़ कर मेरे मुँह की जाम कर चुदाई शुरू कर दी। 4-5 मिनट लगतर चुसाई के बाद वो मेरे मुँह में झड़ गया। पहली बार था इसलिए मैंने पूरा कम पेशाब नहीं पाया।

उस दिन से मैं उसके साथ आरामदायक हो गया, और हर रात को या सुबह को मैं अब उसका पर्सनल खिलौना बन चुका था। उसका पानी अब मेरे मुँह में या मेरी बॉडी पर ही निकलता था। और मैंने भी हस्तमैथुन करना छोड़ दिया था। अब गिरीश ही मेरा पानी निकाल देता था। एक रात ऐसे ही हम गरम हो चुके थे। गिरीश ने मुझे बाहों में भर लिया, और कहा-

गिरीश: जानेमन, तेरी गांड मारने का बहुत मन कर रहा है। प्लीज मारने दे यार आज.

मैंने बहुत मन किया, पर मैं अपने बाप को चोदना कैसे सिखा सकता था। और गिरीश ने मुझे चुदाई के लिए मनाया। उसने मुझे टेबल पर बिठाया, और मुझे नंगा करके मेरे दोनों जोड़े अपने कंधे पर रख दिये।

उसने मुझे हवस भरी नज़र से देखा, और मुझे किस करने लगा गाल पर, गर्दन के बराबर, छाती के बराबर। और यहाँ नीचे से उसने अपना लंड मेरी गांड के छेद पर सेट कर दिया। धीरे-धीरे उसने लंड को मेरी गांड के अंदर डालना शुरू किया। मैं दर्द में चिल्ला उठा, पर वो नहीं माना।

उसका आधा लंड मेरी गांड में था, और मैं रो रहा था। उसने ऐसा ही पूरा लंड मेरी गांड में डाल दिया और कुछ देर एक ही पोजीशन में खड़ा रहा। थोड़ी देर बाद उसने लंड से चुदाई शुरू की।

पहले धीरे-धीरे अंदर-बाहर और बाद में स्पीड बढ़े। मेरा पहली बार था. ऐसा लग रहा था कि जैसे किसी ने गरम रॉड मेरी गांड में डाल दी हो। पर मेरी चुदाई शुरू हो गई थी. 15-20 मिनट लगता है उसने मेरी गांड मारी। फिर वो मेरे अंदर ही झड़ गया, और छोटे बच्चे की तरह मुझसे लिपट गया।

मैं उससे चुद के बहुत खुश हुआ। उस रात आधी रात को उसका लंड फिर खड़ा हुआ। मैं तो रहा था, पर उसने मेरे से मेरा जोड़ा उठा कर चोदना चाहा। मेरी नींद खुल गयी. मैने उपयोग करने दिया. उसने पीछे से एक-दो झटके में लंड अंदर डाल दिया। लेकिन उसका एक बार निकल चुका था, इसलिए इस बार वो जल्दी नहीं झड़ा।

उसने खूब जाम कर चुदाई की। मैं रोता रहा कि धीरे करो, पर उसने मेरी गांड पकड़ी, और एक्सप्रेस ट्रेन की तरह मेरी गांड मारी। मेरी चुदाई की स्पीड बहुत बढ़ गयी थी। मैं थक चुका था, इसलिए उसने रोका नहीं पाया। मेरी गांड चुदाई ज़ोरो पर थी. 20-25 मिनट की चुदाई के बाद वो मेरे लंड के ऊपर ही झड़ गया, और हम दोनों ऐसे ही सो गए।

सुभा उसके कम ने मेरे शरीर को ढक रखा था। मैं वो देख के बहुत खुश हुआ। पर सुबह-सुबह मेरी गांड जलने लगी और मैं साफ़ करने उठा तो मैं चल नहीं पा रहा था।

मैं नहा के नंगा ही बाहर आया। तब गिरीश जाग उठे थे. वो मुझे वापस बाथरूम में ले गया, और शॉवर के नीचे बैठ के अपना लंड चुसवाया। और सुबह एक और राउंड के लिए वो तैयार था। मुख्य उपयोग अब कैसे मन कर सकता था। वही बाथरूम में मैं नंगा डॉगी बन गया, और पीछे से सुबह-सुबह मॉर्निंग सेक्स के साथ मेरी चुदाई हुई।

उस रात के बाद हर दो दिन मेरी Hindi Gay Sex Stories होती है। हमने आउटडोर एक्सपीरियंस किया है। ग्रुप और गैंगबैंग भी किया है. अगर आपको जानना है तो कृपया बताएं। मैं अपना अनुभव बताऊंगा. आपकी प्रतिक्रिया आप Readxstories पर लिख सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escorts

This will close in 0 seconds