July 9, 2024
Ladko ki gaand chudai ki kahani Part - 2

अब पुराने जमाने के लड़को की गांड की चुदाई की कहानी में आगे:

समय ने मयूर को बिस्तर पर लिटाया और उसकी चाटी पर बैठ गया। उसने मयूर के डोनो हाथ अपने शरीर के नीचे दबा दिये। मयूर अब हिल-डुल नहीं पा रहा था। मयूर कुछ समझ पाये उसे पहले समय ने अपना लंड मयूर के मुँह के आगे किया। फिर एक हाथ से मयूर का मुँह खोला, और लंड अन्दर डालने लगा।

पिछला भाग पढ़े:- लड़को की गांड चुदाई की कहानी

पहली बार आधा डाल के अंदर-बाहर करने लगा। धीरे-धीरे उसने ज़बरदस्ती पूरा लंड मयूर के मुँह में दे दिया। समय का लंड बड़ा था, इसलिए मयूर के गले तक वो जा रहा था। कुछ देर ऐसे करने के बाद समय ने अपनी स्पीड बढ़ाई, और मयूर के मुंह की चुदाई जोरो से शुरू हो गई।

समय अपना हवस और मयूर के प्यार का फ़ैदा उठ रहा था। मयूर समय के लंड को मुँह में लिया हुआ था. इसलिए उसकी आंखों से आसू आ गई, और उसका थूक उसके मुंह से लंड के साथ अंदर या बाहर गिर जाता।

कुछ देर बाद समय को मयूर पर तरस आया, और उसने अपना लंड निकाला। मयूर की आंखों में आंसू देख समय को बुरा लगा। मयूर को संभालने के लिए थोड़ा वक्त लगा। समय ने उसे जब माफ़ी मांगी तो मयूर ने कहा, कि उसे बहुत मज़ा आया। और भले ही समय ने उसके साथ अचानक किया, पर अगर वो ये सब नहीं करता तो इस्तेमाल करने का वक्त है जो मजा आया वो नहीं आता।

ये सुन कर समय को अच्छा लगा. कुछ देर दोनो नंगे लेते रहे। फ़िरसे जब दोनो के लंड तन चुके थे, समय ने धीरे से मयूर के लंड को पकड़ा। पर इस बार वो और नीचे मयूर की गांड के और अपना हाथ ले गया। मयूर ने अपने दोनो जोड़ी के स्वागत में समय के लिए खोल दिये। समय ने अपनी उंगलियों से मयूर की गांड के छेद पर खेलना शुरू किया।

मयूर का ये पहला एहसास कमाल का था। वो समय की उंगलियां के मजे ले रहा था। समय नीचे मयूर की गांड में उंगली डालने लगा। पहले मुश्किल हुई, पर तेल लगाने के बाद कुछ ही समय में समय की उंगली मयूर को चोदने लगी थी।

ये सब करते हुए समय मयूर को देख रहा था। मयूर सातवे आसमान पर था. वो नंगा अपने दोस्त कम प्यार की बाहों में अपनी जोड़ी फेलाए अपनी गांड में मजे ले रहा था।

कुछ देर बाद समय मयूर के ऊपर चढ़ गया, और उसके दोनों जोड़ी फेला के बीच में बैठ गया। उसने अपना लंड मयूर की गांड पर रखा। मयूर को कुछ समझ नहीं आया तो उसने मना किया। मयूर हमें वक्त ज्यादा पढ़ा-लिखा नहीं था, इस्तेमाल करना कुछ नहीं समझा।

पर समय पढ़ा लिखा था, तो उपयोग करने के लिए कुछ बातें पता थी। आख़िर समय ने मयूर को मना ही लिया। पर ये सोच कर कि समय का लंबा और इतना बड़ा लंड उसकी गांड में जाएगा, मयूर डर चुका था। समय ने उसके दोनों जोड़े अपने कंधे पर रख दिए, और लंड को गांड पर सेट किया। मयूर ने तकिया पकड़ लिया, और आंखें बंद कर दी।

समय ने पहले अंदर डालने की कोशिश की, पर मयूर की गांड टाइट थी, तो थोड़ी मुश्किल हुई। पर बाद में तेल की मदद से उसने धीरे से अपना लंड घुसाया। जैसा ही लंड अंदर जाता है मयूर को दर्द होता है। मयूर चीखने वाला था, पर समय ने उसकी चड्ढी, जो बाजू में पड़ी थी, उसे मयूर के मुंह में थूस दिया।

कुछ देर करने के बाद पहले समय का सुपाड़ा या तो अंदर गया। मयूर ने लंड निकालने को कहा. उसने समय से भीख मांगी और रोने लगा। पर समय कहा सुनने वाला था. समय ने ज़ोर लगाया और आधा लंड अंदर डाल दिया। मयूर की जान निकली जा रही थी. कुछ देर रुकने के बाद समय ने और धक्के दिए, और कुछ ढक्को के बाद उसका पूरा लंड मयूर के अंदर था।

मयूर को ऐसा लगा जैसे किसी ने लोहे का गरम रॉड उसकी गांड में डाल दी थी। कुछ देर समय मयूर के ऊपर ऐसे ही लेता रहा। थोड़ी देर बाद समय ने धक्के देने शुरू किये। पहले तो मयूर को दर्द हुआ, और उसके आंसू नहीं रुके। पर थोड़ी देर बाद समय के लंड से चुदवाने में उसे बड़ा मजा आया।

फिर उसने भी अपनी गांड उठा कर चुदवाना शुरू किया। मयूर का साथ मिलने पर समय ने उसके दोनों जोड़े पकड़े और अपनी गाड़ी चलाई। मयूर को समय ने लगभाग 15-20 मिनट चोदा, और उसकी गांड में ही झड़ गया।

समय का गरम-गरम कम मयूर अपनी गांड में महसूस कर रहा था, और मयूर को चुद के मजा आ गया। कुछ देर दोनो एक दूसरे के ऊपर ऐसे ही नंगे सोते रहे। फिर उन्हें नींद आ गई. कुछ देर बाद समय की नींद खुली।

उसने देखा कि मयूर भी नंगा इतना रहा था, तो उसने मयूर को उठाया, उसे चूमा, और वापस उसके शरीर को चाटने लगा। मयूर भी अब उत्तेजित हो गया। इस बार समय ने मयूर को डॉगी बनाया और फिर उसकी गांड को पीछे से चाटना शुरू किया।

उसकी जीभ मयूर की गांड पर थी, और बीच-बीच में समय मयूर की गांड पर थप्पड़ मार रहा था। उसकी वजह से मयूर की गांड लाल हो गई थी। समय ने मयूर की गांड कस कर पकड़ी, और फिर अपना लंड उसकी गांड के छेद के ऊपर रख दिया।

इस बार मयूर बिल्कुल तैयार था, और इस बार एक ही झटके में पहला आधा लंड गांड में घुस गया। और फिर कुछ झटको के बाद पूरा लंड डालने में समय सफल हुआ। मयूर अपनी गांड चुदवाने का पूरा मजा ले रहा था। दर्द में ये आनंद पहली बार उसे मिला था।

समय ने भी खूब जाम के कढ़ी धीरे कभी तेजी से कुत्ता बना के मयूर को चोदा।

मयूर ने भी इस बार खून मजे के लिए। उसने भी अपनी गांड आगे-पीछे करके पूरा साथ दिया। इस बार फिर समय ने अपना पानी मयूर की गांड पर डाल दिया। मयूर समय को देख रहा था. तभी समय ने मयूर के लंड को पकड़ा, और फिर उसे हिलाने लगा। कुछ देर बाद मयूर का पानी भी निकल गया।

डोनो ने बाथरूम में अपने आप को साफ किया, और डोनो नंगे ही सो गए। दूसरे दिन वो नंगे उठे, तो उन्हें लगा कि उनको कोई गलती या गुनाह कर दिया। पर एक-दूसरे को नंगा देख कर और बीती रात के प्यार को याद करते हुए उन्होंने खुद को अपनाया। पर बाहर की दुनिया इसके लिए तैयार नहीं थी। इसलिए उनको सब से ये बात छुपाई।

उसने कहा कि वो दोनों आगे सेक्स करते हैं। ऐसे ही इन दोनों की, और पूरे परिवार में अलग-अलग लोगों की सेक्स कहानियां, जाने के लिए मुझे इस लड़को की गांड की चुदाई की कहानी की प्रस्तुति बताइए। अगर आपको ये कहानी पसंद आई, तो मैं और कहानी इसके पार्ट्स में लिखूंगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Delhi Escort

This will close in 0 seconds